प्रेस प्रकाशनी

रिज़र्व बैंक - समसामयिक शोध-पत्र – खंड 40, 2019 का प्रकाशन

17 मार्च 2020

रिज़र्व बैंक - समसामयिक शोध-पत्र – खंड 40, 2019 का प्रकाशन

आज, भारतीय रिज़र्व बैंक ने अपने कर्मचारियों के योगदान से अपना समसामयिक शोध-पत्र – खंड 40, 2019 प्रकाशित किया। इस शोध-पत्र में तीन लेख और दो पुस्तक समीक्षाएं हैं।

लेख:

1. राजकोषीय नियम और राजकोषीय नीति की चक्रीयता: भारतीय राज्यों से प्रमाण

दीर्घायू केशव राउत और स्वाति राजू ने 1990 से 2018 की अवधि के आकड़ों का उपयोग करते हुए भारतीय राज्यों की राजकोषीय नीति की चक्रीयता पर राजकोषीय नियमों के प्रभाव की जांच की है। परिणामों से पता चलता है कि राजकोषीय नियमों ने विशेष रूप से एफआरएल अवधि के बाद विकासशील खर्च के रूप में राजकोषीय नीति की चक्रीयता समर्थकता को कम कर दिया है। राजकोषीय घाटे ने भी पूर्व एफआरएल अवधि में चक्रीयता समर्थकता से अपनी प्रकृति को एफआरएल अवधि के बाद चक्रीयता में बदल दिया है। पूँजी परिव्यय ने एफआरएल पूर्व और पश्चात दोनों अवधियों में चक्रीय व्यवहार प्रदर्शित किया है।

2. भारत में नवोन्मेषी भुगतान प्रणालियाँ और मुद्रा की मांग: प्रयुक्त कुछ दृष्टिकोण

दीपक आर. चौधरी, शरत धल और सोनाली एम. अडकी ने आय प्रभाव द्वारा संचालित लेन-देन के उद्देश्यों के लिए मुद्रा की मांग और मुद्रा के वेग के माध्यम से काम करने वाली भुगतान प्रौद्योगिकी से प्रेरित प्रतिस्थापन प्रभाव को रेखांकित किया है। भारत में भुगतान प्रणालियों में नवोन्मेषो ने मुद्रा की मांग के साथ सांख्यिकीय रूप से महत्वपूर्ण दीर्घकालिक विपरीत संबंध दिखाया है। हालांकि, इसके गुणांक का परिमाण संकेत करता है कि मुद्रा की मांग पर भुगतान प्रणालियों का प्रतिस्थापन प्रभाव प्रमुख आय प्रभाव से कम है।

3. क्या वित्तीय बाजार बैंकिंग संकट की भविष्यवाणी कर सकते हैं? भारत से प्रमाण

स्नेहल एस. हेरवाडकर और भानु प्रताप परीक्षण करते हैं कि क्या इक्विटी बाजार पर्यवेक्षकों के लिए त्रैमासिक आकड़ें उपलब्ध होने से पहले बैंकिंग प्रणाली में तनाव के बारे में कोई प्रमुख जानकारी प्रदान करते हैं। लेखकों का मानना ​​है कि बाजार समवर्ती रूप से बैंकिंग तनाव का मूल्य निर्धारित करने में सक्षम हैं, लेकिन अग्रिम रूप से नहीं। जैसा कि पर्यवेक्षी डेटा एक अंतराल के बाद उपलब्ध होता है, बैंकिंग संकट को ट्रैक करने के लिए बाजार आधारित जानकारी को निगमित करना उचित है। दिलचस्प बात यह है कि निष्कर्ष बताते हैं कि निजी क्षेत्र के बैंकों की तुलना में सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के मामले में इस तरह की प्रमुख जानकारी प्रदान करने में बाजार अपेक्षाकृत कम कुशल हैं।

पुस्तक समीक्षाएं:

रिज़र्व बैंक के समसामयिक शोध-पत्र के इस अंक में दो पुस्तक समीक्षाएं भी शामिल हैं-

1. पलक गोदरा ने रॉबर्ट जे. शिलर द्वारा लिखित पुस्तक "नैरेटिव इकोनॉमिक्स: हाउ स्टोरीज गो वायरल एंड ड्राइव मेजर इकोनॉमिक इवेंट्स" की समीक्षा की है। पुस्तक एजेंटों के आर्थिक व्यवहार में लोकप्रिय ‘आख्यानों’ की भूमिका और वास्तविक दुनिया के लिए उनके निहितार्थ की व्याख्या करती है। इस तरह के ‘आख्यानों ’से प्रेरित आर्थिक एजेंटों के सामूहिक निर्णयों से अक्सर समग्र स्तर पर तर्कहीन व्यवहार होता है, जो आगे चलकर आर्थिक मंदी या उछाल का कारण बन सकता है।

2. दीपिका रावत ने लारेंस सीडमैन द्वारा लिखी गई पुस्तक, "मंदी का मुकाबला कैसे करें: कर्ज के बिना प्रोत्साहन" की समीक्षा की है। वैश्विक संदर्भ में आर्थिक मंदी के बारे में बढ़ती चिंता के साथ, पुस्तक एक नया विचार प्रदान करती है जिसके तहत सरकार अपने ऋण में वृद्धि के बिना एक बड़े राजकोषीय प्रोत्साहन का कार्य कर सकती है। लेखि‍का बांड जारी करने के आधार पर पारंपरिक के बजाय केंद्रीय बैंक से अंतरित आधार पर राजकोषीय प्रोत्साहन की वकालत करती है। वह बताती हैं कि मुद्रास्फीति पर अधिक दबाव और सरकारी ऋण में वृद्धि के बिना मंदी को संबोधित करने के लिए इस प्रकार की उत्तेजना प्रभावी हो सकती है।

अजीत प्रसाद
निदेशक  

प्रेस प्रकाशनी: 2019-2020/2078


2020
2019
2018
2017
2016
2015
2014
2013
2012
पुरालेख
Server 214
शीर्ष