अधिसूचनाएं

मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य अधिनियम 1987 तथा स्‍वपरायणता (आटिज्‍म), मस्तिष्‍क पक्षाघात, मानसिक मन्‍दन तथा बहुविध अक्षमता वाले व्‍यक्तियों के कल्‍याण के लिए राष्‍ट्रीय न्‍यास अधिनियम, 1999 के अंतर्गत जारी कानूनी अभिभावक प्रमाणपत्र

आरबीआई/2013-14/444
बैंपविवि. सं. एलईजी. बीसी. 84/09.07.005/2013-14

13 जनवरी 2014

सभी अनुसूचित वाणिज्यिक बैंक
(क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों को छोड़कर)

महोदय/महोदया

मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य अधिनियम 1987 तथा स्‍वपरायणता (आटिज्‍म), मस्तिष्‍क पक्षाघात, मानसिक मन्‍दन तथा बहुविध अक्षमता वाले व्‍यक्तियों के कल्‍याण के लिए राष्‍ट्रीय न्‍यास अधिनियम, 1999 के अंतर्गत जारी कानूनी अभिभावक प्रमाणपत्र

कृपया 19 नवंबर 2007 का हमारा परिपत्र बैंपविवि. सं. एलईजी. बीसी. 51/09.07.005/2007-08  देखें जिसमें बैंकों को, अन्‍य बातों के साथ-साथ, यह सूचित किया गया था कि वे स्‍वपरायणता, मस्तिष्‍क पक्षाघात, मानसिक मन्‍दन तथा बहुविध अक्षमता वाले अपंग व्‍यक्तियों द्वारा बैंक खाते खोलने/परिचालन करने के लिए मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य अधिनियम 1987 के अंतर्गत जिला  न्‍यायालय द्वारा जारी अभिभावक प्रमाण पत्र अथवा स्‍वपरायणता, मस्तिष्‍क पक्षाघात, मानसिक मन्‍दन तथा बहुविध अक्षमता वाले व्‍यक्तियों के कल्‍याण के लिए राष्‍ट्रीय न्‍यास अधिनियम, 1999 के अंतर्गत स्‍थानीय स्‍तर की समिति द्वारा जारी अभिभावक प्रमाण पत्र को स्‍वीकार्य मान सकते हैं।

2. उक्‍त परिपत्र में उल्लिखित अनुदेशों का अधिक्रमण करते हुए, बैंक खातों के खोलने/परिचालन के लिए निम्‍नलिखित दिशानिर्देश लागू होंगेः

(i) मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य अधिनियम, 1987 में एक कानून का प्रावधान किया गया है जो मानसिक रूप से रुग्‍ण व्‍यक्तियों के उपचार और देखभाल करने तथा उनकी संपत्तियों व अन्‍य मामलों के संबंध में बेहतर प्रावधान करने से संबंधित है। उक्‍त अधिनियम के अंतर्गत, "मानसिक रूप से रुग्‍ण व्‍यक्ति" का तात्‍पर्य ऐसे व्‍यक्ति से है जिसे मानसिक मन्‍दन को छोड़कर किसी अन्‍य मानसिक रुगणता के लिए उपचार की आवश्‍यकता है। इस अधिनियम की धारा 53 और 54 मानसिक रूप से विकलांग व्‍यक्तियो के लिए अभिभावकों तथा कतिपय मामलों में उनकी संपत्ति के लिए प्रबंधकों की नियुक्ति करने से संबंधित है। स्‍वास्‍थ्‍य अधिनियम 1987 के अंतर्गत निर्धारित नियोक्‍ता प्राधिकारी जिला न्‍यायालय और जिलाधिकारी हैं। 

(ii) स्‍वपरायणता, मस्तिष्‍क पक्षाघात, मानसिक मन्‍दन तथा बहुविध अक्षमता वाले व्‍यक्तियों के कल्‍याण के लिए राष्‍ट्रीय न्‍यास अधिनियम, 1999 कतिपय विनिर्दिष्‍ट विकलांगताओं से संबंधित कानून का प्रावधान करता है। उस अधिनियम की धारा 2 के खंड (जे) में "विकलांग व्‍यक्ति" की परिभाषा ऐसे व्‍यक्ति के रूप में दी गयी है जो स्‍वपरायणता, मस्तिष्‍क पक्षाघात, मानसिक मन्‍दन या किन्‍हीं ऐसे दो या अधिक रुगणताओं से पीडि़त है और इसमें  बहुविध अक्षमता से पीडि़त व्‍यक्ति भी शामिल है। यह अधिनियम एक स्‍थानीय स्‍तर समिति को यह शक्ति प्रदान करता है कि वह विकलांग व्‍यक्ति के लिए ऐसे अभिभावक की नियुक्ति कर सके जो उस अक्षमता वाले व्‍यक्ति और उसकी संपत्तियों की देखभाल कर सकेगा।

(iii) बैंकों को सूचित किया जाता है कि वे उक्‍त विधिक स्थिति को नोट करें और बैंक खाते खोलने/परिचालित करने हेतु अभिभावकों/प्रबंधकों की नियुक्ति करने वाले सक्षम प्राधिकारियों द्वारा जारी अनुदेशों/प्रमाण पत्रों से मार्गदर्शन प्राप्‍त करें तथा उन्‍हें आधार बनाएं। संदेह की स्थिति में उचित विधिक परामर्श प्राप्‍त करने की सावधानी बरती जाए।

3. 3. बैंक यह भी सुनिश्चित करें कि उनकी शाखाएं ग्राहकों को समुचित मार्गदर्शन प्रदान करें ताकि विकलांग व्‍यक्तियों के अभिभावकों/प्रबंधकों को इस संबंध में किसी प्रकार की कठिनाई का सामना न करना पड़े।

भवदीय

(राजेश वर्मा)
मुख्य महाप्रबंधक


2020
2019
2018
2017
2016
2015
2014
2013
2012
पुरालेख
Server 214
शीर्ष