भाषण

जुलाई 27, 2020
क्या भारतीय अर्थव्यवस्था में गतिमान परिवर्तन हो रहे हैं?- शक्तिकांत दास 277.00 kb
जुलाई 11, 2020
भारतीय अर्थव्यवस्था निर्णायक मोड़ पर: वित्तीय स्थिरता की दृष्टि से विवेचन – शक्तिकांत दास 303.00 kb
मार्च 06, 2020
सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम: चुनौतिया और भावी दिशा - शक्तिकांत दास 293.00 kb
फरवरी 24, 2020
21 वीं सदी में बैंकिग परिदृश्य - शक्तिकांत दास 272.00 kb
फरवरी 12, 2020
एनआईबीएम स्वर्णजयंती समारोह माननीय राष्ट्रपति - श्री राम नाथ कोविंद 153.00 kb
जनवरी 24, 2020
भारत की मौद्रिक नीति के सात यगु - शक्तिकांत दास 275.00 kb
जनवरी 07, 2020
भारत में समावेशी विकास की ओर यात्रा - शक्तिकांत दास 246.00 kb
जनवरी 01, 2020
$5 ट्रिलियन की अर्थव्यवस्था: आकांक्षा से कार्रवाई तक - शक्तिकांत दास 269.00 kb
नवंबर 29, 2019
ग्रामीण और कृषि वित्त: समावेशी और दीर्घकालिक विकास प्राप्त करने के लिए महत्वपूर्ण जानकारी - एम.के.जैन 219.00 kb
नवंबर 28, 2019
वित्तीय समावेशन के अगले दौर में सूक्ष्म वित्त - एम.के.जैन 226.00 kb
नवंबर 16, 2019
चौराहे पर भारतीय बैंकिंग: कुछ विचार - शक्तिकांत दास 243.00 kb
सितंबर 23, 2019
बैंकों में अनुपालन कार्यप्रणाली संबंधी विनियामकीय और पर्यवेक्षी प्रत्याशाएं - एम.के.जैन 188.00 kb
सितंबर 19, 2019
भारत के बाह्य क्षेत्र की सुदृढ़ता के आयाम - शक्तिकान्त दास 224.00 kb
सितंबर 05, 2019
20 वाँ फिम्डा-पीडीएआई वार्षिक सम्मेलन - बी.पी.कानूनगो 192.00 kb
अगस्त 26, 2019
व्यापार युद्ध: क्या उह अवैश्वीकरण की पूर्वपीठिका है? - बी.पी.कानूनगो 154.00 kb
अगस्त 19, 2019
वित्तीय स्थिरता के मार्ग में उभरती चुनौतियाँ - शक्तिकान्त दास 188.00 kb
अगस्त 05, 2019
डिजिटल वित्तीय जगत में उपभोक्ता संरक्षण-की गई पहल और उससे आगे - एम.के.जैन 209.00 kb
जुलाई 26, 2019
पुस्तक विमोचन पर गवर्नर महोदय की टिप्पणी - शक्तिकान्त दास 162.00 kb
जून 29, 2019
व्यवहार्य वित्तीय बाज़ारों का विकास – भारतीय अनुभव – विरल वी. आचार्य 834.00 kb
जून 28, 2019
राज्यपाल का उद्घाटन समारोह - वार्षिक सांख्यिकी दिवस सम्मेलन - शक्तिकान्त दास 165.00 kb
जून 24, 2019
शिकायत प्रबंधन प्रणाली के शुभारंभ पर गवर्नर महोदय का वक्तव्य - शक्तिकान्त दास 142.00 kb
जून 17, 2019
केंद्रीय बैंकों की बढ़ती हुई भूमिका - शक्तिकान्त दास 226.00 kb
जून 08, 2019
बैंकिंग परिदृश्य : वर्तमान स्थिति और भावी दिशा - शक्तिकान्त दास 228.00 kb
अप्रैल 25, 2019
वैश्विक पटल पर भारत का बढ़ता महत्व क्या यह लंबे समय तक बना रहेगा और क्या हम इसके लिए तैयार हैं ? – बी.पी. कानूनगो 221.00 kb
17 वाँ सी. डी.देशमुख स्मारक व्याख्यान: उदघाटन उद्बोधन - शक्तिकांत दास 124.00 kb
अप्रैल 13, 2019
उभरती बाजार अर्थव्यवस्थाओं के समक्ष वैश्विक जोखिम एवं नीतिगत चुनौतियाँ - शक्तिकांत दास 193.00 kb
मार्च 25, 2019
फिनटेक के अवसर और चुनौतियाँ - शक्तिकांत दास 228.00 kb
मार्च 19, 2019
राजकोषीय संघवाद (फेडरलिजम) पर कुछ विचार - शक्तिकांत दास 165.00 kb
जनवरी 24, 2019
सूक्ष्म ऋण और कैसे कोई लोक ऋण रजिस्ट्री इसे सुदृढ़ कर सकता है इसके संबंध में कुछ विचार - विरल वी. आचार्य 370.00 kb
जनवरी 18, 2019
भारतीय अर्थव्यवस्था के सामने मोजूद नीतिगत मुद्दों पर चिंतन – शक्तिकांत दास 260.00 kb
नवंबर 02, 2018
क्रेडिट जोखिम और बैंक पूंजी विनियमन पर मेरे विचार - श्री एन.एस. विश्‍वनाथन, उप गवर्नर द्वारा 29 अक्‍तूबर 2018 को एक्‍सएलआरआई, जमशेदपुर में दिया गया भाषण 548.00 kb
अक्टूबर 26, 2018
स्वतंत्र विनियामकीय संस्थाओं का महत्व – केंद्रीय बैंक का मामला - डॉ. विरल वी. आचार्य, उप गवर्नर, भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा मुंबई में 26 अक्तूबर 2018 को दिया गया ए. डी. श्रॉफ स्मारक व्याख्यान 319.00 kb
अक्टूबर 12, 2018
त्वरीत सुधारात्मक कार्रवाई : वित्तीय स्थिरता फ्रेमवर्क का एक अनिवार्य तत्व - डॉ विरल वी आचार्य 648.00 kb
सितंबर 20, 2018
निर्वारक सतर्कता – सरकारी क्षेत्र के संस्थानों में सुशासन का सर्वप्रमुख साधन – डॉ. उर्जित. आर. पटेल 208.00 kb
अगस्त 31, 2018
राज्य सरकार की बाजार उधारियाँ – मुद्दे और संभावनाएं –बी.पी.कानूनगो 293.00 kb
अगस्त 24, 2018
शहरी सहकारी बैंकों को प्रासंगिक बनाए रखने में सक्षक्त गवर्नेंस और सुरक्षित आईटी परिचालनों का महत्व –एन.एस.विश्वनाथन 353.00 kb
अगस्त 20, 2018
लोक ऋण रजिस्ट्री और माल एवं सेवा कर नेटवर्क : भारत में ऋण को सर्वसुलभ एवं औपचारिक बनाने के लिए लंबे कदम भरना – विरल वी. आचार्य 466.00 kb
अगस्त 17, 2018
खुदरा भुगतानों में नवाचार : डॉ ऊर्जित आर पटेल 130.00 kb
अगस्त 03, 2018
मेघनाद देसाई एकेडमी ऑफ इकोनॉमिक्स में दीक्षांत समारोह के अवसर पर उदघाटन भाषण – डॉ. उर्जित.आर. पटेल 135.00 kb
मई 30, 2018
भुगतान के क्षेत्र में उत्कृष्टता – बी. पी.कानूनगो 142.00 kb
अप्रैल 18, 2018
ऋणदाताओं और उधारकर्ताओं के लिए कारोबार अब सामान्य /पहले जैसा नहीं रहा – एन.एस.विश्वनाथन 393.00 kb
मार्च 14, 2018
बैंकिंग विनियामकीय शक्तियां स्वामित्व निरपेक्ष होनी चाहिए - उर्जित आर पटेल 200.00 kb
फरवरी 10, 2018
भारत के आर्थिक सुधार: अपूर्ण कार्यक्रमों के संबंध में चिंतन - विजय जोशी 266.00 kb
जनवरी 15, 2018
बैंकों में ब्याज दर जोखिम को समझना और प्रबंध करना - विरल आचार्य 605.00 kb
जनवरी 10, 2018
विनियमन और वित्तीय़ स्थायित्व - एन.एस.विश्वनाथन 213.00 kb
दिसंबर 15, 2017
वित्तीय प्रणाली और समष्टि अर्थव्यवस्था पर कैफराल सम्मेलन : उद्घाटन वक्त्व्य - उर्जित आर पटेल 146.00 kb
नवंबर 20, 2017
भारत की मौद्रिक नीति समिति के कार्यकाल का एक वर्ष-माइकल देबब्रत पात्र 260.00 kb
नवंबर 16, 2017
भारत में मौद्रिक नीति का संचरण: यह क्यों महत्वपूर्ण है और इसने ठीक से काम क्यों नहीं किया- विरल वी. आचार्य 330.00 kb
अक्टूबर 23, 2017
भावी संकट से बचने के लिए वित्तीय विनियमन और आर्थिक नीतियाँ - उर्जित आर पटेल 184.00 kb
सितंबर 07, 2017
अधुरी कार्यसूची: भारत में सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक के स्वास्थ्य को पुन: बहाल करना - विरल वी. आचार्य 793.00 kb

2020
2019
2018
2017
2016
2015
2014
2013
2012
पुरालेख
Server 214
शीर्ष