प्रेस प्रकाशनी

विकासात्मक और विनियामक नीतियों पर वक्तव्य

4 अप्रैल 2019

विकासात्मक और विनियामक नीतियों पर वक्तव्य

यह वक्तव्य विनियमन और पर्यवेक्षण को मजबूत करने; वित्तीय बाजारों को व्यापक और मजबूत बनाने; भुगतान और निपटान प्रणाली में सुधार करने; और, वित्तीय समावेशन को बढ़ावा देने के लिए विभिन्न विकासात्मक और विनियामक नीति उपायों को निर्धारित करता है।

I. विनियमन और पर्यवेक्षण

1. चलनिधि कवरेज अनुपात (एलसीआर), चलनिधि जोखिम निगरानी टूल और एलसीआर प्रकटीकरण मानक

वर्तमान में, बैंकों की एलसीआर की गणना के लिए स्तर 1 उच्च गुणवत्ता वाली चलनिधि परिसंपत्ति (एचक्यूएएलएस) के रूप में अनुमत परिसंपत्तियों में, अन्य बातों के साथ, (क) न्यूनतम एसएलआर आवश्यकता से अधिक सरकारी प्रतिभूतियां, और (ख) अनिवार्य एसएलआर अपेक्षाओं के अंतर्गत (i) सीमांत स्थायी सुविधा (एमएसएफ़) [वर्तमान में बैंक के एनडीटीएल का 2 प्रतिशत] और (ii) चलनिधि कवरेज अनुपात (एफ़सीआरसीआर) के लिए चलनिधि का लाभ उठाने की सुविधा [वर्तमान में बैंक के एनडीटीएल 13 प्रतिशत] के तहत रिज़र्व बैंक द्वारा अनुमत सीमा तक सरकारी प्रतिभूतियां शामिल रहती हैं।

एलसीआर के साथ बैंकों की प्रभावी चलनिधि आवश्यकताओं के सामंजस्य की दिशा में आगे बढ़ने के उद्देश्य से, यह निर्णय लिया गया है कि एलसीआर गणना के लिए अनिवार्य एसएलआर अपेक्षाओं के अंतर्गत अतिरिक्त 2.0 प्रतिशत सरकारी प्रतिभूतियों को एफएएलएलसीआर के रूप में निम्ननुसार चरणबद्ध रूप में सम्मिलित करने हेतु बैंकों को अनुमति दी जाए :

प्रभावी तारीख एफ़एएलएलसीआर
(एनडीटीएल का प्रतिशत)
कुल एसएलआर से परिकलित एचक्यूएलए
(एनडीटीएल का प्रतिशत)
4 अप्रैल, 2019 13.50 15.50
1 अगस्त, 2019 14.00 16.00
1 दिसंबर, 2019 14.50 16.50
1 अप्रैल, 2020 15.00 17.00

2. आवास वित्त प्रतिभूति बाजार के विकास संबंधी समिति

वैश्विक रूप से, आवासीय और वाणिज्यिक बंधक अच्छी तरह से सुविधापूर्ण वाले प्रतिभूतिकरण बाजारों द्वारा समर्थित हैं, जिससे बंधक प्रवर्तक बंधक के पोर्टफोलियो को पैकेज करते हैं और बंधक-समर्थित प्रतिभूतियों या कवर किए गए बांड के रूप में पूंजी बाजारों में बेचते हैं। अच्छी तरह से कार्य कर रहे प्रतिभूतिकरण बाजार, बैंकों के तुलनपत्र के साथ-साथ गैर-बैंक बंधक प्रवर्तकों पर ऋण और चलनिधि जोखिम के बेहतर प्रबंधन को सक्षम कर सकते हैं और बदले में, अर्थव्यवस्था में बंधक वित्त की लागत को कम करने में मदद करते हैं। इसके विपरीत, भारत में, प्रतिभूतिकरण बाजार बैंकों द्वारा प्रत्यक्ष समनुदेशन और गैर-बैंकों (हाउसिंग फाइनेंस कंपनियों सहित) की ऋण प्राप्तियों की खरीद द्वारा शासित है।

परिसंपत्ति प्रतिभूतिकरण प्रथाओं के मानकीकरण द्वारा लाए गए लाभों के मद्देनजर क्रेडिट और चलनिधि जोखिमों के बेहतर प्रबंधन को सक्षम करने में उनकी भूमिका के रूप में, रिजर्व बैंक ने पहले एक समिति का गठन करने का फैसला किया है जो भारत में आवास वित्त प्रतिभूतिकरण बाजार की अवस्था; वैश्विक वित्तीय संकटों से सीखे गए सर्वोत्तम अंतर्राष्ट्रीय अभ्यासों के साथ-साथ पाठों का अध्ययन करना; और अपेक्षित महत्वपूर्ण कदम, जैसे, अन्य बातों के साथ-साथ, अनुरूप बंधक की परिभाषा, बंधक प्रलेखन मानक, समुचित सावधानी और निवेशकों द्वारा सत्यापन में आसानी के लिए डिजिटल रजिस्ट्री, प्रतिभूतियों की संपत्ति में व्यापार के लिए रास्ते, आदि का मूल्यांकन करेगी।

समिति का गठन और संदर्भ के शर्तों की घोषणा जल्द ही की जाएगी। समिति की रिपोर्ट अगस्त, 2019 के अंत तक उपलब्ध होगी।

3. कॉर्पोरेट ऋण के लिए द्वितीयक बाजार के विकास संबंधी कार्य बल

ऋण के लिए द्वितीयक बाजार क्रेडिट मध्यस्थों के लिए उनकी तुलनपत्र पर विशेष रूप से दबावग्रस्त संपत्ति के लिए क्रेडिट जोखिम और चलनिधि जोखिम का प्रबंधन करने की एक महत्वपूर्ण व्यवस्था हो सकता है ।ऋण की बिक्री से मध्यस्थों को जोखिम हस्तांतरण की सुविधा मिल सकती है, जो आस्ति पुनर्निर्माण कंपनियों (एआरसी), प्राइवेट इक्विटी (पीई) फंड्स, अल्टरनेटिव इनवेसमेंट्स फंड्स (एआईएफ), आदि जैसे मध्यस्थों के लिए क्रेडिट (जैसे कि बैंक और गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियां) के साथ-साथ क्रेडिट उत्पत्तिकर्ताओं को तैयार करता है। वर्तमान में, भारत में कॉरपोरेट ऋण के लिए द्वितीयक बाजार बैंकों द्वारा गैर-निष्पादित परिसंपत्तियों में लेन-देन द्वारा अभिशासित है और मूल्य निर्धारण और वसूली दरों के बारे में विरल जानकारी से विवश है।

ऋणों में एक सक्रिय द्वितीयक बाजार के लाभों को पहचानते हुए, रिज़र्व बैंक भारत में कॉर्पोरेट ऋणों के लिए एक संपन्न द्वितीयक बाजार विकसित करने के लिए सर्वोत्तम अंतर्राष्ट्रीय प्रथाओं सहित प्रासंगिक पहलुओं का अध्ययन करने और उपायों का प्रस्ताव करने के लिए एक कार्यबल का गठन करेगा। जिन उपायों की खोज की गई है, उनमें, अन्य बातों के साथ, ऋण संविदा मानक, डिजिटल ऋण संविदा रजिस्ट्री, संभावित ऋण खरीदारों द्वारा समुचित सावधानी और सत्यापन में आसानी, ऋण बिक्री/नीलामी के लिए ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म, और ऋणों के लिए बोलियों और बिक्री मूल्यों पर ऐतिहासिक बाज़ार का सुलभ संग्रह शामिल हैं।

कार्यबल का गठन और कार्य क्षेत्र की घोषणा जल्द ही की जाएगी। कार्यबल की रिपोर्ट अगस्त, 2019 के अंत तक उपलब्ध होगी।

4. बाह्य बेंचमार्क पर अनुदेश जारी करना

05 दिसंबर, 2018 के 'विकासात्मक और विनियामक नीतियों पर वक्तव्य' में की गई घोषणा में यह प्रस्तावित किया गया था कि सभी नए फ्लोटिंग दर व्यक्तिगत या खुदरा ऋण (आवास, ऑटो, आदि) और 1 अप्रैल, 2019 से बैंकों द्वारा सूक्ष्म एवं लघु उद्यमों को दिए जाने वाले फ्लोटिंग दर ऋण बाह्य बेंचमार्क, जैसे भारतीय रिज़र्व बैंक रेपो दर या बेंचमार्क इंडिया प्राइवेट लिमिटेड (एफ़बीआईएल) द्वारा प्रकाशित किसी अन्य बेंचमार्क बाजार ब्याज दर के लिए बेंचमार्क किया जाएगा।

(i) फ्लोटिंग ब्याज दर से संबद्ध आस्तियों के एवज में स्थायी ब्याज दर संबद्ध दायित्वों से बैंकों द्वारा ब्याज दर जोखिम का प्रबंधन और अन्य कठिनाइयाँ और (ii) आईटी प्रणाली अद्यतन के लिए अपेक्षित शीर्ष समय जैसे मुद्दों पर शेयरधारकों के साथ चर्चा के दौरान प्राप्त प्रतिपुष्टी को ध्यान में रखते हुए यह हितधारकों के साथ आगे परामर्श आयोजित करने और दरों के प्रसारण के लिए एक प्रभावी तंत्र का काम करने का निर्णय लिया गया है।

5. काउंटरसाइकलिकल कैपिटल बफर

5 फरवरी 2015 को जारी दिशा-निर्देशों के संदर्भ में, रिज़र्व बैंक द्वारा काउंटरसाइकलिकल कैपिटल बफर (सीसीसीबी) की रूपरेखा जारी की गई थी, जिसमें यह सूचित किया गया था कि परिस्थितियों की आवश्यकता के अनुसार सीसीसीबी को सक्रिय किया जाएगा और सामान्य रूप से इसका निर्णय पहले ही घोषित किया जाएगा। रूपरेखा मुख्य संकेतक के रूप में क्रेडिट-टू-जीडीपी अंतर की परिकल्पना करती है, जिसका उपयोग अन्य अनुपूरक, अर्थात, क्रेडिट-डिपॉजिट (सीडी) अनुपात के साथ तीन वर्षों की गतिमान अवधि के लिए किया जा सकता है (इसके क्रेडिट-टू-जीडीपी गैप और जीएनपीए ग्रोथ के साथ सहसंबंध को देखते हुए), इंडस्ट्रियल आउटलुक (आईओ) असेसमेंट इंडेक्स (जीएनपीए ग्रोथ के साथ इसके सहसंबंध को नोट करते हुए) और ब्याज कवरेज अनुपात (क्रेडिट-टू-जीडीपी गैप के साथ इसके सहसंबंध को नोट करते हुए) के साथ किया जा सकता है । सीसीसीबी संकेतकों की समीक्षा और अनुभवजन्य परीक्षण के आधार पर, यह निर्णय लिया गया है कि इस समय सीसीसीबी को सक्रिय करना आवश्यक नहीं है।

II. वित्तीय बाजार

6. इंटरनेशनल सेंट्रल सिक्योरिटीज डिपॉजिटरी (आईसीएसडी) के माध्यम से जी-सेक ट्रेडिंग की अनुमति

2014-15 के केंद्रीय बजट में "भारतीय ऋण प्रतिभूतियों के अंतर्राष्ट्रीय निपटान की अनुमति" पर की गई घोषणा के अनुसार, रिज़र्व बैंक ने सरकार के परामर्श से अपने गैर-निवासी ग्राहकों को सरकारी प्रतिभूतियों में लेन-देन की अनुमति देने के लिए आईसीएसडी के साथ चर्चा शुरू की थी। अब आईसीएसडी द्वारा सरकारी प्रतिभूतियों के अंतरराष्ट्रीय निपटान के कार्यान्वयन की प्रक्रिया शुरू करने का प्रस्ताव है। यह गैर-निवासियों के लिए सरकारी प्रतिभूतियों के लेनदेन के लिए एक नया चैनल खोलेगा। इस संबंध में सरकार और भारतीय प्रतिभूति विनिमय बोर्ड (सेबी) के परामर्श से परिचालन विवरण पर आईसीएसडी के साथ काम किया जाएगा।

7. प्राधिकृत व्यापारी श्रेणी II के रूप में गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (एनबीएफसी) को लाइसेंस

विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम, 1999 के अनुसार, विदेशी मुद्रा लेनदेन केवल अधिकृत व्यक्तियों जो लेनदेन कर सकते हैं, विशेष रूप से जिन्हे लेनदेन की अनुमति है, के माध्यम से किए जाने की आवश्यकता है।

गैर-व्यापार चालू खाता लेनदेन के लिए विदेशी मुद्रा विक्रय के लिए विनियमित संस्थाओं के अंतिम-मील स्पर्श बिंदुओं में वृद्धि करके विदेशी मुद्रा लेनदेन की सुविधा में सुधार करने के उद्देश्य से, यह निर्णय लिया गया है निवेश और क्रेडिट कंपनियों (आईसीसी) की श्रेणी में गैर-जमा राशि लेनेवाली प्रणालीगत रूप से महत्वपूर्ण गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियां(एनबीएफसी-एनडीएसआई) प्राधिकृत व्यापारी श्रेणी II लाइसेंस लेने के लिए आवेदन करने के लिए पात्र होगी। इस संबंध में विस्तृत अनुदेश अप्रैल 2019 के अंत तक जारी किए जाएंगे।

III. भुगतान और निपटान प्रणाली

8. भारतीय भुगतान प्रणाली की बेंचमार्किंग

कुशल भुगतान प्रणाली वस्तुओं और सेवाओं के आदान-प्रदान की लागत को कम करती है और वित्तीय बाजारों के कामकाज के लिए अत्यावश्यक है। पिछले दशक ने दुनिया भर में रिटेल भुगतान में कई नवोन्मेष देखे गए हैं। प्रमुख देशों में भुगतान प्रणाली और उपकरणों के विरूद्ध भारत की प्रगति का आकलन करने और भुगतान के डिजिटलीकरण को मजबूत करने के लिए योजनाबद्ध प्रयासों को और गति देने के लिए भारत के भुगतान प्रणाली की बेंचमार्किंग आवश्यक है। इस तरह के प्रयोग के निष्कर्षों वाली एक रिपोर्ट को मई 2019 के अंत तक आरबीआई की वेबसाइट पर रखा जाएगा।

9. ग्राहक शिकायतों और मुआवज़े के समाधान के लिए टर्न अराउंड टाइम हार्मोनाइजिंग पर रूपरेखा

रिज़र्व बैंक ने विभिन्न अधिकृत भुगतान प्रणालियों को उपयुक्त ग्राहक शिकायत निवारण तंत्र अपनाने का निर्देश दिया है। इसके अलावा, कुछ भुगतान प्रणालियों के लिए रिज़र्व बैंक ने विफल लेनदेन के समाधान में देरी के लिए ग्राहकों को भुगतान किए जाने वाले मुआवजे के बारे में दिशानिर्देश जारी किए हैं। तथापि, यह देखा गया है कि ग्राहक की शिकायत का समाधान करने के लिए लिया गया समय भुगतान प्रणालियों में भिन्न होता है। सभी इलेक्ट्रॉनिक भुगतान प्रणालियों में त्वरित और कुशल ग्राहक सेवा होने के लिए, ग्राहकों की शिकायतों और चार्जबैक के समाधान के टर्न अराउंड टाइम (टीएटी) का सामंजस्य करना और ग्राहकों के लाभ के लिए मुआवजे की रूपरेखा तैयार करना आवश्यक है। रिज़र्व बैंक ने जून 2019 के अंत तक सभी अधिकृत भुगतान प्रणालियों में ग्राहकों की शिकायतों के समाधान और मुआवजे के लिए टीएटी पर एक रूपरेखा तैयार करने का प्रस्ताव रखा है।

IV. वित्तीय समावेशन

10. अनुसूचित क्षेत्र के बैंकों (एससीबी) और क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों (आरआरबी) और लघु वित्त बैंकों (एसएफबी) के बीच आवास ऋण के लिए प्राथमिकता क्षेत्र ऋण (पीएसएल) दिशानिर्देशों का संमिलन

वाणिज्यिक बैंकों (क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों और लघु वित्त बैंकों को छोड़कर) के लिए प्राथमिकता प्राप्त क्षेत्र की पात्रता के अंतर्गत आवास ऋण सीमा जून 2018 के दौरान संशोधित की गई थी। क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों और लघु वित्त बैंकों के लिए समान विनियमन का विस्तार करने का निर्णय लिया गया है। इसका उद्देश्य इन बैंकों को अन्य अनुसूचित वाणिज्यिक बैंकों के समान एक ही स्तर पर लाना है। इस संबंध में एक परिपत्र अप्रैल 2019 के अंत तक जारी किया जाएगा।

11. जमाराशि स्वीकार न करनेवाले गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (एनबीएफसी) को कवर करने के लिए एनबीएफसी लोकपाल योजना का विस्तार

जैसा कि 7 फरवरी 2018 के विकासात्मक और विनियामक नीतियों के विवरण में घोषित किया गया है, एनबीएफसी के ग्राहकों की शिकायतों के समाधान के लिए लोकपाल योजना को भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा 23 फरवरी 2018 को प्रारंभ किया गया था। प्रारंभ में, रिजर्व बैंक के साथ पंजीकृत जमा स्वीकार करनेवाले एनबीएफसी के ग्राहकों के लिए यह योजना लागू की गई थी। जैसा कि नीति में कहा गया है, योजना के परिचालन की समीक्षा की गई थी और अब अप्रैल 2019 के अंत से इसका कवरेज बढ़ाने का निर्णय उन जमाराशि स्वीकार न करनेवाली एनबीएफसी जिनका ग्राहक इंटरफ़ेस और 100 करोड़ ( 1 बिलियन) और उससे अधिक की आस्ति है,के लिए किया गया है।

जोस जे.कट्टूर
मुख्य महाप्रबंधक

प्रेस प्रकाशनी : 2018-2019/2365


2019
2018
2017
2016
2015
2014
2013
2012
पुरालेख
Server 214
शीर्ष