बैंकिंग प्रणाली का विनियामक

बैंक राष्‍ट्रीय वित्‍तीय प्रणाली की नींव होते हैं। बैंकिंग प्रणाली की सुरक्षा एवं सुदृढता को सुनिश्चित करने और वित्‍तीय स्थिरता को बनाए रखने तथा इस प्रणाली के प्रति जनता में विश्‍वास जगाने में केंद्रीय बैंक महत्‍वपूर्ण भूमिका अदा करता है।

अधिसूचनाएं


जून 10, 2019
बैंकों द्वारा निवेश संविभाग के वर्गीकरण, मूल्‍यांकन और परिचालन के लिए विवेकपूर्ण मानदंड - परिपक्‍वता तक धारित (एचटीएम) की श्रेणी के अंतर्गत निवेशों की बिक्री
वित्तीय समावेशन - बैंकिंग सेवाओं तक पहुंच - बुनियादी बचत बैंक जमा खाता (बीएसबीडीए)
जून 06, 2019
भारतीय रिज़र्व बैंक अधिनियम, 1934 की दूसरी अनुसूची में “कूकमीन बैंक” को शामिल करना
भारतीय रिज़र्व बैंक अधिनियम, 1934 की दूसरी अनुसूची में “फिनकेयर स्मॉल फाईनैन्स बैंक लिमिटेड” को शामिल करना
बैंक दर में परिवर्तन
मई 08, 2019
इन्फ्रास्ट्रक्चर लीज़िंग & फ़ाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड (आईएलएफ़एस) और इसके समूह की संस्थाओं के प्रति एक्सपोजर का प्रकटीकरण
अप्रैल 24, 2019
इन्फ्रास्ट्रक्चर लीज़िंग & फ़ाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड (आईएलएफ़एस) और इसके समूह की संस्थाओं के प्रति एक्सपोजर का प्रकटीकरण
अप्रैल 16, 2019
भारतीय रिज़र्व बैंक अधिनियम, 1934 की दूसरी अनुसूची से “डीबीएस बैंक लिमिटेड” को हटाना
अप्रैल 04, 2019
चलनिधि मानकों पर बासल III ढांचा – चलनिधि कवरेज अनुपात (एलसीआर), चलनिधि जोखिम निगरानी साधन तथा एलसीआर प्रकटीकरण मानक
बैंक दर में परिवर्तन
अप्रैल 01, 2019
वित्तीय विवरणों के “लेखे पर टिप्पणियां” में प्रकटीकरण – आस्ति वर्गीकरण और प्रावधानीकरण में विचलन
वृहत् एक्सपोजर ढांचा (एलईएफ़)
2019
2018
2017
2016
2015
2014
2013
2012
पुरालेख
Server 214
शीर्ष