अनुसंधान और आंकड़े

रिज़र्व बैंक में बेहतर, नीति उन्मुखी आर्थिक शोध करने, आंकड़ों का संकलन करने और ज्ञान साझा करने की समृद्ध परंपरा है।

प्रेस प्रकाशनी


गैर-सरकारी गैर-बैंकिंग वित्तीय और निवेश कंपनियों का कार्यनिष्पादन, 2017-18 : आंकड़ों का प्रकाशन

26 अगस्त 2019

गैर-सरकारी गैर-बैंकिंग वित्तीय और निवेश कंपनियों का कार्यनिष्पादन, 2017-18 : आंकड़ों का प्रकाशन

आज, भारतीय रिज़र्व बैंक ने अपनी वेबसाइट (https://dbie.rbi.org.in/DBIE/dbie.rbi?site=statistics#!2_43) पर वर्ष 2017-18 के लिए (बीमा और बैंकिंग कंपनियों को छोड़कर) गैर-सरकारी गैर-वित्तीय और निवेश (एनजीएनबीएफएंडआई) कंपनियों के कार्यनिष्पादन से संबंधित आंकड़े जारी किए।

16,278 एनजीएनबीएफएंडआई कंपनियों के लेखापरीक्षित वार्षिक लेखों के आधार पर आंकड़े संकलित किए गए हैं जो 31 मार्च 2018 को सभी एनजीएनबीएफएंडआई कंपनियों की कुल चुकता पूंजी (पीयूसी) का 86.6 प्रतिशत है। विवरणों से संबंधित व्याख्यात्मक टिप्पणियां अनुबंध में दी गई हैं।

मुख्य अंश:

  • ब्याज आय में कमी और कर्मचारियों को अधिक पारिश्रमिक के कारण एक साल पहले की 14.8 प्रतिशत परिचालन लाभ वृद्धि घटकर 2.6 प्रतिशत हो गई (विवरण 1)।

  • लाभ मार्जिन और उच्च लाभांश भुगतान में समग्र कमी के कारण प्रतिधारित आय संकुचित हुई (विवरण 1 और 2)।

  • इन कंपनियों द्वारा कुल उधार लेने के भीतर, 2017-18 में बैंकों से ऋण में बढ़ोतरी हुई (विवरण 1)।

  • ऋण वित्त समूह को छोड़कर इन कंपनियों द्वारा निवेश में व्यापक रूप से कमी आयी (विवरण 1) ।

  • मुख्य रूप से दीर्घावधि ऋण और परिसंपत्ति वित्त और ऋण वित्त कंपनियों द्वारा अग्रिम के कारण इन कंपनियों की संयुक्त बैलेंस शीट में दूसरे क्रमिक वर्ष के लिए 20 प्रतिशत का विस्तार हुआ; इन गतिविधियों को लघुअवधि और दीर्घावधि उधार दोनों द्वारा वित्तपोषित किया गया था (विवरण 4ए और 4बी)।

  • वित्त पोषण गतिविधियों के लिए लघुअवधि उधार पर अधिक निर्भरता थी, पिछले वर्ष के 25.2 प्रतिशत की तुलना में 2017-18 के दौरान कुल उधार में उनकी हिस्सेदारी 37.9 प्रतिशत तक बढ़ गई (विवरण 5ए और 5बी)।

  • बांड और डिबेंचर के माध्यम से दीर्घावधि फंडों को जुटाना कम हुआ, जबकि बैंकों से विशेष रूप से, आवधिक ऋणों के माध्यम से वित्त पोषण, में बढ़ोतरी हुई (विवरण 5ए और 5बी)।

टिप्पणी:

आंकड़ों का प्राथमिक स्त्रोत कारपोरेट कार्य मंत्रालय (एमसीए) है।

अजीत प्रसाद
निदेशक  

प्रेस प्रकाशनी : 2019-2020/525

2019
2018
2017
2016
2015
2014
2013
2012
पुरालेख
Server 214
शीर्ष