अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

रिटेल डायरेक्ट योजना

रिटेल डायरेक्ट योजना के बारे में

भारत में सरकारी प्रतिभूतियों (जी-सेक) बाजार में निवेशकों में ज्यादातर वाणिज्यिक बैंक, सहकारी बैंक, क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक, भविष्य निधि, बीमा कंपनियां, पेंशन फंड, म्यूचुअल फंड और गैर-बैंकिंग वित्त कंपनियों जैसे संस्थान हैं। रिटेल भागीदारी यानी जी-सेक बाज़ार में व्यक्तियों की भागीदारी अब तक बहुत सीमित रही है।

जी-सेक बाजार में रिटेल भागीदारी को बढ़ावा देना जारीकर्ता और निवेशक दोनों के लिए फायदेमंद है। जारीकर्ता के नजरिए से, सरकारी बांड के लिए एक विविध निवेशक आधार जी-सेक के लिए स्थिर मांग सुनिश्चित करता है। इसके अलावा, विभिन्न समय में, जोखिम वरीयताओं और व्यापारिक उद्देश्यों के साथ एक विषम निवेशक आधार सक्रिय व्यापार सुनिश्चित करता है, तरलता बनाता है और सरकार को उचित लागत पर उधार जुटाने की अनुमति देता है। दूसरी ओर, निवेशकों के नजरिए से, यह अच्छा रिटर्न और पूंजी प्रतिभूति के साथ एक वैकल्पिक निवेश विकल्प प्रदान करता है।

कुछ देशों ने विशेष गैर-व्यापार योग्य साधनों के माध्यम से सरकारी प्रतिभूतियों की रिटेल मांग बनाने की कोशिश की है, हालांकि यह सरकारी प्रतिभूति बाजार के विकास में योगदान नहीं देता है। भारत में, खुदरा निवेशक छोटे बचत साधनों जैसे राष्ट्रीय बचत प्रमाण पत्र, सार्वजनिक भविष्य निधि आदि में निवेश करते हैं, जिनमें से कुछ को कर लाभ होता है, जिससे उनका आकर्षण बढ़ा होता है। हालांकि, इन निवेशों से बाहर निकलना आसान नहीं है क्योंकि इन उपकरणों के पास द्वितीयक बाजार नहीं है, जिससे उनकी तरलता और पूंजी मूल्य-वृद्धि के अवसर सीमित हो जाते हैं ।

इस संदर्भ में, भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) द्वारा खुदरा निवेशकों को जी-सेक बाजार में भाग लेने की अनुमति देने की घोषणा-प्राथमिक बाजार और द्वितीयक बाजार दोनों में-रिटेल डायरेक्ट नामक एक ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से खुदरा निवेशकों के साथ-साथ जारीकर्ता दोनों के लिए हर दृष्टिकोण से एक अच्छा प्रस्ताव है।

  योजना संबन्धित प्रश्न
1. आरबीआई रिटेल डायरेक्ट योजना क्या है?
2. मुझे रिटेल डायरेक्ट गिल्ट (आरडीजी) खाता क्यों खोलना चाहिए?
3. रिटेल डायरेक्ट प्लेटफॉर्म के माध्यम से कौन से सरकारी प्रतिभूतियाँ है जिनमें मैं निवेश कर सकता हूँ?
4. रिटेल डायरेक्ट गिल्ट (आरडीजी) खाता कौन खोल सकता है?
5. मैं कितने रिटेल डायरेक्ट गिल्ट खाते खोल सकता हूँ?
6. क्या रिटेल डायरेक्ट गिल्ट (आरडीजी) खाता संयुक्त नाम में खोला जा सकता है?
7. आरबीआई के रिटेल डायरेक्ट पोर्टल पर क्या सुविधाएं उपलब्ध हैं?
  खाता खोलने से संबंधित प्रश्न
8. रिटेल डायरेक्ट गिल्ट (आरडीजी) खाता खोलने की प्रक्रिया क्या है?
9. रिटेल डायरेक्ट गिल्ट (आरडीजी) खाता खोलने के लिए मुझे किन दस्तावेजों की आवश्यकता है?
10. क्या मैं बाद में अपने रिटेल डायरेक्ट गिल्ट (आरडीजी) खाते से जुड़े ईमेल आईडी या फोन नंबर बदल सकता हूं?
11. यदि मैंने पहले ही अन्य माध्यमों से सरकारी प्रतिभूतियों में निवेश किया है तो क्या मैं रिटेल डायरेक्ट गिल्ट (आरडीजी) खाता खोल सकता हूं?
12. रिटेल डायरेक्ट गिल्ट (आरडीजी) खाता खोलने और बनाए रखने की लागत क्या है?
  नो योर कस्टमर (केवाईसी) से संबन्धित प्रश्न
13. रिटेल डायरेक्ट गिल्ट (आरडीजी) खाता के लिए मेरा केवाईसी सत्यापन करने के तरीके क्या हैं?
14. सीकेवाईसी प्रक्रिया कैसे काम करती है?
15. वीडियो केवाईसी किसे करना चाहिए?
16. वीडियो केवाईसी प्रक्रिया कैसे काम करती है?
17. क्या मुझे अपना पता प्रमाण अपलोड करने की आवश्यकता है?
18. मुझे अपना बैंक खाता विवरण क्यों प्रदान करने की आवश्यकता है?
19. मैं अपने बैंक खाते को अपने रिटेल डायरेक्ट गिल्ट (आरडीजी) खाते से कैसे लिंक कर सकता हूं?
20. यदि मेरी केवाईसी प्रक्रिया एक सत्र में पूरी नहीं होती है तो क्या होगा?
  नामांकन से संबंधित प्रश्न
21. क्या रिटेल डायरेक्ट गिल्ट (आरडीजी) खाता खोलने के लिए नामांकन अनिवार्य है?
22. कितने नामितों को प्रवेश दिया जा सकता है?
23. क्या प्रत्याशियों को बाद में बदला जा सकता है?
24. क्या कोई सरकारी प्रतिभूति धारक रक्त संबंध के अलावा किसी अन्य व्यक्ति को नामांकित व्यक्ति के रूप में मनोनीत कर सकता है?
25. यदि सरकारी प्रतिभूति के लिए संयुक्त प्रत्याशियों में से एक की मृत्यु हो जाती है तो क्या होगा?
  निवेश और खाता धारिता से संबंधित प्रश्न
26. प्राथमिक बाजार नीलामी की आवधिकता क्या है?
27. सरकारी प्रतिभूतियों में निवेश करने के जोखिम क्या हैं?
28. सरकारी प्रतिभूतियों में निवेश पर रिटर्न क्या हैं?
29. रिटेल डायरेक्ट प्लेटफॉर्म के माध्यम से निवेश के लिए न्यूनतम राशि क्या है?
30. सरकारी प्रतिभूति में अधिकतम कितनी राशि मैं निवेश कर सकता हूँ?
31. मैं रिटेल डायरेक्ट प्लेटफॉर्म के माध्यम से प्रतिभूतियों को कैसे खरीद सकता हूं?
32. मैं रिटेल डायरेक्ट प्लेटफॉर्म के माध्यम से प्रतिभूतियों को कैसे बेच सकता हूं?
33. रिटेल डायरेक्ट मंच के माध्यम से प्राथमिक नीलामियों में बोली लगाने की प्रक्रिया क्या है?
34. मैं प्राथमिक नीलामी में कितनी बोलियां लगा सकता हूं?
35. प्राथमिक नीलामियों में बोली लगाने के समय मुझे कितनी राशि का भुगतान करना चाहिए?
36. प्राथमिक नीलामियों में प्रतिभूतियों का आवंटन किस कीमत पर किया जाएगा?
37. क्या मार्कअप रिटेल डायरेक्ट पोर्टल के माध्यम से निवेश करने के लिए शुल्क लिया जाता है?
38. मुझे अपनी प्राथमिक नीलामी बोली के दौरान मार्कअप का भुगतान क्यों करना पड़ता है?
39. अतिरिक्त मार्कअप के लिए मुझे रिफ़ंड कब मिलेगा?
40. क्या मैं अपनी बोलियों के वित्तपोषण के लिए रिटेल डायरेक्ट पोर्टल के साथ पंजीकृत एक के अलावा एक अलग बैंक खाते का उपयोग कर सकता हूं?
41. क्या मैं दिनांकित जी-सेक, टी-बिल और एसडीएल की प्राथमिक नीलामियों में प्रतिस्पर्धी बोली (यानी, मेरी वांछित कीमत पर बोली) लगा सकता हूं?
42. अन्य शुल्क/प्रभार क्या लागू हैं?
43. मेरे रिटेल डायरेक्ट गिल्ट (आरडीजी) खाते में प्रतिभूतियां कब जमा होंगी?
44. क्या मुझे रिटेल डायरेक्ट प्लेटफॉर्म के जरिए प्रतिभूतियों की खरीद पर भौतिक प्रमाणपत्र मिलेगा?
45. मेरी प्रतिभूतियां कहां और किसके पास रखी जाएंगी?
46. सीएसजीएल खाते से इसका क्या मतलब है?
47. क्या मैं किसी को सरकारी प्रतिभूतियां उपहार में दे सकता हूं?
48. क्या एनएसडीएल/सीडीएसएल के साथ मेरे डीमेट खाते में रखी गई मेरी मौजूदा/भविष्य की सरकारी प्रतिभूतियां मेरे रिटेल डायरेक्ट गिल्ट (आरडीजी) खाते में प्रतिबिंबित होंगी?
49. क्या मैं अपनी डीमेट होल्डिंग्स को आरबीआई रिटेल डायरेक्ट प्लेटफॉर्म के तहत सीएसजीएल होल्डिंग में शिफ्ट कर सकता हूं?
  हमसे संपर्क करें
50. मैं रिटेल डायरेक्ट स्कीम से संबंधित प्रश्नों और शिकायतों के लिए किससे संपर्क कर सकता हूं?

योजना संबन्धित प्रश्न

1. आरबीआई रिटेल डायरेक्ट योजना क्या है?

रिटेल डायरेक्ट योजना व्यैकतिक निवेशकों द्वारा सरकारी प्रतिभूतियों में निवेश को सुगम बनाने के लिए समग्र समाधान है। इस योजना के अंतर्गत रिटेल निवेशक आरबीआई के साथ गिल्ट प्रतिभूति खाता- “रिटेल डायरेक्ट गिल्ट (आरडीजी)” खाता खोल सकता है। इस खाते को प्रयोग करते हुए, रिटेल निवेशक ऑनलाइन पोर्टल https://rbiretaildirect.org.in के माध्यम से सरकारी प्रतिभूतियों को खरीद और बेच सकता है।

2. मुझे रिटेल डायरेक्ट गिल्ट (आरडीजी) खाता क्यों खोलना चाहिए?

आरडीजी खाता खोलने से व्यक्ति प्राथमिक बाज़ार (नीलामी) के साथ ही साथ द्वितीयक बाज़ार में भी सरकारी प्रतिभूतियों को खरीदा/बेचा जा सकता है। रिटेल निवेशक के लिए, सरकारी प्रतिभूति दीर्घावधि निवेश के लिए एक विकल्प है। रिटेल निवेशकों के लाभ निम्न है:

i. जी-सेक जोखिम मुक्त है: घरेलू बाजार के संदर्भ में जी-सेक जोखिम मुक्त है और कोई क्रेडिट जोखिम नहीं है।

ii. जी-सेक लंबी अवधि के लिए उचित प्रतिफल देता है। जी-सेक प्रतिफल वक्र 40 साल तक के लिए है। सरकार द्वारा यील्ड वक्र पर विभिन्न बिंदुओं पर प्रतिभूतियां जारी करने के साथ, जी-सेक उन बचतकर्ताओं के लिए एक आकर्षक विकल्प प्रदान करता है जिन्हें लंबी अवधि के लिए कम जोखिम वाले निवेश विकल्पों की आवश्यकता होती है।

iii. जी-सेक पूंजीगत लाभ की संभावना प्रदान करता है: चूंकि बांड मूल्य और ब्याज दर के बीच एक विपरीत संबंध है, इसलिए ब्याज दरों में नरमी आने पर पूंजीगत लाभ की संभावना है। हालांकि बाज़ार जोखिम के लिए सतर्क होना चाहिए जो ब्याज दर के विपरीत होने पर हानि में बदल सकता है।

iv. जी-सेक में उचित तरलता होती है: जी-सेक में उचित तरलता होती है और एनडीएस-ओम पर लेनदेन किया जा सकता है। रिटेल डायरेक्ट पोर्टल की शुरुआत के साथ, खुदरा निवेशक अब प्राथमिक और माध्यमिक बाजार में आसानी से भाग ले सकते हैं।

v. जी-सेक पोर्टफोलियो में विविधता लाने में मदद: सरकारी प्रतिभूतियों में निवेश पोर्टफोलियो विविधीकरण में मदद करेगा और फलस्वरूप खुदरा निवेशकों के लिए जोखिम को कम करेगा।

vi. रिटेल डायरेक्ट योजना के अंतर्गत शून्य प्रभार: रिटेल डायरेक्ट खाता पूरी तरह से नि: शुल्क है और इसमें कोई मध्यस्थ शामिल नहीं है। यह व्यक्तिगत निवेशकों के लिए उन शुल्कों के संदर्भ में समग्र लेनदेन शुल्क को कम करेगा जो उन्हें अन्यथा एग्रीगेटर के माध्यम से निवेश करने या म्यूचुअल फंड के माध्यम से अप्रत्यक्ष एक्सपोजर लेने के लिए भुगतान करने की आवश्यकता होती है।

3. रिटेल डायरेक्ट प्लेटफॉर्म के माध्यम से कौन से सरकारी प्रतिभूतियाँ है जिनमें मैं निवेश कर सकता हूँ?

i. सरकारी ट्रेजरी बिल (टी-बिल)

ii. सरकारी दिनांकित प्रतिभूतियाँ (दिनांकित जी-सेक)

iii. राज्य विकास ऋण (एसडीएल)

iv. राजकीय स्वर्ण बॉन्ड (एसजीबी)

4. रिटेल डायरेक्ट गिलट (आरडीजी) खाता कौन खोल सकता है?

क. खुदरा निवेशकों अर्थात व्यक्तियों (नैसर्गिक व्यक्तियों) को आरडीजी खाता खोलने की अनुमति है। खाता खोलने के लिए निम्नलिखित आवश्यक हैं:

i. भारत में रखा गया रुपये की बचत बैंक खाता।

ii. आयकर विभाग द्वारा जारी स्थायी खाता संख्या (पैन)।

iii. कोई भी आधिकारिक तौर पर वैध दस्तावेज़ (OVD) अपने ग्राहक को जाने उद्देश्य हेतु।

iv. वैध्य ईमेल आईडी।

v. पंजीकृत मोबाइल नं.।

ख. विदेशी विनियमन प्रबंधन अधिनियम, 1999 के अंतर्गत सरकारी प्रतिभूतियों में निवेश के लिए पात्र अनिवासी रिटेल निवेशक।

5. मैं कितने रिटेल डायरेक्ट गिल्ट (आरडीजी) खाते खोल सकता हूँ?

एक व्यक्ति केवल एक आरडीजी खाता खोल सकता है। संयुक्त आरडीजी खाते का द्वितीय धारक एक अलग आरडीजी खाता भी खोल सकता है।

6. क्या रिटेल डायरेक्ट गिल्ट (आरडीजी) खाता संयुक्त नाम में खोला जा सकता है?

पात्रता मानदंडों को पूरा करने वाले किसी अन्य खुदरा निवेशक के साथ आरडीजी खाता अकेले या संयुक्त रूप से खोला जा सकता है।

7. आरबीआई के रिटेल डायरेक्ट पोर्टल पर क्या सुविधाएं उपलब्ध हैं?

आरबीआई रिटेल डायरेक्ट ऑनलाइन पोर्टल निम्नलिखित की सुविधा देगा:

क. प्राथमिक नीलामियों (केवल गैर-प्रतिस्पर्धी खंड) के माध्यम से सरकारी प्रतिभूतियों को खरीदना।

ख. द्वितीयक बाजार में सरकारी प्रतिभूतियों की खरीद और बिक्री.

ग. प्राथमिक और माध्यमिक बाजार में राजकीय स्वर्ण बॉन्ड (एसजीबी) खरीदना और बेचना।

घ. निवेशक सेवाएं जैसे खाता विवरण, नामांकन सुविधा, प्रतिज्ञा/ग्रहण, उपहार लेनदेन, शिकायत निवारण, और संपर्क विवरण जैसे प्रोफाइल का प्रबंधन आदि।

खाता खोलने से संबंधित प्रश्न

8. रिटेल डायरेक्ट गिल्ट (आरडीजी) खाता खोलने की प्रक्रिया क्या है?

क. पात्र निवेशक खाता खोलने की प्रक्रिया शुरू करने के लिए पंजीकरण लिंक का उपयोग करके https://rbiretaildirect.org.in पर लॉग-इन कर सकते हैं और पंजीकरण कर सकते हैं।

ख. खाता खोलने के लिए निवेशक को पूरा नाम, पैन, मोबाइल नंबर, ई-मेल पता, आवासीय पता, बचत बैंक खाता संख्या आदि विवरण प्रस्तुत करना होगा और एक लॉग-इन नाम निर्दिष्ट करना होगा। मोबाइल नंबर और ईमेल एड्रेस को ओटीपी का इस्तेमाल कर प्रमाणित किया जाएगा और आगे के सभी ग्राहक अनुरोध और सेवाएं ओटीपी आधारित होंगी।

ग. संयुक्त खातों के लिए दोनों धारकों का पैन, ई-मेल एड्रेस और फोन नंबर जरूरी होगा।

घ. एक बार ये विवरण प्रदान किए जाने के बाद, आपको अपने आवेदन को ट्रैक करने के लिए एक संदर्भ संख्या मिलेगी।

ड़. अब आप अपने ग्राहक को जानें (केवाईसी) सत्यापन प्रक्रिया शुरू कर सकते हैं।

च. संयुक्त खातों के मामले में दोनों धारकों के लिए केवाईसी सत्यापन किया जाएगा।

छ. खाता खोलते समय निवेशक को नामांकन विवरण भरना अनिवार्य होगा।

ज. ग्राहक के बचत बैंक खाते को उनके बैंक खाते में टोकन राशि जमा करके और उसके सत्यापन से उनके रिटेल डायरेक्ट खाते से जोड़ा जाएगा।

झ. एक बार केवाईसी हो जाने पर, आरडीजी खाता निवेशक (कों) के नाम से एक आरडीजी खाता खोला जाएगा।

ट. ऑनलाइन पोर्टल तक पहुंचने के लिए खाता संख्या, लॉग-इन आईडी और पासवर्ड से संबंधित जानकारी ग्राहक को उनके पंजीकृत ई-मेल आईडी पर उपलब्ध कराई जाएगी।

ठ. केवाईसी फेल होने की स्थिति में व्यक्ति जरूरी बदलाव करने के बाद आवेदन फिर से प्रस्तुत कर सकता है या नया आवेदन कर सकता है।

9. रिटेल डायरेक्ट गिल्ट (आरडीजी) खाता खोलने के लिए मुझे किन दस्तावेजों की आवश्यकता है?

आरडीजी खाता खोलने के लिए निम्न दस्तावेज़ आवश्यक है

  1. पैन

  2. मोबाइल नं.

  3. ई-मेल पता

  4. आपके हस्ताक्षर की स्कैन प्रति

  5. बैंक खाता विवरण (रद्द चेक अपलोड करके या मैन्युअल रूप से पोर्टल पर विवरण दर्ज करके)

  6. मोबाइल नंबर के साथ लिंक आधार नंबर

इसके अलावा, आपको अपने ग्राहक को जाने (केवाईसी) प्रक्रिया को पूरा करने के लिए एक पता प्रमाणपत्र प्रदान करना पड़ सकता है। निम्नलिखित दस्तावेजों को पता प्रमाणपत्र के रूप में स्वीकार किया जाता है - पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस, वोटर आईडी, आधार, नरेगा जॉब कार्ड राज्य सरकार द्वारा विधिवत हस्ताक्षरित, राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर द्वारा जारी पत्र जिसमें आपका नाम और पता हो।

10. क्या मैं बाद में अपने रिटेल डायरेक्ट गिल्ट (आरडीजी) खाते से जुड़े ईमेल आईडी या फोन नंबर बदल सकता हूं?

जी हां, आप रिटेल डायरेक्ट पोर्टल पर अपना पंजीकृत मोबाइल नंबर और ई-मेल आईडी बदल सकते हैं।

11. यदि मैंने पहले ही अन्य माध्यमों से सरकारी प्रतिभूतियों में निवेश किया है तो क्या मैं रिटेल डायरेक्ट गिल्ट (आरडीजी) खाता खोल सकता हूं?

हाँ।

12. रिटेल डायरेक्ट गिल्ट (आरडीजी) खाता खोलने और बनाए रखने की लागत क्या है?

आरडीजी खाता आरबीआई के साथ मुफ्त में खोला और रखा जा सकता है।

नो योर कस्टमर (केवाईसी) से संबन्धित प्रश्न

13. रिटेल डायरेक्ट गिल्ट (आरडीजी) खाते के लिए मेरा केवाईसी सत्यापन करने के तरीके क्या हैं?

केवाईसी सत्यापन करने के दो तरीके हैं- सीकेवाईसी आधारित और वीडियो केवाईसी।

14. सीकेवाईसी प्रक्रिया कैसे काम करती है?

i. सीकेवाईसी में उपलब्ध विवरण प्राप्त करने के लिए अपना पैन कार्ड नंबर और जन्म तिथि दर्ज करें।

ii. पता विवरण, अपने हस्ताक्षर की स्कैन कॉपी, बैंक खाते का विवरण और नामांकित विवरण प्रदान करें।

iii. आधार से लिंक किए गए आपके मोबाइल नंबर पर भेजे गए ओटीपी को प्रस्तुत कर आधार का उपयोग कर यूजर एग्रीमेंट फॉर्म को प्रमाणित करें।

15. वीडियो केवाईसी किसे करना चाहिए?

यदि आपका डेटा सीकेवाईसी डेटाबेस में मौजूद नहीं है, तो आपको वीडियो केवाईसी विधि का विकल्प चुनना होगा।

16. वीडियो केवाईसी प्रक्रिया कैसे काम करती है?

i. अपने पैन कार्ड की स्कैन कॉपी अपलोड करें।

ii. यूआईडीएआई की वेबसाइट से अपने आधार का एक्सएमएल वर्जन डाउनलोड कर अपलोड करें। एक्सएमएल संस्करण डाउनलोड करते समय निर्दिष्ट 4 अंकों के पिन का उपयोग करें।

iii. पता विवरण, अपने हस्ताक्षर की स्कैन कॉपी, बैंक खाते का विवरण और नामांकित विवरण प्रदान करें।

iv. उस समय की उपलब्धता के आधार पर बाद में या तुरंत के लिए एक समय स्लॉट चुनकर वीडियो केवाईसी को पूरा करें।

v. आधार से लिंक किए गए आपके मोबाइल नंबर पर भेजे गए ओटीपी का उपयोग करके आधार द्वारा उपयोगकर्ता समझौते के फार्म को प्रमाणित करें।

17. क्या मुझे अपना पता प्रमाण अपलोड करने की आवश्यकता है?

केवल अगर आपका पता सीकेवाईसी में उल्लिखित एक से बदल गया है। उस स्थिति में, आप अपना नया पता अपडेट कर सकते हैं और इसके लिए एक प्रमाण अपलोड कर सकते हैं।

18. मुझे अपना बैंक खाता विवरण क्यों प्रदान करने की आवश्यकता है?

किसी भी खरीद/बिक्री के मामले में इस रुपये बचत बैंक खाते के माध्यम से धन का निपटारा किया जाएगा। निवेशित प्रतिभूति की आवधिक कूपन भुगतान और शोधन राशि भी इस बैंक खाते में जमा की जाएगी।

19. मैं अपने बैंक खाते को अपने रिटेल डायरेक्ट गिल्ट (आरडीजी) खाते से कैसे लिंक कर सकता हूं?

अपने बैंक खाते को लिंक करने के लिए, आप या तो अपने बैंक खाते के रद्द चेक की एक तस्वीर अपलोड कर सकते हैं जहां से सिस्टम स्वचालित रूप से आवश्यक विवरण पढ़ लेगा या बैंक खाते का विवरण स्वयं दर्ज करेगा। इसके बाद सिस्टम आपके खाते में टोकन राशि अंतरित कर देगा। अगली स्क्रीन पर इस टोकन राशि की पुष्टि करने से स्वचालित सत्यापन और लिंकिंग होगी।

20. यदि मेरी केवाईसी प्रक्रिया एक सत्र में पूरी नहीं होती है तो क्या होगा?

केवाईसी सत्यापन प्रक्रिया के दौरान आपकी प्रगति सेव हो जाएगी ताकि यदि आप फिर से शुरू करते हैं तो आपको विवरण फिर से दर्ज न करना पड़े। सेव की गई प्रक्रिया को ईमेल में लिंक का उपयोग करके एक्सेस किया जा सकता है जो आपको पंजीकरण के बाद प्राप्त हुआ था, जो आपको केवाईसी के बारे में सूचित करता है। हालांकि, जब आप फिर से शुरू करते हैं, तो आपको पहले सेव किए गए विवरणों को फिर से दर्ज किए बिना आगे बढ़ने के लिए 'नेक्स्ट' पर क्लिक करते रहना होगा।

नामांकन से संबंधित प्रश्न

21. क्या रिटेल डायरेक्ट गिल्ट (आरडीजी) खाता खोलने के लिए नामांकन अनिवार्य है?

हाँ।

22. कितने नामितों को प्रवेश दिया जा सकता है?

दो नामितों तक।

23. क्या नामितों को बाद में बदला जा सकता है?

हां, निवेशक, यदि वे ऐसा चाहते हैं, तो बाद में रिटेल डायरेक्ट पोर्टल के माध्यम से नामितों का विवरण बदल सकते हैं।

24. क्या कोई सरकारी प्रतिभूति धारक रक्त संबंध के अलावा किसी अन्य व्यक्ति को नामांकित व्यक्ति के रूप में मनोनीत कर सकता है?

हाँ। एक सरकारी प्रतिभूति धारक किसी भी व्यक्ति को नामांकित व्यक्ति के रूप में नामित कर सकता है बशर्ते कि नामांकित व्यक्ति विशिष्ट सरकारी ऋण अधिसूचना के अनुसार विशेष ऋण में निवेश करने के लिए पात्र होना चाहिए।

25. यदि सरकारी प्रतिभूति के लिए संयुक्त प्रत्याशियों में से एक की मृत्यु हो जाती है तो क्या होगा?

ऐसे मामलों में जहां सरकारी प्रतिभूति के संबंध में नामांकन दो के पक्ष में किया गया है और किसी भी एक प्रत्याशी की मृत्यु हो जाती है, जीवित नामांकित व्यक्ति सरकारी प्रतिभूति और उस पर भुगतान का हकदार होगा।

निवेश और खाता धारिता से संबंधित प्रश्न

26. प्राथमिक बाजार नीलामी की आवधिकता क्या है?

जबकि प्राथमिक नीलामी आमतौर पर सप्ताह के निर्दिष्ट दिनों पर आयोजित की जाती है जैसा कि नीचे दी गई तालिका में दिया गया है, ये दिन छुट्टियों या अन्य कारणों के कारण अलग हो सकते हैं। भारत सरकार की दिनांकित प्रतिभूतियों और राजकीय स्वर्ण बांड के लिए भारतीय रिजर्व बैंक की वेबसाइट पर छमाही सूचक कैलेंडर प्रकाशित किए जाते हैं जबकि त्रैमासिक सूचक कैलेंडर ट्रेजरी बिल और राज्य विकास ऋणों के लिए प्रकाशित किए जाते हैं। विवरण के लिए निम्न लिंक पर जाएँ https://rbi.org.in

क्र.सं. सरकारी प्रतिभूति प्राथमिक नीलामी समान्यता की जाती है
1 सरकारी ट्रेजरी बिल (टी-बिल) बुधवार
2 सरकारी दिनांकित प्रतिभूतियाँ (दिनांकित जी-सेक) शुक्रवार
3 राज्य विकास ऋण (एसडीएल) मंगलवार
4 राजकीय स्वर्ण बॉन्ड (एसजीबी) आरबीआई अपनी प्रेस विज्ञप्ति में साप्ताहिक विंडो की घोषणा करता है।

27. सरकारी प्रतिभूतियों में निवेश करने के जोखिम क्या हैं?

जी-सेक घरेलू मुद्रा में क्रेडिट रिस्क फ्री इंस्ट्रूमेंट्स हैं। हालांकि, यदि आप परिपक्वता से पहले बेचते हैं तो बाजार जोखिम हैं। आप सरकारी प्रतिभूतियों से जुड़े विभिन्न जोखिमों को समझने के लिए आरबीआई की वेबसाइट पर प्रकाशित 'गवर्नमेंट सिक्योरिटीज मार्केट- ए प्राइमर' का संदर्भ ले सकते हैं।

28. सरकारी प्रतिभूतियों में निवेश पर रिटर्न क्या हैं?

सरकारी प्रतिभूतियों पर रिटर्न प्रतिभूतियों की विभिन्न विशेषताओं पर निर्भर है। आप सरकारी प्रतिभूतियों पर रिटर्न को प्रभावित करने वाले कारकों को समझने के लिए आरबीआई की वेबसाइट पर प्रकाशित 'सरकारी प्रतिभूति बाजार- ए प्राइमर' का संदर्भ ले सकते हैं।

29. रिटेल डायरेक्ट प्लेटफॉर्म के माध्यम से निवेश के लिए न्यूनतम राशि क्या है?

क्र.सं. सरकारी प्रतिभूति न्यूनतम निवेश राशि/मात्रा (12 नवंबर 2021 को)
1 सरकारी ट्रेजरी बिल (टी-बिल) 10,000
2 सरकारी दिनांकित प्रतिभूतियाँ (दिनांकित जी-सेक) 10,000
3 राज्य विकास ऋण (एसडीएल) 10,000
4 राजकीय स्वर्ण बॉन्ड (एसजीबी) एक ग्राम स्वर्ण

30. सरकारी प्रतिभूतियों में अधिकतम मैं कितना निवेश कर सकता हूँ?

दिनांकित जी-सेक, टी-बिल और एसडीएल हेतु – निम्न सीमाएं लागू होती है यदि आपने प्राथमिक नीलामियों के माध्यम से इन प्रतिभूतियों को खरीदा है:

क्र.सं. सरकारी प्रतिभूति अधिकतम निवेश राशि/मात्र (12 नवंबर 2021 को)
1 सरकारी ट्रेजरी बिल (टी-बिल) सभी गैर-प्रतिस्पर्धी बोलियों का कुल आवंटन भारत सरकार द्वारा निर्दिष्ट अधिसूचित राशि के अंतर्गत निर्गम की कुल नाममात्र राशि के अधिकतम 5% या भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा निर्धारित किसी अन्य प्रतिशत तक सीमित होगा।
2 सरकारी दिनांकित प्रतिभूतियाँ (दिनांकित जी-सेक) 2 करोड़ (अंकित मूल्य) प्रति प्रतिभूति प्रति नीलामी
3 राज्य विकास ऋण (एसडीएल) प्रति नीलामी में अधिसूचित राशि (अंकित मूल्य) का 1%

राजकीय स्वर्ण बॉन्ड (एसजीबी) के लिए - एक व्यक्ति प्रति वित्तीय वर्ष 4 किलोग्राम से अधिक एसजीबी की सदस्यता नहीं ले सकता है। वार्षिक सीमा में सरकार द्वारा प्रारंभिक निर्गम दौरान विभिन्न किस्तों के तहत सब्सक्राइब किए गए बांड और द्वितीयक बाजार से खरीदे गए बांड शामिल होंगे।

31. मैं रिटेल डायरेक्ट प्लेटफॉर्म के माध्यम से प्रतिभूतियों को कैसे खरीद सकता हूं?

रिटेल डायरेक्ट प्लेटफॉर्म के माध्यम से सरकारी प्रतिभूतियों को खरीदने के दो तरीके हैं:

i. दिनांकित जी-सेक, टी-बिल और एसडीएल (केवल गैर-प्रतिस्पर्धी खंड, यानी, केवल प्रतिभूतियों की वांछित राशि में प्रवेश करके, कीमत दर्ज किए बिना) की प्राथमिक नीलामियों में बोली लगाकर। राजकीय स्वर्ण बॉन्ड (एसजीबी) के लिए, आप आरबीआई द्वारा अपनी वेबसाइट पर घोषित सदस्यता विंडो के दौरान बोली लगा सकते हैं। नीलामी में बोली लगाने पर प्रत्येक विवरण के लिए, आप रिटेल डायरेक्ट पोर्टल पर उपयोगकर्ता मैनुअल का संदर्भ ले सकते हैं।

ii. माध्यमिक बाजार पोर्टल में एक खरीद उद्धरण लगाकर।

32. मैं रिटेल डायरेक्ट प्लेटफॉर्म के माध्यम से प्रतिभूतियों को कैसे बेच सकता हूं?

आप माध्यमिक बाजार पोर्टल में एक प्रस्ताव (बिक्री) आदेश लगाकर प्रतिभूतियों को बेच सकते हैं। उस प्रतिभूति को बेचने से पहले आपके खाते में प्रतिभूति होनी चाहिए।

33. रिटेल डायरेक्ट प्लेटफॉर्म के माध्यम से प्राथमिक नीलामियों में बोली लगाने की प्रक्रिया क्या है?

i. प्राथमिक बाजार रिटेल डायरेक्ट प्लेटफॉर्म में लोग इन करने के बाद, पृष्ठ के शीर्ष पर डैशबोर्ड के बगल में 'प्राथमिक बाजार' विकल्प का चयन करें।

ii. 'नीलामी वॉच' से बोली लगाने और 'बिड एंट्री' विंडो में बोली राशि दर्ज करने के लिए प्रतिभूति का चयन करें।

iii. व्यक्ति बोली के समय या बाद में अपनी बोली का वित्तपोषण कर सकते हैं, लेकिन बोली/सदस्यता विंडो के बंद होने से पहले। आरबीआई को बोलियां प्रस्तुत करने की तारीख के अनुसार वित्त पोषित नहीं की जाने वाली बोलियां रद्द कर दी जाएंगी।

iv. बोलियों के लिए भुगतान करने के लिए, खुदरा ग्राहक ऑनलाइन पोर्टल से जुड़े भुगतान गेटवे का उपयोग करके नामित चालू खाते में धन स्थानांतरित करने के लिए यूपीआई (ट्रांसफर या ब्लॉक) और नेट बैंकिंग जैसी सेवाओं का उपयोग कर सकते हैं।

v. नीलामी परिणाम के एक भाग के रूप में प्राप्त आवंटन सूचना के आधार पर, आवंटन व्यक्तिगत निवेशकों को किया जाएगा।

vi. पूर्ण आवंटन के मामले में, प्रत्येक बोलीदाता को पूरे अंकित मूल्य का आवंटन किया जाएगा जिसके लिए बोलियां प्रस्तुत की गई थीं। आंशिक आवंटन के मामले में नीलामी में निर्धारित आंशिक आवंटन प्रतिशत के आधार पर बोलीदाता को आनुपातिक आवंटन किया जाएगा।

बिडिंग प्रक्रिया के बारे में अधिक जानकारी के लिए, आप रिटेल डायरेक्ट पोर्टल के सहायता खंड में उपयोगकर्ता मैनुअल का संदर्भ ले सकते हैं।

34. मैं प्राथमिक नीलामी में कितनी बोलियां लगा सकता हूं?

आप दिनांकित जी-सेक, टी-बिल और एसडीएल की प्रत्येक प्राथमिक नीलामी में प्रति प्रतिभूति केवल एक अंतिम बोली जमा कर सकते हैं।

35. प्राथमिक नीलामियों में बोली लगाने के समय मुझे कितनी राशि का भुगतान करना चाहिए?

दिनांकित जी-सेक, टी-बिल और एसडीएल के लिए, प्रति यूनिट राशि प्रतिभूति की सांकेतिक कीमत, अर्जित ब्याज और एक मार्क-अप के आधार पर होगी।

एसजीबी के लिए यह फंडिंग आरबीआई द्वारा उस विशेष मुद्दे के लिए घोषित निर्गम मूल्य पर आधारित होगी।

36. प्राथमिक नीलामियों में प्रतिभूतियों का आवंटन किस कीमत पर किया जाएगा?

नीलामी में सफल बोलियों के भारित औसत मूल्य पर।

37. क्या मार्कअप रिटेल डायरेक्ट पोर्टल के माध्यम से निवेश करने के लिए शुल्क लिया जाता है?

नहीं। मार्कअप आरबीआई द्वारा प्रभारित शुल्क नहीं है। यह उस कीमत के आधार पर वापस किया जा सकता है जिस पर नीलामी में बोलियां आवंटित की जाती हैं।

38. मुझे अपनी प्राथमिक नीलामी बोली के दौरान मार्कअप का भुगतान क्यों करना पड़ता है?

प्राथमिक नीलामियों के गैर-प्रतिस्पर्धी खंड में, जिस मूल्य पर प्रतिभूतियां आवंटित की जाती हैं, वह नीलामी में सफल प्रतिस्पर्धी बोलियों की भारित औसत कीमत है। चूंकि इस भारित औसत मूल्य की गणना नीलामी समाप्त होने के बाद ही की जा सकती है, इसलिए बोली लगाने के समय गैर-प्रतिस्पर्धी खंड के माध्यम से प्रतिभूति की कीमत अज्ञात है। इस अनिश्चितता को कवर करने के लिए, भारित औसत मूल्य अधिक होने की स्थिति में एक मार्कअप लागू किया जाता है।

39. मुझे अतिरिक्त मार्कअप के लिए रिफंड कब मिलेगा?

अतिरिक्त मार्कअप यानी बोली लगाते समय वसूले जाने वाले मूल्य, वास्तविक आवंटन मूल्य को घटाकर, नीलामी की तारीख से दो कार्य दिवसों के भीतर आपके लिंक्ड बैंक खाते में वापस कर दिया जाएगा।

40. क्या मैं अपनी बोलियों के वित्तपोषण के लिए रिटेल डायरेक्ट पोर्टल के साथ पंजीकृत एक के अलावा एक अलग बैंक खाते का उपयोग कर सकता हूं?

नहीं। हालांकि, अगर आप किसी अलग बैंक अकाउंट का इस्तेमाल करना चाहते हैं तो रिटेल डायरेक्ट पोर्टल के जरिए लिंक्ड बैंक अकाउंट को बदल सकते हैं।

41. क्या मैं दिनांकित जी-सेक, टी-बिल और एसडीएल की प्राथमिक नीलामियों में प्रतिस्पर्धी बोली (यानी, मेरी वांछित कीमत पर बोली) लगा सकता हूं?

नहीं। यह योजना व्यक्तियों द्वारा केवल गैर-प्रतिस्पर्धी भागीदारी (यानी अपनी कीमत चुनने के बिना बोलियां) की सुविधा प्रदान करने के लिए डिज़ाइन की गई है। हालांकि, यदि कोई प्रतिस्पर्धी बोली लगाना चाहता है, तो वह किसी बैंक/प्राथमिक डीलर/किसी अन्य अधिकृत संस्थान से संपर्क कर सकता है।

42. अन्य लागू शुल्क/प्रभार क्या हैं?

आरबीआई के पास रिटेल डायरेक्ट गिल्ट (आरडीजी) खाता खोलने और उसे बनाए रखने के लिए कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा। प्राथमिक नीलामियों में बोलियां जमा करने के समय आरबीआई द्वारा कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा। हालांकि, अपनी खरीद की फंडिंग करते समय लागू पेमेंट गेटवे चार्ज निवेशक को वहन करना होगा।

43. मेरे रिटेल डायरेक्ट गिल्ट (आरडीजी) खाते में प्रतिभूतियां कब जमा होंगी?

प्रतिभूतियों को निपटान तिथि पर आपके रिटेल डायरेक्ट खाते में जमा किया जाएगा, जो आमतौर पर व्यापार तिथि/नीलामी तिथि के बाद का कार्य दिवस है।

44. क्या मुझे रिटेल डायरेक्ट प्लेटफॉर्म के जरिए प्रतिभूतियों की खरीद पर भौतिक प्रमाणपत्र मिलेगा?

नहीं। हालांकि, खरीदी गई प्रतिभूतियां आपके रिटेल डायरेक्ट खाते में धारिता विवरण में प्रतिबिंबित होंगी।

45. मेरी प्रतिभूतियां कहां और किसके पास रखी जाएंगी?

प्रतिभूतियों को आरबीआई के साथ गिल्ट खाते में रखा जाएगा।

46. सीएसजीएल खाते से इसका क्या मतलब है?

सीएसजीएल, यानी घटकों की सहायक सामान्य लेजर खाता, इसका अर्थ है ऐसे एजेंट के घटकों की ओर से एक एजेंट द्वारा आरबीआई के साथ खोला गया और रखा गया प्रतिभूति खाता, अर्थात आरबीआई के साथ एक एजेंट द्वारा अपने घटकों की ओर से प्रतिभूतियों को रखने के लिए खोला गया खाता। घटकों को गिल्ट खाता धारकों (जीएएचएस) के रूप में जाना जाता है।

47. क्या मैं किसी को सरकारी प्रतिभूतियां उपहार में दे सकता हूं?

हां, प्रतिभूतियों को किसी रिश्तेदार/मित्र/पात्रता मानदंड को पूरा करने वाले किसी भी व्यक्ति को उपहार में दिया/हस्तांतरित किया जा सकता है। बांड को सरकारी प्रतिभूति अधिनियम, 2006 और सरकारी प्रतिभूति विनियम, 2007 के प्रावधानों के अनुसार स्थानांतरित किया जाएगा।

48. क्या एनएसडीएल/सीडीएसएल के साथ मेरे डीमेट खाते में रखी गई मेरी मौजूदा/भविष्य की सरकारी प्रतिभूतियां मेरे रिटेल डायरेक्टगिल्ट (आरडीजी) खाते में प्रतिबिंबित होंगी?

नहीं। एनएसडीएल/सीडीएसएल वाले डीमेट खाते में धारिता आरडीजी खाते में धारिता से अलग होती है। एक ही समय में दोनों खातों को बनाए रख सकते हैं।

49. क्या मैं अपनी डीमेट होल्डिंग्स को आरबीआई रिटेल डायरेक्ट प्लेटफॉर्म के तहत सीएसजीएल होल्डिंग में शिफ्ट कर सकता हूं?

हां, आप ऑनलाइन पोर्टल पर एक अनुरोध कर सकते हैं और इसे आरबीआई के लागत निरपेक्ष अंतरण (वीएफटी) दिशानिर्देशों के अनुसार अधिकृत किया जाएगा।

हमसे संपर्क करें

50. मैं रिटेल डायरेक्ट स्कीम से संबंधित प्रश्नों और शिकायतों के लिए किससे संपर्क कर सकता हूं?

आप हमें तीन तरीकों से पहुंच सकते हैं:

i. टोल फ्री फोन नंबर: 1800 267 7955 (किसी भी कार्य दिवस पर सुबह 9 बजे से शाम 7 बजे के बीच)।

ii. ई-मेल आईडी: support@rbiretaildirect.org.in

iii. रिटेल डायरेक्ट पोर्टल पर अनुरोध के द्वारा।

रिटेल डायरेक्ट पोर्टल का उपयोग करने पर अतिरिक्त विवरण के लिए, आप रिटेल डायरेक्ट पोर्टल के सहायता खंड में उपयोगकर्ता मैनुअल का संदर्भ ले सकते हैं।


2024
2023
2022
2021
2020
2019
2018
2017
2016
2015
2014
2013
2012
पुरालेख
Server 214
शीर्ष