अधिसूचनाएं

2014-15 के लिए चौथा द्विमासिक मौद्रिक नीति अनुसूचित शहरी सहकारी बैंकों के लिए चलनिधि समायोजन सुविधा प्रारंभ करना

भारिबैं/2014-15/279
शबैंवि.बीपीडी(एससीबी)परि.सं.1/16.27.000/2014-15

29 अक्तूबर 2014

मुख्‍य कार्यपालक अधिकारी
सभी अनुसूचित प्राथमिक (शहरी) सहकारी बैंक

महोदया/ महोदय,

2014-15 के लिए चौथा द्विमासिक मौद्रिक नीति
अनुसूचित शहरी सहकारी बैंकों के लिए चलनिधि समायोजन सुविधा प्रारंभ करना

कृपया उक्त विषय पर भारतीय रिज़र्व बैंक का 30 सितंबर 2014 को जारी चौथा द्विमासिक मौद्रिक नीति वक्‍तव्‍य, 2014-15 (उद्धरण संलग्न) का अनुच्छेद सं. 24 देखें।

2. अनुसूचित शहरी सहकारी बैंकों को चलनिधि प्रबंधन के लिए अतिरिक्त सुविधा प्रदान करने के लिए यह निर्णय लिया गया है कि 28 नवंबर 2014 से लागू रूप में सीबीएस समर्थित, कम से कम 9% सीआरएआर वाले और एलएएफ़ के लिए निर्धारित पात्रता मानदंडों को पूरा करने वाले अनुसूचित शहरी सहकारी बैंकों को चलनिधि समायोजन सुविधा दिया जाए। न्यूनतम बिड साइज़ प्रिस्क्रिप्शन इत्यादि सहित एलएएफ़ प्राप्त करने के लिए शर्तें भारतीय रिज़र्व बैंक के वित्तीय बाज़ार विभाग द्वारा समय समय पर जारी अनुदेशों के अनुसार होगा।

3. शहरी सहकारी बैंक जो एलएएफ़ में भाग लेने के लिए पात्रता मानदंडों को पूरा करते हैं (सकारात्मक सूची) और जो शहरी सहकारी बैंक अयोग्य (नकारात्मक सूची) पाए गए हैं उनके नाम तुरंत ही शहरी बैंक विभाग द्वारा संबंधित बैंकों को बताते हुए वित्तीय बाज़ार विभाग को सूचित किया जाएगा।

4. सकारात्मक सूची में शामिल बैंकों की पात्रता की स्थिति को अविरत रूप में पुनरीक्षित किया जाएगा ताकि हर समय वित्तीय मानकों का अनुपालन होना सुनिश्चित किया जा सकें। किंतु, भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा निरीक्षण के माध्यम से मूल्यांकित निकटतम पूर्ववर्ती साल

की वित्तीय स्थिति के अनुसार सकारात्मक सूची में जोड़े जाने के संदर्भ में वार्षिक अंतराल में जनवरी के पहले सप्ताह में विचार किया जाएगा।

भवदीया

(सुमा वर्मा)
मुख्य महाप्रबंधक


2014-15 के लिए चौथा द्विमासिक मौद्रिक नीति वक्‍तव्‍य (अनुच्छेद 24)

24. वित्तीय बाजारों को विस्तृत और मजबूत बनाने के रिजर्व बैंक के निरंतर प्रयास के रूप में यह निर्णय लिया गया है कि,

  • अनुसूचित शहरी सहकारी बैंकों को चलनिधि समायोजन सुविधा (एलएएफ़) तक पहुँच को अनुमति प्रदान करना ताकि, उन्हें चलनिधि प्रबंधन का एक अतिरिक्त आयाम प्रदान किया जा सके, बशर्ते वे भारतीय      रिज़र्व बैंक, मुंबई में चालू खाता और एसजीएल खाता रखने, न्यूनतम बिड साइज़ प्रिस्क्रिप्शन इत्यादि सहित एलएएफ़ में भाग लेने के लिए विहित पात्र मानदंडों का पूरी तरह से अनुसरण करते हैं।

मध्य अक्टूबर 2014 से विस्तृत दिशा निर्देश अलग से जारी किए जाएंगे।


2019
2018
2017
2016
2015
2014
2013
2012
पुरालेख
Server 214
शीर्ष