भुगतान और निपटान प्रणाली

अर्थव्‍यवस्‍था की समग्र दक्षता में सुधार करने में भुगतान और निपटान प्रणाली महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। इसके अंतर्गत राशि-मुद्रा, चेकों जैसी कागज़ी लिखतों के सुव्‍यवस्थित अंतरण और विभिन्‍न इलेक्‍ट्रॉनिक माध्‍यमों के लिए विभिन्‍न प्रकार की व्‍यवस्‍थाएं हैं।

अधिसूचनाएं


प्रीपेड भुगतान लिखतों (पीपीआई) को जारी करने और उनका परिचालन करने के संबंध में जारी किए गए मास्टर दिशानिर्देश में संशोधन

आरबीआई/2019-20/51
डीपीएसएस.सीओ.पीडी.सं.499/02.14.006/2019-20

30 अगस्त 2019

सभी प्रीपेड भुगतान लिखत जारीकर्ता

महोदया/महोदय,

प्रीपेड भुगतान लिखतों (पीपीआई) को जारी करने और उनका परिचालन करने के संबंध में जारी किए गए मास्टर दिशानिर्देश में संशोधन

कृपया प्रीपेड भुगतान लिखतों (पीपीआई) को जारी करने और उनका परिचालन करने के संबंध में जारी किए गए दिनांक 11 अक्टूबर, 2017 के मास्टर दिशानिर्देश डीपीएसएस.सीओ.पीडी.सं.1164/02.14.006/2017-18 (पीपीआई -एमडी) के पैरा 9.1(i) (i) का संदर्भ लें।

2. यह सूचित किया जाता है कि न्यूनतम विवरण वाली पीपीआई को केवाईसी अनुपालन वाली पीपीआई में परिवर्तित करने के लिए समय सीमा को 18 महीने से बढ़ाकर 24 महीने कर दिया गया है। पीपीआई -एमडी में यथोचित संशोधन कर दिया गया है। यह भी नोट किया जाए कि इस प्रयोजनार्थ कोई और विस्तार प्रदान नहीं किया जाएगा।

3. ई-केवाईसी और डिजिटल-केवाईसी पर हाल के घटनाक्रम को देखते हुए, पीपीआई जारीकर्ताओं को यह सूचित किया जाता है कि वे इस विस्तारित अवधि के भीतर निर्देश का अनुपालन सुनिश्चित करें।

4. यह निर्देश भुगतान और निपटान प्रणाली अधिनियम, 2007 (2007 का अधिनियम 51) की धारा 10 (2) के साथ पठित धारा 18 के अंतर्गत जारी जारी किया गया है।

भवदीय

(सुधांशु प्रसाद)
महाप्रबंधक (प्रभारी अधिकारी)

2019
2018
2017
2016
2015
2014
2013
2012
पुरालेख
Server 214
शीर्ष