डिस्‍क्‍लोज़र लॉग
संबंधित सूचना
संचार विभाग से संबंधित सूचना

सांख्यिकी और सूचना प्रबंध विभाग

संचार विभाग से संबंधित सूचना

आरआईए सं. मांगी गई सूचना प्रदान किया गया उत्तर/सूचना उत्तर की तारीख
3462/11-12 संचार विभाग मीडिया में विज्ञापन जारी करने के लिए भारतीय रिज़र्व बैंक की व्यापक नीति संचार विभाग (डीओसी) भारतीय रिज़र्व बैंक के सभी क्षेत्रीय कार्यालयों और केंद्रीय कार्यालय विभागों के उपयोग के लिए अनुमोदित विज्ञापन एजेंसियों का पैनल तैयार करता है। सूची में शामिल किए जाने पर विचार करने के लिए विज्ञापन एजेंसियों को भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा निर्धारित व्यापक पात्रता मानदंडों को पूरा करना पड़ता है। जब कोई विज्ञापन प्रिंट/इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में डालना होता है तो यह कार्य रोटेशन आधार पर पैनल में शामिल एजेंसी को सौंपा जाता है। एजेंसियों को उन्हें सौंपे गए कार्य को भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा निर्धारित समयसीमा के अनुसार करना होता है।

मीडिया के माध्यम से विज्ञापन जारी करने का कार्य विकेन्द्रीकृत है। बड़े बज़ट और रचनात्मकता वाले विज्ञापनों जिनका समन्वयन संचार विभाग करता है, को छोड़कर रिज़र्व बैंक के केंद्रीय कार्यालय विभाग और क्षेत्रीय कार्यालय अनुमोदित पैनल में शामिल विज्ञापन एजेंसियों में से किसी एक के माध्यम से स्थानीय आधार पर विज्ञापन जारी करते हैं। 

भारतीय समाचार पत्र सोसाइटी (आईएनएस) विज्ञापन के लिए प्रेस पब्लिसिटी की अपनी हैंडबुक में नियम प्रकाशित करती है। संचार विभाग इन नियमों को सभी केंद्रीय कार्यालय विभागों और क्षेत्रीय कार्यालयों को उनकी सूचना और उपयोग के लिए परिचालित करता है।
17 फरवरी 2012

सांख्यिकी और सूचना प्रबंध विभाग से संबंधित सूचना

आरआईए संख्या

सूचना की मांग दिए गए उत्तर / प्रदान की गई सूचना उत्तर की तारीख

5902/ 2012-13 DSIM (अनुवादित संस्करण)

"भारत में चिकित्सा पर्यटकों से अर्जित वर्षवार विदेशी मुद्रा (2002 से)"

रिजर्व बैंक द्वारा 1 अप्रैल, 2012 से विदेशी मुद्रा लेनदेन इलेक्ट्रॉनिक रिपोर्टिंग सिस्टम (एफईटीईआरएस) के तहत रिजर्व बैंक द्वारा "अस्पताल द्वारा खरीदे गए टीसी सहित चिकित्सा उपचार के लिए यात्रा" के उद्देश्य से प्राधिकृत व्यापारी (एडी) बैंकों द्वारा विदेशी मुद्रा खरीद पर अलग-अलग डेटा एकत्र किए जाते हैं। अप्रैल-दिसम्बर 2012 के दौरान उपर्युक्त उद्देश्य के कारण कुल प्राप्तियां निम्नानुसार है:

तालिका 1: चिकित्सा के उद्देश्य के लिए पर्यटकों के कारण  भारत मे विदेशी मुद्रा प्राप्तियां
अवधि कुल रसीदें (रुपये मिलियन)
अप्रैल-दिसम्बर 2012 1666

स्रोत: विदेशी मुद्रा लेनदेन इलेक्ट्रॉनिक रिपोर्टिंग सिस्टम (एफईटीईआरएस), आरबीआई

नोट: बैंक ने विदेशी मुद्रा लेनदेन इलेक्ट्रॉनिक रिपोर्टिंग सिस्टम (एफईटीईआरएस) के तहत रिज़र्व बैंक को अपने प्राधिकृत व्यापारी (एडी) शाखाओं द्वारा विदेशी मुद्रा की बिक्री / खरीद पर जानकारी रिपोर्ट करते हैं। एकत्र की गई जानकारी लेनदेन की तारीख, उद्देश्य, राशि, मुद्रा और देश से संबंधित है। सूचना मुख्य रूप से भुगतान संतुलन के संकलन के लिए इनपुट के रूप में उपयोग की जाती है जिसमें उद्देश्य और राशि के लिए जोर दिया जाता है। परिवहन, यात्रा, बीमा, सॉफ्टवेयर निर्यात, निजी प्रेषण, पूंजीगत खाता लेनदेन जैसे उद्देश्यों के लिए, एफईटीईआरएस आंशिक डेटा प्रदान करता है और इन्हें विभिन्न अन्य स्रोतों से डेटा के साथ पूरक किया जाता है। भारत में बीओपी आंकड़ों के संकलन के लिए विस्तृत पद्धति भारत के लिए भुगतान संतुलन के मैनुअल पर कार्य समूह की रिपोर्ट में प्रदान की जाती है (अध्यक्ष: श्री दीपक मोहंती) - सितंबर 2010, जो सार्वजनिक डोमेन में उपलब्ध है (आरबीआई वेबसाइट: www.rbi.org.in -> मुखपृष्ठ -> प्रकाशन -> रिपोर्ट्स)

18 जून, 2013

2365/2012-13 DSIM (अनुवादित संस्करण)

रायपुर के शहरी इलाकों में सभी कार्यरत बैंकों की संख्या। प्रत्येक बैंक शाखा के नाम और पते की जानकारी / सूची प्रदान करें।

निम्नलिखित जानकारी संलग्न है:

i) 31 अक्टूबर 2012 को रायपुर जिले, छत्तीसगढ़ में विभिन्न जनसंख्या समूहों के तहत अनुसूचित वाणिज्यिक बैंकों (एससीबी) की बैंकसमूहवार और बैंकवार संख्या; तथा

ii) 31 अक्टूबर 2012 को रायपुर जिले, छत्तीसगढ़ में कार्यरत एससीबी की शाखाओं की जनसंख्या समूहवार सूची, पते और अन्य विवरणों के साथ।

साथ ही, भारत में कार्यरत अनुसूचित वाणिज्यिक बैंकों (एससीबी) की शाखाओं के बैंक-समूह और बैंक-वार सूची की सभी जानकारी जैसे राज्य, जिला नाम इत्यादि और उनके पते आरबीआई वेबसाइट (www.dbie.rbi.org.in) की हाइपरलिंक 'शाखा लोकेटर' पर उपलब्ध हैं।

16 नवंबर, 2012

2017/ 53824 (अनुवादित संस्करण)

क्या मुझे राज्य और जिलावार, बैंक-वार जमा (जमा के प्रकार) और अग्रिम राशि 2005 की पहली तिमाही से 2016 की चोथी तिमाही की अवधि के लिए त्रैमासिक डेटा प्रदान कर सकता है?

बैंक समूह और राज्य / जिलावार तिमाही डेटा कुल जमा (जमा के प्रकार) और अनुसूचित वाणिज्यिक बैंकों का बकाया क्रेडिट जून 2005 से मार्च 2016 के रूप में निम्नलिखित मार्ग पर रिजर्व बैंक वेबसाइट पर उपलब्ध हैं:

https://dbie.rbi.org.in > Time-Series Publications > Quarterly Statistics on deposits and credit of Scheduled Commercial Banks > Statements Based on Old Bank-Group Classifications (up to Quarter ended March 2017) > Statements No. (3A, 3B, 4A and 4B).

इनपुट नियंत्रण' के तहत उचित विकल्प बनाकर डेटा को इस रिपोर्ट से प्राप्त किया जा सकता है। विकल्प बनाने के लिए, कृपया इस वेबसाइट के होम पेज (https://dbie.rbi.org.in/) पर उपलब्ध लिंक को देखें उपयोगी कड़ियां > एक्सेल में डेटा डाउनलोड करना।

आरटीआई अधिनियम 2005 की धारा 8 (1) (डी) के तहत बैंकवार तिमाही डेटा का खुलासा नहीं किया जा सकता है। हालांकि, 31 मार्च के अंत तक बैंकवार कुल जमा (ब्रेक अप के साथ) और कुल अग्रिम (व्यक्तिगत बैंक के प्रकाशित वार्षिक खातों के आधार पर) निम्नलिखित पथों में उपलब्ध हैं:

कुल अग्रिम के लिए: https://dbie.rbi.org.in > Time-Series Publications > Statistical Tables Relating to Banks in India > Table 2: Liabilities and Assets of Scheduled Commercial Banks> Click ‘Assets’ Tab (7. Advances).

कुल जमा के लिए: https://dbie.rbi.org.in > Time-Series Publications > Statistical Tables Relating to Banks in India > Table 2: Liabilities and Assets of Scheduled Commercial Banks > Click ‘Liabilities’ Tab (3. Deposits, 3A.1Demand Deposits, 3A.2 Saving Deposits, 3A.3 Term Deposits).

28 दिसंबर, 2017

2017/ 04109 (अनुवादित संस्करण)

2010 से 2016 तक भारत में अनुसूचित वाणिज्यिक बैंक शाखाओं की संख्या।

त्रैमासिक आवृत्ति पर अनुसूचित वाणिज्यिक बैंकों की शाखाओं की संख्या भारतीय रिजर्व बैंक की वेबसाइट https://dbie.rbi.org.in/ पर उपलव्ध है Home > Statistics > Financial Sector > Banking-Branch Statistics > Quarterly > (g): Bank-wise Number of Functioning Offices of Commercial Banks.

'इनपुट नियंत्रण' के तहत उचित विकल्प बनाकर डेटा को इस रिपोर्ट से प्राप्त किया जा सकता है। विकल्प बनाने के लिए, कृपया इस वेबसाइट के होम पेज (https://dbie.rbi.org.in/) पर उपलब्ध लिंक को देखें उपयोगी कड़ियां > एक्सेल में डेटा डाउनलोड करना।

04 अक्टूबर, 2017

2017/ 80108/2

1. भारत वर्ष में उद्योगों को सभी बैंकों द्वारा 31-12-2016 तक कितना ऋण दिया गया?

3. भारत में विभिन्न कंपनियों को 31-12-2016 तक बैंको द्वारा कुल कितना ऋण दिया गया?

5. भारत वर्ष में व्यापारीयों को 31-12-2016 तक कितना ऋण दिया गया?

9. भारत में कितने उद्योगों को, व्यापारीयों को व कंपनियों को बैंको द्वारा ऋण दिया गया है उनकी अलग – 2 कुल संख्या भी उपलब्ध करवाई जावे।

For query 1, 3, 5 & 9 :
देश के सभी अनुसूचित वाणिज्यिक बैंकों द्वारा दिये गए कुल कृषि ऋण, कुल औद्योगिक ऋण, व्यापार, कुल गैर कृषि - गैर औद्योगिक एवं संस्थावार ऋण राशि व खातो की संख्या से सम्बंधी (31 मार्च 2015) सूचना निम्नलिखित लिंक पर उपलब्ध है।

भारतीय रिजर्व बैंक की वेबसाइट: ‘https://dbie.rbi.org.in > Time Series Publications > Basic Statistical Returns of SCBs in India > Tables 1.9 & 1.15’

ओर

देश के सभी अनुसूचित वाणिज्यिक बैंकों (आरआरबी को छोड़कर) द्वारा दिये गए कुल कृषि ऋण, कुल औद्योगिक ऋण, व्यापार, कुल गैर कृषि - गैर औद्योगिक एवं संस्थावार ऋण राशि व खातो की संख्या से सम्बंधी (30 सितंबर 2016) सूचना निम्नलिखित लिंक पर उपलब्ध है।

भारतीय रिजर्व बैंक की वेबसाइट: ‘https://dbie.rbi.org.in > Time Series Publications > Quarterly BSR-1: Outstanding credit of Scheduled Commercial Banks > Tables 1.4 & 1.6’

31 दिसम्बर 2016 तक के आंकड़े हमारे पास उपलब्ध नहीं है ।

14 मार्च, 2017

Server 214
शीर्ष