प्रेस प्रकाशनी

मौद्रिक नीति समिति की 3-4 अक्टूबर 2016 को आयोजित बैठक के कार्यवृत्त

18 अक्टूबर 2016

मौद्रिक नीति समिति की 3-4 अक्टूबर 2016 को आयोजित बैठक के कार्यवृत्त
[आरबीआई अधिनियम, 1934 की धारा 45जेडएल के अंतर्गत]

भारतीय रिज़र्व बैंक अधिनियम, 1934 की धारा 45जेडबी के अंतर्गत गठित मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की पहली बैठक 3 और 4 अक्टूबर 2016 को भारतीय रिज़र्व बैंक, मुंबई में आयोजित की गई।

2. बैठक में सभी सदस्य उपस्थित रहे जैसे डॉ. चेतन घाटे, प्रोफेसर, भारतीय सांख्यिकी संस्थान; डॉ. पामी दुआ, निदेशक, दिल्ली स्कूल ऑफ इकॉनोमिक्स; और डॉ. रविन्द्र एच. ढोलकिया, प्रोफेसर, भारतीय प्रबंधन संस्थान, अहमदाबाद; डॉ. माइकल देबब्रत पात्र, कार्यपालक निदेशक (संशोधित अधिनियम की धारा 45जेडबी(2)(ग) के अंतर्गत केंद्रीय बोर्ड द्वारा नामित बैंक का अधिकारी) ; श्री आर. गांधी, उप गवर्नर, प्रभारी, मौद्रिक नीति तथा इसकी अध्यक्षता डॉ. उर्जित आर. पटेल, गवर्नर द्वारा की गई।

3. संशोधित भारतीय रिज़र्व बैंक अधिनियम, 1934 की धारा 45जेडएल के अनुसार, रिज़र्व बैंक मौद्रिक नीति समिति की प्रत्येक बैठक के बाद चौदहवें दिन इस बैठक की कार्यवाहियों के कार्यवृत्त प्रकाशित करेगा, इस बैठक की कार्यवाही में निम्नलिखित शामिल होगा :—

(क) मौद्रिक नीति समिति की बैठक में अपनाया गया संकल्प;

(ख) मौद्रिक नीति समिति के प्रत्येक सदस्य को उपर्युक्त समिति में अपनाए गए संकल्पों पर प्रदत्त वोट; और

(ग) उपर्युक्त बैठक में अपनाए गए संकल्प पर धारा 45जेडआई की उप धारा (11) के अंतर्गत मौद्रिक नीति समिति के प्रत्येक सदस्य का विवरण।

4. मौद्रिक नीति समिति ने उपभोक्ता विश्वास, परिवार मुद्रास्फीति प्रत्याशाओं, कॉर्पोरेट क्षेत्र के कार्यनिष्पादन, क्रेडिट की स्थिति, औद्योगिक सेवा और इंफ्रास्ट्रक्चर की संभावना, उद्योग संघों के फीडबैक तथा व्यावसायिक पूर्वानुमानकर्ताओं के अनुमानों के आकलन के लिए रिज़र्व बैंक द्वारा कराए गए सर्वेक्षणों की समीक्षा की। समिति ने स्टाफ के समष्टि आर्थिक अनुमानों, संभावना के लिए विभिन्न जोखिमों के ईर्द-गिर्द वैकल्पिक परिदृश्यों और स्टाफ के तिमाही अनुमान मॉडल की व्यापक समीक्षा की। उपर्युक्त पर ध्यान खींचते हुए और मौद्रिक नीति के रुख पर विस्तारपूर्वक चर्चाओं के बाद, मौद्रिक नीति समीक्षा ने संकल्प अपनाया जो नीचे दिया गया है।

संकल्प

5. वर्तमान और उभरती समष्टि आर्थिक स्थिति के आकलन के आधार पर मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) ने आज अपनी बैठक में निर्णय लिया है कि:

• चलनिधि समायोजन सुविधा के अंतर्गत नीतिगत रेपो दर को तत्काल प्रभाव से 6.5 प्रतिशत से 25 आधार अंक कम करके 6.25 कर दिया जाए।

6. परिणामस्वरूप, चलनिधि समायोजन सुविधा (एलएएफ) के अंतर्गत प्रतिवर्ती रेपो दर 5.75 और सीमांत स्थायी सुविधा (एमएसएफ) दर तथा बैंक दर 6.75 पर समायोजित हो जाएंगी।

7. एमपीसी का निर्णय मौद्रिक नीति के उदार रुख के अनुरूप है जिसका उद्देश्य वृद्धि को सहायता प्रदान करते हुए वर्ष 2016-17 की चौथी तिमाही में 5 प्रतिशत के उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) मुद्रास्फीति और +/- 2 के बैंड के अंदर 4 प्रतिशत के मध्यावधि लक्ष्य को हासिल करना है। निर्णय को रेखांकित करने वाले मुख्य विचार नीचे वक्तव्य में दिए गए हैं।

आकलन

8. वैश्विक वृद्धि वर्ष 2016 में अब तक प्रत्याशा की अपेक्षा धीमी रही है जिसमें निवेश और व्यापार कमजोर रहा जो समग्र मांग को उत्साहसीन कर रहा है। इसी बीच, ब्रेग्जिट के रूप में जोखिम, यूरोप में बैंकिंग तनाव, चीन में ऋण समर्थित वृद्धि का पुनःसंतुलन, मौद्रिक नीति में उभरती रक्षा भावना और कम होते विश्वास ने संभावना कम कर दी है। विश्व व्यापार की मात्रा वर्ष 2016 की पहली छमाही में प्रत्याशा की अपेक्षा तेजी से घटी है और उभरती बाजार अर्थव्यवस्थाओं से उन्नत अर्थव्यवस्थाओं द्वारा आयात में हाल की कमी से संभावना बदतर हो गई है। मुद्रास्फीति उन्नत अर्थव्यवस्थाओं में नियंत्रित रही और उभरती बाजार अर्थव्यवस्थाओं में कम होना शुरू हो गई है।

9. अंतरराष्ट्रीय वित्तीय बाजारों पर दूसरी तिमाही में हुए ब्रेग्जिट का बहुत अधिक प्रभाव पड़ा जिसमें इक्विटी बाजारों का विश्वस्तर पर मूल्यनिर्धारण कम हुआ, मुद्राओं में मूल्यह्रास हुआ और वे अस्थिर हो गईं तथा निवेशक सुरक्षित आश्रय की ओर भागने लगे। तथापि, बाजारों में तेजी से सुधार आया और तीसरी तिमाही में खोया हुआ आधार पुनः प्राप्त किया गया जिसमें जोखिम उठाने की क्षमता से फिर से उभरती बाजार अर्थव्यवस्थाओं में पूंजी प्रवाह हुआ। तथापि, प्रणालीगत केंद्रीय बैंकों की मौद्रिक नीति के रुख के बारे में अनिश्चितता पर बेचैनी भरी शांति बनी हुई है। पण्य-वस्तुओं की कीमतें थोड़ी बढ़ गई हैं, जिससे पण्य-वस्तु निर्यातकों के लिए दबाव कम हो रहा है और आयातकों को होने वाले व्यापार लाभों में कुछ कमी आ रही है। वर्ष 2016 की दूसरी तिमाही में कच्चे तेल की कीमते शीर्ष पर थी जिसका मुख्य कारण विश्व के विभिन्न भागों में आपूर्ति व्यवधान था और फिर सितंबर के उत्तरार्ध में भी ऐसा हुआ क्योंकि ओपेक ने आपूर्ति को दुबारा से कम करने का अपना इरादा घोषित किया किंतु उच्चतर इन्वेंटरी द्वारा इस वृद्धि को काबू किया जा सका।

10. घरेलू मोर्चे पर कृषि कार्यकलापों की संभावना काफी उज्ज्वल है। दक्षिण पश्चिम मानसून दीर्घावधि औसत से मात्र 3 प्रतिशत संचित घाटे के साथ समाप्त हो गया। देश को भौगोलिक क्षेत्र में 85 प्रतिशत बारिश हुई जिसमें सामान्य से लेकर अधिक बारिश देखी गई। कपास, गन्ने और पटसन तथा मेस्ता को छोड़कर खरीफ की बुआई पिछले वर्ष के रकबे से अधिक हुई। तदनुसार, वर्ष 2016-16 के लिए कृषि मंत्रालय द्वारा दिए गए खरीफ खाद्यान्न उत्पादन के पहले अग्रिम अनुमान रिकार्ड स्तर पर हैं और वर्ष के लिए निर्धारित लक्ष्यों से अधिक हैं। इसके विपरीत, औद्योगिक क्षेत्र में पहली तिमाही में सकल मूल्यवर्धित आय में परिणामी गिरावट क बाद वित्तवर्ष की दूसरी तिमाही में विनिर्माण प्रेरित मंदी देखी गई। इंसुलेटिड रबड़ केबलों के ढेलेदार और आदेश-प्रेरित कमी के सांख्यिकीय प्रभावों को कम करने के बाद भी औद्योगिक उत्पादन सूचकांक (आईआईपी) द्वारा मापित औद्योगिक उत्पादन पिछले वर्ष की तुलना में धीमा रहा। अगस्त में, इस्पात उत्पादन 37 महीनों के उच्चतर स्तर पर पहुंच गया और सीमेंट उत्पादन ने गति पकड़े रखी जो निर्माण गतिविधि की पूर्व सूचना देता है, हालांकि कोयला, कच्चे तेल और प्राकृतिक गैस और रिफाइनरी उत्पादों तथा विद्युत उत्पादन में कमी के कारण मुख्य उद्योगों का आउटपुट कम रहा। फिर भी, रिज़र्व बैंक और अन्य एजेंसियों द्वारा किए गए औद्योगिक संभावना सर्वेक्षण में देखी गई कारोबारी प्रत्याशाएं दूसरी और तीसरी तिमाही में विस्तारवादी रहीं। सड़कों, रेलवे और आंतरिक जलमार्गों में मजबूत सार्वजनिक निवेश, मध्यस्थता वाली बड़ी परियोजनाओं में नकदी प्रवाह मुक्त करने के हाल के प्रयासों और 7वें वेतन आयोग से व्यय बढ़ने से औद्योगिक दृष्टिकोण में सुधार होना चाहिए। सेवा क्षेत्र में पहली तिमाही में कार्यकलापों की गति में वृद्धि संधारणीय प्रतीत हुई। उच्च बारंबारता सूचकों की बढ़ती संख्या सकारात्मक क्षेत्र में जा रही है, नीतिगत प्रयासों से निर्माण में प्रोत्साहन मिल रहा है और सार्वजनिक प्रशासन, रक्षा और अन्य सेवाओं को वेतन आयोग अवार्ड से सहायता मिलेगी।

11. हेडलाइन सीपीआई द्वारा मापी गई खुदरा मुद्रास्फीति अप्रैल-जुलाई के दौरान खाद्य मुद्रास्फीति की गति में भारी अनुकूल आधार के कारण तेजी से ऊंचाई की ओर बढ़ गई थी। तथापि, अगस्त में खाद्य मुद्रास्फीति की गति नकारात्मक हो गई और उम्मीदों को हैरान कर दिया; फलस्वरूप उस महीने में आधार प्रभाव पूरा हुआ और हेडलाइन मुद्रास्फीति को एक इंट्रा-साल में नीचे की ओर ले आया था। अब तक ईंधन मुद्रास्फीति इस साल में बराबर रूप से नरम बनी रही। खाद्य और ईंधन (पेट्रोल और डीजल की ढुलाई में एम्बेडेड सहित) को छोड़कर मुद्रास्फीति लगभग 5 फीसदी पर टिकी रही, मुख्य रूप से शिक्षा, चिकित्सा और व्यक्तिगत देखभाल सेवाओं के संबंध में। अपनाई गई खाद्य मुद्रास्फीति की हाल की सख्ती से ने प्रतिक्रिया व्यक्त की और रिज़र्व बैंक के परिवारों का मुद्रास्फीति प्रत्याशा सर्वेक्षण के सितंबर 2016 दौर में परिवारों के मुद्रास्फीति प्रत्याशा को उठाया। विनिर्माण क्षेत्र में इनपुट लागत, कर्मचारियों की लागत सहित, में विभिन्न सर्वेक्षणों में दिखाएं अनुसार थोड़ी मजबूती आई है, लेकिन काफी सुस्ती की उपस्थिति ने कॉर्पोरेट मूल्य निर्धारण शक्ति में उनके प्रसारण को रोक दिया है।

12. तीसरी तिमाही में चलनिधि की स्थिति संतोषजनक बनी रही, जो अलग-अलग अवधि के परिवर्तनीय दर प्रतिवर्ती रेपो नीलामी के माध्यम से निवल आधार पर रिजर्व बैंक की अवशोषित चलनिधि के कारण बनी रही। सिस्टम की जरूरतों के मुताबिक 200 बिलियन की चलनिधि खुले बाजार खरीद के माध्यम से इंजेक्ट की गई थी। फलस्वरूप, भारित औसत कॉल मनी दर (डब्ल्यूएसीआर) नीति रेपो दर के साथ कसकर बंधा रहा, और वास्तव में, एक नरम रुख के साथ कारोबार किया। वाणिज्यिक पत्र (सीपी) और जमा प्रमाण पत्र (सीडी) पर ब्याज दरों में भी ढील बनी रही।

13. बाहरी क्षेत्र में, दूसरी तिमाही में पहले दो महीनों में माल का निर्यात संकुचित रहा। घरेलू मांग नरम थी, हालांकि, आयात में तेजी से संकुचन में परिलक्षित हुई। इसके अलावा, अभी भी कच्चे तेल की नरम कीमतों से तेल आयात बिल 1/5 तक कम हुआ और सोने के आयात की मात्रा कम होकर पिछले वर्ष की मात्रा 1/5 पर पहुंच गई। फलस्वरूप, साल-दर-साल आधार पर अप्रैल-अगस्त में माल व्यापार घाटा 10 बिलियन अमेरिका यूएस तक संकुचित हुआ। इन घटनाओं में पहली तिमाही में अपने स्तर पर दूसरी तिमाही में चालू खाता घाटा निहित होने की संभावना है, हालांकि प्रेषण में गिरावट और सॉफ्टवेयर आय के सपाट होने पर निगरानी की आवश्यकता है। जबकि विदेश प्रत्यक्ष निवेश की गति एक साल पहले की तुलना में धीमी है, ब्रेजिक्ट मतदान के बाद पोर्टफोलियो प्रवाह मजबूत थे, नकारात्मक पैदावार के एक विस्तारित ब्रह्मांड में वापसी की एक खोज द्वारा उत्तेजित था। विदेशी मुद्रा भंडार का स्तर 30 सितंबर 2016 तक 372 बिलियन अमेरिकी डॉलर तक बढ़ा जो कि सर्वोच्च स्तर पर था।

संभावना

14. समिति को उम्मीद है कि आपूर्ति प्रबंध उपायों के साथ बुआई में अच्छे सुधार से खाद्य मुद्रास्फीति दृष्टिकोण में सुधार होगा। यह नोट किया गया है कि मुद्रास्फीति में तेज गिरावट से खाद्य मुद्रास्फीति की गति नीचे की ओर परिवर्तन दर्शाती है जो अनुकूल आधार प्रभाव के केवल सांख्यिकीय प्रभावों की तुलना में भविष्य की मुद्रास्फीति आउटकम के लिए महत्वपूर्ण है। सरकार ने विशेषकर दलहन के संबंध में खाद्य मुद्रास्फीति दबावों को कम करने के लिए अनेक उपाय किए हैं। इन उपायों से आने वाले महीनों में खाद्य मुद्रास्फीति की गति में नरमी लाने में सहायता मिलेगी। इसने नीतिगत कार्रवाई की गुंजाइश बना दी है जैसाकि तीसरे द्विमासिक मौद्रिक नीति वक्तव्य में संकेत किया गया था। रिज़र्व बैंक के परिचालनों से उत्पन्न सहज चलनिधि स्थिति से विभिन्न बाजार खंडों के माध्यम से नीतिगत कार्रवाई का सहज अंतरण भी होना चाहिए। इसके अलावा, बैंक लघु बचत दरों में हाल में की गई कमी से बेहतर अंतरण के लिए वृद्धित प्रेरणा ढूंढ़नी चाहिए। समिति ने उत्पन्न हो सकने वाले संभाव्य लागत प्रेरक दबावों का ध्यान रखा जिनमें मकान किराया भत्ते पर वेतन आयोग अवार्ड और न्यूनतम समर्थन मूल्य के माध्यम से संभावित स्पिलओवरों के साथ न्यूनतम मजदूरी में वृद्धि शामिल हैं। इन कारकों के पूरे प्रभाव में सतर्कता बरतने की जरूरत होगी जिससे कि सामान्यीकृत लागत चक्कर (स्पाइरल) को जड़ फैलाने से रोका जा सके। संतुलन आधार पर, समिति ने एक विकास पथ की परिकल्पना की जिसमें हेडलाइन मुद्रास्फीति को मार्च 2017 तक 5 प्रतिशत की केंद्रीय प्रवृत्ति की ओर ले जाया जा सके, जिसमें जोखिम ऊपर की ओर है हालांकि ये क्रमशः जून और अगस्त के दूसरे और तीसरे द्विमासिक मौद्रिक नीति वक्तव्यों की तुलना में कम हैं (चार्ट 1)।

15. विकास की गति का सामान्य मानसून से कृषि विकास और ग्रामीण मांग के कारण, साथ ही साथ वेतन आयोग की राशि से शहरी खपत खर्च के प्रोत्साहन के साथ बढ़ने की उम्मीद है। मौद्रिक नीति का उदार रुख और सहज चलनिधि स्थिति से उत्पादक क्षेत्रों के ऋण का पुनरुद्धार समर्थन होना चाहिए। विकास की गति का सामान्य मानसून से कृषि विकास और ग्रामीण मांग के कारण, साथ ही साथ वेतन आयोग की राशि से शहरी खपत खर्च के प्रोत्साहन के साथ बढ़ने की उम्मीद है। मौद्रिक नीति के उदार रुख और आरामदायक चलनिधि स्थिति से उत्पादक क्षेत्रों के ऋण के पुनरुद्धार में सहायता मिलनी चाहिए। विश्व व्यापार में जारी सुस्ती और पिछले समय के व्यापार के छोटे लाभों से, हालांकि, बाहरी मांग में ज्यादा मंदी आ रही है। तदनुसार, 2016-17 के लिए वास्तविक सकल मूल्य (जीवीए) के विकास का अनुमान 7.6 प्रतिशत पर बनाए रखा है, जिसके चारों ओर जोखिम समान रूप से संतुलित है (चार्ट 2)।

16. मौद्रिक नीति निर्णय के पक्ष में छह सदस्यों ने मतदान किया। एमपीसी की बैठक का कार्यवृत्त 18 अक्टूबर 2016 को प्रकाशित किया जाएगा। एमपीसी की अगली बैठक 6 और 7 दिसंबर 2016 को आयोजित की जाएगी और उसके प्रस्ताव को 7 दिसंबर 2016 को घोषित किया जाएगा।

नीति दर को 25 आधार अंकों तक कम करने के लिए संकल्प पर वोटिंग

सदस्य वोट
डॉ. चेतन घाटे हां
डॉ. पामी दुआ हां
डॉ. रविन्द्र एच. ढोलकिया हां
डॉ. माइकल देबब्रत पात्र हां
श्री आर. गाधी हां
डॉ. उर्जित आर. पटेल हां

चेतन घाटे का वक्तव्य

17. अच्छे मानसून, खाद्य मुद्रास्फीति में गिरावट तथा सरकार द्वारा बेहतर खाद्य आपूर्ति प्रबंध की दृष्टि से मार्च 2017 उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) मुद्रास्फीति लक्ष्य के चक्रीय और संरचनात्मक दोनों जोखिमों में कुछ कमी आई है। अर्थव्यवस्था में निरंतर धीमापन जिसके साक्ष्य पिछले कुछ वर्षों से अनुपयोगित क्षमता से मिलते हैं, कॉर्पोरेट मूल्यनिर्धारण क्षमता कमजोर बनी हुई है। मुख्य मुद्रास्फीति की निरंतरता चिंता बनी हुई है। जबकि मैं मानता हूं कि वर्ष 2016-17 की चौथी तिमाही तक सीपीआई मुद्रास्फीति के 5 प्रतिशत के लक्ष्य को पूरा करने के लिए अपसाइड जोखिम हैं, वर्तमान समय को देखते हुए ये स्वीकार्य जोखिम हैं। मौद्रिक नीति के दायरे में भविष्य में मुद्रास्फीति की प्रत्याशाएं, व्यावसायिक पूर्वानुमानकर्ताओं के सर्वेक्षण द्वारा यथाप्रमाणित, मुद्रास्फीति लक्ष्य के नजदीक हैं जिससे से अनुमान है कि इससे कम और स्थायी मुद्रास्फीति में योगदान मिलेगा।

18. वृद्धि के मोर्चे पर, आर्थिक गतिविधि के पुनरुत्थान के संकेत दिखाई दे रहे हैं जिसे बढ़ाने की आवश्यकता है।

19. इन विचारों को ध्यान में रखते हुए, मैं मौद्रिक नीति समिति की आज की बैठक में नीति रेपो दर को 6.50 प्रतिशत से 25 आधार अंक कम करके 6.25 प्रतिशत करने के लिए वोट करता हूं।

डॉ. पामी दुआ का वक्तव्य

20. रिज़र्व बैंक द्वारा कराए गए सर्वेक्षणों में मुद्रास्फीति और मुद्रास्फीति प्रत्याशाओं में मामूली नरमी के साथ धीमे निजी निवेश खर्च और अनुपयोगित क्षमता से नीति दर में कमी करने का अवसर मिल रहा है।

21. जबकि भारतीय रिज़र्व बैंक का परिवार मुद्रास्फीति प्रत्याशा सर्वेक्षण ने उच्च मुद्रास्फीति प्रत्याशाओं की ओर संकेत करता है, उपभोक्ता विश्वास सर्वेक्षण मूल्य स्थिति और भविष्य की आर्थिक स्थिति के लिए प्रोत्साहित करने वाला दृष्टिकोण प्रस्तुत करता है। इसके अतिरिक्त, जबकि भारतीय रिज़र्व बैंक का औद्योगिक संभावना सर्वेक्षण लघु अवधि में विनिर्माण क्षेत्र में इनपुट मूल्य दबावों में कुछ वृद्धि का सुझाव देता है, इससे उच्चतर बिक्री मूल्यों में अंतरित होना अपेक्षित नहीं है। दूसरी तरफ, इंफ्रास्ट्रक्चर क्षेत्र में इनपुट लागत प्रत्याशाएं मंद हैं। इसके अतिरिक्त, व्यावसायिक पूर्वानुमानकर्ता सर्वेक्षण मुद्रास्फीति प्रत्याशाओं में तेजी आने की ओर संकेत करता है।

22. इस पृष्ठभूमि, मैं महसूस करती हूं कि नीति दर कम करके वृद्धि में सहयोग देने के लिए यह अच्छा समय है।

23. तदनुसार, मैं मौद्रिक नीति समिति की आज की बैठक में नीति रेपो दर को 6.50 प्रतिशत से 25 आधार अंक कम करके 6.25 प्रतिशत करने के लिए वोट करती हूं।

डॉ. रविन्द्र एच. ढोलकिया का वक्तव्य

24. 3 और 4 अक्टूबर 2016 को एमपीसी की बैठक में चर्चा किए गए मुद्रास्फीति के कुछ अपसाइट जोखिम, विशेषकर 7वां वेतन आयोग प्रदान करने से उत्पन्न होने वाले जोखिम, मेरे अनुसार मुख्य रूप से सांख्यिकीय हैं। आगे, मेरे विचार में चालू स्तर से मुद्रास्फीति के बढ़ने की संभावना यथोचित रूप से कम है। दूसरी तरफ, उपभोक्ता मुद्रास्फीति में और अधिक नरमी आने की अच्छी संभावना है जिसे अच्छे मानसून, सरकार के आपूर्ति प्रंबध उपायों और चालू सुधारों से लाभ मिलेगा। इनसे लागत कम होने और आउटपुट प्रतिक्रिया में सुधार होगा।

25. जहां तक वृद्धि संभावना का संबंध है, मेरा विचार है कि भारतीय अर्थव्यवस्था का संभावित वृद्धि पथ, विशेषकर सरकार द्वारा लागू किए गए कुछ सुधार उपायों के कारण धीरे-धीरे ऊपर जा रहा है। चूंकि प्रणाली में क्षमता का काफी अल्प उपयोग हो रहा है, मुझे मुद्रास्फीति के प्रति कोई बड़ा जोखिम नजर नहीं आ रहा यदि आउटपुट अंतर जल्दी से भर दिया जाता है। उपर्युक्त आकलन मुझे रेपो दर में 25 आधार अंकों की कमी करने के पक्ष में वोट करने की सुविधा प्रदान करता है।

डॉ. माइकल देबब्रत पात्र का वक्तव्य

26. मैं नीति रेपो दर में 25 आधार अंकों की कमी करने के लिए वोट करता हूं और चौथी द्विमासिक मौद्रिक नीति वक्तव्य में निर्धारित निर्णय के औचित्य के लिए पूरी तरह समर्थन करता हूं।

27. अर्थव्यवस्था के अनेक भागों में सुस्ती है, किंतु जैसाकि वक्तव्य में बताया गया है, अन्य भाग जैसे कृषि गतिविधि, इस्पात उत्पादन, सड़कों, रेलवे और अंतर्देशीय जलमार्गों में सार्वजनिक निवेश, सेवाओं की कुछ श्रेणियां, उचित चलनिधि द्वारा प्रोत्साहित वित्तीय बाजारों के माध्यम से नीतिगत संवेगों का अंतरण, विदेशी संविभाग निवेश में सुधार हो रहा है और ये संभावित पुनरुत्थान के लिए एक साथ आगे आ रहे हैं। इन सकारात्मक पहलुओं में सबसे महत्वपूर्ण मुद्रास्फीति संभावना में सुधार होना है। एक ढांचा जिसमें मुद्रास्फीति पूर्वानुमान संपूर्ण उपलब्ध सूचना से ठोस आकार ले रहे हैं और मौद्रिक नीति के मध्यस्थ लक्ष्य के रूप में कार्य करते हैं, दो पहलुओं पर ध्यान देने योग्य हैं – (क) वर्ष 2016-17 की चौथी तिमाही क लिए मुद्रास्फीति पूर्वानुमान का स्तर पहले के लक्ष्य के नजदीक है और (ख) यह दूसरी और तीसरी द्विमासिक मौद्रिक नीति वक्तव्य के अनुमानों की तुलना में कम हो रहा है। इसके कहने का यह मतलब नहीं है कि पशु की पिटाई कर दी गई है और उसकी कमर टूट गई है किंतु इसकी गति में परिवर्तन आया है जिसका दोहन किया जा सकता है, विशेषकर उन उपायों से जो आवश्यक खाद्य मदों के मूल्यों को मासिक-दर-मासिक आधार पर कम करते हैं। इसके अलावा अगस्त में मुद्रास्फीति में कमी सांख्यिकीय की अपेक्षा वास्तविक है – गति बिल्कुल कम हो गई है जिससे आधार प्रभावों की अनुमति दी। यदि संतोषजनक मानसून के लाभप्रद प्रभाव गति को धीमा रखते हैं और मुद्रास्फीति को तीसरी तिमाही क अनुमान से नीचे ले जाते हैं तो चौथी तिमाही का लक्ष्य प्राप्त किया जा सकता है। इसलिए, पिछले मौद्रिक नीति वक्तव्यों में निर्धारित अवस्फीति के पथ पर ध्यानकेंद्रित करते हुए मेरे विचार में अभी नीति दर को 25 आधार अंकों तक कम करने और समष्टि आर्थिक विन्यास (कॉन्फिगरेशन) को वास्तिक बनाने के लिए सही समय है जिसका निर्माण प्रतीत हो रहा है, मुद्रास्फीति इसके लक्ष्य में अभिसरित होने की उचित संभावना है और वर्ष की अगली तीन तिमाहियों में अर्थव्यवस्था वृद्धि के बढ़ने के द्वार पर है। तथापि, यह महत्वपूर्ण है कि वर्ष 2016-17 की पिछली तिमाही में अनुमानित मुद्रास्फीति में बदलाव पर सतर्कता बढ़ानी होगी जिससे कि लक्ष्य के किसी भी जोखिम से सुरक्षा की जा सके।

श्री आर. गांधी का वक्तव्य

28. मैं एमपीसी संकल्प में प्रस्तुत वृद्धि और मुद्रास्फीति के जोखिम आकलन के साथ सहमत हूं और निम्नलिखित विशिष्ट कारणों से नीति रेपो दर में 25 आधार अंकों को कम करने के पक्ष में मत देता हूं।

29. जबकि अभी भी नाजुक वैश्विक अर्थव्यवस्था से भारत के विकास के जोखिम में वृद्धि हुई है, विशेष रूप से व्यापार चैनल के माध्यम से, वैश्विक कारकों से मुद्रास्फीति के जोखिम सहज हो रहे है, जो वैश्विक अवस्फीति के प्रसार और पाई गई उच्च तीव्रता से दूर हो जाएगा।

30. मुद्रास्फीति के जोखिम के घरेलू स्रोतों के बीच से, मुझे अधिक से अधिक सुविधा दालों से आती दिखाई दे रही है। दालों के उत्पादन के खरीफ खाद्यान्न बिंदु के पहले अग्रिम अनुमान इस वर्ष 57 प्रतिशत बढ़े है। लगातार दो वर्षों के सूखे के बावजूद, सरकार द्वारा प्रभावी आपूर्ति प्रबंधन के उपायों से खाद्य मुद्रास्फीति को समाहित किया जा सकता है। इस साल सामान्य मानसून के साथ, मुझे खाद्य महंगाई दर के अधिक मजबूती से समाहित रहने की उम्मीद है। सीपीआई बास्केट में खाद्यान्न् को उच्च वरीयता देते हुए, मौद्रिक नीति कार्यों के लिए विस्तार को प्रभावित करने में आपूर्ति प्रतिक्रिया और आपूर्ति प्रबंधन सूक्ष्म रूप से महत्वपूर्ण बना रहेगा।

31. वृद्धि के मोर्चे पर,जबकि गति के धीरे-धीरे बढ़ने की उम्मीद है, निजी निवेश चक्र धीमा है और उसका अभी तक खपत की मांग के लिए पर्याप्त रूप से अनुकूल होना बाकी है। पूंजीगत वस्तुओं के उत्पादन पर हाल के डेटा, पूंजीगत वस्तुओं का आयात और उद्योग के लिए ऋण प्रवाह से कमजोर निवेश मांग का संकेत मिलता है। इस माहौल में, मेरे हिसाब से दर में कटौती से निवेश मांग के लिए प्रेरणा जबकि कंपनियों पर बैलेंस शीट मरम्मत से उत्पन्न दबाव को कुछ हद तक सहज किया जा सकता है।

डॉ. उर्जित आर. पटेल का वक्तव्य

32. आर्थिक गतिविधि के संकेतकों में नरमी की संभावना की ओर इशारा किया, हालांकि इसमें धीरे-धीरे सुधार हो रहा है,इसके अलावा,उद्योग में सतत कम क्षमता उपयोग और उत्पादन अंतराल जड़ता दर्शाती है कि मूल्य निर्धारण शक्ति के कम रहने की संभावना है। महत्वपूर्ण बात यह है, हमारे फारवर्ड लुकिंग सर्वे में अंतस्थापित में उच्च आवृत्ति डेटा, देश भर में फल और सब्जियों, अनाज और दालों के दैनिक मूल्य की घटबढ़ हमें भरोसा दिलाती है कि वर्ष 2016-17 की चौथी तिमाही लिए 5 प्रतिशत का मुद्रास्फीति लक्ष्य को प्राप्त किया जा सकता है। इसलिए, जबकि हमारे मॉडल आधारित अनुमान से लक्ष्य के जोखिम का संकेत था, एक कैलब्रैटड नीति निर्णय की गारंटी की गयी थी, जिसमें अगस्त के अनुमान में मुद्रास्फीति में गिरावट के साथ नीतिगत कार्रवाई करने के लिए कुछ समय मिला। बहरहाल, चौथी तिमाही में मुद्रास्फीति परिणामों के जोखिम पर ध्यान और लगातार रूप में नजर रखनी होगी, यद्यपि पहले से कायम की तुलना में अब कम है।

अजीत प्रसाद
सहायक परामर्शदाता

प्रेस प्रकाशनी: 2016-2017/954


2019
2018
2017
2016
2015
2014
2013
2012
पुरालेख
Server 214
शीर्ष