मास्टर निदेशों

जोखिम प्रबंध तथा अंतर-बैंक लेनदेन पर मास्टर निदेश

आरबीआई/एफएमआरडी/2016-17/31
एफएमआरडी मास्टर निदेश नं. 1/2016-17

05 जुलाई 2016

प्रति

सभी प्राधिकृत व्यापारी - श्रेणी I बैंक

महोदया/महोदय,

जोखिम प्रबंध तथा अंतर-बैंक लेनदेन पर मास्टर निदेश

भारत में विदेशी मुद्रा बाजार के सुव्यवस्थित विकास एवं रखरखाव के संवर्धन हेतु विदेशी मुद्रा प्रबंध अधिनियम (फेमा), 1999 (1999 का 42) की धारा 47 की उप-धारा (2) के खंड (एच) में प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए रिज़र्व बैंक विदेशी मुद्रा प्रबंध (विदेशी मुद्रा व्युत्पन्न संविदा) विनियम, 2000 3 मई 2000 की अधिसूचना सं. फेमा 25/आरबी- 2000 तथा इसमें समय-समय पर संशोधनों के माध्यम से विनियम बनाता है। यहां अधिसूचना सं. फेमा 1/2000 - आरबी, अधिसूचना सं. फेमा 3/2000 - आरबी के विनियम 4(2) के प्रावधानों तथा बाद में इनमें हुए संशोधनों की ओर भी आकृष्ट किया जाता है। विदेशी मुद्रा व्युत्पन्न संविदा, समुद्रपारीय वस्तु एवं ढ़ुलाई बचाव-व्यवस्था, अनिवासी बैंकों के रुपया खाता एवं अंतर - बैंक विदेशी मुद्रा लेनदेन आदि उक्त से संचालित होते हैं। ये विनियम समय-समय पर संशोधित होते रहते हैं ताकि विनयामक ढ़ांचे में होने वाले परिवर्तनों को समाहित किया जा सके एवं संशोधन संबंधी अधिसूचनाओं के माध्यम से इन्हें प्रकाशित किया जाता है।

2. इन विनियमों की रूपरेखा के अधीन, विदेशी मुद्रा प्रबंध अधिनियम (फेमा), 1999 की धारा 11 के तहत रिज़र्व बैंक प्राधिकृत व्यक्तियों को निदेश जारी करता है। बनाए गए विनियमों के दृष्टिकोण से इन निदेशों में वह प्रक्रिया निर्धारित की जाती है जिसके अनुसार प्राधिकृत व्यक्तियों को अपने ग्राहकों/ घटकों के साथ विदेशी मुद्रा का कारोबार करना है।

3. विदेशी मुद्रा व्युत्पन्न संविदा, समुद्रपारीय वस्तु एवं ढ़ुलाई बचाव-व्यवस्था, अनिवासी बैंकों के रुपया खाता एवं अंतर - बैंक विदेशी मुद्रा लेनदेन आदि के बारे में जारी किए गए अनुदेश इस मास्टर निदेश में समेकित किए गए हैं।इस मास्टर निदेश की आधारभूत अंतर्निहित अधिसूचनाएं/ परिपत्र परिशिष्ट में दिए गए हैं।

4. यह नोट किया जाए कि आवश्यकतानुसार इन विनियमों या जिस तरह से प्राधिकृत व्यक्तियों को अपने ग्राहकों/ घटकों से संबंधित लेनदेन करने हैं उनमें होने वाले परिवर्तनों के बारे में रिज़र्व बैंक ए. पी. (डीआईआर सीरिज) परिपत्रों के माध्यम से प्राधिकृत व्यक्तियों को सूचित करेगा। यहां जारी मास्टर निदेश में संशोधन साथ ही साथ उपयुक्त रूप से जारी किए जाएंगे।

भवदीय

(आर सुब्रमणियम)
मुख्य महाप्रबंधक


Server 214
शीर्ष