प्रेस प्रकाशनी

विकासात्मक और विनियामक नीतियों पर वक्तव्य

7 अगस्त 2019

विकासात्मक और विनियामक नीतियों पर वक्तव्य

यह वक्तव्य वित्तीय बाजारों के क्षेत्र में विभिन्न विकासात्मक और विनियामक नीति उपायों; भुगतान और निपटान प्रणाली; बैंकिंग विनियमन, वित्तीय समावेशन और एनबीएफसी को ऋण प्रवाह को निर्धारित करता है।

I. वित्तीय बाजार

1. राज्य विकास ऋण (एसडीएल) के लिए स्ट्रिपिंग / पुनर्गठन सुविधा का प्रारंभ

भारतीय रिज़र्व बैंक अधिनियम 1934 की धारा 21ए के अनुसार राज्यों के लिए ऋण प्रबंधक के रूप में, रिज़र्व बैंक प्राथमिक और द्वितीयक दोनों ही खंडों में एसडीएल बाजार के विकास के लिए प्रयास कर रहा है। एसडीएल के लिए गैर-प्रतिस्‍पर्धी बोलियों और एग्रीगेटर्स / फैसिलिटेटर्स की योजना को प्रारंभ करना इस दिशा में किए गए कुछ प्रयास हैं। इन प्रयासों को जारी रखते हुए, एसडीएल के लिए स्ट्रिपिंग / पुनर्गठन सुविधा शुरू करने का निर्णय लिया गया है। यह उपाय संबंधित राज्य सरकारों के परामर्श से कार्यान्वित किया जाएगा।

II. भुगतान और निपटान प्रणाली

2. राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिक निधि अंतरण प्रणाली की चौबीस घंटे उपलब्धता

वर्तमान में, खुदरा भुगतान प्रणाली के रूप में रिज़र्व बैंक द्वारा संचालित राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिक निधि अंतरण भुगतान प्रणाली (एनईएफटी) सप्ताह के सभी कार्य दिवसों (महीने के दूसरे और चौथे शनिवार को छोड़कर) पर पूर्वाह्न 8 बजे से शाम 7 बजे तक ग्राहकों के लिए उपलब्ध है। जैसा कि भुगतान प्रणाली विजन 2021 दस्तावेज़ में उल्लिखित है, रिज़र्व बैंक दिसंबर 2019 से 24x7 आधार पर एनईएफटी प्रणाली उपलब्ध कराएगा। इससे देश की खुदरा भुगतान प्रणाली में क्रांति आने की उम्मीद है।

3. भारत बिल भुगतान प्रणाली के लिए बिलर श्रेणियों का विस्तार

भारत बिल भुगतान प्रणाली (बीबीपीएस), बारंबार बिल भुगतान के लिए एक अंतर-संचालित प्लेटफ़ॉर्म है, जिसमें वर्तमान में पाँच खंड शामिल है अर्थात, (i) डायरेक्ट-टू-होम (डीटीएच); (ii) बिजली; (iii) गैस; (iv) दूरसंचार; और (v) पानी के बिल। बीबीपीएस का लाभ उठाने और इसकी पूरी क्षमता का उपयोग करने के लिए, बिलर्स की सभी श्रेणियों (प्रीपेड रिचार्ज को छोड़कर) को अनुमति देने का निर्णय लिया गया है, जो स्वैच्छिक आधार पर बीबीपीएस में भाग लेने के लिए आवर्ती बिल भुगतान प्रदान करते हैं। नकद-आधारित बिल भुगतान के डिजिटलीकरण के अलावा, इन खंडों को ग्राहकों के लिए मानकीकृत बिल भुगतान अनुभव, केंद्रीयकृत ग्राहक शिकायत निवारण तंत्र, निर्धारित ग्राहक सुविधा शुल्क और इसी तरह से अन्य भी लाभ होगा। इस संबंध में विस्तृत निर्देश सितंबर 2019 के अंत तक जारी किए जाएंगे।

4. खुदरा भुगतान प्रणाली के लिए ‘मांग पर’ प्राधिकरण

जैसा कि 6 जून 2018 के विकासात्मक और विनियामक नीतियों पर वक्तव्य में घोषित किया गया है, रिज़र्व बैंक ने वित्तीय स्थिरता के दृष्टिकोण से खुदरा भुगतान प्रणालियों में एकाग्रता जोखिम को कम करने के लिए सार्वजनिक परामर्श के लिए 21 जनवरी 2019 को एक नीति पत्र प्रकाशित किया। व्यक्तियों के एक व्यापक समूह, सार्वजनिक और निजी संस्थाओं, संस्थानों और उद्योग संघों से प्राप्त टिप्पणियों / प्रतिक्रिया ने अधिक खिलाड़ियों को भाग लेने और पैन-इंडिया भुगतान प्लेटफार्मों को बढ़ावा देने की आवश्यकता का सुझाव दिया। तदनुसार, नवाचार और प्रतिस्पर्धा को प्रोत्साहित करने के लिए, साथ ही जोखिम के विविधीकरण से लाभान्वित होने के लिए, यह निर्णय लिया गया है कि संस्थाओं को, जो प्लेटफॉर्म का कार्य करने/ संचालित करने/ के लिए इच्छुक है, ‘मांग पर’ प्राधिकरण देने का निर्णय लिया गया है

  1. भारत बिल भुगतान परिचालन इकाई (बीबीपीओयू);

  2. ट्रेड रिसीवेबल्स डिस्काउंटिंग सिस्टम (टीआरइडीएस); और

  3. वाईट लेबल एटीएम (डब्ल्यूएलए)

इस विषय पर निर्देश सितंबर 2019 के अंत तक जारी किए जाएंगे।

5. केंद्रीय भुगतानों धोखाधड़ी सूचना रजिस्ट्री का निर्माण

वर्तमान में, बैंकों के लिए रिजर्व बैंक का केंद्रीय धोखाधड़ी निगरानी सेल सभी बैंकिंग धोखाधड़ी की रिपोर्ट करने के लिए उपलब्ध एक तंत्र है। भुगतान अवसंरचना के विकास के साथ-साथ डिजिटल भुगतान लेनदेन की मात्रा और मूल्य के मामले में डिजिटल भुगतान पारिस्थितिकी तंत्र पर्याप्त प्रगति कर रहा है, हितधारकों द्वारा धोखाधड़ी जोखिम निगरानी और प्रबंधन को महत्व दिया गया है। रिज़र्व बैंक का हमेशा यह प्रयास रहा है कि ग्राहकों का भुगतान प्रणाली में विश्वास बढ़े। भुगतान प्रणाली विजन 2021 में भुगतान प्रणाली में धोखाधड़ी के आंकड़ों को एकत्र करने के लिए एक रूपरेखा की परिकल्पना की गई है। इन प्रयासों को आगे बढ़ाने और त्वरित और प्रणालीगत प्रतिक्रियाओं को सुनिश्चित करने के लिए, एक केंद्रीय भुगतान धोखाधड़ी रजिस्ट्री के निर्माण की सुविधा का प्रस्ताव है जो इन धोखाधड़ी को ट्रैक करेगा। भुगतान प्रणाली के प्रतिभागियों को निकट-समय पर धोखाधड़ी की निगरानी के लिए इस रजिस्ट्री तक पहुंच प्रदान की जाएगी। उभरते जोखिमों पर ग्राहकों को शिक्षित करने के लिए एकत्रित धोखाधड़ी डेटा प्रकाशित किया जाएगा। इस संबंध में एक विस्तृत रूपरेखा अक्टूबर 2019 के अंत तक जारी की जाएगी।

III. बैंकिंग विनियमन, वित्तीय समावेशन और एनबीएफसी को क्रेडिट प्रवाह

6. क्रेडिट कार्ड प्राप्तियों को छोड़कर उपभोक्ता क्रेडिट के लिए जोखिम भार में कमी

क्रेडिट रिस्क मैनेजमेंट के लिए मानकीकृत दृष्टिकोण के तहत, व्यक्तिगत ऋण और ऋणकार्ड प्राप्तियों सहित, उपभोक्ता ऋण, 125 प्रतिशत या उससे अधिक का उच्च जोखिम भार आकर्षित करते हैं, यदि प्रतिपक्ष की बाहरी रेटिंग द्वारा वारंट किया गया हो। समीक्षा करने पर, व्यक्तिगत ऋण सहित उपभोक्ता क्रेडिट के लिए जोखिम वजन को, लेकिन क्रेडिट कार्ड प्राप्तियों को छोड़कर, 100% तक कम करने का निर्णय लिया गया है।

इस संबंध में दिशानिर्देश अगस्त 2019 के अंत तक जारी किए जाएंगे।

7. एनबीएफसी क्षेत्र में ऋण प्रवाह बढ़ाने के उपाय:

पिछले एक साल के दौरान, रिज़र्व बैंक ने अच्छी तरह से प्रबंधित एनबीएफसी/एचएफसी को क्रेडिट प्रवाह की सुविधा के लिए कई उपाय किए हैं। रिज़र्व बैंक द्वारा उठाए गए कदम इस प्रकार हैं:

  1. 23 सितंबर 2018 को, रिज़र्व बैंक ने एक प्रेस प्रकाशनी जारी करते हुए कहा कि सेबी के साथ, वह स्थिति की बारीकी से निगरानी कर रहा है और आवश्यकतानुसार उपाय करेगा।

  2. एफएएलसीआरएल (अर्थात प्रतिभूतियां जिनकी एसएलआर और एलसीआर दोनों के लिए गणना की जा सकती है), प्रत्येक को दो अवसरों पर (27 सितंबर 2018 और 4 अप्रैल 2019) दो प्रतिशत बढ़ा दिया गया था, इसके कारण बैंक अपनी अतिरिक्त एसएलआर प्रतिभूतियों को बेचकर अतिरिक्त चलनिधि जुटाने में सक्षम हुए हैं।

  3. अक्टूबर 2018 में एनबीएफसी को ऋण देने के लिए विशेष रूप से 0.5 प्रतिशत का विशेष एफएएलसीआर प्रारंभ किया गया था।

  4. एनबीएफसी के लिए बैंकों के एक्पोजर का जोखिम भार अन्य कॉरपोरेट्स के समान अनुरूप किया गया।

  5. बैंकों की एनबीएफसी के लिए जोखिम की विवेकपूर्ण सीमा को अन्य क्षेत्रों के साथ जोड़कर उसे बैंकों की पूंजी के 10 प्रतिशत से बढाकर 15 प्रतिशत कर दिया गया।

  6. परिसंपत्तियों को सुरक्षित करने या नियत करने की न्यूनतम होल्डिंग अवधि एक वर्ष से घटाकर छह महीने कर दी गई, जिससे एनबीएफसी और एचएफसी लंबी अवधि के लिए इंतजार किए बिना अपनी मूल परिसंपत्ति को सुरक्षित करके धन जुटाने में सक्षम होगी।

  7. सिस्टम में टिकाऊ चलनिधि को ओएमओ और विदेशी मुद्रा स्वैप की एक श्रृंखला के माध्यम से बढ़ाया गया ।

  8. 5 जुलाई 2019 को,एफएएलएलसीआर ने एनडीटीएल के 0.50 प्रतिशत को 1 अगस्त और 1 दिसंबर, 2019 को बढ़ाने का फैसला किया, जिससे बैंकों द्वारा एलसीआर की गणना के लिए एनबीएफसी और हाउसिंग फाइनेंस कंपनियों (एनबीएफ़सी) को 5 जुलाई 2019 तक एनबीएफसी/एचएफसी की अपनी बहियों में बकाया क्रेडिट की राशि से अधिक वृद्धिशील बकाया ऋण की सीमा तक फ्रंटलोड करने की अनुमति दी गई थी। इसके अलावा, उसी दिन, सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के लिए आंशिक रूप से ऋण वृद्धि की केंद्रीय बजट में की गयी घोषणा के अनुसरण में, रिज़र्व बैंक ने एक प्रेस प्रकाशनी के माध्यम से, वित्तीय रूप से मजबूत एनबीएफसी / एचएफसी को अत्यधिक मूल्यांकित परिसंपत्ति प्राप्त करने के लिए बजट की घोषणा को लागू करने में सक्षम बनाने के लिए उनकी अतिरिक्त जी-सेक होल्डिंग्स के आधार पर बैंकों को आवश्यक चलनिधि प्रदान करने के लिए अपनी सहमति दी थी।

(क) सामान्य एकल प्रतिपक्ष एक्सपोजर सीमा के साथ एकल एनबीएफसी के लिए बैंकों के एक्सपोजर के लिए एकल प्रतिपक्ष एक्पोजर सीमा का सामंजस्य

1 अप्रैल 2019 से प्रभावी बड़े एक्सपोज़र फ्रेमवर्क (एलईएफ) पर संशोधित दिशानिर्देशों के तहत, एक एकल एनबीएफसी के लिए बैंक का एक्सपोज़र उसकी टीयर I कैपिटल के 15 प्रतिशत तक सीमित है, जबकि अन्य क्षेत्रों की संस्था के लिए एक्सपोज़र लिमिट बैंक की टीयर I पूंजी का 20 प्रतिशत हिस्सा है, जिसे असाधारण परिस्थितियों में बैंकों के बोर्ड द्वारा 25 प्रतिशत तक बढ़ाया जा सकता है। सामान्य एनबीएफसी के साथ प्रतिपक्षीय एक्सपोज़र सीमा के सामंजस्य के लिए एक कदम के रूप में, बैंक की एक्सपोजर सीमा को सिंगल एनबीएफसी के लिए बैंक की टीयर- I पूंजी के 20% तक बढ़ाने का निर्णय लिया गया है।

(ख) प्राथमिकता क्षेत्र को ऋण - बैंकों को एनबीएफसी के माध्यम से उधार देने की अनुमति

कुछ प्राथमिकता वाले क्षेत्रों, जो निर्यात और रोजगार के मामले में आर्थिक वृद्धि में महत्वपूर्ण योगदान देते हैं, में ऋण प्रवाह को और अधिक बढ़ाने के उद्देश्य से, और इन क्षेत्रों को ऋण प्रदान करने में एनबीएफसी द्वारा निभाई गई भूमिका की पहचान करते हुए, कुछ शर्तों के अधीन, यह निर्णय लिया गया कि, कृषि को ऋण देने के लिए पंजीकृत एनबीएफसी (एमएफआई के अलावा) को बैंकों द्वारा दिए गए 10.0 लाख तक के ऋण (निवेश ऋण); सूक्ष्म और लघु उद्यमों को 20.0 लाख तक और प्रति उधारकर्ता को 20.0 लाख (वर्तमान में 10.0 लाख से ऊपर) तक के ऋणों को प्राथमिकता वाले क्षेत्र ऋण के रूप में वर्गीकृत करने की अनुमति दी जाए।

उपरोक्त उपायों पर विस्तृत दिशानिर्देश अगस्त 2019 के अंत तक जारी किए जाएंगे।

योगेश दयाल
मुख्य महाप्रबंधक

प्रेस प्रकाशनी: 2019-2020/365


2022
2021
2020
2019
2018
2017
2016
2015
2014
2013
2012
पुरालेख
Server 214
शीर्ष