अधिसूचनाएं

बाहरी बेंचमार्क आधारित ऋण

आरबीआई/2019-20/53
बैंविवि.डीआईआर.बीसी.सं.14/13.03.000/2019-20

4 सितंबर 2019

सभी अनुसूचित वाणिज्यिक बैंक
(क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों को छोड़कर)
सभी लघु वित्त बैंक
सभी स्थानीय क्षेत्र बैंक

महोदया/महोदय

बाहरी बेंचमार्क आधारित ऋण

जैसा कि आप जानते हैं, रिज़र्व बैंक ने सीमांत लागत धन-आधारित उधार दर (एमसीएलआर) प्रणाली के विभिन्न पहलुओं की जाँच के लिए एक आंतरिक अध्ययन समूह (आईएसजी) का गठन किया था। आईएसजी की अंतिम रिपोर्ट सार्वजनिक प्रतिक्रिया के लिए अक्टूबर 2017 में प्रकाशित हुई थी। आईएसजी ने देखा कि आधार दर/ एमसीएलआर जैसे आंतरिक बेंचमार्क ने मौद्रिक नीति के प्रभावी प्रसारण को नहीं दर्शाया है। इसलिए, अध्ययन समूह ने समय-सीमा में बाहरी बेंचमार्क के लिए एक अंतरण की सिफारिश की थी।

2. उस दिशा में एक कदम के रूप में, 2018-19 के लिए पांचवीं द्विमासिक मौद्रिक नीति के अंतर्गत 05 दिसंबर 2018 के ''विकासात्मक और नियामक नीतियों पर विवरण” के तहत यह घोषित किया गया था कि सभी नए अस्थायी दर व्यक्तिगत या खुदरा ऋण और 1 अप्रैल 2019 से बैंकों द्वारा दिए गए सूक्ष्म और लघु एंटरप्राइजेज को फ्लोटिंग दर ऋण बाहरी बेंचमार्क से जोड़ा जाएगा। इसके बाद, हितधारकों के साथ आगे विचार-विमर्श करने और दरों के प्रसारण के लिए एक प्रभावी तंत्र का काम करने के लिए 04 अप्रैल 2019 को ‘विकास और विनियामकीय नीतियों पर विवरण’ के तहत 2019-20 के लिए पहली द्विमासिक मौद्रिक नीति वक्तव्य में घोषणा की गई थी। हितधारकों के साथ विचार-विमर्श के आधार पर, अब सभी नए फ्लोटिंग दर व्यक्तिगत या खुदरा ऋण (हाउसिंग, ऑटो, इत्यादि) और बैंकों द्वारा सूक्ष्म और लघु एंटरप्राइजेज को दिए गए फ्लोटिंग दर ऋण को 01 अक्तूबर 2019 से बाहरी बेंचमार्क से जोड़ने का निर्णय लिया गया है।

3. तदनुसार, आरबीआई के अग्रिमों पर ब्याज दर पर दिनांक 03 मार्च 2016 को जारी मास्टर निर्देश डीबीआर.डीअईआर.सं.85/13.03.00/2015-16 संशोधित किए गए हैं:

3.1 उक्त मास्टर निर्देश के मौजूदा पैरा संख्या 7 को निम्नानुसार प्रतिस्थापित किया गया है:

(क) 01 अक्टूबर 2019 से बैंकों द्वारा विस्तारित सभी नए फ्लोटिंग दर व्यक्तिगत या खुदरा ऋण (आवास, ऑटो, आदि) और सूक्ष्म और लघु एंटरप्राइजेज को फ्लोटिंग दर ऋण, निम्न में से एक पर बेंचमार्क किए जाएंगे:

- भारतीय रिजर्व बैंक की नीति रेपो दर

- फ़ाइनेंशियल बेंचमार्क इंडिया प्राइवेट लिमिटेड (एफ़बीआईएल) द्वारा प्रकाशित भारत सरकार 3-माही (त्रैमासिक) ट्रेजरी बिल का प्रतिफल

- एफ़बीआईएल द्वारा प्रकाशित भारत सरकार 6-माही (छमाही) ट्रेजरी बिल का प्रतिफल

- एफबीआईएल द्वारा प्रकाशित कोई अन्य बेंचमार्क बाजार ब्याज दर।

(ख) बैंक अन्य प्रकार के उधारकर्ताओं को भी ऐसे बाहरी बेंचमार्क से जुड़े ऋण का प्रस्ताव देने के लिए स्वतंत्र हैं।

(ग) ऋण उत्पादों की पारदर्शिता, मानकीकरण और उधारकर्ताओं द्वारा इसकी आसानी से समझ सुनिश्चित करने के लिए, बैंक को एक ऋण श्रेणी के लिए एक समान बाहरी बेंचमार्क अपनाना चाहिए; दूसरे शब्दों में, एक बैंक द्वारा एक ही ऋण श्रेणी के भीतर एक से अधिक बेंचमार्क अपनाने की अनुमति नहीं है।

3.2 उपर्युक्त मास्टर निदेश में एक नया पैरा 8(ङ) जोड़ा गया है, जो निम्नलिखित है:

बाहरी बेंचमार्क के अंतर्गत कीमत-लागत अंतर (स्प्रेड)

बैंक बाहरी बेंचमार्क पर कीमत-लागत अंतर के निर्धारण के लिए स्वतंत्र हैं। हालांकि, ऋण जोखिम प्रीमियम केवल तभी बदल सकता है जब उधारकर्ता के ऋण मूल्यांकन में काफी परिवर्तन हुआ हो, जैसी कि ऋण अनुबंध में सहमति बनी हो। साथ ही, परिचालन लागत सहित कीमत-लागत अंतर के अन्य घटकों को तीन वर्षों में एक बार बदला जा सकता है।

3.3 उपर्युक्त मास्टर निदेश में एक नया पैरा 9(ii) जोड़ा गया है, जो निम्नलिखित है

बाहरी बेंचमार्क के अंतर्गत ब्याज दरों का पुनर्निर्धारण

बाहरी बेंचमार्क के अंतर्गत ब्याज दर तीन महीने में कम से कम एक बार पुनर्निर्धारित की जाएगी।

3.4 उपर्युक्त मास्टर निदेश में एक नया पैरा 11(ii) जोड़ा गया है, जो निम्नलिखित है

एमसीएलआर/आधार दर/बीपीएलआर से बाहरी बेंचमार्क की ओर बढ़ना

एमसीएलआर/आधार दर/बीपीएलआर से जुड़ी मौजूदा ऋण और क्रेडिट सीमाएँ पुनर्भुगतान या नवीनीकरण तक जारी रहेंगी, जैसा भी मामला हो।

बशर्ते कि जो उधारकर्ता स्वीकृत अस्थिर दर मीयादी ऋण को वर्तमान दिशा-निर्देशों के अनुरूप अवधि-पूर्व भुगतान शुल्क के बिना फ्लोटिंग रेट लोन लेने के लिए पात्र हैं, उचित प्रशासनिक/कानूनी लागत को छोड़कर अन्य किसी प्रभार/शुल्क के बिना बाहरी बेंचमार्क में स्विचओवर के लिए पात्र होंगे। बाहरी बेंचमार्क में स्विचओवर के बाद इस श्रेणी के उधारकर्ताओं के लिए प्रभारित अंतिम दर, ऋण के आरंभ होते समय उसी श्रेणी, प्रकार, अवधि और राशि के नए ऋण के लिए प्रभारित दर के समान होगी।

बशर्ते कि अन्य मौजूदा उधारकर्ताओं के पास पारस्परिक रूप से स्वीकार्य शर्तों पर बाहरी बेंचमार्क में जाने का विकल्प होगा।

बशर्ते कि स्विच-ओवर को मौजूदा सुविधा की अवधि-पूर्व समाप्ति (फोरक्लोज़र) के रूप में नहीं माना जाएगा।

4. उपर्युक्त मास्टर निदेश का वर्तमान पैरा संख्या 2 लघु वित्त बैंकों और स्थानीय क्षेत्र बैंकों पर लागू है और पैरा में तदनुसार संशोधन किया गया है।

5. उपर्युक्त मास्टर निदेश का मौजूदा पैरा संख्या 3(क)(iv) निम्नानुसार संशोधित किया गया है:

बाहरी बेंचमार्क दर का अर्थ है वह संदर्भ दर जिसमें शामिल हैं:

(क) भारतीय रिजर्व बैंक की नीतिगत रेपो दर

(ख) फ़ाइनेंशियल बेंचमार्क इंडिया प्राइवेट लिमिटेड (एफ़बीआईएल) द्वारा प्रकाशित भारत सरकार 3-माही और 6-माही ट्रेजरी बिल का प्रतिफल

(ग) एफबीआईएल द्वारा प्रकाशित कोई अन्य बेंचमार्क बाजार ब्याज दर।

6. उपर्युक्त मास्टर निदेश के पैरा 4(क) के कुछ उप-पैरा में संशोधन किया गया है:

(ii) धारा 13 में उल्लिखित को छोड़कर सभी अस्थिर दर वाले ऋणों की कीमत अध्याय III में दिए गए बेंचमार्क के अनुसरण में होगी।

(iv) जब अस्थिर दर वाले ऋण आंतरिक बेंचमार्क दर से जुड़े होते हैं, तो बैंक आंतरिक बेंचमार्क दर में कीमत –लागत अंतर के घटकों को जोड़कर अपनी वास्तविक उधार दरें निर्धारित करेंगे।

(vi) 3 वर्ष से कम अवधि के सावधि ऋण पर ब्याज दरें समान अवधि के लिए बेंचमार्क दर से कम नहीं होंगी और धारा 13(घ)(v) में निहित निर्देशों के अनुसार होंगी।

7. एक नया पैराग्राफ नंबर 4(क)(xi) उपरोक्त मास्टर दिशानिदेश में जोड़ा गया है जो नीचे प्रदर्शित है:

उस बेंचमार्क से जुड़े सभी ऋणों के लिए विशेष परिपक्वता के लिए बेंचमार्क दर से नीचे कोई ऋण नहीं होगा।

8. पूर्वोक्त मास्टर निदेश का मौजूदा पैरा संख्या 6(क)(i) में निम्नानुसार संशोधन किया गया है:

1 जुलाई 2010 और 31 मार्च 2016 के बीच स्वीकृत और नवीकृत किए गए सभी अस्थिर दर रुपया ऋण की कीमत आधार दर के अनुसरण में होगी, जो इस तरह के उद्देश्यों के लिए आंतरिक बेंचमार्क होगा।

9. पूर्वोक्त मास्टर निदेश का मौजूदा पैरा संख्या 6(ख)(i) में निम्नानुसार संशोधन किया गया है:

1 अप्रैल 2016 से स्वीकृत और नवीनीकृत सभी अस्थिर दर रुपया ऋण निधि आधारित ऋण दरों के सीमांत लागत (एमसीएलआर) के अनुसरण में होगी, जो इस मास्टर निदेश के पैरा 7 में निहित प्रावधानों के अधीन इस उद्देश्य के लिए आंतरिक बेंचमार्क होगा ।

10. पूर्वोक्त मास्टर निदेश का मौजूदा पैरा संख्या 9 (i)(घ) में निम्नानुसार संशोधन किया गया है:

एमसीएलआर के तहत पुन: निर्धारण की आवधिकता एमसीएलआर के उस अवधि/परिपक्वता के अनुरूप होगी, जिसमें ऋण जुड़ा हुआ है।

11. उपर्युक्त मास्टर निदेश के पैरा 13 का उप-पैरा (क), (ख), (ग) के निम्नलिखित भाग को हटा दिया गया है:

“ब्याज दर निर्धारित करने के लिए बेंचमार्क के रूप में आधार दर/एमसीएलआर से जुड़े होने से छूट दी जाएगी”

12. उपरोक्त मास्टर निदेश के पैराग्राफ 13 (घ) के निम्नलिखित भाग को हटा दिया गया है:

“ब्याज दर निर्धारित करने के लिए आधार दर/एमसीएलआर से जोड़े बिना बेंचमार्क के रूप में मूल्य निर्धारित किया जाएगा”

भवदीय,

(डॉ.एस.के.कर)
मुख्य महाप्रबंधक


2022
2021
2020
2019
2018
2017
2016
2015
2014
2013
2012
पुरालेख
Server 214
शीर्ष