प्रेस प्रकाशनी

विकासात्‍मक और विनियामक नीतियों पर वक्तव्य

5 अक्टूबर 2018

विकासात्‍मक और विनियामक नीतियों पर वक्तव्य

यह वक्तव्य वित्तीय बाजारों के विकास और मजबूती के लिए विभिन्न विकासात्‍मक और विनियामक नीति उपायों को निर्धारित करता है।

1. विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) द्वारा निवेश के लिए स्वैच्छिक प्रतिधारण मार्ग (वीआरआर)

ऋण में एफपीआई निवेश के लिए विनियामक ढांचा वर्षों से विकसित हो रहा है, जो पूंजीगत प्रवाह में बढ़ते समझौताकारी समन्‍वयन और अनुवर्ती समष्टि-विवेकपूर्ण प्रतिफलों से प्रभावित है। ऋण में एफपीआई निवेश की सुविधा के लिए हाल के दिनों में कई उपाय किए गए हैं। लंबी अवधि के निवेश करने के इच्छुक एफपीआई को प्रोत्साहित करने के लिए, 'स्वैच्छिक प्रतिधारण मार्ग' (वीआरआर) नामक एक विशेष मार्ग का प्रस्ताव किया जा रहा है। प्रस्तावित मार्ग के तहत, एफपीआई के पास साधन विकल्पों और साथ ही विनियामक प्रावधानों से छूट के संदर्भ में अधिक परिचालनात्‍मक लचीलापन होगा जैसे कि अल्पकालिक निवेश (एक वर्ष से भी कम) पर पोर्टफोलियो आकार के 20% तक कैप, संकेंद्रण सीमा और एक कॉर्पोरेट समूह के लिए ऋणग्रस्‍तता सीमाएं (पोर्टफोलियो आकार का 20% और एकल मुद्दे का 50%)। इस मार्ग के तहत निवेश करने के लिए पात्र होने के लिए, एफपीआई को स्वेच्छा से भारत में अपनी पसंद की अवधि के लिए अपने निवेश का न्यूनतम आवश्यक प्रतिशत बनाए रखने की प्रतिबद्धता होगी।एफपीआई नीलामी प्रक्रिया के माध्यम से मार्ग के तहत निवेश सीमा के लिए आवेदन करेगा। इस मार्ग पर सार्वजनिक परामर्श के लिए एक चर्चा पत्र आज रिज़र्व बैंक की वेबसाइट पर रखा जाएगा।

2. वित्तीय बेंचमार्क का विनियमन

वित्तीय मानकों की मजबूती और विश्वसनीयता कुशल मूल्य निर्धारण और वित्तीय साधनों के मूल्यांकन के लिए महत्वपूर्ण हैं। बेंचमार्क की विश्वसनीयता सुनिश्चित करने से उसके व्यापक रूप से अंगीकरण को बढ़ावा मिलता है, जो बदले में वित्तीय प्रणाली में मूल्य संकेतों के प्रभावी संचरण की सुविधा प्रदान करता है। लंदन अंतर-बैंक प्रस्तावि‍त दर (एलआईबीओआर) निर्धारण के आसपास के विवाद के बाद, अंतरराष्ट्रीय प्रति‍भूति आयोग संगठन (आईओएससीओ) के अंतर्राष्ट्रीय संगठन ने वित्तीय मानक के सिद्धांतों को निर्धारित किया जो वित्तीय बाजारों में मजबूत और विश्वसनीय बेंचमार्क सुनिश्चित करने के लिए अति महत्‍वपूर्ण ढांचा प्रदान करते हैं। विभिन्‍न क्षेत्राधिकारों से कई विनियामक इन सिद्धांतों के आधार पर वित्तीय मानकों के लिए विनियमों के लिए आगे आ रहे हैं।

भारत में, वित्तीय बेंचमार्क पर समिति की रिपोर्ट ने अन्य बातों के साथ, बेंचमार्क प्रशासकों की विनियामक निगरानी की सिफारिश की थी। तदनुसार, बेंचमार्क प्रक्रियाओं के अभिशासन को बेहतर बनाने के लिए, वित्तीय बेंचमार्क का एक नियामक ढांचा पेश करने का प्रस्ताव है जो प्रारंभ में, भारतीय वित्तीय बेंचमार्क लि.(एफबीआईएल) द्वारा जारी बेंचमार्क के लिए लागू होगा। ड्राफ्ट विनियमावली अक्टूबर 2018 के अंत तक जारी की जाएगी।

जोस जे. कट्टूर
मुख्य महाप्रबंधक

प्रेस प्रकाशनी: 2018-2019/796


2019
2018
2017
2016
2015
2014
2013
2012
पुरालेख
Server 214
शीर्ष