भाषण

मार्च 11, 2022
टेपर 2022: झंझावात में विमान का उतरना - माइकल देबब्रत पात्र 317 kb
मार्च 10, 2022
वित्तीय संस्थानों में अभिशासन और आश्वासन कार्यों का महत्व - एम. के. जैन 291 kb
मार्च 04, 2022
मौद्रिक नीति और केंद्रीय बैंक का संप्रेषण – श्री शक्तिकांत दास 278 kb
फरवरी 14, 2022
क्रिप्टोकरेंसी - एक आकलन - श्री टी रबी शंकर 303 kb
जनवरी 28, 2022
आरबीआई की महामारी पर कार्रवाई : विस्मृति से बाहर आना – माइकल देबब्रत पात्र 296 kb
दिसंबर 24, 2021
वित्तीय समावेश मौद्रिक नीति को मजबूती प्रदान करता है – माइकल देबब्रत पात्र 265 kb
दिसंबर 15, 2021
स्वामित्व और सुशासन - डिजिटल नवाचारों के लिए भवन का निर्माण - श्री एम. राजेश्वर राव, उप गवर्नर, भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा 15 दिसंबर 2021 को मुंबई में टकसाल वार्षिक सम्मेलन में प्रस्तुत भाषण 259 kb
नवंबर 16, 2021
आर्थिक सुधार की रूपरेखा - श्री शक्तिकांत दास, गवर्नर, भारतीय रिज़र्व बैंक का उद्घाटन भाषण - 16 नवंबर 2021 को मुंबई में 8वें एसबीआई बैंकिंग और अर्थशास्त्र कान्क्लेव में दिया गया 231 kb
नवंबर 15, 2021
दिल्ली स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स (डीएसई) और इंडियन स्टेटिस्टिकल इंस्टीट्यूट (आईएसआई), दिल्ली द्वारा आयोजित ब्रिक्स अर्थव्यवस्थाओं में संवृद्धि और विकास पर सम्मेलन में माइकल देवव्रत पात्रा, उप गवर्नर, भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा दिया गया मुख्य भाषण 257 kb
नवंबर 12, 2021
12 नवंबर 2021 को माननीय प्रधान मंत्री द्वारा आरबीआई- रीटेल डायरेक्ट योजना और रिज़र्व बैंक-एकीकृत लोकपाल योजना का शुभारंभ - श्री शक्तिकांत दास, गवर्नर, भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा स्वागत भाषण
नवंबर 02, 2021
वित्तीय संस्थानों का सुशासन और विवेकपूर्ण पर्यवेक्षण: हाल की पहल (श्री एम के जैन, उप गवर्नर, भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा संबोधन - 2 नवंबर 2021 - बिजनेस स्टैंडर्ड बीएफएसआई शिखर सम्मेलन में) 210 kb
अक्टूबर 27, 2021
माइक्रो फाइनेंस: एम्पावरिंग ए बिलियन ड्रीम्स - श्री एम. राजेश्वर राव, उप गवर्नर, भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा - 27 अक्तूबर 2021 को - सा-धन राष्ट्रीय सम्मेलन में "वित्तीय समावेशन को पुनर्जीवित करने" पर दिया गया उद्घाटन भाषण 221 kb
अक्टूबर 25, 2021
आधुनिक वित्तीय प्रणाली में लेखापरीक्षा की भूमिका - श्री शक्तिकांत दास, गवर्नर, भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा - 25 अक्तूबर 2021 को - नेशनल एकेडमी ऑफ ऑडिट एंड अकाउंट्स (एनएएए), शिमला में दिया गया भाषण 227 kb
अक्टूबर 22, 2021
चेसींग दी होराईज़न - श्री एम. राजेश्वर राव, उप गवर्नर, भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा - 22 अक्तूबर 2021 को - सीआईआई एनबीएफसी शिखर सम्मेलन में 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था हासिल करने में एनबीएफसी की भूमिका पर दी गई टिप्पणी 285 kb
अक्टूबर 14, 2021
भारत का पूंजी खाता प्रबंधन - एक आकलन- श्री टी रबी शंकर, उप गवर्नर, भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा - 14 अक्तूबर 2021 को- पांचवें विदेशी मुद्रा व्यापारी संघ (FEDAI) के वार्षिक दिवस पर दिया गया भाषण 269 kb
सितंबर 28, 2021
दायित्वपूर्ण डिजिटल नवोन्मेष- मंगलवार, 28 सितंबर 2021 को श्री टी रबी शंकर, उप गवर्नर, भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा भाषण- ग्लोबल फिनटेक फेस्टिवल को संबोधन 183 kb
सितंबर 22, 2021
कोविड के बाद: एक मजबूत, समावेशी और टिकाऊ अर्थव्यवस्था की ओर - श्री शक्तिकांत दास, गवर्नर, भारतीय रिजर्व बैंक- द्वारा 22 सितंबर 2021, बुधवार को ऑल इंडिया मैनेजमेंट एसोसिएशन (AIMA) के 48 वें राष्ट्रीय प्रबंधन सम्मेलन में दिया गया मुख्य भाषण 243 kb
सितंबर 20, 2021
सुरक्षित रखने पर ध्यान दें (Heed to Heal) - जलवायु परिवर्तन उभरता वित्तीय जोखिम है (16 सितंबर 2021, गुरुवार को हरित और सतत वित्त पर CAFRAL आभासी सम्मेलन में श्री एम. राजेश्वर राव, उप गवर्नर, भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा दिया गया मुख्य भाषण) 332 kb
सितंबर 16, 2021
मौद्रिक नीति : महामारी की परीक्षण – माइकल देवव्रत पात्र 238 kb
सितंबर 13, 2021
खाता संग्रहक के लिए नियामक ढांचा - आईस्पिरिट द्वारा 2 सितंबर 2021 को आयोजित आभासी कार्यक्रम के दौरान श्री एम. राजेश्वर राव, उप गवर्नर की टिप्पणियाँ 257 kb
अगस्त 31, 2021
31 अगस्त 2021 को 21वें एफआईएमएमडिए-पीडीएआई (FIMMDA-PDA) वार्षिक सम्मेलन में मुख्य भाषण - श्री शक्तिकांत दास, गवर्नर, भारतीय रिज़र्व बैंक 204 kb
अगस्त 13, 2021
सुशासन के माध्यम से भारत में एक अधिक लचीली वित्तीय प्रणाली का निर्माण- श्री महेश कुमार जैन, उप गवर्नर, भारतीय रिजर्व बैंक - 18 जून 2021, शुक्रवार- को इंडिया इंटरनेशनल सेंटर, नई दिल्ली में दिया गया भाषण 209 kb
जुलाई 22, 2021
केंद्रीय बैंक डिजिटल करेंसी - क्या धन का भविष्य यह है?- श्री टी रबी शंकर, उप गवर्नर, भारतीय रिज़र्व बैंक - 22 जुलाई 2021 गुरुवार – को विधि सेंटर फॉर लीगल पॉलिसी, नई दिल्ली द्वारा आयोजित वेबिनार में दिया गया मुख्य भाषण 261 kb
जुलाई 15, 2021
वित्तीय समावेशन - अतीत, वर्तमान और भविष्य - श्री शक्तिकांत दास, गवर्नर, भारतीय रिजर्व बैंक- 15 जुलाई 2021, गुरुवार- को इकोनॉमिक टाइम्स फाइनेंशियल इनक्लूजन समिट में दिया गया उद्घाटन भाषण 232 kb
अप्रैल 16, 2021
भारत में मुक्त (ओपन) बैंकिंग – एम. राजेश्वर राव 319 kb
मार्च 25, 2021
नए दशक में वित्तीय क्षेत्र – शक्तिकान्त दास 210 kb
फरवरी 25, 2021
वृद्धि के लिए नए अवसरों का सृजन - शक्तिकांत दास 299 kb
जनवरी 16, 2021
एक स्थिर वित्तीय प्रणाली की ओर – शक्तिकान्त दास 363 kb
दिसंबर 16, 2020
वित्तीय शिक्षा के लिए राष्ट्रीय रणनीति 2020-25 - शक्तिकान्त दास 270 kb
नवंबर 26, 2020
भारत में वित्तीय बाजार सुधारों को गति देना - शक्तिकान्त दास 310 kb
नवंबर 06, 2020
एनबीएफसी विनियमन – भविष्य पर विचार - एम. राजेश्वर राव 316 kb
सितंबर 16, 2020
कौन सी शक्तियाँ समुत्थान का वाहक बन सकती हैं? - शक्तिकांत दास 337 kb
अगस्त 27, 2020
बैंकों के लिए गहरे आत्ममंथन का समय: कोविड के बाद बैंकों का पुनरभिमुखीकरण - शक्तिकांत दास 185 kb
जुलाई 27, 2020
क्या भारतीय अर्थव्यवस्था में गतिमान परिवर्तन हो रहे हैं?- शक्तिकांत दास 277 kb
जुलाई 11, 2020
भारतीय अर्थव्यवस्था निर्णायक मोड़ पर: वित्तीय स्थिरता की दृष्टि से विवेचन – शक्तिकांत दास 303 kb
मार्च 06, 2020
सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम: चुनौतिया और भावी दिशा - शक्तिकांत दास 293 kb
फरवरी 24, 2020
21 वीं सदी में बैंकिग परिदृश्य - शक्तिकांत दास 272 kb
फरवरी 12, 2020
एनआईबीएम स्वर्णजयंती समारोह माननीय राष्ट्रपति - श्री राम नाथ कोविंद 153 kb
जनवरी 24, 2020
भारत की मौद्रिक नीति के सात यगु - शक्तिकांत दास 275 kb
जनवरी 07, 2020
भारत में समावेशी विकास की ओर यात्रा - शक्तिकांत दास 246 kb
जनवरी 01, 2020
$5 ट्रिलियन की अर्थव्यवस्था: आकांक्षा से कार्रवाई तक - शक्तिकांत दास 269 kb
नवंबर 29, 2019
ग्रामीण और कृषि वित्त: समावेशी और दीर्घकालिक विकास प्राप्त करने के लिए महत्वपूर्ण जानकारी - एम.के.जैन 219 kb
नवंबर 28, 2019
वित्तीय समावेशन के अगले दौर में सूक्ष्म वित्त - एम.के.जैन 226 kb
नवंबर 16, 2019
चौराहे पर भारतीय बैंकिंग: कुछ विचार - शक्तिकांत दास 243 kb
सितंबर 23, 2019
बैंकों में अनुपालन कार्यप्रणाली संबंधी विनियामकीय और पर्यवेक्षी प्रत्याशाएं - एम.के.जैन 188 kb
सितंबर 19, 2019
भारत के बाह्य क्षेत्र की सुदृढ़ता के आयाम - शक्तिकान्त दास 224 kb
सितंबर 05, 2019
20 वाँ फिम्डा-पीडीएआई वार्षिक सम्मेलन - बी.पी.कानूनगो 192 kb
अगस्त 26, 2019
व्यापार युद्ध: क्या उह अवैश्वीकरण की पूर्वपीठिका है? - बी.पी.कानूनगो 154 kb
अगस्त 19, 2019
वित्तीय स्थिरता के मार्ग में उभरती चुनौतियाँ - शक्तिकान्त दास 188 kb
अगस्त 05, 2019
डिजिटल वित्तीय जगत में उपभोक्ता संरक्षण-की गई पहल और उससे आगे - एम.के.जैन 209 kb

2022
2021
2020
2019
2018
2017
2016
2015
2014
2013
2012
पुरालेख
Server 214
शीर्ष