प्रेस प्रकाशनी

भारतीय रिज़र्व बैंक ने वृद्धिशील सीआरआर वापस लिया

07 दिसंबर 2016

भारतीय रिज़र्व बैंक ने वृद्धिशील सीआरआर वापस लिया

26 नवंबर 2016 को रिज़र्व बैंक ने अनुसूचित बैंकों में 16 सितंबर 2016 और 11 नवंबर 2016 के बीच उनकी निवल मांग और समय देयताओं (एनडीटीएल) में वृद्धि के 100 प्रतिशत वृद्धिशील नकदी आरक्षित निधि अनुपात की घोषणा की थी जो 26 नवंबर 2016 को शुरू हुए पखवाड़े से प्रभावी थी। इसे 500 और 1000 के बैंक नोटों की वैध मुद्रा विशेषता के वापस लेने के कारण प्रणाली में चलनिधि की बड़ी वृद्धि के एक हिस्से को कम करने के लिए किया गया था। यह भी संकेत दिया गया था कि वृद्धिशील सीआरआर पूरी तरह से एक अस्थायी उपाय है और इसकी समीक्षा 9 दिसंबर 2016 या इससे पहले की जाएगी।

बाजार स्थिरीकरण योजना (एमएसएस) के अंतर्गत प्रतिभूतियां जारी करने की उच्चतम सीमा 6,000 बिलियन तक बढ़ाने के साथ, यह निर्णय लिया गया है कि 10 दिसंबर 2016 से शुरू होने वाले पखवाड़े से वृद्धिशील सीआरआर को वापस लिया जाए। वृद्धिशील सीआरआर बंद करने से मुक्त हुई चलनिधि को एमएसएस निर्गमों और चलनिधि समायोजन सुविधा (एलएएफ) परिचालनों के मिश्रण से कम किया जाएगा।

अल्पना किल्लावाला
प्रधान परामर्शदाता

प्रेस प्रकाशनी : 2016-2017/1443


2019
2018
2017
2016
2015
2014
2013
2012
पुरालेख
Server 214
शीर्ष