प्रेस प्रकाशनी

मौद्रिक नीति समिति की 24, 26 और 27 मार्च 2020 को हुई बैठक के कार्यवृत्त

13 अप्रैल 2020

मौद्रिक नीति समिति की 24, 26 और 27 मार्च 2020 को हुई बैठक के कार्यवृत्त
[भारतीय रिज़र्व बैंक अधिनियम, 1934 की धारा 45 ज़ेडएल के अंतर्गत]

भारतीय रिज़र्व बैंक अधिनियम, 1934 की धारा 45 ज़ेडबी के अंतर्गत गठित मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की बाईसवीं बैठक 24, 26 और 27 मार्च 2020 को भारतीय रिज़र्व बैंक, मुंबई में आयोजित की गई; आरंभ में यह बैठक 31 मार्च, 1 और 3 अप्रैल 2020 के लिए निर्धारित थी लेकिन COVID-19 महामारी के मद्देनज़र इसे समय पूर्व आयोजित करनी पड़ी।

2. बैठक में सभी सदस्य – डॉ. चेतन घाटे, प्रोफेसर, भारतीय सांख्यिकी संस्थान; डॉ. पामी दुआ, भूतपूर्व निदेशक, दिल्ली अर्थशास्त्र स्कूल; डॉ. रविन्द्र एच. ढोलकिया, भूतपूर्व प्रोफेसर, भारतीय प्रबंधन संस्थान, अहमदाबाद; डॉ. जनक राज, कार्यपालक निदेशक (भारतीय रिज़र्व बैंक अधिनियम, 1934 की धारा 45 ज़ेडबी(2)(सी) के अंतर्गत केंद्रीय बोर्ड द्वारा नामित रिज़र्व बैंक का अधिकारी); डॉ. माइकल देबब्रत पात्र, उप गवर्नर, प्रभारी मौद्रिक नीति उपस्थित हुए और इसकी अध्यक्षता श्री शक्तिकांत दास, गवर्नर द्वारा की गई। डॉ. चेतन घाटे, डॉ. पामी दुआ और डॉ. रविन्द्र एच. ढोलकिया ने वीडियो कान्फरेंस के माध्यम से बैठक में भाग लिया।

3. भारतीय रिज़र्व बैंक अधिनियम, 1934 की धारा 45 ज़ेडएल के अनुसार, रिज़र्व बैंक मौद्रिक नीति समिति की प्रत्येक बैठक के चौदहवें दिन इस बैठक की कार्यवाहियों के कार्यवृत्त प्रकाशित करेगा जिसमें निम्नलिखित शामिल होगा:

(ए) मौद्रिक नीति समिति की बैठक में अपनाया गया संकल्प;

(बी) उपर्युक्त बैठक में अपनाए गए संकल्प पर मौद्रिक नीति के प्रत्येक सदस्य को प्रदान किया गया वोट; और

(सी) उपर्युक्त बैठक में अपनाए गए संकल्प पर धारा 45 ज़ेडआई की उप-धारा (11) के अंतर्गत मौद्रिक नीति समिति के प्रत्येक सदस्य का वक्तव्य।

4. मौद्रिक नीति समिति ने उपभोक्ता विश्वास, परिवार मुद्रास्फीति प्रत्याशा, कॉर्पोरेट क्षेत्र का कार्यनिष्पादन, क्रेडिट स्थिति, औद्योगिक, सेवा और बुनियादी सुविधा क्षेत्रों की संभावना तथा व्यावसायिक पूर्वानुमानकर्ताओं के अनुमानों का आकलन करने के लिए रिज़र्व बैंक द्वारा करवाए गए सर्वेक्षणों की समीक्षा की। एमपीसी ने इन संभावनाओं के विभिन्न जोखिमों के इर्द-गिर्द स्टाफ के समष्टि आर्थिक अनुमानों और वैकल्पिक परिदृश्यों की विस्तृत रूप से भी समीक्षा की। उपर्युक्त पर और मौद्रिक नीति के रुख पर व्यापक चर्चा करने के बाद एमपीसी ने संकल्प अपनाया जिसे नीचे प्रस्तुत किया गया है।

संकल्प

5. मौद्रिक नीति समिति ने आज (27 मार्च 2020) अपनी बैठक में वर्तमान और उभरती समष्टिगत आर्थिक परिस्थिति के आकलन के आधार पर यह निर्णय लिया है कि –

  • चलनिधि समायोजन सुविधा (एलएएफ) के तहत नीतिगत रेपो दर को 5.15 प्रतिशत से 75 आधार अंक कम करके तत्काल प्रभाव से 4.40 कर दिया जाए।

  • तदनुसार, सीमांत स्थायी सुविधा (एमएसएफ) दर और बैंक दर 5.40 प्रतिशत से घटकर 4.65 प्रतिशत हो गई।

  • इसके अलावा, विकासात्मक और विनियामक नीतियों में उल्लिखित किए अनुसार एलएएफ कॉरिडॉर के विस्तार के परिणामस्वरूप एलएएफ के तहत प्रतिवर्ती रेपो दर 90 आधार अंक घटकर 4.0 प्रतिशत हो गया।

  • यह सुनिश्चित करते हुए कि मुद्रास्फीति लक्ष्य के भीतर बनी रहे, एमपीसी ने नीतिगत रेपो दर में कमी और विकास को पुनर्जीवित करने और अर्थव्यवस्था पर COVID -19 के प्रभाव को कम करने के लिए जब तक आवश्यक हो निभावकारी रुख बनाए रखने का निर्णय लिया।

ये निर्णय वृद्धि को सहारा प्रदान करते हुए उपभोक्‍ता मूल्‍य सूचकांक (सीपीआई) आधारित मुद्रास्‍फीति के 4 प्रतिशत के मध्‍यावधिक लक्ष्‍य को +/-2 प्रतिशत के दायरे में हासिल करने के उद्देश्‍य से भी है।

इस निर्णय के समर्थन में प्रमुख विवेचनों को नीचे दिए गए विवरण में वर्णित किया गया है।

आकलन

वैश्विक अर्थव्यवस्था

6. वैश्विक आर्थिक गतिविधि ठहराव की स्थिति में आ गई है क्योंकि सभी प्रभावित देशों में COVID-19 संबंधित लॉकडाउन और सोशल डिस्टेन्सिंग व्यापक स्तर पर लगाई गई है। 2019 के दशक में मंद वैश्विक विकास को 2020 में अल्प वसूली की उम्मीदें धराशायी हो गई हैं। महामारी की तीव्रता, प्रसार और अवधि की संभावनाएं अब काफी आकस्मिक है। इस बात की संभावना बढ़ रही है कि वैश्विक अर्थव्यवस्था का बहुत बड़ा हिस्सा मंदी की चपेट में आ जाएगा।

7. COVID-19 के प्रकोप के कारण जनवरी से वित्तीय बाजार अत्यधिक अस्थिर हो गए हैं। पैनिक सेल-ऑफ ने सम्पूर्ण उन्नत और उभरती हुई अर्थव्यवस्थाओं के इक्विटी बाजारों में समान रूप से धन का नाश किया है। पूर्व में, सुरक्षा की ओर रुख के कारण हाल के दिनों में कुछ सख्ती के साथ सरकारी बांड प्रतिफल में कमी दर्ज की गई। उत्तरार्द्ध में, बाहर निकलने की जल्दबाज़ी ने नियत आय बाजारों को निरूपित किया है और इसके परिणामस्वरूप प्रतिफल में वृद्धि हुई है। अत्यधिक जोखिम के कारण त्वरित बिक्री के वजह से उभरते और उन्नत अर्थव्यवस्था की मुद्राओं को दैनिक आधार पर गंभीर मूल्यह्रास दबाव का सामना करना पड़ रहा है। वर्तमान में, केवल अमेरिकी डॉलर अत्यधिक अनिश्चित संभावनाओं में सुरक्षित बना हुआ है। मार्च के आरंभ तक अन्य दो- जापानी येन और सोना जो सुरक्षित थे, नकदी में बढ़ोत्तरी की ओर रुख किया। COVID-19 के प्रकोप के कारण मांग कमजोर पड़ने की आशंका में जनवरी से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की कीमतों में आरंभ में सौम्य भाव से कारोबार हुआ। हालांकि, प्रमुख तेल उत्पादकों के बीच उत्पादन में कटौती ने असहमति को बढ़ा दिया है, प्रतिशोधी सप्लाई स्केल-अप और मूल्य युद्ध के कारण 18 मार्च 2020 को अंतरराष्ट्रीय ब्रेंट क्रूड की कीमतें 25 अमेरिकी डॉलर प्रति बैरल के निचले स्तर पर आ गई हैं। इन घटनाओं से उन्नत और उभरती अर्थव्यवस्थाओं में मुद्रास्फीति बढ़ने की संभावना है। केंद्रीय बैंक और सरकार युद्ध मोड में हैं, चलनिधि के कारण मांग में गिरावट से बचने के लिए और वित्तीय बाजारों को बंद होने से बचाने के लिए वित्तीय स्थितियों को आसान बनाने के लिए लक्षित कई पारंपरिक और अपारंपरिक उपायों के साथ स्थिति का जवाब दे रहे हैं।

घरेलू अर्थव्यवस्था

8. फरवरी 2020 में जारी राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय के दूसरे अग्रिम अनुमानों में 2019-20 के चौथे तिमाही के लिए वार्षिक सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि का अनुमान 4.7 प्रतिशत लगाया गया, जो कि पूरे वर्ष के लिए 5 प्रतिशत के वार्षिक अनुमान के भीतर है। इस पर भी अब अर्थव्यवस्था पर महामारी के प्रभाव के कारण जोखिम मंडरा रहा है। उच्च आवृत्ति संकेतक बताते हैं कि निजी अंतिम खपत व्यय को गहरा झटका लगा है, यहां तक कि सकल स्थिर पूंजी निर्माण भी 2019-20 की दूसरी तिमाही के बाद से संकुचन में रहा है। आपूर्ति पक्ष पर, कृषि और संबद्ध गतिविधियों की संभावनाएं ही केवल एक उम्मीद की किरण है, जिसमें खाद्यान्न का उत्पादन 292 मिलियन टन है जो एक साल पहले की तुलना में 2.4 प्रतिशत अधिक है। निर्माण और बिजली उत्पादन में संवृद्धि ने पिछले पांच महीनों में अनिरंतर संकुचन और / या निष्प्रभाव गतिविधि के बाद जनवरी 2020 में औद्योगिक उत्पादन को सकारात्मक क्षेत्र में खींच लिया; हालाँकि, यह जानने के लिए और अधिक डेटा को देखना होगा कि COVID-19 के सामने हाल का इजाफा टिकेगा के नहीं। इस बीच, जनवरी और फरवरी 2020 के लिए अधिकांश सेवा क्षेत्र के संकेतकों में मंदी या गिरावट आई। तब से वास्तविक साक्ष्य बताते हैं कि व्यापार, पर्यटन, एयरलाइंस, आतिथ्य क्षेत्र और निर्माण जैसी कई सेवाओं पर महामारी का प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है। कैजुअल और कॉन्ट्रैक्ट लेबर के विस्थापन के परिणामस्वरूप अन्य क्षेत्रों में भी गतिविधि में कमी आएगी।

9. उपभोक्ता मूल्य सूचकांक द्वारा मापी गई खुदरा मुद्रास्फीति, जनवरी 2020 में चरम पर पहुंच गई और फरवरी 2020 में पूर्ण प्रतिशत के स्तर से गिरकर 6.6 प्रतिशत हो गई, क्योंकि प्याज की कीमतों में गिरावट ने पूर्ववर्ती दो महीनों में खाद्य मुद्रास्फीति को दोहरे अंक से नीचे ला दिया। हालांकि, मूल्य दबाव सभी प्रोटीन युक्त वस्तुओं, खाद्य तेलों और दालों के लिए स्थिर बने रहे; लेकिन COVID-19 से मांग में आने वाली गिरावट उन्हें आगे जाकर कमजोर कर सकता है। फरवरी में अंतर्राष्ट्रीय एलपीजी की कीमतों में देरी के घरेलू समायोजन के कारण ईंधन की मुद्रास्फीति में तेजी से वृद्धि हुई, मार्च में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट से राहत मिल सकती है। खाद्य और ईंधन को छोड़कर सीपीआई मुद्रास्फीति फरवरी में परिवहन और संचार, और व्यक्तिगत देखभाल के सौम्य कीमतों के कारण कम हो गई। रिज़र्व बैंक के सर्वेक्षण के मार्च 2020 के दौर में एक वर्ष आगे के परिवारों की मुद्रास्फीति संभावनाएं 20 बीपीएस तक सौम्य हो गई।

10. विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफ़पीआई) द्वारा बड़े पैमाने पर अपविक्रय का सामना करने वाले इक्विटी बाजारों के साथ घरेलू वित्तीय स्थिति काफी हद तक मजबूत हुई है। बांड बाजार में भी प्रतिफल निरंतर एफपीआई की बिक्री पर बढ़ी है, जबकि मोचन दबाव, ट्रेडिंग गतिविधि में गिरावट और सामान्यीकृत जोखिम के फैलाव ने वाणिज्यिक पेपर, कॉर्पोरेट बॉन्ड और अन्य नियत आय वाले क्षेत्रों में ऊंचे स्तर तक प्रतिफल को बढ़ावा दिया है। विदेशी मुद्रा बाजार में, भारतीय रुपया (आईएनआर) निरंतर नीचे की ओर दबाव में रहा है। इन परिस्थितियों में, रिज़र्व बैंक ने वित्तीय बाजारों को तरल, स्थिर और कामकाज को सामान्य रूप से बनाए रखने का प्रयास किया है। एलएएफ के तहत निवल अवशोषण में परिलक्षित प्रणालीगत चलनिधि अधिशेष मार्च में औसतन 2.86 लाख करोड़ (25 मार्च 2020 तक) था। इसके अलावा, रिज़र्व बैंक ने 11,724 करोड़ की संचयी निवल राशि उपलब्ध कराते हुए अल्पकालिक सरकारी प्रतिभूतियों ( 28,276 करोड़) की समान बिक्री और दीर्घावधि प्रतिभूतियों ( 40,000 करोड़) की खरीद को शामिल करते हुए ‘ट्विस्ट ऑपरेशन’ नामक नीलामी के रूप में अपरंपरागत परिचालन आरंभ किया। रिज़र्व बैंक ने चलनिधि उपलब्ध कराने और मौद्रिक संचरण में सुधार करने के लिए अब तक 1.25 लाख करोड़ के संचयी राशि के 1 वर्ष और 3 वर्ष के कार्यकाल के पांच दीर्घकालिक रेपो नीलामी का भी आयोजन किया। रिज़र्व बैंक ने 16 और 23 मार्च को 2.71 बिलियन अमेरिकी डॉलर की विदेशी मुद्रा बाजार में संचयी रूप से अमेरिकी डॉलर चलनिधि उपलब्ध कराने के लिए दो बिक्री-खरीद स्वैप नीलामी का भी संचालन किया।

चलनिधि को मजबूत करने और वित्तीय स्थितियों को सरल बनाने के लिए 20 मार्च को 10,000 करोड़ और 24 मार्च तथा 26 मार्च दोनों को 15,000 करोड़ का खुला बाजार खरीद परिचालन आयोजित किया गया।

11. बाहरी क्षेत्र में, पण्य का निर्यात फरवरी 2020 में लगातार छह महीने के संकुचन के बाद विस्तारित हुआ। आठ महीने की लगातार गिरावट के बाद आयात वृद्धि भी सकारात्मक दिखाई दी। फलस्वरूप, व्यापार घाटा वर्ष-दर-वर्ष आधार पर मामूली रूप से बढ़ा, हालांकि यह एक महीने पहले अपने स्तर से कम था। 12 मार्च को, रिज़र्व बैंक ने भुगतान का संतुलन डाटा जारी किया, जिसमें यह दर्शाया गाय कि चालू खाता, जीडीपी के केवल 0.2 प्रतिशत की कमी के साथ क्यू3: 2019-20 में दर्शाए शेष के समीप था। वित्त पोषण के संबंध में, अप्रैल-जनवरी 2019-20 के दौरान 37.8 बिलियन अमेरिकी डॉलर का निवल एफडीआई अंतर्वाह एक वर्ष पूर्व की तुलना में काफी अधिक था। संविभाग निवेश ने 2019-20 (25 मार्च तक) के दौरान 5.2 बिलियन अमेरिकी डॉलर का निवल बहिर्गमन में गिरावट दर्ज की, जो एक वर्ष पहले 6.6 बिलियन अमेरिकी डॉलर था। 6 मार्च 2020 को भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 487.2 बिलियन अमेरिकी डॉलर के स्तर पर पहुंच गया – जो उनके मार्च 2019 के अंत के स्तर से 74.4 बिलियन अमेरिकी डॉलर अधिक था।

आउटलुक

12. फरवरी 2020 के छठे द्विमासिक संकल्प में, सीपीआई हेडलाइन मुद्रास्फीति क्यू4: 2019-20 के लिए 6.5 प्रतिशत पर अनुमानित की गई थी। जनवरी और फरवरी 2020 के प्रिंट्स से पता चलता है कि तिमाही के लिए वास्तविक परिणाम प्याज की कीमत को दर्शाते हुए, अनुमानों से 30 बीपीएस ऊपर चल रहे हैं। आगे, रिकॉर्ड खाद्यान्न और बागवानी उत्पादन के लाभकारी प्रभावों के तहत, कम से कम सामान्य गर्मियों की शुरुआत तक, खाद्य पदार्थों की कीमतें और भी नरम हो सकती हैं, इसके अलावा, कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट, ईंधन और मूल मुद्रास्फीति दोनों दबावों को कम कर सकेगा, जोकि खुदरा कीमतों के पास-थ्रू के स्तर पर निर्भर होगा। COVID-19 के परिणामस्वरूप, सकल मांग कमजोर हो सकती है और मूल मुद्रास्फीति को और कम कर सकती है। वित्तीय बाजारों में ऊँची अस्थिरता का असर मुद्रास्फीति पर भी पड़ सकता है।

13. विकास की ओर मुड़ते हुए, कृषि और संबद्ध गतिविधियों की निरंतर आघात-सहनीयता के अलावा, अर्थव्यवस्था के अधिकांश अन्य क्षेत्रों पर महामारी द्वारा, इसकी तीव्रता, प्रसार और अवधि के आधार पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा। यदि COVID-19 लंबे समय तक रहा और आपूर्ति श्रृंखला में व्यवधान उत्पन्न हो जाए, तो वैश्विक मंदी भारत के लिए प्रतिकूल प्रभाव के साथ गहरा सकती है। हालांकि, अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट, व्यापार लाभ के रूप में कुछ राहत प्रदान कर सकती है। COVID-19 और लंबे समय तक लॉकडाउन के प्रसार से विकास के लिए नकारात्मक जोखिम उत्पन्न होते हैं। मौद्रिक, राजकोषीय और अन्य नीतिगत उपायों और COVID -19 के शुरुआती नियंत्रण से अधिक वृद्धि आवेग उत्पन्न होने की उम्मीद है।

14. एमपीसी का विचार है कि, मांग और आपूर्ति दोनों पक्षों पर, महामारी द्वारा लाए गए व्यापक आर्थिक जोखिम गंभीर हो सकते हैं। इस समय महत्वपूर्ण यह है कि, घरेलू अर्थव्यवस्था को महामारी से बचाने के लिए जो कुछ भी करना आवश्यक है, उसे करना चाहिए। दुनिया भर के केंद्रीय बैंकों ने मौद्रिक और विनियामक उपाय - पारंपरिक और अपारंपरिक दोनों किए हैं। दुनिया भर में सरकारों ने आर्थिक गतिविधियों को वायरस के प्रभाव से बचाने के लिए लक्षित स्वास्थ्य सेवाओं के समर्थन सहित बड़े पैमाने पर राजकोषीय उपाय किए हैं। वायरस के प्रकोप से उत्पन्न होने वाली आर्थिक कठिनाइयों को कम करने के लिए, भारत सरकार ने समाज के कमजोर वर्गों सहित किसानों, प्रवासी श्रमिकों, शहरी और ग्रामीण गरीबों, दिव्यांगजनों और महिलाओं के लिए नकद हस्तांतरण और अन्न सुरक्षा सहित 1.70 लाख करोड़ के व्यापक पैकेज की घोषणा की है। एमपीसी ने यह देखा है कि रिजर्व बैंक ने प्रणाली में पर्याप्त तरलता को इंजेक्ट करने के लिए कई उपाय किए हैं। बहरहाल, महामारी के प्रतिकूल व्यापक आर्थिक प्रभाव को कम करने के लिए मजबूत और उद्देश्यपूर्ण कार्रवाई करने को प्राथमिकता देनी होगी। एमपीसी इस संदर्भ में सर्वसम्मति से नीतिगत रेपो दर में भारी कमी के लिए वोट करता है, लेकिन कमी की मात्रा में कुछ असहमति के साथ। इसके अलावा, एमपीसी यह भी नोट करता है कि रिज़र्व बैंक ने अर्थव्यवस्था में तरलता, मौद्रिक संचरण और ऋण प्रवाह को और बेहतर बनाने के लिए कई उपायों को शुरू करने का निर्णय लिया है और ऋण शोधन पर राहत प्रदान की है। यह सभी हितधारकों के लिए महामारी से लड़ने की आवश्यकता को भी रेखांकित करता है। बैंकों और अन्य वित्तीय संस्थानों को वायरस द्वारा लगाए गए अलगाव के कारण वित्तीय तनाव का सामना कर रहे आर्थिक एजेंटों को क्रेडिट प्रवाहित करने के लिए जो संभव हो करना चाहिए। बाजार सहभागियों को भारतीय रिज़र्व बैंक और भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) जैसे नियामकों के साथ काम करना चाहिए ताकि मूल्य खोज और वित्तीय मध्यस्थता की उनकी भूमिका में बाजारों के क्रमबद्ध कामकाज को सुनिश्चित किया जा सके। स्थिति से निपटने के लिए मजबूत राजकोषीय उपाय महत्वपूर्ण हैं।

15. यह सुनिश्चित करते हुए कि मुद्रास्फीति लक्ष्य के भीतर बनी रहे, सभी सदस्यों ने नीतिगत रेपो दर में कमी और विकास को पुनर्जीवित करने और अर्थव्यवस्था पर COVID -19 के प्रभाव को कम करने के लिए जब तक आवश्यक हो निभावकारी रुख बनाए रखने के लिए वोट किया।

16. डॉ. रविन्द्र एच. ढोलाकिया, डॉ. जनक राज, डॉ. माइकल देबब्रता पात्र, श्री शक्तिकांता दास ने नीतिगत रेपों दर में 75 बीपीएस कटौती के लिए वोट किया। डॉ. चेतन घाटे और डॉ. पामी दुआ ने नीतिगत रेपो दर में 50 बीपीएस कटौती के लिए वोट किया।

17. एमपीसी की बैठक के कार्यवृत्त 13 अप्रैल 2020 तक प्रकाशित किए जाएंगे ।

पॉलिसी रेपो दर को कम करने के लिए संकल्प पर मतदान
सदस्य मतदान पॉलिसी रेपो दर में कमी का परिमाण
(आधार अंक)
डॉ. चेतन घाटे हां 50
डॉ. पामी दुआ हां 50
डॉ. रवींद्र एच. ढोलकिया हां 75
डॉ. जनक राज हां 75
डॉ. माइकल देवव्रत पात्र हां 75
श्री शक्तिकांत दास हाँ 75

डॉ. चेतन घाटे का वक्तव्य

18. पिछली समीक्षा में, मैंने कहा था कि "जबकि मैं भविष्य में और आगे कटौती की गुंजाइश नहीं देख रहा हूँ, मैं डेटा पर निर्भर रहूंगा"

19. पिछले छह हफ्तों में, डेटा एक महत्वपूर्ण तरीके से बदल गया है।

20. COVID-19 के कारण, वृद्धि में तीव्र जोखिम बढ़ गया है। चूंकि लॉकडाउन उपाय शुरू हो गए हैं, COVID -19 की आर्थिक लागत बड़ी हो सकती है क्योंकि विभिन्न क्षेत्रों में उत्पादन में गिरावट है और खपत व्यय योजनाओं का स्थायी स्थगन विद्यमान है।

21. वैश्विक विकास में बड़ी गिरावट का असर हमारे निर्यात पर भी पड़ेगा। सेवा क्षेत्र में वृद्धि, जो अर्थव्यवस्था का सबसे बड़ा क्षेत्र है, भी प्रभावित होगा क्योंकि विवेकाधीन व्यय में गिरावट आएगी। यह समझना महत्वपूर्ण है कि उपभोक्ता सेवाएं - खुदरा, होटल, रेस्तरां आदि – वृद्धि का एक प्रमुख आधार हैं। इसके विपरीत, निर्माता सेवाएं - वित्त, आईटी, स्थावर संपदा, परिवहन आदि – वृद्धि के उत्पादक हैं और रोजगार भी। COVID-19 दोनों को प्रभावित करेगा, जो पिछले कुछ महीनों में वृद्धि की गति को धीमा कर रहा है।

22. दुर्भाग्य से, लॉकडाउन के अलावा वर्तमान समय पर कोई शॉर्ट-कट नहीं है।

23. इस स्थिति में मौद्रिक नीति की रणनीति क्या होनी चाहिए? इस पर तीन विचार हो सकते हैं।

24. प्रथम, मौद्रिक नीति को समग्र मांग में गिरावट को कम करना चाहिए, अर्थात, हमें COVID-19 के शॉक से वृद्धि को हुई स्थायी क्षति की सीमा को कम करना चाहिए। इसलिए, शॉक की गंभीरता को देखते हुए, नीतिगत दर में आवश्यक कटौती बड़ी होनी चाहिए । यह एक बीमा कटौती के रूप में होना चाहिए ।

25. मांग में कमी वाली अर्थव्यवस्था में, दर में एक बड़ी कटौती, हालांकि, एक धागे पर चलने के समान होगा। मैं पिछली कई नीतिगत समीक्षाओं में इस चिंता को व्यक्त करता आ रहा हूं कि अधिक संरचनात्मक सुधारों की आवश्यकता है। यह चिंता मुझे इस बार नीतिगत दर में और अधिक कटौती करने से रोकती है।

26. दूसरा, मौद्रिक नीति, चलनिधि नीति, सामाजिक बीमा नीति और राजकोषीय नीति के बीच समग्र मांग को प्रोत्साहित करने में श्रम का उपयुक्त विभाजन क्या है?

27. मैं वर्तमान राजकोषीय प्रोत्साहन ( 1.7 लाख करोड़ जो कि सकल घरेलू उत्पाद का लगभग 0.8% है, जो 26 मार्च 2020 को घोषित किया गया है) को प्रोत्साहन के बजाय प्रकृति या एक राहत उपाय (सामाजिक बीमा) के रूप में अधिक देखता हूं। एक राहत एक स्थायी उपाय नहीं है। सरकार द्वारा घोषित उपाय तूफान को काबू में करना है ताकि किसी को भी भोजन के बिना नहीं रहना है और आवश्यक वस्तुओं पर खर्च न करना पड़े। इस उपाय के प्रभाव से अल्पावधि में खपत में थोड़ी वृद्धि होगी, लेकिन प्रभाव जल्दी से समाप्त हो जाएगा।

28. चलनिधि नीति पर, आज बड़ी संख्या में उपायों की घोषणा की जाएगी जिसमें विवेकपूर्ण और सहनशीलता उपाय शामिल हैं। तरलता उपायों की एक श्रृंखला पहले ही लागू की गई है (विदेशी मुद्रा स्वैप, एलटीआरओ, ऑपरेशन ट्विस्ट, ओएमओ) । संयुक्त रूप से, ये उपाय तरलता सहित वित्तीय प्रणाली का एक "कार्पेट बोंबिंग" सिद्ध होगा और वित्तीय प्रणाली के उन हिस्सों में प्रतिफल को मंद कर देगी जहां अधिक बिक्री से क्रेडिट स्प्रेड में वृद्धि हुई है। वित्तीय बाजारों के स्थिरीकरण से आर्थिक परिणामों में सुधार लाने में मदद मिलेगी।

29. राजकोषीय नीति पर, मैं एक दूसरे प्रोत्साहन पैकेज पर विवरण का इंतजार कर रहा हूं जो संभवतः सरकार द्वारा घोषित किया जाएगा। चुनौती यह होगी: जब तक अर्थव्यवस्था में बहुत अधिक मंदी न हो या जीरो लोअर बाउंड पर अटक न जाए, तथा छोटे होने की प्रवृत्ति हो, और आमतौर पर एक से कम हो (सरकार द्वारा 100 रुपये खर्च में वृद्धि से जीडीपी में 100 रुपये से कम की वृद्धि होती है), तब तक अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कई गुना खर्च करने वाले सरकारी खर्च के आकार का अनुमान। दूसरी ओर, कर गुणक बड़े होते हैं (एक से अधिक)। इससे पता चलता है कि COVID-19 से निपटने के लिए आदर्श राजकोषीय प्रोत्साहन को सरकार के व्यय पक्ष के बजाय कर पक्ष की ओर होना चाहिए। भारत में हालांकि सीमित कर प्रवेश है। यह मुख्य डिजाइन चुनौती बनने जा रही है।

30. अंत में, COVID-19 के शॉक के कारण हमारे मध्यावधि मुद्रास्फीति लक्ष्य को क्या खतरा है?

31. हालांकि इसका आकलन करना कठिन है - सटीक तरीके से - मौजूदा स्थिति को देखते हुए मुद्रास्फीति के एक वर्ष आगे के स्तर पर, पिछली समीक्षा के बाद नई अवस्फीतिकारी ताकतें सामने आई हैं, अर्थात्, भू-राजनीतिक कारकों के कारण कच्चे तेल में भारी कमी और वित्तीय वर्ष 20-21 में वृद्धि में एक संभावित तीव्र मंदी। पूर्व खाद्य और ईंधन मुद्रास्फीति भी कच्चे तेल की कम कीमतों और उत्पादन अंतर के शुरू होने के साथ गिर सकती है।

32. मुझे चिंता है कि भले ही सब्जी की मुद्रास्फीति जनवरी 2020 में 50% से तेजी से गिर गई हो, फरवरी में यह अभी भी लगभग 30% है। बेमौसम बारिश, यदि कोई हो, और COVID-19 संबंधी खाद्य क्षेत्र में आपूर्ति में गड़बड़ी भी 2020-21 में मुद्रास्फीति के अनुमान को उलट जोखिम पैदा कर सकती है। इस पर ध्यान देना जरूरी है।

33. मौद्रिक नीति, राजकोषीय नीति, सामाजिक बीमा नीति और चलनिधि नीति को एक साथ लेते हुए, नीतिगत दर में 50 बीपीएस की कटौती वर्तमान समय में उचित है।

34. जैसा कि हाल ही में पूर्व फेड अध्यक्ष बेन बर्नानके द्वारा एक एईआर लेख में उल्लेख किया गया है, मौद्रिक नीति कभी भी बड़े शॉक को दूर करने में सक्षम साबित नहीं हुई है। यह केवल शॉक के बुरे प्रभावों को कम करने में मदद करती है, और बहाली में तेजी लाती है।

35. एक बार COVID-19 महामारी के थमने के बाद क्या सामान्य रूप से जल्दी वापसी होने की संभावना है? मैं आशान्वित हूं क्योंकि उत्पादन क्षमता नष्ट नहीं हुई है। हालाँकि, मैं आने वाली वृद्धि-मुद्रास्फीति के आंकड़ों को ध्यान से देखूंगा, और डेटा पर निर्भर रहूंगा।

36. मैं निभावकारी रुख को बनाए रखने के लिए वोट करता हूं।

पामी दुआ का वक्तव्य

37. COVID-19 के प्रकोप के कारण देशव्यापी लॉकडाउन ने आर्थिक गतिविधियों को लगभग स्थिर कर दिया है। अभूतपूर्व आर्थिक और मानवीय संकट से वैश्विक अर्थव्यवस्था पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है, जिसकी गंभीरता विकसित होती महामारी की गहनता, अवधि और प्रसार पर निर्भर करेगी।

38. स्थिति की गंभीरता और लॉकडाउन की अवधि के आधार पर, इस संकट से आपूर्ति पक्ष में रुकावट, मांग में संकुचन, वैश्विक विकास में मंदी और उपभोक्ता विश्वास के साथ-साथ निवेशक भावना में कमी के कारण घरेलू विकास के लिए जटिलता उत्पन्न होती हैं। आयातित कच्चे माल तक सीमित पहुंच के कारण प्रमुख उद्योगों की आपूर्ति श्रृंखला बाधित होने की संभावना है। कारखानों के बंद होने से विनिर्माण क्षेत्र में भारी गिरावट की आशंका है जबकि उपभोक्ता मांग और निवेश व्यय में भी भारी गिरावट आने की संभावना है। यात्रा, परिवहन, आतिथ्य, पर्यटन, और पेशेवर और वित्तीय सेवाओं पर प्रतिबंध के कारण सेवा क्षेत्र को सबसे अधिक प्रभावित होने की उम्मीद है। निर्माण गतिविधि भी धीमी होने की उम्मीद है। घरेलू मांग में गिरावट और वैश्विक वृद्धि में संकुचन के कारण व्यापार में तेजी आने की उम्मीद है। चूंकि उत्पादन का झटका वैश्विक है, इसलिए यह संभावना नहीं है कि कोई भी देश इस स्थिति से विश्व को बाहर निकालने के लिए विकास के इंजन के रूप में कार्य कर सकता है।

39. फरवरी 2020 में जारी एनएसओ के दूसरे अग्रिम अनुमानों के अनुसार, 2019-20 की तीसरी तिमाही के लिए जीडीपी वृद्धि प्रिंट 4.7% थी और पूरे वित्त वर्ष 2019-20 के लिए 5% होने की उम्मीद है। हालांकि, कोरोना वायरस बीमारी, जिसने देश में फरवरी में गति प्राप्त की, के नकारात्मक प्रभाव के कारण इसे प्राप्त करना मुश्किल हो सकता है ।

40. विशेष रूप से एक निजी क्षेत्र के बैंक में हाल के विकास के मद्देनजर आर्थिक गतिविधियों में मंदी वित्तीय स्थिरता के लिए चुनौतियां हैं। विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों द्वारा ऋण और इक्विटी बाजारों में बड़े पैमाने पर सेल-ऑफ से वित्तीय स्थिति भी तंग हो गई है। इसी वजह से भारतीय रुपया भी दबाव में आ गया है। हालांकि, रिजर्व बैंक ने प्रणाली में बृहद चलनिधि उपलब्ध करवाने और वित्तीय बाजारों में स्थिरता सुनिश्चित करने के लिए कई कदम उठाए हैं।

41. मुद्रास्फीति पक्ष पर, रिकॉर्ड खाद्यान्न और बागवानी उत्पादन के परिप्रेक्ष्य में खाद्य पदार्थों की कीमतों में कमी के साथ, हेडलाइन सीपीआई मुद्रास्फीति की ट्राजेक्ट्री मंद हो रही है। कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट और सकल मांग के कमजोर होने से मुद्रास्फीति में और सौम्यता आने का अनुमान है।

42. इस प्रकार, संकट की गहनता, अवधि और प्रसार के आधार पर, आपूर्ति और मांग दोनों पक्षों पर आर्थिक विकास के लिए जोखिम महत्वपूर्ण हो सकते हैं। सौभाग्य से मौजूदा परिदृश्य में मुद्रास्फीति के सौम्य बने रहने की उम्मीद है और यह बड़ी चुनौती नहीं है। इसलिए, सबसे अहम प्राथमिकता आर्थिक विकास पर महामारी के नकारात्मक प्रभाव को कम करना है। इसके लिए एक बहु-आयामी दृष्टिकोण की आवश्यकता है जिसमें मौद्रिक, राजकोषीय और अन्य नीतिगत उपाय के साथ-साथ COVID-19 के प्रसार को रोकने के कदम भी शामिल हैं।

43. रिजर्व बैंक पहले ही प्रणाली में पर्याप्त चलनिधि उपलब्ध करवाने के लिए कई उपाय कर चुका है। यह बैंकों द्वारा धन को रिज़र्व बैंक के पास रखने के बजाय ऋण देने के लिए धन का उपयोग करने हेतु प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से मौजूदा पॉलिसी दर एलएएफ कॉरीडोर का विस्तार कर रहा है। रिज़र्व बैंक ने अर्थव्यवस्था में चलनिधि, मौद्रिक संचरण और ऋण प्रवाह को और बेहतर बनाने के लिए कई कदम उठाने का भी निर्णय लिया है और साथ ही ऋण सेवा पर राहत प्रदान किया है। भारत सरकार ने समाज के कमजोर वर्गों के लिए नकद हस्तांतरण और खाद्य सुरक्षा को कवर करते हुए एक व्यापक राजकोषीय पैकेज की भी घोषणा की है। महामारी के आर्थिक प्रभावों का मुकाबला करने में राजकोषीय नीति की प्रमुख भूमिका है।

44. असाधारण संकट को देखते हुए, विकास को पुनर्जीवित करने और COVID-19 के आर्थिक प्रभाव को कम करने के लिए, पॉलिसी रेपो दर में एक उल्लेखनीय कमी स्पष्ट रूप से सिद्ध हो रहा है। तदनुसार, मैं नीतिगत दर में 50 आधार अंकों की कटौती करने के लिए मतदान करता हूं। वर्तमान परिदृश्य में, अनिश्चितता और आर्थिक गतिविधियों में स्थिरता के साथ, इससे उधार लेने में वृद्धि नहीं हो सकती है, लेकिन उपभोक्ता विश्वास और निवेशक भावना में बढ़ोत्तरी हो सकती है। बाद के लिए कुछ पॉलिसी स्पेस को संरक्षित करना बेहतर हो सकता है, जब उन बाध्यकारी बाधाओं को हटा दिया जाएगा और अर्थव्यवस्था को महामारी से उबरने के लिए और अधिक मजबूती की आवश्यकता होगी। मैं संवृद्धि को पुनर्जीवित करने के लिए आवश्यक रूप से लंबे समय तक निभावकारी रुख को बनाए रखने के लिए भी मतदान करता हूं।

डॉ. रवीन्द्र एच. ढोलकिया का वक्तव्य

45. ये वास्तव में असाधारण समय हैं। पूरी दुनिया में COVID-19 के प्रसार से उत्पन्न स्वास्थ्य संबंधी खतरे विश्व अर्थव्यवस्था को अभूतपूर्व मंदी की ओर धकेल रहे हैं। फरवरी 2020 की शुरुआत में एमपीसी की पिछली बैठक के समय, भारतीय अर्थव्यवस्था संवृद्धि की धीमी गति से विकास की ओर बढ़ रही थी। किसी को उम्मीद नहीं थी कि COVID-19 भारत और इतने सारे देशों को इतनी जल्दी और संभावित रूप से इतना विनाशकारी रूप से प्रभावित करेगा कि अधिकांश उत्पादन और आर्थिक गतिविधियां विरामवस्था में आ जाएंगी। लंबे समय तक लॉक-डाउन के गंभीर आर्थिक और सामाजिक प्रभाव हैं। ये बाहरी झटके आपूर्ति और मांग दोनों पक्षों से हैं। अतः उत्पादक और उपभोक्ता तथा निवेशक और बचतकर्ता दोनों आत्मविश्वास और यहां तक कि आशा खो रहे हैं। ऐसी अभूतपूर्व परिस्थितियों में, मुद्रास्फीति और राजकोषीय अनुशासन जैसी अन्य सभी चिंताओं को अलग रखकर सभी देशों में सरकारें राजकोषीय और मौद्रिक दोनों मोर्चों पर नीतिगत उपायों के साथ आई हैं, ताकि पर्याप्त मात्रा में बूस्टर खुराक प्रदान की जा सके। आगे बढ़ते हुए, चाहे कुछ भी हो जाए भारत में सीपीआई मुद्रास्फीति आगे चार तिमाहियों में लक्षित 4 प्रतिशत से कम होने की संभावना है। इसलिए, अधिनियम द्वारा दिए गए अध्यादेश के तहत रहते हुए, एमपीसी के लिए निर्णायक रूप से कार्य करने और आरबीआई द्वारा मूल रूप से उत्पादकों, उपभोक्ताओं, निवेशकों और बचतकर्ताओं के विश्वास को बहाल करने के लिए अर्थव्यवस्था को एक प्रमुख बूस्टर खुराक प्रदान करने का यह सही समय है मेरी राय में, दर में प्रमुख कटौती और अन्य चलनिधि एवं विनियामक उपायों के लिए पर्याप्त स्थान है। इसलिए, मैं पॉलिसी रेपो रेट में बदलाव करने के लिए 75 बीपीएस कट के लिए वोट करता हूं और निभावकारी रुख बनाए रखता हूं। मेरे वोट के अधिक सटीक कारण इस प्रकार हैं –

  1. 2019-20 के दौरान एनएसओ द्वारा 28 फरवरी 2020 को प्रकाशित जीडीपी संवृद्धि के दूसरे अग्रिम अनुमान को मार्च 2020 से COVID-19 के अचानक प्रतिकूल प्रभाव के कारण नीचे की ओर समायोजित किया जाना है। मेरी राय में, 2019-20 की चौथी तिमाही की संवृद्धि 4.7% के बजाय लगभग 3.5% होगी और इसलिए वर्ष 2019-20 के लिए सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि एनएसओ द्वारा अनुमानित 5% के बजाय 4.7% के आसपास रहने की संभावना है। यद्यपि विभिन्न परिदृश्यों के आधार पर कोरोना वायरस के प्रभाव के बारे में काफी अनिश्चितताएं हैं, अगले वर्ष (2020-21) के लिए जीडीपी वृद्धि की एक रूढ़िवादी अनुमान सीमा होना संभव है। तदनुसार, मेरा मानना है कि पूरे वर्ष 2020-21 में जीडीपी की वृद्धि कम होगी, लेकिन वर्तमान वर्ष के दौरान लगाए गए अनुमान तुलना में कम नहीं, यह 4% से 4.5% के बीच हो सकती है। इसलिए, खाद्य और ईंधन को छोड़कर आउटपुट अंतर मुद्रास्फीति पर निम्न दबाव का विस्तार करना जारी रखेगा।

  2. COVID-19 के विनाशकारी प्रभाव और तेल उत्पादकों की प्रतिक्रिया के मद्देनजर अंतरराष्ट्रीय आर्थिक संभावनाओं को देखते हुए, ईंधन की कीमतों में $25-40 की सीमा में मंदी रहने की संभावना है। अगर हम यह भी मानते हैं कि पूरी गिरावट घरेलू बाजार में नहीं पहुंच सकती है, तब भी पेट्रोलियम उत्पाद की कीमतों में मुद्रास्फीति अगली चार तिमाहियों में तेजी से घट सकती है।

  3. रबी की फसल एक बंपर फसल रही है और अगले वर्ष सामान्य मानसून मानकर अगले चार तिमाहियों में खाद्य कीमतों में तेजी से गिरावट की संभावना है।

  4. इस प्रकार, 2020-21 की चौथी तिमाही तक हेडलाइन सीपीआई मुद्रास्फीति केवल 2.5% के आसपास रहने की संभावना है। यह वर्तमान वास्तविक पॉलिसी रेपो दर को तब अधिक ऊंचा कर देता है जब अधिकांश तुलनित्र देशों ने अपनी वास्तविक नीतिगत दरों को शून्य या नकारात्मक क्षेत्र तक कटौती कर दी हो। यह हमारी वास्तविक नीति दरों को काफी हद तक ठीक करने का समय है।

  5. एमएसएमई, खुदरा और आवास ऋणों के संबंध में बैंकों द्वारा ऋण दरों की बाह्य बेंचमार्किंग नीति द्वारा नीतिगत दर कटौती के प्रसारण संबंधी चिंताओं को पहले ही दूर कर दिया गया है।

  6. केंद्र सरकार ने पहले ही राजकोषीय बढ़ावा देना शुरू कर दिया है और अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित करने के लिए ऐसा करना जारी रख सकती है।

46. मेरी राय में, एमपीसी और आरबीआई को मजबूती देकर प्रयासों को पूरा करना चाहिए। सौभाग्य से, दोनों के पास पश्चिम के कई केंद्रीय बैंकों के विपरीत इस तरह के असाधारण समय के लिए नीतिगत दरों और चलनिधि तथा विनियामक निषेध पहलुओं पर पर्याप्त जगह है। रिज़र्व बैंक के लिए यही समय है जब: कॉरीडोर को विस्तार देकर रिवर्स रेपो दर को और कम करें जिससे बैंकों को रिज़र्व बैंक के पास अपनी अतिरिक्त चलनिधि को रखने के लिए हतोत्साहित किया जा सके और उन्हें कॉर्पोरेट बॉन्ड बाजार में आने के लिए प्रोत्साहित किया जा सके; घबराहट को कम करने और समर्थन प्रदान करने हेतु चूक और गिरावट की पहचान के लिए 3-4 महीने के लिए क्लॉक को बंद करें; क्रेडिट विस्तार और इस तरह के अन्य उपायों के लिए चलनिधि की कमी को दूर करने के लिए एसएलआर को काफी हद तक कम करें। एमपीसी के माध्यम से मजबूती प्रदान करने के लिए, मैं इस बार पॉलिसी रेपो रेट में 75 बीपीएस की कटौती करने के लिए वोट करता हूं। आवश्यकता पड़ने पर नीतिगत दर में कटौती के लिए पर्याप्त जगह है ताकि जब तक मुद्रास्फीति नियंत्रण में न आ जाए तब तक संवृद्धि को पुनः वापस लाने हेतु सहायता की जा सके।

डॉ. जनक राज का वक्तव्य

47. हाल के सप्ताह में, वैश्विक और घरेलू समष्टि अर्थव्यवस्था परिदृश्यों में भारी बदलाव आया है। कोरोनवायरस (COVID-19) ने वैश्विक आपूर्ति श्रृंखलाओं को अपंग कर दिया है और कई देशों में आर्थिक गतिविधियों को बाधित किया है। कोरोनावायरस का प्रकोप शुरू में आपूर्ति के झटके के रूप में शुरू हुआ, लेकिन यह जल्द ही यात्रा, पर्यटन पर प्रतिबंध और लॉकडाउन के कारण गैर-जरूरी खर्चों में कटौती की वजह से एक मांग झटका बन गया। वैश्विक अर्थव्यवस्था पर COVID-19 के गंभीर प्रभाव को दर्शाते हुए, वित्तीय बाजारों में बाधाएं देखी जा रही है।

48. केंद्रीय बैंकों सहित कई देशों के प्राधिकरण ने महामारी के प्रतिकूल समष्टि आर्थिक प्रभाव को कम करने के लिए परंपरागत और अपरंपरागत उपाय किए हैं। हालांकि, केंद्रीय बैंकों द्वारा बड़े पैमाने पर ढील के बावजूद, सुरक्षा के कारण वैश्विक वित्तपोषण की स्थिति कड़ी हो गई है। सुरक्षा और तरलता की मांग के कारण सोने में भी बड़ी बिकवाली हुई है, जिसका मुख्य कारण इसकी कीमतों में गिरावट है, जो आम तौर पर अनिश्चित वातावरण में बढ़ती है।

49. चूंकि महामारी अभी भी फैल रही है और इसका प्रभाव गहराता जा रहा है, वैश्विक विकास की नीचे की ओर की गिरावट का अनुमान लगातार संशोधित किया जाता रहा है। हालांकि, अब यह स्पष्ट है कि 2020 में वैश्विक विकास 2019 की तुलना में बहुत कमजोर होने की संभावना है। जैसा कि COVID-19 महामारी ने लॉकडाउन और प्रभावित आपूर्ति श्रृंखलाओं के कारण उन्नत और उभरती अर्थव्यवस्थाओं को समान रूप से प्रभावित किया है, वास्तव में, वैश्विक अर्थव्यवस्था 2020 में भी मंदी की स्थिति में आ जाने का एक गंभीर जोखिम बना हुआ है। वैश्विक विकास की गति धीमी होने की स्थिति में, वैश्विक वित्तीय संकट के बाद जमा हुए विशाल वैश्विक ऋण भी वैश्विक वित्तीय स्थिरता के लिए गंभीर खतरा निर्माण कर सकते हैं।

50. घरेलू अर्थव्यवस्था की ओर बढ़ते हुए, जैसाकि जनवरी / फरवरी में कई संकेतकों में परिलक्षित हुआ है, विनिर्माण के साथ आईआईपी; रेलवे माल ढुलाई; ट्रैक्टर की बिक्री; सूक्ष्म और लघु उद्योगों को ऋण में हुई वृद्धि से आर्थिक गतिविधि में कुछ तेजी आई है। फरवरी में निर्यात और आयात दोनों सकारात्मक रहे हैं । जनवरी में पीएमआई विनिर्माण और फरवरी में पीएमआई समग्र आठ साल के उच्च स्तर पर थे। हालाँकि, ये पिछले आंकड़े कम प्रासंगिक हो गए हैं क्योंकि COVID-19, जिसके प्रसार, प्रभाव और अवधि इस स्तर पर अज्ञात हैं, के कारण निकट-अवधि का दृष्टिकोण अत्यधिक अनिश्चित हो गया है।

51. वित्तीय बाजार के विभिन्न खण्ड बेहद अस्थिर हो गए हैं और कारोबार के परिमाण में गिरावट आई है, जिससे उपज वक्र के स्पेक्ट्रम में प्रतिफल में वृद्धि हुई है। विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों द्वारा बड़े पैमाने पर बिकवाली के कारण घरेलू इक्विटी बाजार में गिरावट आई है। कुल मिलाकर, घरेलू वित्तीय स्थितियां कड़ी हो गई हैं और हाल के दिनों में बेहतर हो रहे मौद्रिक संचरण को गंभीरता से प्रभावित कर सकती हैं।

52. जबकि शुरू में यह नागरिक उड्डयन, आतिथ्य और मनोरंजन क्षेत्र थे जो COVID-19 से प्रभावित थे, अब 21 दिनों के राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के साथ, अधिकांश क्षेत्र 2019-20 की चौथी तिमाही और 2020-21 की पहली तिमाही में प्रभावित हो जायेंगे। भारत में संक्रमण के मामलों की संख्या अपेक्षाकृत कम है और अगर राष्ट्रव्यापी बंद के साथ प्रसार नियंत्रित रहता है, तो जीवन धीरे-धीरे सामान्य स्थिति में लौटने की शुरूआत हो सकती है और अर्थव्यवस्था के भी धीरे-धीरे ठीक हो जाने की शुरूआत हो सकती है। हालांकि, कुल मिलाकर वर्ष के लिए विकास तीन कारणों से कमजोर होने की संभावना है। सबसे पहले, परिवारों द्वारा विवेकाधीन खर्च को सामान्य रूप से कम किए जाने की संभावना है, हालांकि कुछ क्षेत्रों में मांग में कुछ वृद्धि हो सकती है। दूसरा, बाहरी मांग कमजोर रहेगी, जिससे हमारे निर्यात पर असर पड़ेगा। तीसरी बात, कमजोर घरेलू और बाहरी मांग के कारण निवेश गतिविधि के पुनरुद्धार में देरी हो सकती है। हालाँकि, सरकार का बढ़ा हुआ खर्च मंदी से कुछ बचाव प्रदान कर सकता है।

53. फरवरी में सब्जियों, विशेष रूप से प्याज के कारण मुद्रास्फीति में 100 बीपीएस से गिरावट आई। हालांकि, लॉकडाउन के साथ, निकट-अवधि में कई खाद्य पदार्थों की कीमतों पर कुछ दबाव हो सकता है। निकट अवधि के अलावा, बम्पर रबी की फसल के आगमन पर खाद्य मुद्रास्फीति मध्यम होने की उम्मीद है। वैश्विक एलपीजी की कीमतों में बड़ी गिरावट से ईंधन समूह की मुद्रास्फीति में काफी गिरावट आने की संभावना है। भोजन और ईंधन को छोडकर सीपीआई मुद्रास्फीति के दो कारकों के कारण नरम रहने की उम्मीद है: (i) मांग में मंदी; और (ii) अंतर्राष्ट्रीय कच्चे तेल की कीमतों में भारी गिरावट, जिसका न केवल पेट्रोलियम उत्पाद की कीमतों पर सीधा प्रभाव पड़ेगा, बल्कि कई उद्योगों में इनपुट कीमतों पर भी इसका असर पड़ेगा। हालांकि, घरेलू पंप और एलपीजी की कीमतों में गिरावट केवल पास-थ्रू की सीमा तक ही होगी। कुल मिलाकर, मुद्रास्फीति दृष्टिकोण सौम्य हो गया है। लॉकडाउन की अवधि के दौरान व्यापक सीपीआई आंकडों का संकलन चुनौतीपूर्ण होगा, इसलिए, तत्कालिक महीनों के लिए मूल्य की स्थिति का एक स्पष्ट मूल्यांकन प्रभाव के अधीन हो सकता है।

54. कुल मिलाकर, इस समय व्यापक आर्थिक दृष्टिकोण का स्पष्ट रूप से आकलन करना कठिन है। COVID-19 महामारी ने वैश्विक मांग में तेज मंदी, वित्तीय बाजारों में अस्थिरता, कच्चे तेल की कीमतों में तेज गिरावट और वैश्विक व्यापार और यात्रा को वास्तविक रूप से अचल बनाने जैसी एक प्राथमिक अप्रत्यक्ष झटके की एक श्रृंखला का निर्माण किया है। इन सभी कारकों ने कई समष्टि-आर्थिक और वित्तीय चरों में अप्रत्याशित अस्थिरता उत्पन्न कर दी है - प्रतिरुप के उद्देश्यों के लिए जिसकी व्यावहारिक रूप से पहचान असंभव है। इसके अलावा, अनुमान के उद्देश्य से COVID-19 महामारी जैसे असामान्य लेकिन उच्च-प्रभाव वाली घटनाओं के समय में परिणामों पर संभावनाएं निर्धारित करना बेहद चुनौतीपूर्ण है।

55. कुल मिलाकर निकटवर्ती विकास दृष्टिकोण पर COVID-19 के सटीक प्रभाव के बारे में एक अभूतपूर्व अनिश्चितता है । हालांकि इसकी मात्रा निर्धारित करना मुश्किल है, लेकिन यह स्पष्ट है कि निकट भविष्य में सकल मांग में काफी कमी आएगी, जो पूरे वर्ष के लिए विकास की संभावनाओं को प्रभावित करेगी। इसलिए, इस समय मौद्रिक नीति के लिए मुख्य चुनौती यह सुनिश्चित करने की है कि घरेलू मांग पर COVID-19 का प्रतिकूल प्रभाव नहीं बढे। यह सुनिश्चित करना भी आवश्यक है कि वित्तीय बाजार, जो कि परिपक्वता के दौरान सख्त होते जा रहे प्रतिफल के साथ तनाव में रह रहे हैं, मौद्रिक संचरण से प्रभावित हो कर और वित्तीय स्थिरता जोखिमों को जन्म देकर व्यापक आर्थिक जोखिमों को तेज नहीं कर दें। तत्काल भविष्य के अलावा और एक बार स्थिति सामान्य होने के बाद, घरेलू मांग को बिना समय गंवाए उत्तेजित करने की आवश्यकता होगी। मुद्रास्फीति के दृष्टिकोण में काफी सुधार हुआ है। इन विचारों को ध्यान में रखते हुए, नीति दर में एक बड़ी कटौती करना इस समय की आवश्यकता है। इसलिए, मैं 75 आधार अंकों तक पॉलिसी रेपो दर को कम करने के लिए वोट करता हूं। रिज़र्व बैंक द्वारा अलग से घोषित किए जाने वाले कई अन्य तरलता बढ़ाने वाले उपायों के साथ नीतिगत दर में कमी से वित्तीय स्थिति को आसान बनाते हुए वित्तीय स्थिरता जोखिमों को दूर किया जाएगा। मैं दृढ‌ता पूर्वक विकास को पुनर्जीवित करने के लिए और COVID-19 के प्रतिकूल प्रभाव को कम करने के लिए आवश्यक समायोजक रुख के लिये वोट देता हूं जब तक कि मुद्रास्फीति लक्ष्य के भीतर बनी रहे।

डॉ. माइकल देवव्रत पात्र का वक्तव्य

56. कोरोना वायरस का मानव जीवन के साथ एक भयावह तांडव चल रहा है। गंभीर आर्थिक अव्यवस्था है, और बाजार में उथलपुथल हैं। प्रभावित देशों ने वित्तीय और आर्थिक गतिविधियों के संचालन को आसान बनाने और महामारी द्वारा किए गए विनाश को कम करने के लिए व्यापक स्वास्थ्य सेवा सहयोग, स्थिरीकरण और विनियामक उपाय किए हैं। वैश्विक विकास अनुमानों में गिरावट आ रही है और विश्व अर्थव्यवस्था एक गहरी मंदी की ओर बढ़ती दिखाई दे रही है, लेकिन अभी तक हुए नुकसान के पूर्ण प्रभाव अभी भी अज्ञात हैं, विशेष रूप से की गई अपेक्षा कि वायरस का प्रकोप 2020 की पहली तिमाही में नियंत्रित हो जाएगा, गलत सिद्ध हुई है।

57. भारत बंद हो गया है और घेराबंदी की स्थिति बनी हुई है। सामाजिक अलगाव, आपूर्ति में व्यवधान, मांग में संकुचन और बढ़ रही चिंता के साथ कई प्रकार की गतिविधियां ठहर सी गई हैं। अर्थव्यवस्था के लिए दृष्टिकोण अत्यधिक अनिश्चित है और वायरस के प्रभाव पर आने वाले प्रत्येक आंकड़ों के साथ उसमें बदलाव हो रहा है। भारतीय अर्थव्यवस्था की संभावनाएं अब इस बात पर टिकी हुई है कि COVID-19 कितना व्यापक और गंभीर स्वरूप लेता है और यह कितने समय तक बना रहता है।

58. इन चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों में, मौद्रिक नीति को एक महत्वपूर्ण भूमिका निभानी होगी। यद्यपि मौद्रिक नीति को व्यापक आर्थिक और वित्तीय स्थितियों पर COVID -19 के संक्षारक प्रभाव से लड़ना है, उससे आश्वस्त कराना है और उसके भय को कम करना है। इसमें शामिल है लोगों और संस्थानों के लिए वित्तपोषण की शर्तों को आसान बनाना, अर्थव्यवस्था में सभी एजेंटों के लिए वित्त प्रवाह को बनाए रखना, यह सुनिश्चित करना कि बाजार अचल नहीं बने हैं और यह आश्वासन प्रदान करना है कि भारतीय रिज़र्व बैंक COVID-19 के विरुद्ध युद्ध में सबसे आगे है और वायरस से लड़ने और उसका पतन करने के लिए अपने जनादेश के साथ सभी साधनों का उपयोग कर रहा है। हालांकि, यह महत्वपूर्ण है कि COVID-19 एक वैश्विक संकट है और देश के भीतर और दुनिया भर में मौद्रिक नीति के पुनर्विचार से परे कार्रवाई की आवश्यकता है।

59. फरवरी 2020 में मेरे कार्यविवरण में, मैंने कहा था कि "कोरोनावायरस के प्रकोप ने प्रतिक्रिया में नए और अनिश्चित जोखिम दिए हैं, जिससे दुनिया एक विश्वसनीय प्रतिक्रिया के लिए जूझ रही है।" उस समय मेरा भाव यह था कि एमपीसी ने टेस्टिंग ट्रेड-ऑफ (टीटीटी) की एक सुरंग में प्रवेश किया है और सुरंग के अंत में प्रकाश दिखाई देने में कुछ समय लग सकता है। आज, जैसा कि रोग का निदान तीव्रता के साथ परेशान कर रहा है, मेरा मानना है कि एमपीसी को अपने मेंडेट से आगे बढ़ने के लिए कहा जा रहा है। एमपीसी को उस शक्तिशाली निर्णय के साथ रास्ता दिखाना चाहिए जो वह करता आ रहा है। ऐसा करने से, यह रिज़र्व बैंक को युद्ध की भूमिका में और उत्प्रेरित करेगा जो अधिक से अधिक अच्छे कार्य के लिए किया जाना चाहिए। यह इस संदर्भ में है कि एमपीसी के दर निर्णय को विभिन्न परेशान क्षेत्रों तक पहुंचने के लिए महत्वपूर्ण होना चाहिए और उनके वित्तपोषण की बाधाओं को निर्णायक रूप से कम करने के साथ-साथ अर्थव्यवस्था में सकारात्मक घोषणा प्रभाव को प्रसारित करते हुए उदासीनता को हटाना और आत्मविश्वास को जगाना चाहिए।

60. तदनुसार, मैं COVID -19 से लड़ने और विकास को पुनर्जीवित करने के लिए नीतिगत दर में कमी के लिए और जब तक आवश्यक हो, तब तक के लिए एक नीतिगत रुख बनाए रखने के लिए मतदान करता हूं। कमी का आकार क्या होना चाहिए? महंगाई चरम पर है और 2020-21 की दूसरी छमाही में लक्ष्य से काफी नीचे जाने की संभावना है। हालांकि, हम जिस चरम परिदृश्य में हैं, मुद्रास्फीति में कमी जल्दी और तेजी से हो सकती है। एमपीसी को दिए गए प्राथमिक मेंडेट के संदर्भ में, यह आउटलुक मुद्रास्फीति के मौजूदा स्तरों पर परिकलित जोखिम लेने की गुंजाइश प्रदान करता है - जो लक्ष्य से ऊपर है - शासन करता है - और 12 महीने के आगे के पूर्वानुमान पर ध्यान केंद्रित करता है। इस नियम के अनुसार, नीतिगत कार्रवाई के लिए जगह है जो अपने पिछले की तुलना में आकार में बड़ी होती है लेकिन फिर भी एक वर्ष से अधिक क्षितिज पर नीतिगत दर को वास्तविक रूप से सकारात्मक बनाए रखती है ताकि किसी भी सुस्त या अव्यक्त मुद्रास्फीति के दबाव को देखा जासकता है। इस बीच, आउटपुट अंतर बढ़ रहा है और स्थिति विकसित होते ही यह स्पष्ट रूप से नकारात्मक हो सकता है। इन वृहद आर्थिक चुनौतियों को दूर करने के लिए, वित्तीय परिस्थितियों को काफी हद तक कम करें और आत्मविश्वास जगाएँ। मैं 75 आधार अंकों की नीति दर में कटौती के लिए वोट करता हूं। COVID-19 एक वैश्विक खतरा है; सामाजिक दूरी के साथ भी हमारी प्रतिरक्षा सामूहिक और समन्वित होनी चाहिए। सभी हितधारकों में इन परिस्थितियों में डटे रहने और संकट से लड़ने के लिए आंतरिक शक्ति और दृढ़ संकल्प होना चाहिए।

श्री शक्तिकांत दास का वक्तव्य

61. वैश्विक व्यापक आर्थिक स्थिति पिछले एक पखवाड़े में अचानक खराब हो गई है और कई देशों के प्राधिकरण और केंद्रीय बैंकों ने लॉक-डाउन और सामाजिक अलगाव के कारण COVID-19 के समष्टि आर्थिक पतन से निपटने के लिए लक्षित नीति लिखतों की एक विस्तृत श्रृंखला तैयार की है। COVID-19 के प्रकोप ने वैश्विक संवृद्धि के परिप्रेक्ष्य को गंभीरता से लिया है। दुनिया भर में, गतिविधि में एक ठहराव आ गया है। वैश्विक मंदी की संभावना बढ़ रही है, जो वैश्विक वित्तीय संकट के दौरान अनुभव किए जाने वाले से भी अधिक गहन हो सकता है।

62. भारत में भी, निकटवर्ती संवृद्धि संभावनाओं में तेजी से गिरावट आई है: शुरू में COVID-19 के प्रभाव के वैश्विक फैलाव और प्रवर्धन के कारण; इसके बाद, सरकार द्वारा 14 अप्रैल 2020 तक 21 दिनों के देशव्यापी लॉकडाउन की घोषणा करके महामारी को रोकने के लिए आवश्यक प्रयासों के कारण। प्रकोप से पहले, विनिर्माण, रेलवे माल ढुलाई, निर्यात और आयात जैसे कुछ उच्च आवृत्ति संकेतक में जनवरी / फरवरी में कई महीनों के संकुचन/ मंदी के बाद सुधार हुआ था। हालांकि, COVID-19 से उद्योग और सेवा क्षेत्र की गतिविधियों के गंभीर रूप से प्रभावित होने की संभावना है और प्रतिकूल प्रभाव की सीमा COVID-19 की तीव्रता, प्रसार और अवधि पर निर्भर करेगी। एक मात्र आशा की किरण कृषि ही है जो 2019-20 के लिए खाद्यान्न उत्पादन अनुमानतः (दूसरा अग्रिम अनुमान या एसएई) रिकॉर्ड 292 मिलियन टन होगा जो कि 2018-19 के एसएई की तुलना में 3.8 प्रतिशत अधिक है। कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट से आर्थिक गतिविधियों को सहायता मिल सकती है; लेकिन तेल उत्पादक देशों से प्रेषण में गिरावट के रूप में कुछ गिरावट हो सकती है।

63. मुद्रास्फीति के स्तर पर संभावनाओं में भारी बदलाव आया है। फरवरी 2020 में मुद्रास्फीति की दर जनवरी में 7.6 आधार से 100 आधार अंक घटकर 6.6 प्रतिशत हो गई। आगे बढ़ते हुए, COVID-19 और तेल की कीमतों में तेज गिरावट से मुद्रास्फीति के परिणामों में महत्वपूर्ण रूप से वृद्धि होने की संभावना है। खाद्यान्न की कीमतें रिकॉर्ड खाद्यान्न और बागवानी उत्पादन के कारण और कम हो सकती हैं। गर्मी के महीनों में शुरू होने वाली सामान्य अपदस्थता को कम किया जा सकता है यदि मांग की स्थिति सामान्य होने में अधिक समय लगाए । घरेलू सकल मांग के कमजोर होने से मुख्य मुद्रास्फीति को रोकने में मदद मिल सकती है।

64. रिज़र्व बैंक सक्रिय रूप से प्रणाली में चलनिधि का प्रबंधन करता रहा है। फरवरी और मार्च 2020 में अब तक प्रति दिन औसतन 3.0 लाख करोड़ के करीब अधिशेष के रूप में प्रणाली में चलनिधि बनी रही। मौद्रिक प्रसारण को सुविधाजनक बनाने के उद्देश्य से, रिज़र्व बैंक ने 17 फरवरी और 18 मार्च 2020 के बीच एक साल और तीन साल की अवधि के लिए सकल 1.25 लाख करोड़ का पाँच दीर्घावधि रेपो परिचालन (एलटीआरओ) आयोजित किया। वित्तीय स्थितियों को आसान बनाने के लिए, जो कि ट्रेडिंग वॉल्यूम और परिणामी अचलनिधि में भारी गिरावट के कारण दबाव में आ गया था, रिज़र्व बैंक ने सिस्टम में और अधिक चलनिधि उपलब्ध कराने के लिए कई उपाय किए हैं जैसे (i) 16 मार्च और 23 मार्च 2020 को दो 6-माह अमेरिकी डॉलर बिक्री/ खरीद स्वैप नीलामी आयोजित करना जिससे संचयी रूप से 2.71 बिलियन अमेरिकी डॉलर चलनिधि उपलब्ध कराया गया; (ii) 20, 24 और 26 मार्च 2020 को तीन खुले बाजार परिचालन (ओएमओ) खरीद के माध्यम से 40,000 करोड़ उपलब्ध करवाना; (iii) 23 और 24 मार्च 2020 को दो परिष्कृत कार्य परिवर्तनीय दर 16- दिवसीय रेपो के माध्यम से 77,745 करोड़ उपलब्ध करवाना और (iv) 26 मार्च 2020 को 12 दिवसीय परिपक्वता वाली एक परिष्कृत कार्य परिवर्तनीय दर रेपो नीलामी के माध्यम से 11,772 करोड़ उपलब्ध करवाना।

65. COVID-19 महामारी एक अदृश्य हत्यारा है जिसे मूल्यवान मानव जीवन और समष्टि अर्थव्यवस्था पर कहर ढाने से पहले जल्दी से खत्म करने की आवश्यकता है। इस परिस्थिति में, यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि वित्त, जो कि अर्थव्यवस्था की जीवन रेखा है, अर्थव्यवस्था के विभिन्न क्षेत्रों में निर्बाध रूप से प्रवाहित हो रहा है। यह तसल्ली देता है कि भारतीय अर्थव्यवस्था के समष्टि आर्थिक बुनियादी ढांचे सक्षम है, विशेषकर वैश्विक वित्तीय संकट के बाद की स्थितियों के मुकाबले।

66. हम एक असाधारण समय से गुजर रहे हैं और वर्तमान में देश के सामने जो स्थिति है वह अभूतपूर्व है। इसलिए, यह घरेलू अर्थव्यवस्था को महामारी के प्रतिकूल प्रभाव से बचाने के लिए हर संभव प्रयास करने के लिए अनिवार्य हो जाता है। सरकार ने समाज के कमजोर वर्गों की सुरक्षा के लिए कई उपायों की घोषणा की है। रिज़र्व बैंक अर्थव्यवस्था के विभिन्न क्षेत्रों को राहत और वित्तीय निभाव प्रदान करने के लिए लगभग दैनिक आधार पर उपाय कर रहा है। हालाँकि, गतिविधि के सामान्यीकरण का मार्ग अनिश्चितता के बीच भारत की COVID-19 महामारी विज्ञान वक्र कैसे विकसित होता है, इस पर निर्भर है। वृद्धि आवेगों में आयात सहित सुस्त समग्र मांग और श्रम तथा प्रमुख इनपुट की आपूर्ति में व्यवधान के कारण प्रतिकूलता का सामना करना पड़ता है। उपभोक्ता विश्वास और निवेश की भावना का क्षरण, एक प्रतिकूल प्रतिक्रिया लूप में काम कर सकता है और आगे भी विकास के संभावनाओं को खराब कर सकता है। इस उभरते हुए परिदृश्य में, मौद्रिक नीति को समग्र मांग में किसी भी गिरावट को सक्रिय रूप से देखने की आवश्यकता है। इस प्रकार जब भी आर्थिक गतिविधि को फिर से शुरू करने के लिए स्थिति अनुकूल हो जाए तब व्यवसायों के लिए उत्पादन और आपूर्ति श्रृंखला को सामान्य बनाने के लिए सक्षम करने की स्थिति उत्पन्न होती है। COVID-19 के प्रभाव में मांग में गिरावट के विघटनकारी प्रभावों के मद्देनजर नीतिगत कार्रवाई के लिए समय आ गया है। अस्थायी आपूर्ति श्रृंखला के अवरोधों और मूल्य निर्धारण शक्ति के अवसरवादी उपयोग की गुंजाइश के बावजूद, कमजोर समग्र मांग आउटलुक और कम कच्चे तेल की कीमतों में मुद्रास्फीति संबंधी जोखिम को मजबूती से रखना चाहिए। तदनुसार, विकास आउटलुक के जोखिमों को कम करना और वित्तीय स्थिरता को संरक्षित करने को सर्वोच्च प्राथमिकता दी जानी चाहिए। इन सभी पहलुओं को ध्यान में रखते हुए, मैं 75 आधार अंक से पॉलिसी रेपो दर को कम करने और विकास को पुनर्जीवित करने के लिए जब तक आवश्यक हो निभावकारी रुख को बनाए रखने और अर्थव्यवस्था पर COVID-19 के प्रभाव को कम करने के लिए वोट करता हूं, जबकि यह सुनिश्चित करते हुए कि मुद्रास्फीति लक्ष्य के भीतर बनी रहे। आज विकास और विनियामक नीतियों के एक हिस्से के रूप में घोषित किए जाने वाले कई अन्य विनियामक और चलनिधि उपायों के साथ-साथ दर में पर्याप्त कटौती, COVID-19 के पूर्व-आर्थिक रूप से गिरावट से निपटने के लिए रिज़र्व बैंक के प्रथम संकल्प को व्यक्त करती है। COVID-19 के प्रभाव को कम करने, विकास को पुनर्जीवित करने और वित्तीय स्थिरता को बनाए रखने के लिए रिज़र्व बैंक सतर्क रहेगा और किसी भी साधन - पारंपरिक और अपारंपरिक - का उपयोग करने में संकोच नहीं करेगा।

(योगेश दयाल) 
मुख्य महाप्रबंधक

प्रेस प्रकाशनी: 2019-2020/2207


2020
2019
2018
2017
2016
2015
2014
2013
2012
पुरालेख
Server 214
शीर्ष