Download
the hindi
font
 
   हमारा परिचय     उपयोग सूचना     अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न     वित्तीय शिक्षण     शिकायतें   अन्य संपर्क     अतिरिक्त विषय 
 yeQEkeÀäe
 cegêe
 fJeosMer cegêe
 mejkeÀejr he´fleYetfle yeepeej
 äewj yeQEkeÀäe fJeÊer³e kebÀhefôe³eeb
 Yegäeleeôe he´Ceeuer
nesce >> FAQs - Display
Date: 26/10/2020
लक्षित दीर्घकालिक रिपो परिचालन (टीएलटीआरओ)

(26 अक्टूबर 2020 को अद्यतन किया गया)

प्रश्न 1: क्या बैंकों को एचटीएम पुस्तक में टीएलटीआरओ में प्राप्त राशि के लिए हर समय निर्दिष्ट प्रतिभूतियों को बनाए रखना आवश्यक होगा?

उत्तर: हाँ। बैंकों को अपनी एचटीएम पुस्तक में टीएलटीआरओ में प्राप्त राशि के लिए निर्दिष्ट प्रतिभूतियों की मात्रा को टीएलटीआरओ की परिपक्वता तक हर समय बनाए रखना होगा।

प्रश्न 2: क्या बैंक को अपने एचएफटी / एएफएस पोर्टफोलियो में टीएलटीआरओ के उधारकर्ता के कार्यकाल के लिए 26 मार्च 2020 को जारी रखने के बराबर राशि अनिवार्य रूप से जारी रखनी होगी?

उत्तर: टीएलटीआरओ योजना के तहत, बैंकों को टीएलटीआरओ के तहत उधार ली गई राशि का निवेश प्राथमिक / द्वितीयक बाजार से प्रतिभूतियों (अर्थात, 26 मार्च 2020 तक निर्दिष्ट प्रतिभूतियों में उनके लंबित विवरण से अधिक और अतिरिक्त) के नए अधिग्रहण में करना होगा। यद्यपि, टीएलटीआरओ योजना में भागीदारी से बैंक के मौजूदा निवेश पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा और बैंक वर्तमान नियामकों / आंतरिक दिशा-निर्देशों के संदर्भ में अपने एएफएस / एचएफटी पोर्टफोलियो का संचालन जारी रख सकते हैं।

प्रश्न 3: क्या टीएलटीआरओ योजना के तहत प्राप्त की जाने वाली प्रतिभूतियों पर कोई परिपक्वता प्रतिबंध है?

उत्तर: टीएलटीआरओ योजना के तहत प्राप्त की जाने वाली निर्दिष्ट प्रतिभूतियों पर कोई परिपक्वता प्रतिबंध नहीं है। हालांकि, बैंक के एचटीएम पोर्टफोलियो में निर्दिष्ट प्रतिभूतियों की लंबित राशि टीएलटीआरओ योजना के तहत प्राप्त राशि के स्तर से कम नहीं होनी चाहिए।

प्रश्न 4: क्या टीएलटीआरओ की परिपक्वता के बाद भी लंबे समय तक निर्दिष्ट सुरक्षा में निवेश को एचटीएम के रूप में वर्गीकृत किया जाएगा?

उत्तर: टीएलटीआरओ योजना के तहत अधिग्रहीत निर्दिष्ट प्रतिभूतियों को उनकी परिपक्वता तक एचटीएम पोर्टफोलियो में बनाए रखने की अनुमति होगी।

प्रश्न 5: क्या बैंक टीएलटीआरओ योजना के तहत प्राप्त की गई निर्दिष्ट प्रतिभूतियों को एएफ़एस अथवा एचएफ़टी के रूप में वर्गीकृत किया जा सकता है?

उत्तर: टीएलटीआरओ योजना के तहत अधिग्रहीत निर्दिष्ट प्रतिभूतियों को एचटीएम श्रेणी में वर्गीकृत किया जाएगा। हालाँकि, यदि कोई बैंक अधिग्रहण के समय ऐसी प्रतिभूतियों को एएफ़एस / एचएफ़टी श्रेणी के तहत वर्गीकृत करने का निर्णय लेता है, तो बाद में ऐसी प्रतिभूतियों को एचटीएम श्रेणी में परिवर्तित करने की अनुमति नहीं दी जाएगी और बैंको द्वारा एएफ़एस/एचएफ़टी पोर्टफोलियो में टीएलटीआरओ योजना के तहत खरीदी गई प्रतिभूतियों को प्रदर्शित करने और अलग से चिन्हित करने के लिए पर्याप्त रिकॉर्ड बनाए रखना आवश्यक होगा। इसके अलावा, ऐसी निर्दिष्ट प्रतिभूतियों पर एएफएस / एचएफटी के तहत वर्गीकृत प्रतिभूतियों पर मूल्यांकन सहित लागू सभी नियम लागू होंगे।

प्रश्न 6: यदि बैंक तय समय सीमा के भीतर निर्दिष्ट प्रतिभूतियों में टीएलटीआरओ योजना के तहत प्राप्त धन को अभिनियोजित करने में विफल रहता है तो क्या होगा?

उत्तर: बैंकों को पहले से ही टीएलटीआरओ योजना के तहत प्राप्त धन को अभिनियोजित करने के लिए पर्याप्त समय दिया गया है। अब यह निर्णय लिया गया है कि निर्दिष्ट प्रतिभूतियों में ऐसी बैंकों को धन अभियोजन के लिए 30 कार्य दिवसों तक की अनुमति दी जाए, जिन्होंने 27 मार्च 2020 को आयोजित टीएलटीआरओ की पहली किश्त के तहत धन प्राप्त किया है। हालांकि, यदि कोई बैंक निर्दिष्ट समय सीमा के भीतर धन अभिनियोजित करने में विफल रहता है, तो गैर-अभिनियोजित धन पर ब्याज दर प्रचलित नीति रेपो दर तक बढ़ जाएगी साथ ही 200 बीपीएस दिनों की संख्या के लिए इस तरह के फंड गैर-अभिनियोजित रहते हैं। इस वृद्धिशील ब्याज का भुगतान परिपक्वता के समय नियमित ब्याज के साथ करना होगा।

प्रश्न 7: टीएलटीआरओ योजना के तहत, निर्दिष्ट पात्र लिखतों को प्राथमिक बाजार निर्गमन से पचास प्रतिशत और द्वितीयक बाजार से शेष पचास प्रतिशत तक प्राप्त करना होगा। क्या यह सीमा प्राथमिक और द्वितीयक बाजार के बीच प्रतिमोच्य (fungible) है?

उत्तर: प्राथमिक बाजार में टीएलटीआरओ के तहत मिलने वाली धनराशि की अभिनियोजित की गई राशि का प्रतिशत पचास प्रतिशत से अधिक नहीं हो सकता है। उपरोक्त नियम के अलावा, सीमाएं प्राथमिक और द्वितीयक बाजार परिनियोजन के बीच प्रतिमोच्य (fungible) हैं।

टीएलटीआरओ 2.0 से संबंधित अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न 8: यदि बैंक निर्धारित समयसीमा में निर्दिष्ट प्रतिभूतियों में टीएलटीआरओ 2.0 योजना के तहत प्राप्त धन को अभिनियोजित करने में विफल रहता है तो क्या होगा?

उत्तर: बैंकों से प्राप्त प्रतिपुष्टी के आधार पर और कोविड-19 के कारण उत्पन्न हुए व्यवधानों को ध्यान में रखते हुए, टीएलटीआरओ 2.0 योजना के तहत धनराशि के अभिनियोजन के लिए उपलब्ध समय को परिचालन की तिथि से 30 कार्य दिवसों से बढ़ाकर 45 कार्य दिवस करने का निर्णय लिया गया है। यदि इस विस्तारित समय सीमा के भीतर निधियों का अभिनियोजन नहीं किया गया तो तो गैर-अभिनियोजित धन पर ब्याज दर प्रचलित नीति रेपो दर तक बढ़ जाएगी साथ ही 200 बीपीएस दिनों की संख्या के लिए इस तरह के फंड गैर-अभिनियोजित रहते हैं। इस वृद्धिशील ब्याज का भुगतान परिपक्वता के समय नियमित ब्याज के साथ करना होगा।

प्रश्न 9: टीएलटीआरओ 2.0 योजना के तहत, निर्दिष्ट पात्र लिखतों को प्राथमिक बाजार निर्गमन से पचास प्रतिशत और द्वितीयक बाजार से शेष पचास प्रतिशत तक प्राप्त करना होगा। क्या यह सीमा प्राथमिक और द्वितीयक बाजार के बीच प्रतिमोच्य (fungible) है?

उत्तर: बैंकों को निवेश में लचीलापन प्रदान करने के लिए, यह शर्त टीएलटीआरओ 2.0 के तहत प्राप्त धन के लिए लागू नहीं होगी।

प्रश्न 10: 15 अप्रैल 2020 को चौथे टीएलटीआरओ की घोषणा करते हुए भारतीय रिज़र्व बैंक ने सूचित किया कि एक विशेष बैंक अथवा किसी एक विशेष संस्था द्वारा जारी की गई प्रतिभूतियों या टीएलटीआरओ के तहत इसके द्वारा प्राप्त आबंटन के समूह द्वारा जारी की गई प्रतिभूतियों में निवेश करने वाली अधिकतम राशि को 10 प्रतिशत पर कैप किया जाएगा। क्या यह शर्त 15 अप्रैल 2020 से पहले आयोजित टीएलटीआरओ पर भी लागू है? क्या टीएलटीआरओ 2.0 के तहत धन के अभिनियोजन के लिए भी यह शर्त लागू होगी?

उत्तर: यह शर्तें केवल 17 अप्रैल 2020 को आयोजित चौथे टीएलटीआरओ पर लागू होती है। यह 17 अप्रैल 2020 से पहले आयोजित टीएलटीआरओ पर लागू नहीं होता है। यह टीएलटीआरओ 2.0 पर भी लागू नहीं होता है।

प्रश्न 11: क्या प्राथमिकता क्षेत्र के लक्ष्य / उप-लक्ष्य निर्धारित करने के उद्देश्य से टीएलटीआरओ फंड से प्राप्त की गई निर्दिष्ट प्रतिभूतियों और एचटीएम श्रेणी में रखे गए समायोजित नेट बैंक क्रेडिट (एएनबीसी) की गणना में शामिल किया जाएगा?

उत्तर: टीएलटीआरओ 2.0 योजना को अधिसूचित करने वाली 17 अप्रैल 2020 को जारी प्रेस विज्ञप्ति संख्या 2237/2019-2020 की शर्तों के अनुसार, योजना के तहत प्राप्त कुल निधियों का कम से कम 50 प्रतिशत 500 करोड़ रुपये और उससे नीचे की संपत्ति के आकार के छोटे एनबीएफसी द्वारा जारी निर्दिष्ट प्रतिभूतियों में 500 करोड़ रुपये और 5000 करोड़ रुपये और एमएफआई के बीच संपत्ति के आकार के मध्य आकार के एनबीएफ़सी में अभिनियोजित किया जाना आवश्यक है। इस योजना का उद्देश्य किसी भी तरलता तनाव और / या बाजार की पहुंच में बाधा डालना वाली बाधाओं को दूर करना है, जिनका सामना इन छोटी और मध्यम आकार की संस्थाओं को करना पड़ सकता है। इन संस्थाओं की निर्दिष्ट प्रतिभूतियों में बैंकों के निवेश को प्रोत्साहित करने के लिए, यह निर्णय लिया गया है कि बैंक प्राथमिकता वाले क्षेत्र के लक्ष्य / उप-लक्ष्य निर्धारित करने के उद्देश्य से समायोजित गैर-खाद्य बैंक ऋण (एएनबीसी) की गणना से एचटीएम श्रेणी में रखी गई ऐसी प्रतिभूतियों के अंकित मूल्य को बाहर कर सकते हैं। यह छूट केवल टीएलटीआरओ 2.0 के तहत प्राप्त धन पर लागू होती है।

प्रश्न 12: टीएलटीआरओ 2.0 पर 17 अप्रैल 2020 को जारी प्रेस विज्ञप्ति के पैरा 1 में कहा गया है कि टीएलटीआरओ 2.0 का उद्देश्य एनबीएफसी और एमएफआई सहित छोटे और मध्यम आकार के कॉरपोरेट को तरलता देना है। हालाँकि, पैरा 2 में यह कहा गया है कि टीएलटीआरओ 2.0 के तहत प्राप्त धन को निवेश ग्रेड बांड, वाणिज्यिक पत्र (सीपी) और गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (एनबीएफसी) और एमएफआई के गैर-परिवर्तनीय डिबेंचर (एनसीडी) में अभिनियोजित करना होगा। क्या टीएलटीआरओ 2.0 की वर्तमान किश्त केवल एनबीएफसी और एमएफआई के लिए लक्षित है?

उत्तर: टीएलटीआरओ 2.0 के तहत प्राप्त धनराशि को गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (एनबीएफसी) और एमएफआई के निवेश ग्रेड बॉन्ड, वाणिज्यिक पत्र (सीपी) और गैर-परिवर्तनीय डिबेंचर (एनसीडी) में अभिनियोजित किया जाना है, जैसाकि 17 अप्रैल 2020 को जारी प्रेस विज्ञप्ति में बताया गया है।

ऑन टैप टीएलटीआरओ / प्रत्यावर्तित टीएलटीआरओ / टीएलटीआरओ 2.0 के लेनदेन से संबंधित अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न 13: यदि कोई बैंक टीएलटीआरओ / टीएलटीआरओ 2.0 के तहत प्राप्त धन के पुनर्भुगतान का विकल्प लेता है, तो क्या इन निधियों का उपयोग करके बैंक द्वारा किए गए निवेश को परिपक्वता (एचटीएम) के तहत वर्गीकरण के लिए अनुमति दी जाएगी, यद्यपि कुल निवेश के 25 प्रतिशत से अधिक एचटीएम पोर्टफोलियो में शामिल करने की अनुमति है?

उत्तर: बैंक पुनर्भुगतान विकल्प का उपयोग करने के लिए अपना अनुरोध 28 अक्टूबर 2020 तक प्रस्तुत कर सकते हैं। टीएलटीआरओ / टीएलटीआरओ 2.0 के तहत प्राप्त धन के पुनर्भुगतान पर, संबंधित प्रतिभूतियों को एचटीएम श्रेणी से बाहर हस्तांतरित कर दिया जाएगा। एचटीएम में से टीएलटीआरओ /टीएलटीआरओ 2.0 निवेशों की शिफ्टिंग लेखांकन वर्ष की शुरुआत में अनुमत निवेशों के स्थानांतरण के अलावा बैंकों द्वारा निवेश पोर्टफोलियो और 01 जुलाई 2015 को जारी मास्टर सर्कुलर में निहित दिशा निर्देशों - वर्गीकरण, मूल्यांकन और संचालन के लिए विवेकपूर्ण मानदंडों के पालन के अधीन होगी। टीएलटीआरओ / टीएलटीआरओ 2.0 के तहत ये निवेश, जिनके खिलाफ धनराशि का भुगतान किया जा रहा है, उन्हें बड़े एक्सपोजर फ्रेमवर्क (एलईएफ) के तहत गणना और प्राथमिकता वाले क्षेत्र लक्ष्य / उप-लक्ष्य निर्धारित करने के उद्देश्य से समायोजित गैर-खाद्य बैंक ऋण (एएनबीसी) की गणना से छूट नहीं दी जाएगी।

प्रश्न 14: क्या बैंकों को पहले ऑन टैप टीएलआरओ योजना के तहत आरबीआई से ऋण लेने की आवश्यकता है और फिर पात्र परिसंपत्ति के तहत या वैकल्पिक रूप से संवितरण करना आवश्यक होगा, क्या बैंक पहले पात्र परिसंपत्ति निर्मित कर सकते हैं और फिर 31 मार्च 2021 से पहले धन प्राप्त कर सकते हैं?

उत्तर: बैंक विकल्पों में से किसी एक का उपयोग कर सकते हैं। हालाँकि, बैंक का अनुरोध आवेदन की तारीख के अनुसार धन की उपलब्धता के अधीन होगा, अर्थात, रू.1,00,000 करोड़ की कुल राशि का लाभ पहले से ही प्राप्त कर किया होगा, तो ऐसी स्थिति में धन की गारंटी नहीं दी जा सकती है।

 
   भारतीय रिज़र्व बैंक सर्वाधिकार सुरक्षित

इंटरनेट एक्सप्लोरर 5 और उससे अधिक के 1024 X 768 रिजोल्यूशन में अच्छी प्रकार देखा जा सकता है।