प्रेस प्रकाशनी

मार्च 2020 के लिए मासिक बुलेटिन

11 मार्च 2020

मार्च 2020 के लिए मासिक बुलेटिन

भारतीय रिजर्व बैंक ने आज अपने मासिक बुलेटिन के मार्च 2020 के अंक को जारी किया। बुलेटिन में दो भाषण, दो लेख और वर्तमान सांख्यिकी शामिल हैं।

ये दो लेख हैं: I. भारत में खाद्य प्रसंस्करण उद्योग: चुनौतियां और संभावना; II. भारत में मौद्रिक नीति संचरण- हालिया रुझान और अवरोध।

I. भारत में खाद्य प्रसंस्करण उद्योग: चुनौतियां और संभावना

यह लेख क्षेत्र की प्रमुख विशेषताओं को उजागर करता है, इसकी क्षमता को चिह्नित करता है और मध्यम समय में इसके उच्च विकास की गुंजाइश की जांच करता है।

मुख्य बातें:

  • भारत दुनिया में कई कृषि / खाद्य पदार्थों का एक प्रमुख उत्पादक है लेकिन इसका केवल 10 प्रतिशत से भी कम हिस्सा प्रसंस्कृत होता है।

  • उद्योग समूहों के बीच खाद्य प्रसंस्करण उद्योग उच्चतम रोजगार प्रदाता के रूप में उभरा है। तथापि, विनिर्माण और कुल सकल वर्धित मूल्य में इसकी हिस्सेदारी अर्थव्यवस्था के अन्य क्षेत्रों की तुलना में धीमी वृद्धि को दर्शाती है।

  • प्रसंस्कृत खाद्य के कुल 17 उप-समूहों में से भारत ने 5 उत्पादों में तुलनात्मक लाभ को प्रकट किया है, जिसमें अनाज मिल के उत्पादों का उच्चतम स्कोर है।

  • अनुभवजन्य विश्लेषण से पता चला कि खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र के पूंजीगत व्यय में क्रेडिट का सकल उत्पादन और संवृद्धि के साथ सकारात्मक संबंध है।

  • आने वाले वर्षों में समृद्ध शहरी और युवा आबादी के साथ प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों की मांग में वृद्धि होना तय है।

II. भारत में मौद्रिक नीति संचरण- हालिया रुझान और अवरोध

यह लेख भारत में वित्तीय प्रणाली के विभिन्न खंडों में मौद्रिक नीति संचरण की जाँच करता है, जिसमें फरवरी 2019 के बाद से वर्तमान सहजता चक्र के दौरान बैंकों के जमा और उधार ब्याज दरों के प्रसारण पर विशेष जोर दिया गया है।

मुख्य बातें:

  • जबकि मुद्रा और बॉण्ड बाजारों में संचरण तेज और लगभग पूरा हो चुका है, बैंकों के जमा और ऋण की ब्याज दरों को प्रसारित करने में देरी हुई है और यह आंशिक है।

  • बैंकों की उधार दरों में त्वरित और पर्याप्त प्रसारण को बाधित करने वाले कारकों में स्थिर ब्याज दरों पर सावधि जमा की दीर्घावधि परिपक्वता प्रोफ़ाइल, बचत जमा ब्याज दरों में दृढ़ता, एमसीएलआर प्रणाली के तहत पुनर्निर्धारित ब्याज दर की अपेक्षाकृत लंबी आवधिकता, छोटी बचत और बैंकों के गैर-निष्पादित परिसंपत्तियों के उच्च स्तर पर ब्याज की प्रशासित दरों की दृढ़ता शामिल है।

  • क्षेत्र के संबंध में संचरण में सुधार के शुरुआती संकेत हैं – व्यक्तिगत ऋण और सूक्ष्म और लघु उद्यमों को ऋण- जहां नए अस्थिर दर वाले ऋणों को एक बाह्य बेंचमार्क से जोड़ा गया है जो 1 अक्टूबर 2019 से प्रभावी है। पुनर्निर्धारित ब्याज दर की तिमाही आवधिकता बाह्य बेंचमार्क से जुड़े बकाया ऋणों के प्रसारण में सुधार लाएगा ।

अजीत प्रसाद
निदेशक  

प्रेस प्रकाशनी: 2019-2020/2046


2020
2019
2018
2017
2016
2015
2014
2013
2012
पुरालेख
Server 214
शीर्ष