Download
the hindi
font
 
   हमारा परिचय     उपयोग सूचना     अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न     वित्तीय शिक्षण     शिकायतें   अन्य संपर्क     अतिरिक्त विषय 
 yeQEkeÀäe
 cegêe
 fJeosMer cegêe
 mejkeÀejr he´fleYetfle yeepeej
 äewj yeQEkeÀäe fJeÊer³e kebÀhefôe³eeb
 Yegäeleeôe he´Ceeuer
nesce >> FAQs - Display
Date: 17/11/2021
एनईएफटी प्रणाली

(17 नवंबर 2021 तक अद्यतन)

1. राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिक निधि अंतरण (एनईएफटी) प्रणाली क्या है?

उत्तर: राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिक निधि अंतरण (एनईएफटी) एक राष्ट्रव्यापी केंद्रीकृत भुगतान प्रणाली है जिसका स्वामित्व और परिचालन भारतीय रिज़र्व बैंक (आरबीआई) करता है। इस प्रणाली में भाग लेने वाले विभिन्न हितधारकों द्वारा अपनाई जाने वाली प्रक्रियाओं का संग्रह निम्नलिखित लिंक के तहत आरबीआई की वेबसाइट पर उपलब्ध है:

https://rbidocs.rbi.org.in/rdocs/Content/PDFs/NEFPG300411.pdf

2. एनईएफटी प्रणाली का उपयोग करने के लाभ क्या-क्या हैं?

उत्तर: एनईएफटी निधि अंतरण अथवा प्राप्ति के लिए निम्नलिखित सुविधाएं प्रदान करता है:

  • वर्ष के सभी दिन चौबीसों घंटे उपलब्धता।

  • लाभार्थी के खाते में लगभग तत्काल समय में निधि अंतरण और सुरक्षित तरीके से निपटान।

  • सभी प्रकार के बैंकों की शाखाओं के बड़े नेटवर्क के माध्यम से अखिल भारतीय कवरेज।

  • लाभार्थी के खाते में जमा होने पर एसएमएस / ई-मेल द्वारा धन-विप्रेषक को सकारात्मक पुष्टि।

  • जमा अथवा लेनदेन की वापसी में देरी के लिए दंडात्मक ब्याज का प्रावधान।

  • आरबीआई द्वारा बैंकों से कोई प्रभार नहीं लिया जाता है।

  • ऑनलाइन एनईएफटी लेनदेन के लिए बचत बैंक खाता ग्राहकों से कोई प्रभार नहीं।

  • निधि अंतरण के अलावा, एनईएफटी प्रणाली का उपयोग विभिन्न प्रकार के लेनदेन के लिए किया जा सकता है जिसमें कार्ड जारी करने वाले बैंकों को क्रेडिट कार्ड की बकाया राशि का भुगतान, ऋण ईएमआई का भुगतान, आवक विदेशी मुद्रा विप्रेषण, आदि शामिल हैं।

  • भारत से नेपाल के लिए एकतरफा धन अंतरण के लिए यह उपलब्ध है।

3. एनईएफटी प्रणाली कैसे काम करती है?

उत्तर: एनईएफटी लेनदेन का चरण-वार प्रवाह निम्नलिखित है-

चरण-1: कोई व्यक्ति / फर्म / कॉर्पोरेट यदि एनईएफटी के माध्यम से निधि अंतरित करना चाहता है, तो वह ऑनलाइन निधि अंतरण अनुरोध शुरू करने के लिए अपने बैंक द्वारा दी जाने वाली इंटरनेट / मोबाइल बैंकिंग सुविधा का उपयोग कर सकता है। धन-प्रेषक को लाभार्थी का विवरण जैसे, लाभार्थी का नाम, उस बैंक शाखा का नाम जहां लाभार्थी का खाता है, लाभार्थी की बैंक शाखा का आईएफएससी, खाता प्रकार और खाता संख्या, आदि, लाभार्थी को उनके इंटरनेट / मोबाइल बैंकिंग मॉड्यूल के साथ जोड़ने के लिए प्रदान करना होगा। सफलतापूर्वक लाभार्थी के जुड़ने पर, धन-प्रेषक अपने खाते में डेबिट को प्राधिकृत करके ऑनलाइन एनईएफटी धन अंतरण आरंभ कर सकता है। वैकल्पिक रूप से, धन-प्रेषक शाखा / ऑफलाइन मोड के जरिए एनईएफटी निधि अंतरण आरंभ करने के लिए अपनी बैंक शाखा में भी जा सकता है। ग्राहक को बैंक शाखा में उपलब्ध एनईएफटी आवेदन पत्र में लाभार्थी का विवरण भरना होगा और एनईएफटी आवेदन पत्र में अनुरोधित राशि की सीमा तक शाखा को उसके खाते से डेबिट करने के लिए प्राधिकृत करना होगा।

चरण-2: मूल बैंक एक संदेश तैयार करता है और संदेश को अपने पूलिंग केंद्र को भेजता है, जिसे एनईएफटी सेवा केंद्र भी कहा जाता है।

चरण-3: पूलिंग केंद्र अगले उपलब्ध बैच में शामिल किए जाने के लिए आरबीआई द्वारा संचालित एनईएफटी समाशोधन केंद्र को संदेश अग्रेषित करता है।

चरण-4: समाशोधन केंद्र निधि अंतरण संबंधी लेनदेनों को लाभार्थी बैंक-वार के रूप में क्रमबद्ध करता है और मूल बैंकों (डेबिट) से धन प्राप्त करने और लाभार्थी बैंकों (क्रेडिट) को धन देने के लिए लेखांकन प्रविष्टियां तैयार करता है। इसके बाद, बैंक-वार धन-प्रेषण संदेशों को लाभार्थी बैंकों को उनके पूलिंग केंद्र (एनईएफटी सेवा केंद्र) के माध्यम से भेजे जाते हैं।

चरण-5: लाभार्थी बैंक समाशोधन केंद्र से आवक धन-प्रेषण संदेश प्राप्त करते हैं और लाभार्थी ग्राहकों के खातों में क्रेडिट भेज देते हैं।

4. भारतीय वित्तीय प्रणाली कूट (आईएफएससी) क्या है?

उत्तर: आईएफएससी अथवा भारतीय वित्तीय प्रणाली कूट एक अल्फा-न्यूमेरिक कोड है जो एनईएफटी प्रणाली में भाग लेने वाली बैंक-शाखा की पहचान विशिष्ट रूप से करता है। यह 11 अंकों का एक कोड है जिसमें पहले 4 अल्फा वर्ण बैंक को दर्शाते हैं, और अंतिम 6 वर्ण शाखा को दर्शाते हैं। पाँचवाँ वर्ण 0 (शून्य) होता है। आईएफएससी का उपयोग एनईएफटी प्रणाली द्वारा मूल / गंतव्य बैंकों / शाखाओं की पहचान करने और संबंधित बैंकों / शाखाओं को उचित रूप से संदेश भेजने के लिए किया जाता है।

5. मैं किसी बैंक-शाखा का आईएफएससी कैसे खोज सकता हूँ?

उत्तर: आईएफएससी की बैंक-वार सूची एनईएफटी योजना में भाग लेने वाली सभी बैंक-शाखाओं के पास उपलब्ध होता है। एनईएफटी में भाग लेने वाली बैंक-वार शाखाओं की सूची और उनका आईएफएससी आरबीआई की वेबसाइट https://www.rbi.org.in/Scripts/bs_viewcontent.aspx?Id=2009 पर भी उपलब्ध है। सभी सदस्य बैंकों को यह भी सूचित किया गया है कि वे अपने ग्राहकों को जारी किए जाने वाले चेक पर भी शाखा का आईएफएससी मुद्रित करें।

6. निधि अंतरण / प्राप्ति के लिए एनईएफटी प्रणाली की सुविधा का लाभ कौन उठा सकता है?

उत्तर: एनईएफटी प्रणाली में भाग लेने वाले किसी भी सदस्य बैंक के साथ खाते रखने वाले व्यक्ति, फर्म और कॉर्पोरेट, एनईएफटी प्रणाली में भाग लेने वाले देश के किसी भी अन्य बैंक के साथ खाता रखने वाले किसी भी व्यक्ति, फर्म अथवा कॉर्पोरेट को इलेक्ट्रॉनिक रूप से धन अंतरित कर सकते हैं।

एनईएफटी में भाग लेने वाली बैंक-वार शाखाओं की सूची आरबीआई की वेबसाइट http://www.rbi.org.in/scripts/neft.aspx पर उपलब्ध है।

7. क्या एनईएफटी प्रणाली के माध्यम से धन / राशि के विप्रेषण की कोई सीमा है?

उत्तर: नहीं, एनईएफटी प्रणाली के माध्यम से धन-अंतरण के लिए आरबीआई द्वारा कोई सीमा निर्धारित नहीं की गई है। तथापि, बैंक अपने बोर्ड के अनुमोदन से अपनी जोखिम बोध के आधार पर राशि सीमा का निर्धारण कर सकते हैं।

8. क्या एनईएफटी प्रणाली का उपयोग उन लोगों द्वारा भी धन-प्रेषण के लिए किया जा सकता है जिनके पास बैंक खाता नहीं है?

उत्तर: हां, जिस व्यक्ति का कोई बैंक खाता नहीं है, वह किसी अन्य एनईएफटी सदस्य बैंक के साथ एक बैंक खाता रखने वाले लाभार्थी को एनईएफटी के माध्यम से धन प्रेषित कर सकता है। यह किसी भी बैंक की निकटतम एनईएफटी सक्षम शाखा में नकद जमा करके, अतिरिक्त विवरण जैसे पूरा पता, टेलीफोन नंबर, आदि प्रस्तुत करके किया जा सकता है। तथापि, इस तरह के नकद विप्रेषण अधिकतम 50,000/- प्रति लेनदेन तक सीमित होंगे।

9. क्या मैं विदेश में रह रहे अपने रिश्तेदार / मित्र को एनईएफटी प्रणाली के माध्यम से धनराशि प्रेषित कर सकता हूं?

उत्तर: एनईएफटी प्रणाली के माध्यम से जावक धन-प्रेषण के लिए भारत-नेपाल धन-प्रेषण योजना के तहत केवल नेपाल को अनुमति है। इस योजना के तहत, धन-प्रेषक भारत में किसी भी एनईएफटी-सक्षम बैंक शाखा से नेपाल को धन अंतरित कर सकता है, भले ही नेपाल में लाभार्थी नेपाल में किसी बैंक शाखा के साथ खाता रखता हो अथवा नहीं। लाभार्थी को नेपाली रुपये में धन प्राप्त होगा। भारत-नेपाल धन-प्रेषण सुविधा योजना का विवरण आरबीआई की वेबसाइट https://rbi.org.in/scripts/FAQView.aspx?Id=67 पर उपलब्ध है।

10. एनईएफटी के परिचालन का समय क्या है?

उत्तर: एनईएफटी प्रणाली पूरे वर्ष भर सभी दिन चौबीसों घंटे, अर्थात 24x7x365 आधार पर, उपलब्ध है। एनईएफटी वर्तमान में पूरे दिन में आधे घंटे के अंतराल पर बैचों में परिचालित होता है। किसी भी कारण से एनईएफटी की अनुपलब्धता के मामले में, आरबीआई द्वारा प्रणाली के सभी सहभागियों को उपयुक्त संदेश प्रसारित किया जाएगा।

11. एनईएफटी प्रणाली के माध्यम से धन-प्रेषण के लिए अपेक्षित आवश्यक विवरण क्या हैं?

उत्तर: लाभार्थी की पहचान के आवश्यक तत्व हैं:

लाभार्थी का नाम

लाभार्थी की शाखा का नाम

लाभार्थी के बैंक का नाम

लाभार्थी के खाता का प्रकार

लाभार्थी की खाता संख्या

लाभार्थी की शाखा का आईएफएससी

12. एनईएफटी लेनदेनों के लिए बैंक द्वारा ग्राहक पर कौन-कौन से प्रभार लगाए जाते हैं?

उत्तर: आरबीआई एनईएफटी लेनदेनों के लिए सदस्य बैंकों से कोई प्रभार नहीं लेता है। साथ ही, लाभार्थी के खातों में क्रेडिट देने के लिए गंतव्य बैंक शाखाओं में आवक लेनदेनों के लिए भी कोई प्रभार नहीं लगाया जाता है।

जावक लेनदेनों के लिए, एनईएफटी लेनदेन हेतु बैंक अपने ग्राहक से जो अधिकतम प्रभार वसूल सकता है, वे इस प्रकार हैं:

ए) 01 जनवरी 2020 से बैंकों को सूचित किया गया है कि वे अपने बचत बैंक खाताधारकों से ऑनलाइन शुरू किए गए एनईएफटी निधि अंतरणों के लिए कोई प्रभार न वसूलें।

बी) अन्य लेनदेनों के लिए मूल बैंक में जावक लेनदेनों के लिए लगाए जानेवाले अधिकतम प्रभार –

  • 10,000 तक के लेनदेनों के लिए: 2.50 से अधिक नहीं (+ लागू जीएसटी)

  • 10,000 से अधिक और 1 लाख तक के लेनदेन के लिए: 5 से अधिक नहीं (+ लागू जीएसटी)

  • 1 लाख से अधिक और 2 लाख तक के लेनदेन के लिए: 15 से अधिक नहीं (+ लागू जीएसटी)

  • 2 लाख से अधिक के लेनदेन के लिए: 25 से अधिक नहीं (+ लागू जीएसटी)

सी) भारत-नेपाल धन-प्रेषण सुविधा योजना के तहत एनईएफटी प्रणाली का उपयोग करके भारत से नेपाल को धन अंतरित करने के लिए लागू प्रभारों के बारे में विवरण आरबीआई की वेबसाइट https://rbi.org.in/scripts/FAQView.aspx?Id=67 पर उपलब्ध है।

13. क्या मैं एनईएफटी का उपयोग एनआरई और एनआरओ खातों से / में निधि अंतरण करने के लिए कर सकता हूं?

उत्तर: हां, एनईएफटी का उपयोग देश में एनआरई और एनआरओ खातों से / में धनराशि अंतरित करने के लिए किया जा सकता है। तथापि, यह विदेशी मुद्रा प्रबंध अधिनियम, 2000 (फेमा) और वायर ट्रांसफर दिशानिर्देशों के प्रावधानों के अनुपालन के अधीन है।

14. क्या मैं किसी अन्य खाते से धन निकालने / प्राप्त करने के लिए एनईएफटी लेनदेन शुरू कर सकता हूं?

उत्तर: नहीं। एनईएफटी एक क्रेडिट-प्रेरित प्रणाली है अर्थात, भुगतानकर्ता / धन-प्रेषक / विप्रेषक द्वारा केवल लाभार्थी को निधियों के भुगतान / अंतरण / धन-प्रेषण करने के लिए लेनदेन की शुरुआत की जा सकती है।

15. मैं शुरू किए गए एनईएफटी लेनदेन की स्थिति को कैसे ट्रैक कर सकता हूं? एनईएफटी लेनदेन की स्थिति जानने के लिए किससे संपर्क किया जाना चाहिए?

उत्तर: विप्रेषक और लाभार्थी क्रमशः अपने बैंक के एनईएफटी ग्राहक सुविधा केंद्र (सीएफसी) से संपर्क करके एनईएफटी लेनदेन की स्थिति को जान सकते हैं। बैंकों के एनईएफटी ग्राहक सुविधा केंद्र का विवरण संबंधित बैंकों की वेबसाइटों पर उपलब्ध है। सदस्य बैंकों के ग्राहक सुविधा केंद्र का विवरण आरबीआई की वेबसाइट https://www.rbi.org.in/Scripts/bs_viewcontent.aspx?Id=2070 पर भी उपलब्ध है।

लेनदेन की ट्रैकिंग तेजी से करने के उद्देश्य से, आपको अपने बैंक को लेनदेन से संबंधित कुछ विवरण जैसे कि विशिष्ट लेनदेन संदर्भ (यूटीआर) संख्या / लेनदेन संदर्भ संख्या, लेनदेन की तारीख आदि प्रदान करने की आवश्यकता है।

16. भारतीय रिज़र्व बैंक में हेल्प डेस्क / संपर्क केंद्र क्या है?

उत्तर: आप निम्नलिखित पते पर आरबीआई के एनईएफटी हेल्प डेस्क / संपर्क केंद्र से संपर्क कर सकते हैं:

एनईएफटी हेल्प डेस्क (अथवा आरबीआई का ग्राहक सुविधा केंद्र), प्राथमिक डेटा सेंटर (पीडीसी), आरबीआई, सीबीडी बेलापुर, नवी मुंबई, महाराष्ट्र- 410210.

17. लाभार्थी द्वारा निधियों की प्राप्ति के लिए मुझे कितने समय की अपेक्षा करनी चाहिए?

उत्तर: आप बैच निपटान से दो घंटे की समयावधि की उम्मीद कर सकते हैं जिसके भीतर लाभार्थी के खाते को क्रेडिट किया जाना चाहिए।

18. यदि लाभार्थी को धन जमा नहीं किया जाता है तो क्या होगा? या अथवा यदि विभिन्न कारणों से लाभार्थी को धन जमा नहीं किया जाता है, तो क्या मुझे अपना पैसा वापस मिल जाता है?

उत्तर: यदि किसी भी कारण से लाभार्थी के खाते में जमा करना संभव नहीं है, तो गंतव्य बैंकों को उस बैच के पूरा होने के दो घंटे के भीतर लेनदेन (मूल शाखा को) वापस करना आवश्यक है जिसमें लेनदेन संसाधित किया गया था।

19. लाभार्थी बैंक द्वारा विलंबित जमा अथवा धन की वापसी के लिए दंड / क्षतिपूर्ति क्या है?

उत्तर: यदि बैच निपटान के बाद दो घंटे के भीतर एनईएफटी लेनदेन क्रेडिट अथवा वापस नहीं किया जाता है, जैसा भी मामला हो, तो बैंक प्रभावित ग्राहक को देरी वाली अवधि के लिए / जमा अथवा रिफंड की तारीख तक के लिए वर्तमान आरबीआई एलएएफ रेपो दर में दो प्रतिशत और जोड़कर दंडात्मक व्याज का भुगतान ग्राहक के खाते में, ग्राहक द्वारा इस संबंध में दर्ज किए जाने वाले विशिष्ट दावे की प्रतीक्षा किए बिना, करने के लिए उत्तरदायी है।

20. यदि मैं लाभार्थी का गलत खाता संख्या लिख दूं तो क्या होगा?

उत्तर: जमा धन-प्रेषक द्वारा उनके आवेदन / अनुदेश में लिखे / दिए गए खाता संख्या को दिया जाता है। लाभार्थी के खाते में क्रेडिट पूरी तरह से खाता संख्या के आधार पर किया जाता है। सही खाता संख्या लिखना धन-प्रेषक ग्राहक की ज़िम्मेदारी है। एनईएफटी विप्रेषण अनुदेश / आवेदन में लाभार्थी की सही खाता संख्या प्रदान करने में प्रवर्तक / विप्रेषक को उचित सावधानी बरतनी चाहिए।

21. एनईएफटी लेनदेन से संबंधित विवाद / शिकायत के लिए मुझे किससे संपर्क करना चाहिए?

उत्तर: आप विवादित लेनदेन के विवरण के साथ अपने बैंक के शिकायत निवारण कक्ष से संपर्क कर सकते हैं। यदि आपकी शिकायत का 30 दिनों के भीतर समाधान नहीं होता है, तो आप "रिज़र्व बैंक-एकीकृत लोकपाल योजना (आरबी-आईओएस, 2021)" के तहत शिकायत कर सकते हैं। आरबी-आईओएस, 2021 ग्राहकों को उसमें निर्दिष्ट आरबीआई विनियमित संस्थाओं के विरुद्ध शिकायत दर्ज करने के लिए एकल संदर्भ केंद्र प्रदान करता है। आरबी-आईओएस, 2021 आरबीआई की वेबसाइट पर निम्नलिखित लिंक के अंतर्गत उपलब्ध है:
https://rbidocs.rbi.org.in/rdocs/content/pdfs/RBIOS2021_121121.pdf.

22. मैं आरबी-आईओएस, 2021 के तहत शिकायत कैसे दर्ज करा सकता हूं?

उत्तर: शिकायतें https://cms.rbi.org.in पर ऑनलाइन दर्ज की जा सकती हैं अथवा समर्पित ई-मेल के माध्यम से अथवा भारतीय रिज़र्व बैंक, चौथी मंजिल, सेक्टर 17, चंडीगढ़-160017 में स्थापित 'सेंट्रलाइज्ड रिसीप्ट एण्ड प्रोसेसिंग सेंटर' को https://rbidocs.rbi.org.in/rdocs/content/pdfs/RBIOS2021_121121_A.pdf. लिंक के अंतर्गत दिए प्रारूप में भौतिक रूप में भेजी जा सकती हैं। एक टोल-फ्री नंबर - 14448 (सुबह 9:30 से शाम 5:15 बजे तक) - ग्राहकों के लिए बहुभाषी समर्थन के साथ शिकायत दर्ज करने और शिकायत निवारण पर जानकारी प्राप्त करने में सहायता के लिए भी उपलब्ध है।

 
   भारतीय रिज़र्व बैंक सर्वाधिकार सुरक्षित

इंटरनेट एक्सप्लोरर 5 और उससे अधिक के 1024 X 768 रिजोल्यूशन में अच्छी प्रकार देखा जा सकता है।