वित्तीय समावेशन और विकास

यह कार्य वित्तीय समावेशन, वित्तीय शिक्षण को बढ़ावा देने और ग्रामीण तथा एमएसएमई क्षेत्र सहित अर्थव्यवस्था के उत्पादक क्षेत्रों के लिए ऋण उपलब्ध कराने पर नवीकृत राष्ट्रीय ध्यानकेंद्रण का सार संक्षेप में प्रस्तुत करता है।

अधिसूचनाएं


सितंबर 21, 2017
प्राथमिकता-प्राप्त क्षेत्र को उधार – लक्ष्‍य और वर्गीकरण : गैर कॉर्पोरेट किसानों को उधार – पिछले तीन वर्षों का प्रणालीगत औसत
अगस्त 16, 2017
वर्ष 2017-18 के दौरान अल्पावधि फसल ऋण के लिए ब्‍याज सबवेंशन (छूट) योजना
अगस्त 03, 2017
प्राकृतिक आपदाओं के लिए पोर्टल - मासिक रिपोर्टिंग प्रणाली
जुलाई 24, 2017
मास्‍टर निदेश – माइक्रो, लघु और मध्यम उद्यम (एमएसएमई) क्षेत्र को उधार
जुलाई 13, 2017
एफएलसी (वित्‍तीय साक्षरता केंद्र) और ग्रामीण शाखाओं द्वारा वित्‍तीय साक्षरता - निधियन सीमाओं, श्रव्‍य दृश्य – (ऑडीओ-विजुअल) सामग्री और हैंड हेल्‍ड प्रोजेक्‍टर के प्रावधान में संशोधन
सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों के रूप में वर्गीकरण के उद्देश्य के लिए संयंत्र और मशीनरी में निवेश - दस्तावेजों पर निर्भर होना
जुलाई 05, 2017
मास्‍टर निदेश – भारतीय रिज़र्व बैंक (प्राकृतिक आपदाओं से प्रभावित क्षेत्रों में बैंकों द्वारा राहत उपाय) निदेश 2017
जुलाई 03, 2017
मास्‍टर परिपत्र - किसान क्रेडिट कार्ड (केसीसी) योजना
मास्‍टर परिपत्र - दीनदयाल अंत्योदय योजना - राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (डीएवाई - एनआरएलएम)
मास्‍टर परिपत्र - दीनदयाल अंत्‍योदय योजना – राष्‍ट्रीय शहरी आजीविका मिशन (डीएवाई - एनयूएलएम)
स्वयं सहायता समूह – बैंक सहलग्नता कार्यक्रम पर मास्टर परिपत्र
मास्‍टर परिपत्र - अल्पसंख्यक समुदायों को ऋण सुविधाएं
मास्टर परिपत्र - अनुसूचित जाति (अजा) और अनुसूचित जनजाति (अजजा) को ऋण सुविधाएँ
2017
2016
2015
2014
2013
2012
पुरालेख
Server 214
शीर्ष