भारतीय रिज़र्व बैंक: संगठन


डॉ. बिमल जालान

डॉ. बिमल जालान 22 नवंबर 1997 से 6 सितंबर 2003 तक भारतीय रिज़र्व बैंक के गवर्नर थे। प्रारंभ में, तीन वर्ष की अवधि के लिए, गवर्नर के रूप में नियुक्ति के बाद, डॉ. जालान को भारतीय रिज़र्व बैंक के गवर्नर के रूप में पुन: नियुक्त किया गया, पहले 22 नवंबर 2000 से लेकर 21 नवंबर 2002 तक दो वर्ष की अवधि के लिए और फिर 22 नवंबर 2002 से लेकर 21 नवंबर 2004 को समाप्त होने वाली दो वर्ष की अतिरिक्‍त अवधि के लिए। उन्हें 27 अगस्त 2003 को राज्यसभा सदस्य के रूप में नामित किया गया था और उन्‍होंने 6 सितंबर 2003 को भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर के रूप में पदभार छोड़ दिया।

पेशे से अर्थशास्त्री, डॉ. जालान ने भारत सरकार में बहुत से प्रशासनिक और परामर्शी पदों पर कार्य किया है। वे 1980 के दशक में केंद्र सरकार के मुख्य आर्थिक सलाहकार, 1985 और 1989 के बीच बैंकिंग सचिव और वित्त सचिव, वित्त मंत्रालय, भारत सरकार के पद पर रहे। वित्त सचिव के रूप में, वे भारतीय रिजर्व बैंक के केंद्रीय निदेशक बोर्ड में भी थे। वे जनवरी 1991 और सितंबर 1992 के बीच प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाहकार परिषद के अध्यक्ष भी रहे हैं। डॉ जालान ने अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष और विश्व बैंक के बोर्डों में भारत का प्रतिनिधित्व करने वाले कार्यपालक निदेशक के रूप में सेवा की है। रिज़र्व बैंक के गवर्नर के रूप में अपनी नियुक्ति के समय, डॉ. जालान नई दिल्ली में योजना आयोग के सदस्य-सचिव थे।

1941 में जन्मे, डॉ. जालान ने प्रेसीडेंसी कॉलेज, कलकत्ता, कैम्ब्रिज और ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालयों में शिक्षा प्राप्त की है। डॉ. जालान ने इंडियाज इकोनॉमिक क्राइसिस: द वे अहेड (ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस, 1991) लिखा है और द इंडियन इकोनॉमी: प्रॉब्लम्स एंड प्रॉस्पेक्ट्स (पेंगुइन, 1993) का संपादन किया है। उनकी नवीनतम पुस्तक इंडियाज इकोनॉमिक पॉलिसी: प्रिपेरिंग फॉर द ट्वेंटी-फर्स्ट सेंचुरी (वाइकिंग, 1996) वर्तमान समय में भारत के लिए कुछ महत्वपूर्ण नीति विकल्पों की जांच करती है।


Server 214
शीर्ष