प्रेस प्रकाशनी

रिज़र्व बैंक ने 28 जून 2019 को अपने 13 वें सांख्यिकी दिवस सम्मेलन में अतीत का जश्न मनाते हुए भविष्य की ओर ध्यान दिया

28 जून 2019

रिज़र्व बैंक ने 28 जून 2019 को अपने 13 वें सांख्यिकी दिवस सम्मेलन
में अतीत का जश्न मनाते हुए भविष्य की ओर ध्यान दिया

आज, भारतीय रिज़र्व बैंक ने (स्वर्गीय) प्रोफेसर प्रसान्ता चन्द्र महालनोबिस की जयंती के उपलक्ष्य में भारत सरकार द्वारा 'सांख्यिकी दिवस' के रूप में निर्दिष्ट 29 जून के अवसर पर ‘भविष्य के लिए सांख्यिकी – चयनित मुद्दे ' थीम पर आधारित अपना 13 वां वार्षिक सम्मेलन आयोजित किया।

श्री शक्तिकांत दास, गवर्नर ने अपने उद्घाटन भाषण में सांख्यिकी और पेशेवर के रूप में सांख्यिकीविदों द्वारा सामना किए जाने वाली कुछ हालिया चुनौतियों को संबोधित किया। इस पृष्ठभूमि में, उन्होंने रिज़र्व बैंक के लिए एक दृष्टिकोण प्रस्तुत किया जो सांख्यिकीय जांच की सीमाओं को वृद्धिंगत करने संबंधी हाल ही में किए गए प्रयासों पर आधारित था ।

अपने प्रमुख वक्तव्य में, प्रोफेसर टी.सी.ए. अनंत, सदस्य, संघ लोक सेवा आयोग और भारत के भूतपूर्व मुख्य सांख्यिकीविद्, ने संयुक्त राष्ट्र में 2015 में विश्व नेताओं द्वारा अपनाए गए धारणीय विकास लक्ष्यों के संदर्भ में सांख्यिकीविदों के सम्मुख चुनौतियों पर प्रकाश डाला। डॉ. टी. जे. राव, भूतपूर्व प्रोफेसर, भारतीय सांख्यिकीय संस्थान,जिन्हें 2015-16 के लिए सांख्यिकी में राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त हुआ, ने स्वर्गीय प्रोफेसर महालनोबिस द्वारा किए गए अनेक बहुमूल्य कार्यों का एक शानदार विहागावलोकन प्रस्तुत किया, जिसमें नवीन स्वतंत्र भारत द्वारा सामना किए जाने वाली समस्याओं का समाधान करने के लिए प्रोफेसर महालनोबिस द्वारा नियोजित नमूना सर्वेक्षणों, श्रेष्ठ पद्धति और सर्वेक्षण डिजाइनों पर ध्यान केंद्रित किया गया। प्रोफेसर श्रीकांत अय्यर, भारतीय विज्ञान संस्थान, बेंगलुरु ने रेंडम कनेक्शन मॉडल पर विस्तार से बताया, जो दिलचस्प व्यावहारिक प्रयोगों द्वारा आयामों को कम करने, जानकारी इकठ्ठा करने और विश्लेषण संबंधी बड़े डेटा में कुशल एल्गोरिदम को डिजाइन करने में मदद करते हैं।

रिजर्व बैंक के अधिकारियों द्वारा आवास क्षेत्र में घर की कीमतों और मूल्यवर्धन, अनिश्चितता की माप, भारतीय विनिर्माण क्षेत्र में निवेश और मुद्रास्फीति पर प्रस्तुत शोध पत्रों पर बाह्य विशेषज्ञों- डॉ. सुब्रत सरकार, डॉ. डी.वी.एस. शास्त्री, श्री डी.के. जोशी और डॉ. बोर्नाली भंडारी द्वारा चर्चा की गई ।

‘डेटा इंजीनियरिंग और डेटा साइंस फॉर डिसीजन सपोर्ट’ पर अपनी सम्मेलन पूर्व विशेष वार्ता में, भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, बॉम्बे के प्रोफेसर जी शिवकुमार ने डेटा साइंस में किए गए महत्वपूर्ण विकास और फील्ड के स्पेक्ट्रम पर किए गए उनके अनुप्रयोगों के संबंध में चर्चा की ताकि निर्णयन में सहायता प्रदान की जा सके।

योगेश दयाल
मुख्य महाप्रबंधक

प्रेस प्रकाशनी: 2018-2019/3092


2019
2018
2017
2016
2015
2014
2013
2012
पुरालेख
Server 214
शीर्ष