गवर्नर का वक्तव्य - तीसरी द्विमासिक मौद्रिक नीति, 2019-20

मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की बैठक 5,6 और 7 अगस्त 2019 को हुई और हाल के घटनाक्रमों और प्राप्त आंकड़ों की पृष्ठभूमि को ध्यान में रखते हुए विकासशील व्यापक आर्थिक दृष्टिकोण पर विचार-विमर्श किया गया। आज एमपीसी ने अपनी बैठक में, इसने नीतिगत रेपो दर में कटौती करने और मौद्रिक नीति के उदार रुख को बनाए रखने के लिए मतदान किया। जैसा कि एमपीसी के संकल्प में निर्धारित किया गया था, चार सदस्यों ने नीतिगत रेपो दर में 35 आधार अंकों की कमी के लिए मतदान किया, जबकि दो सदस्यों ने नीतिगत रेपो दर को 25 आधार अंकों से कम करने के लिए मतदान किया।

2. मैं एमपीसी के सदस्यों को चर्चा में उनके अनुभव और विद्वता साझा करने हेतु धन्यवाद ज्ञपित करता हूँ।

3. मैं एमपीसी के कार्य में रिज़र्व बैंक में हमारी टीमों के निष्ठापूर्वक योगदान और कड़ी मेहनत के लिए उनके प्रति भी आभार प्रकट करता हूँ।

4. वैश्विक विकास की समीक्षा करने पर, एमपीसी ने नोट किया कि जून 2019 में इसकी बैठक के बाद से वैश्विक आर्थिक गतिविधि, व्यापार तनाव और भू-राजनीतिक अनिश्चितता के कारण धीमी हो गई है। मई के बाद से कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट से मांग की स्थिति में तेजी आई है। दूसरी ओर, सोने की कीमतों में तेजी आई है, जो सुरक्षित पनाह मांग (सेफ हेवन डिमांड) में वृद्धि से प्रेरित है। विकास के लिए बढ़ते नकारात्मक जोखिमों के बीच, ये घटनाक्रम संभावनाओं पर उच्च अनिश्चितता भार को परिलक्षित करते हैं। तेजी से, दुनिया भर के केंद्रीय बैंक मौद्रिक नीति को उदार बना रहे हैं, जिसमें ‘बीमा’ दर में कटौती भी शामिल है और वे अपने नीतिगत रुख को भी उदार बनाए रखने के लिए प्रतिबद्ध हैं। इस बीच प्रमुख उन्नत और उभरती बाजार अर्थव्यवस्थाओं में मुद्रास्फीति मंद बनी रही। प्रमुख केंद्रीय बैंकों की मौद्रिक नीति के रुख और व्यापार और भू राजनीतिक तनाव से उत्पन्न अनिश्चितता के कारण वित्तीय बाजार अस्थिर हो गए हैं।

5. घरेलू विकास पर एमपीसी ने यह पाया कि दक्षिण-पश्चिम मानसून तीव्र रहा और 6 अगस्त 2019 तक दीर्घावधि औसत(एलपीए) से 6 प्रतिशत कम संचयी बारिश 36 उप-प्रभागों में से 25 उप-प्रभागों में सामान्य या अधिक वर्षा हुई। भारतीय मौसम विभाग ने अगस्त और सितंबर में सामान्य बारिश की भविष्यवाणी की है। खरीफ फसलों के तहत बोए जाने वाले क्षेत्र में भी बारिश हो रही है जो 2 अगस्त को एक साल पहले की तुलना में केवल 6.6 प्रतिशत कम है। औद्योगिक उत्पादन सूचकांक (आईआईपी) द्वारा मापी गई औद्योगिक वृद्धि मई 2019 में कम हुई, जो विनिर्माण और खनन के कारण कम हुई जबकि बिजली की मांग के कारण बिजली उत्पादन में तेजी आई । उत्पादन में बढ़ोतरी, उच्चतर नए आदेशों और आने वाले वर्ष में मांग की स्थिति में सुधार से उत्पादन पीएमआई जून में 52.1 की तुलना में जुलाई में बढ़कर 52.5 हो गया। मई-जून के लिए सेवा क्षेत्र की गतिविधियों के उच्च आवृत्ति संकेतक एक मिश्रित तस्वीर प्रस्तुत करते हैं। ट्रैक्टर और मोटरसाइकिल की बिक्री - ग्रामीण मांग के संकेतक – में संकुचन जारी रहा। शहरी मांग के संकेतकों के बीच, जून में लगातार आठवें महीने में यात्री वाहन बिक्री संकुचित रही; तथापि, लगातार तीन महीने के संकुचन के बाद जून में घरेलू हवाई यात्री ट्रैफिक वृद्धि सकारात्मक रही। नए निर्यात आदेशों और रोजगार में वृद्धि से सेवा पीएमआई जून में 49.6 की तुलना में जुलाई में बढ़कर 53.8 हो गया ।

6. सीपीआई में वर्ष-दर-वर्ष परिवर्तन द्वारा मापी गई खुदरा मुद्रास्फीति, अप्रैल- मई में 3.0 प्रतिशत की तुलना में जून में बढ़कर 3.2 प्रतिशत हो गई खाद्य समूह की मुद्रास्फीति मई में 2.0 प्रतिशत और अप्रैल में 1.4 प्रतिशत से बढ़कर जून में 2.4 प्रतिशत हो गई, खाद्य और ईंधन को छोड़कर सीपीआई मुद्रास्फीति अप्रैल में 4.6 आधार से 50 आधार अंक घटकर मई में 4.1 प्रतिशत हो गई। इस श्रेणी में मुद्रास्फीति में मंदी व्यापक-आधारित थी। परिवारों की मुद्रास्फीति के अनुमान एक वर्ष आगे के होरीज़ोन के लिए 20 आधार अंकों मंद हुई।

7. जून 2019 में का व्यापार निर्यात संकुचित हुआ। आयात भी संकुचित हुआ और आयात में गिरावट निर्यात की तुलना में बड़ी होने के कारण, व्यापार घाटा मई-जून के दौरान वर्ष-दर-वर्ष आधार पर मामूली रूप से कम हो गया। वित्तीयन पक्ष पर, निवल विदेशी प्रत्यक्ष निवेश प्रवाह एक साल पहले के 7.9 बिलियन अमेरिकी डॉलर से 6.8 बिलियन अमेरिकी डॉलर तक संशोधित हुए। चालू वित्त वर्ष के दौरान अभी तक (05 अगस्त 2019 तक) घरेलू पूंजी बाजार में निवल विदेशी पोर्टफोलियो निवेश (एफपीआई) प्रवाह 2.3 बिलियन अमेरिकी डॉलर रहे जबकि पिछले वित्त वर्ष इसी अवधि में निवल बहिर्वाह 8.5 बिलियन अमेरिकी डॉलर थे । भारत के विदेशी मुद्रा भंडार में मार्च 2019 की समाप्ति से यूएस डॉलर 16.1 बिलियन की बढ़ोतरी होकर 2 अगस्त, 2019 को वह 429.0 बिलियन अमेरिकी डॉलर हो गया।

8. इन गतिविधियों को देखते हुए और यह देखते हुए कि 2019-20 की पहली तिमाही के लिए मुद्रास्फीति अपने जून के अनुमानों के अनुरूप रही, एमपीसी ने अपने मुद्रास्फीति प्रक्षेपण को 2019-20 की दूसरी तिमाही के लिए 3.1 प्रतिशत पर बरकरार रखा है और 2019 -20 की दूसरी छमाही के अनुमानों को समान रूप से संतुलित जोखिम के साथ जून में अनुमानित 3.4-3.7 प्रतिशत से 3.5-3.7 प्रतिशत के रूप में संशोधित किया गया। 2020-21 की पहली तिमाही के लिए 3.6 प्रतिशत सीपीआई मुद्रास्फीति का अनुमान लगाया गया है।

9. एमपीसी ने जून के संकल्प में समान रूप से संतुलित जोखिमों के साथ 2019-20 के लिए वास्तविक जीडीपी वृद्धि अनुमान को 7.0 प्रतिशत - पहली छमाही के लिए 6.4-6.7 प्रतिशत: और दूसरी छमाही के लिए 7.2-7.5 प्रतिशत – की तुलना में कुछ हद तक नीचे की ओर झुके हुए जोखिम के साथ 2019-20 के लिए वास्तविक जीडीपी वृद्धि प्रक्षेपक को 6.9 प्रतिशत तक नीचे की ओर संशोधित किया है - 2019-20 की पहली छमाही के लिए 5.8-6.6 प्रतिशत और दूसरी छमाही के लिए 7.3-7.5 प्रतिशत । जीडीपी वृद्धि प्रक्षेपण में गिरावट का समायोजन विभिन्न उच्च आवृत्ति संकेतकों द्वारा किया गया था, जो घरेलू और बाहरी मांग दोनों स्थितियों के कमजोर होने की ओर इशारा करते थे। दूसरी ओर, एमपीसी का मानना था कि फरवरी 2019 के बाद से मौद्रिक नीति में ढिलाई का असर आर्थिक गतिविधियों को आगे बढ़ाने में मदद करेगा।

10. एमपीसी ने पारंपरिक 25 आधार अंकों के बजाय 35 आधार अंकों की नीति दर में कमी के लिए मतदान किया है।मैं इस कार्रवाई के अंतर्निहित तर्क को परिभाषित करना चाहता हूँ। विकसित हो रहे वृहद आर्थिक दृष्टिकोण को ध्यान में रखते हुए, रिज़र्व बैंक अपनी मौद्रिक नीति क्रियाओं और रुख में पहले से ही अग्रिम रूप से कार्रवाई कर रहा है। फरवरी 2019 से, इसने नीतिगत रेपो दर में संचयी 75 आधार अंकों की कमी की है। इसके अलावा, इसने नीति के रुख को तटस्थ से समायोजित के रूप में बदल दिया है, जिससे प्रभावी रूप से नीतिगत दर में और कमी आई है और इससे दर में वृद्धि की संभावना कम हो गई है, क्योंकि आगे बढ़ाते हुए दर में कमी या यथास्थिति को बनाए रखने की प्रतिबद्धता व्यक्त की गई है। इसके अलावा, प्रणाली को पर्याप्त तरलता प्रदान की गई है, जिसके परिणामस्वरूप अब तक जुलाई और अगस्त में पॉलिसी दर से कम ओवरनाईट मुद्रा बाजार दर पर कारोबार हो रहा है। आज की बैठक में, एमपीसी ने निर्णय लिया कि मुद्रास्फीति के लक्ष्य के भीतर रहने का अनुमान है, कुल मांग, विशेष रूप से निजी निवेश को बढ़ाकर विकास चिंताओं पर विचार करने को इस मोड़ पर सर्वोच्च प्राथमिकता प्रदान की गई है। अब तक की गई नीतिगत कार्रवाइयों की पृष्ठभूमि पर एमपीसी ने महसूस किया है कि समायोजित बने रहने में ही समझदारी है। मुद्रास्फीति के जनादेश के अनुरूप रहते हुए, एमपीसी ने स्थिति की गतिशीलता के लिए कटौती की गई नीति दर के आकार को जांचना आवश्यक समझा। तदनुसार, एमपीसी का मानना ​​था कि विकसित हो रहे वैश्विक और घरेलू समष्टि आर्थिक विकास के मद्देनजर मानक 25 आधार अंक अपर्याप्त साबित हो सकते हैं। दूसरी ओर, नीति रेपो दर को 50 आधार अंक तक कम करना, विशेष रूप से पहले से किए गए कार्यों को ध्यान में रखने के बाद,अत्यधिक हो सकता है, इसलिए इन परिस्थितियों में एक संतुलित स्तर के रूप में नीतिगत रेपो दर को 35 आधार अंकों तक कम करने का विचार किया गया।

11. अब, मैं कुछ विकासात्मक और विनियामक नीति उपायों की ओर रुख करूंगा, जिनकी घोषणा हमने आज वित्तीय बाजारों; भुगतान और निपटान प्रणाली; बैंकिंग विनियमन, वित्तीय समावेशन और एनबीएफसी को क्रेडिट प्रवाह के क्षेत्रों में की है।

12. वित्तीय बाजार के संबंध में, रिज़र्व बैंक प्राथमिक और द्वितीयक दोनों ही खंडों में एसडीएल बाजार के विकास के लिए प्रयास कर रहा है। इन प्रयासों को जारी रखते हुए, एसडीएल के लिए स्ट्रिपिंग / पुनर्गठन सुविधा शुरू करने का निर्णय लिया गया है। यह उपाय संबंधित राज्य सरकारों के परामर्श से लागू किया जाएगा।

13. भुगतान और निपटान प्रणाली की दक्षता और सुदृढ़ता को बढ़ाने के लिए, कई उपाय प्रस्तावित हैं। पहला, रिज़र्व बैंक द्वारा खुदरा भुगतान प्रणाली के रूप में संचालित राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिक निधि अंतरण भुगतान प्रणाली (एनईएफटी) दिसंबर 2019 से सप्ताह के सभी कार्य दिवसों पर 24x7 आधार पर उपलब्ध कराई जाएगी। इससे देश की खुदरा भुगतान प्रणाली में क्रांति आने की उम्मीद है। बिलर्स की सभी श्रेणियों (प्रीपेड रिचार्ज को छोड़कर) को अनुमति देने का निर्णय लिया गया है, जो स्वैच्छिक आधार पर बीबीपीएस, एक अंतर-संचालित प्लेटफ़ॉर्म में भाग लेने के लिए आवर्ती बिल भुगतान प्रदान करते हैं। नकद-आधारित बिल भुगतान के डिजिटलीकरण के अलावा, इन खंडों को ग्राहकों के लिए मानकीकृत बिल भुगतान अनुभव, केंद्रीयकृत ग्राहक शिकायत निवारण तंत्र, निर्धारित ग्राहक सुविधा शुल्क और इसी तरह से अन्य भी लाभ होगा। तीसरा, यह निर्णय लिया गया कि नवाचार और प्रतिस्पर्धा को प्रोत्साहित करने के लिए, साथ ही जोखिम के विविधीकरण से लाभान्वित होने के लिए जो संस्था (i) भारत बिल भुगतान परिचालन इकाई (ii) ट्रेड रिसीवेबल्स डिस्काउंटिंग सिस्टम (टीआरइडी एस) iii) वाईट लेबल एटीएम (डब्ल्यूएलए) के प्लेटफॉर्म का कार्य करने/ संचालित करने/ के लिए इच्छुक है,उन्हें ‘मांग पर’ प्राधिकरण दिया जाएगा । चौथा रिज़र्व बैंक भुगतान प्रणाली को ट्रैक करने के लिए केंद्रीय भुगतान धोखाधड़ी रजिस्ट्री के निर्माण की सुविधा प्रदान करेगा। भुगतान प्रणाली के प्रतिभागियों को निकट-समय पर धोखाधड़ी की निगरानी के लिए इस रजिस्ट्री तक पहुंच प्रदान की जाएगी। उभरते जोखिमों पर ग्राहकों को शिक्षित करने के लिए एकत्रित धोखाधड़ी डेटा प्रकाशित किया जाएगा।

14. बैंकिंग विनियमन के क्षेत्र में, व्यक्तिगत ऋण सहित उपभोक्ता क्रेडिट के लिए क्रेडिट कार्ड प्राप्तियों को छोड़कर, जोखिम भार 125 प्रतिशत या उससे अधिक का उच्च जोखिम भार को 100% तक कम करने का निर्णय लिया गया है।

15. पिछले एक साल के दौरान, रिज़र्व बैंक ने अच्छी तरह से प्रबंधित एनबीएफसी/एचएफसी को क्रेडिट प्रवाह की सुविधा के लिए कई उपाय किए हैं, जिन्हें विकासात्मक और विनियामक नीति पर वक्तव्य में दर्शाया गया है। इन प्रयासों को जारी रखते हुए, और दो नए उपाय घोषित किए जाने है। पहला, यह कि सामान्य एनबीएफसी के लिए प्रतिपक्ष जोखिम सीमा के साथ सामंजस्य की दिशा में एक कदम के रूप में बैंक की जोखिम सीमा को एकल एनबीएफसी के लिए बैंक की पूंजी के टीयर- I के 20 प्रतिशत तक बढ़ाने का निर्णय लिया गया है। दूसरा, कुछ प्राथमिकता वाले क्षेत्रों, जो निर्यात और रोजगार के मामले में आर्थिक वृद्धि में महत्वपूर्ण योगदान देते हैं, में ऋण प्रवाह को और अधिक बढ़ाने के उद्देश्य से, यह निर्णय लिया गया कि, कृषि को ऋण देने के लिए पंजीकृत एनबीएफसी (एमएफआई के अलावा) को बैंकों द्वारा दिए गए 10.0 लाख तक के ऋण (निवेश ऋण); सूक्ष्म और लघु उद्यमों को 20.0 लाख तक और प्रति उधारकर्ता को 20.0 लाख (वर्तमान में 10.0 लाख से ऊपर) तक के ऋणों को प्राथमिकता वाले क्षेत्र ऋण के रूप में वर्गीकृत करने की अनुमति दी जाएगी।

16. मौद्रिक नीति संचरण और चलनिधि प्रबंधन से संबंधित मुद्दों को संबोधित नहीं करना मेरी असावधानी होगी, जिन्हें विकासात्मक और विनियामक नीतियों पर पिछले वक्तवय में प्राथमिकता के हिसाब से ध्यान केंद्रित करने के लिए चिह्नित किया गया है। मैं यह समझता हूं कि बाजार सहभागियों और विश्लेषकों को इन क्षेत्रों में विकास की उम्मीद होगी ।

17. मौद्रिक नीति संचरण के संबंध में, यह स्मरण किया जा सकता है कि फरवरी 2019 में मौद्रिक नीति का एक आसान चक्र फरवरी-जून के दौरान नीतिगत दर में 75 आधार अंकों की संचयी कमी के साथ शुरू हुआ। जून में नीति का रुख तटस्थ से बदलकर उदार किया गया। इन नीतिगत आवेगों को पूरी तरह से वित्तीय बाजारों के माध्यम से प्रेषित किया गया है। भारित औसत कॉल मनी दर (डब्ल्यूएसीआर) में 78 बीपीएस, बाजार रेपो दर में 73 बीपीएस और 10-वर्षीय बेंचमार्क जी-सेक प्रतिफल में 102 बीपीएस की गिरावट आई है। दूसरी ओर, बैंकों ने अब नए रूपया ऋण पर अपने ब्याज दर पर (फरवरी-जून 2019) 29 आधार अंकों की कमी की है। सार्वजनिक क्षेत्र और निजी क्षेत्र दोनों बैंकों सहित विभिन्न हितधारकों के साथ हमारी बातचीत से पता चलता है कि उनके द्वारा निरंतर रूप से अपनी ब्याज दरों को कम करने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं ताकि अर्थव्यवस्था में नीतिगत कटौती के लाभों को आगे प्रसारित किया जाए। तदनुसार, अगले कुछ हफ्तों और महीनों में हम उम्मीद करते हैं कि बैंकों द्वारा मौद्रिक नीति की कार्रवाइयों और रुख को उच्च स्तर पर प्रसारीत किया जाए।

18. चलनिधि प्रबंधन पर, जून से सिस्टम ने बड़ी अधिशेष स्थितियों का अनुभव किया है। रिज़र्व बैंक ने जून में 51,710 करोड़ की चलनिधि, जुलाई में 1,30,931 करोड़ और अगस्त में 2,11,140 करोड़ (5 अगस्त तक) एलएएफ के तहत दैनिक सकल औसत आधार पर अवशोषित की। जून में 27,500 करोड़ की दो ओएमओ खरीद नीलामी आयोजित की गई, जिससे प्रणाली में स्थायी चलनिधि डाला गया। भारित औसत कॉल मनी दर (डब्ल्यूएसीआर) - मौद्रिक नीति के परिचालन लक्ष्य - को जून में पॉलिसी रेपो दर के साथ जोड़ा गया था, लेकिन इसने जुलाई में 14 औसत आधार पर और अब तक अगस्त में 17 बीपीएस दैनिक पॉलिसी रेपो दर से नीचे कारोबार किया । 6 जून 2019 को विकासात्मक और विनियामक नीतियों के विवरण में घोषणा के अनुसार रिजर्व बैंक ने मौजूदा चलनिधि प्रबंधन ढांचे की व्यापक समीक्षा करने के लिए एक आंतरिक कार्य समूह का गठन किया। समूह अपने विचार-विमर्श में एक उन्नत स्तर पर पहुंच गया है और इसकी सिफारिशें सार्वजनिक टिप्पणियों के लिए शीघ्र ही उपलब्ध होंगी । इस बीच, रिजर्व बैंक ने एलएएफ, खुला बाजार संचालन और विदेशी मुद्रा स्वैप सहित उपकरणों के संयोजन के माध्यम से प्रणाली में पर्याप्त मात्रा में चलनिधि को इंजेक्ट किया है। वर्तमान में प्रणाली में चलनिधि की प्रचुरता है, इससे रिज़र्व बैंक द्वारा अधिशेष को अवशोषित किया जाना है। रिज़र्व बैंक की रिवर्स रेपो विंडो में 6 अगस्त को अधिशेष चलनिधि लगभग 2.0 लाख करोड़ रखी गई थी। रिज़र्व बैंक पर्याप्त चलनिधि उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध है ताकि अर्थव्यवस्था के सभी उत्पादक क्षेत्रों की ज़रूरतें पूरी हों सकें। इस उद्देश्य की ओर, रिज़र्व बैंक अपने चलनिधि प्रबंधन साधनों का उपयोग यह सुनिश्चित करने के लिए करेगा कि प्रणाली की दोनों आवश्यकताओं दैनंदिन चलनिधि और स्थायी चलनिधि को पर्याप्त रूप से पूरा किया जा सकें।


Server 214
शीर्ष