बैंकिंग प्रणाली का विनियामक

बैंक राष्‍ट्रीय वित्‍तीय प्रणाली की नींव होते हैं। बैंकिंग प्रणाली की सुरक्षा एवं सुदृढता को सुनिश्चित करने और वित्‍तीय स्थिरता को बनाए रखने तथा इस प्रणाली के प्रति जनता में विश्‍वास जगाने में केंद्रीय बैंक महत्‍वपूर्ण भूमिका अदा करता है।

भाषण


नवंबर 09, 2023
उभरता भारत: स्थिरता और अवसरों की भूमि - शक्तिकान्त दास 322.00 kb
नवंबर 02, 2023
विनियमन की चुनौतियां – कुछ विचार - एम राजेश्वर राव 313.00 kb
सितंबर 25, 2023
ग्राहक-केंद्रित दृष्टिकोण- ग्राहक सेवा में उत्कृष्टता लाना - स्वामीनाथन जे 342.00 kb
सितंबर 07, 2023
ऋण मध्यस्थता – क्या विनियमन बाजार के साथ समझौता कर सकते हैं? - एम. राजेश्वर राव 395.00 kb
अगस्त 23, 2023
शाश्वत भविष्य के निर्माण के महत्वपूर्ण घटक : कुछ प्रतिबिंब - शक्तिकान्त दास 359.00 kb
अगस्त 11, 2023
वैश्विक अर्थव्यवस्था: चुनौतियां, अवसर और आगे का रास्ता - श्री शक्तिकान्त दास 248.00 kb
जुलाई 25, 2023
केंद्रीय बैंकिंग के लिए जलवायु संबंधी संकट - एम राजेश्वर राव 264.00 kb
जून 15, 2023
बैंकिंग पर्यवेक्षण पर कुछ दृष्टिकोण - एम के जैन 341.00 kb
जून 13, 2023
अनिश्चितता के समय में केंद्रीय बैंकिंग: भारतीय अनुभव - शक्तिकान्त दास 364.00 kb
जून 05, 2023
बैंकों में अभिशासन: सतत संवृद्धि और स्थिरता को बढ़ावा देना - एम. राजेश्वर राव 325.00 kb
2024
2023
2022
2021
2020
2019
2018
2017
2016
2015
2014
2013
2012
पुरालेख
Server 214
शीर्ष