अधिसूचनाएं

मास्टर निदेश – भारतीय रिज़र्व बैंक (सरकारी क्षेत्र के बैंकों के बोर्ड पर निर्वाचित निदेशकों के लिए 'उचित और उपयुक्त' मानदंड) निदेश, 2019

भारिबैं/बैंविवि/2019-20/71
मास्टर निदेश बैंविवि.नियु.सं.9/29.67.001/2019-20

2 अगस्त 2019

मास्टर निदेश – भारतीय रिज़र्व बैंक (सरकारी क्षेत्र के बैंकों के बोर्ड पर निर्वाचित निदेशकों के लिए 'उचित
और उपयुक्त' मानदंड) निदेश, 2019

भारतीय स्टेट बैंक अधिनियम,1955 (इसके बाद एसबीआई अधिनियम कहा जाएगा) की धारा 19क की उप धारा (2), बैंककारी कंपनी (उपक्रमों का अर्जन और अंतरण) अधिनियम, 1970/80 की धारा 9 की उप धारा (3 कक) और (3 कख) अधीन प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए भारतीय रिज़र्व बैंक (इसके बाद रिज़र्व बैंक कहा जाएगा), इस बात से संतुष्ट होने पर कि ऐसा करना जनहित में आवश्यक और समीचीन है, एततद्वारा सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के बोर्ड में निदेशक के रूप में चुने जाने के लिए पात्र होने वाले व्यक्ति की 'उचित और उपयुक्त' स्थिति निर्धारित करने के लिए प्राधिकरण, तरीके, प्रक्रिया और मानदंडों को निर्दिष्ट करता है, और नीचे दिए गए निदेश जारी करता है।

अध्याय - 1
प्रस्तावना

1. लघु शीर्षक और आरंभ

(ए) इन निदेशों को भारतीय रिजर्व बैंक (सरकारी क्षेत्र के बैंकों के बोर्ड पर निर्वाचित निदेशकों के लिए 'उचित और उपयुक्त' मानदंड) निदेश, 2019 कहा जाएगा।

(बी) ये निदेश उस दिन से लागू होंगे जिस दिन इन्हें रिज़र्व बैंक की आधिकारिक वेबसाइट (www.rbi.org.in) पर डाला गया है।

2. परिसीमा

ये निदेश सरकारी क्षेत्र के बैंकों पर लागू होंगे।

3. परिभाषाएं

(ए) इन निदेशों में, जब तक संदर्भ के अनुसार अन्यथा किए जाने की आवश्यकता नहीं है, यहां दी गई शर्तें उन्हें नीचे दिए गए अर्थों के अनुसार होंगे।

  1. "निदेशक मंडल" या "बोर्ड", एक बैंक के संबंध में, बैंक के निदेशकों की सामूहिक निकाय से है।

  2. "अध्यक्ष" का से तात्पर्य किसी बैंक के निदेशक मंडल के अध्यक्ष/ अंशकालिक अध्यक्ष से है।

  3. "संबंधित नया बैंक" बैंककारी कंपनी (उपक्रमों का अर्जन और अंतरण) अधिनियम, 1970/1980 में परिभाषित किए अनुसार है।

  4. निदेशक" से तात्पर्य एक बैंक के बोर्ड में नियुक्त निदेशक से है।

  5. "निर्वाचित/ शेयरधारक निदेशक" से तात्पर्य भारतीय स्टेट बैंक अधिनियम की धारा 19 (ग) और बैंककारी कंपनी (उपक्रमों का अर्जन और अंतरण) अधिनियम, 1970/1980 की धारा 9 की उपधारा (3) के खंड(i) में संदर्भित निदेशक से है।

  6. "भारत सरकार नामित निदेशक" से तात्पर्य भारतीय स्टेट बैंक अधिनियम की धारा 19(ई) और बैंककारी कंपनी (उपक्रमों का अर्जन और अंतरण) अधिनियम, 1970/1980 की धारा 9(3)(बी) में उल्लिखित निदेशक से है।

  7. "स्वतंत्र निदेशक" कंपनी अधिनियम, 2013 में परिभाषित अनुसार होगा।

  8. "राष्ट्रीयकृत बैंक" से तात्पर्य बैंककारी कंपनी (उपक्रमों का अर्जन और अंतरण) अधिनियम, 1970/1980 की धारा 3 की उपधारा (1) के अंतर्गत गठित ‘संदर्भित नए बैंक’ से है।

  9. "गैर-सरकारी निदेशक"से तात्पर्य बैंककारी कंपनी (उपक्रमों का अर्जन और अंतरण) अधिनियम, 1970/1980 की धारा 9(3)(छ), (ज) और (झ), और भारतीय स्टेट बैंक अधिनियम की धारा 19(ग) और (घ) में उल्लिखित निदेशक से है।

  10. गैर-ऑपरेटिव वित्तीय होल्डिंग कंपनी (एनओएफ़एचसी) से तात्पर्य एक गैर-जमा लेने वाले एनबीएफसी से है जो एक बैंकिंग कंपनी के शेयरों और अपने समूह के अन्य सभी वित्तीय सेवा कंपनियों के शेयरों को धारण करता है, चाहे वह लागू नियामक प्रिस्क्रिप्शन के तहत स्वीकार्य सीमा तक रिज़र्व बैंक या किसी अन्य वित्तीय नियामक द्वारा विनियमित हो.

  11. "सरकारी क्षेत्र का बैंक" से तात्पर्य भारतीय स्टेट बैंक और राष्ट्रीयकृत बैंकों से है।

  12. "भारतीय स्टेट बैंक" से तात्पर्य भारतीय स्टेट बैंक अधिनियम, 1955 की धारा 3 के अंतर्गत गठित भारतीय स्टेट बैंक से है।

(बी) अन्य सभी अभिव्यक्तियां जब तक अन्यथा परिभाषित न हो, उनका वही अर्थ होगा जो बैंककारी विनियमन अधिनियम या भारतीय स्टेट बैंक अधिनियम या बैंककारी कंपनी (उपक्रमों का अर्जन और अंतरण) अधिनियम, 1970/1980 या कंपनी अधिनियम, 2013 या किसी सांविधिक संशोधन या उसका पुन: अधिनियमन या सेबी दिशानिर्देश या रिजर्व बैंक द्वारा कहीं और परिभाषित या वाणिज्यिक भाषा में इस्तेमाल किया गया है, जैसा भी मामला हो।

अध्याय- II
निर्वाचित निदेशकों की नियुक्ति

4. भारतीय स्टेट बैंक और राष्ट्रीयकृत बैंकों के बोर्डों पर निर्वाचित निदेशकों के लिए ‘उचित एवं उपयुक्त’ मानदंड:

प्राधिकार

4.1 सभी बैंकों को एक नामांकन और पारिश्रमिक समिति का गठन करना आवश्यक है (इसके बाद से समिति के रूप में संदर्भित किया जाएगा) जिसके निदेशक मंडल में कम से कम तीन गैर-कार्यकारी निदेशक शामिल हों [बाद में बोर्ड के रूप में संदर्भित], जिसमें कम से कम आधे स्वतंत्र निदेशक होंगे और बोर्ड के जोखिम प्रबंधन समिति के कम से कम एक सदस्य को बैंककारी कंपनी (उपक्रमों का अर्जन और अंतरण) अधिनियम, 1970/1980 की धारा 9 की उपधारा (3) के खंड (i)/ एसबीआई अधिनियम की धारा 19 की उप-धारा (सी) के तहत निदेशक के रूप में चुने जाने के लिए व्यक्तियों के 'उचित और उपयुक्त' के निर्धारण हेतु उचित प्रक्रिया को चलाने के लिए शामिल किया जाना चाहिए। भारत सरकार नामित निदेशक और निदेशक एसबीआई अधिनियम की धारा 19 (एफ) और बैंककारी कंपनी (उपक्रमों का अर्जन और अंतरण) अधिनियम, 1970/1980 धारा 9 (3) (ग) के तहत नामित निदेशक समिति का हिस्सा नहीं होंगे। बैंक के गैर-कार्यकारी अध्यक्ष समिति के सदस्य हो सकते हैं परन्तु समिति के अध्यक्ष नहीं। बोर्ड उनके बीच से किसी एक को समिति का अध्यक्ष नामित करेगी। कोरम पूरा करने के लिए अध्यक्ष सहित तीन की आवश्यकता है। किसी भी नामित सदस्य की अनुपस्थिति में कोरम पूरा करने के लिए, बैठक के लिए उनके स्थान पर किसी अन्य गैर-कार्यकारी निदेशक को बोर्ड नामित कर सकता है। समिति के गठन के समय, बोर्ड अपने कार्यकाल पर निर्णय ले सकता है।

प्रणाली और प्रक्रिया

4.2 चयन के लिए नामांकन दाखिल करने वाले व्यक्तियों से बैंकों को में बैंकों को आवश्यक जानकारी, और एक घोषणा और वचन पत्र संलग्न प्रारूप में (अनुलग्नक 1) प्राप्त करना होगा। समिति नामांकन की स्वीकृति के लिए निर्धारित अंतिम तिथि के बाद बैठक करेगी और नीचे दिए गए मानदंडों के आधार पर व्यक्ति की उम्मीदवारी को स्वीकार किया जाना चाहिए या नहीं, निर्धारित करेगी। समिति की चर्चा को बैठक के औपचारिक कार्यवृत्त के रूप में दर्ज किया जाएगा और यदि मतदान किया जाता है, तो यह भी नोट किया जाएगा। हस्ताक्षरित घोषणा में प्रदान की गई जानकारी के आधार पर, समिति उम्मीदवारी की स्वीकृति या अन्यथा पर निर्णय लेगी और जहां आवश्यक हो, उपयुक्त प्राधिकारी/ व्यक्तियों को संदर्भित करेगा कि दर्शाए गए आवश्यकताओं के अनुरूप उम्मीदवारी है।

मानदंड

4.3 समिति यहां उल्लिखित व्यापक मानदंडों के आधार पर प्रस्तावित उम्मीदवारों की 'उचित और उपयुक्त' स्थिति का निर्धारण करेगी:

(i) आयु- चयन के लिए नामांकन जमा करने की निर्धारित तिथि के अनुसार उम्मीदवार की आयु 35 से 67 वर्ष के बीच होनी चाहिए।

(ii) शैक्षणिक योग्यता - उम्मीदवार कम से कम स्नातक होना चाहिए।

(iii) अनुभव और विशेषज्ञता का क्षेत्र — उम्मीदवार को भारतीय रिज़र्व बैंक के दिनांक 24 नवंबर 2016 के परिपत्र डीबीआर.एपीपीटी.बीसी सं.39/29.39.001/2016-17 के साथ पठित बैंककारी कंपनी (उपक्रमों का अर्जन और अंतरण) अधिनियम, 1970/1980 की धारा 9 (3क)(क)/ एसबीआई अधिनियम की धारा 19क(क) में उल्लिखित अनुसार एक या अधिक मामलों के संबंध में, जैसा भी मामला हो, विशेष ज्ञान या व्यावहारिक अनुभव हो।

(iv) अयोग्यता: एसबीआई अधिनियम, 1955 की धारा 22 में निर्धारित/ राष्ट्रीयकृत बैंकों (प्रबंधन और विविध प्रावधान), 1970/80 योजना के खंड 10 ‘निदेशकों की अयोग्यता’ के अलावा:

(ए) उम्मीदवार किसी भी बैंक या रिज़र्व बैंक या वित्तीय संस्थान (एफआई) या बीमा कंपनी या किसी अन्य बैंक के एनओएफएचसी के बोर्ड का सदस्य नहीं होने चाहिए।

स्पष्टीकरण: इस उप-पैरा और उप-पैरा (ग) के प्रयोजन के लिए, अभिव्यक्ति "बैंक" में एक बैंकिंग कंपनी, एक नया बैंक, भारतीय स्टेट बैंक, एक सहकारी बैंक और एक क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक शामिल होंगे।

(ख) किराया खरीद, वित्तपोषण, धन उधार, निवेश, पट्टेदारी और अन्य पैरा बैंकिंग गतिविधियों से जुड़े व्यक्ति को पीएसबी के बोर्ड में निर्वाचित निदेशक के रूप में नियुक्ति के लिए मान्य नहीं होंगे। हालांकि, ऐसी संस्थाओं के निवेशकों को निदेशक के रूप में नियुक्ति के लिए अयोग्य घोषित नहीं किया जाएगा, अगर वे उनमें किसी प्रबंधकीय नियंत्रण में नहीं हो।

(ग) ऐसा कोई व्यक्ति निर्वाचित/ पुन: निर्वाचित नहीं हो जिन्होंने छ: वर्ष तक लगातार अथवा अंतराल पर किसी भी बैंक/ वित्तीय संस्था/ आरबीआई/ बीमा कंपनी के बोर्ड1 में पूर्व में निदेशक के रूप में सेवा प्रदान नहीं किया हो।

(घ) उम्मीदवार स्टॉक ब्रोकिंग के व्यवसाय से जुड़ा नहीं होना चाहिए।

(ङ) उम्मीदवार संसद या राज्य विधानमंडल या नगर निगम या नगर पालिका या अन्य स्थानीय निकायों2 का सदस्य नहीं होना चाहिए।

(च) उम्मीदवार ऐसी किसी चार्टर्ड एकाउंटेंट फर्म के साझेदार के रूप में कार्य न कर रहा हो जो वर्तमान में किसी राष्ट्रीयकृत बैंक या भारतीय स्टेट बैंक के सांविधिक केंद्रीय लेखा परीक्षक के रूप में कार्य कर रही हो।

(छ) उम्मीदवार ऐसी किसी चार्टर्ड एकाउंटेंट फर्म के साझेदार के रूप में कार्य न कर रहा हो जो वर्तमान में उस बैंक में सांविधिक शाखा लेखा परीक्षक या समवर्ती लेखा परीक्षक के रूप में कार्य कर रही हो, जिसमें चयन के लिए नामांकन दाखिल किया गया है।

(v) कार्यावधि – निर्वाचित निदेशक तीन साल के लिए पद धारण करेंगे और पुन: चयन के लिए पात्र होंगे: बशर्ते कि ऐसे कोई भी निदेशक, निरंतर या अंतराल सहित, छह वर्ष3 से अधिक की अवधि के लिए पद धारण नहीं करेंगे।

vi) व्यावसायिक प्रतिबंध -

(क) उम्मीदवार का न तो संबंधित बैंक के साथ कोई व्यावसायिक संबंध (कानूनी सेवाओं, सलाहकार सेवाओं सहित) होना चाहिए और न ही ऐसी गतिविधियों में शामिल होना चाहिए, जिसके परिणामस्वरूप उस बैंक के साथ व्यावसायिक हितों का टकराव हो सकता है।

(ख) उम्मीदवार का किसी बैंक या किसी अन्य बैंक को धारित करने वाली एनओएफ़एचसी के साथ कोई व्यावसायिक संबंध नहीं होना चाहिए। बशर्ते कि चयन के लिए नामांकन दाखिल करते समय किसी बैंक के साथ इस तरह के संबंध रखने वाले उम्मीदवार को मद (ख) की अपेक्षाओं को पूर्ण करने वाला माना जाएगा, और उम्मीदवार समिति को यह घोषणा प्रस्तुत करेगा कि यदि वह निदेशक के रूप में निर्वाचित होता है तो बैंक के साथ संबंध समाप्त कर देगा और निर्वाचित होने पर बैंक के निदेशक के रूप में नियुक्ति से पहले ऐसे संबंध समाप्त कर देता है।

(vii) ट्रैक रिकॉर्ड और सत्यनिष्ठा - उम्मीदवार को किसी भी विनियामक या पर्यवेक्षी प्राधिकरण /एजेंसी, या कानून प्रवर्तन एजेंसी की प्रतिकूल निगरानी के तहत नहीं होना चाहिए और किसी भी ऋणदाता संस्था का चूककर्ता नहीं होना चाहिए।

5. बैंक निर्वाचित निदेशक से निम्नलिखित प्राप्त करेगा:

(क) ऐसे व्यक्ति द्वारा निदेशक का पद ग्रहण करने से पहले, अनुबंध में दिए गए फॉर्मेट (अनुबंध 2) में निष्पादित प्रसंविदा विलेख।

(ख) हर वर्ष 31 मार्च की स्थिति के अनुसार इस आशय की एक साधारण घोषणा कि ऐसे व्यक्ति द्वारा पहले से उपलब्ध कराई गई जानकारी में कोई परिवर्तन नहीं हुआ है।

(ग) जहां निर्वाचित निदेशक ने सूचित किया है कि पहले दी गई सूचना में परिवर्तन है, बैंक ऐसे निदेशक से नया अनुबंध 1 प्राप्त करेगा जिसमें सभी परिवर्तन शामिल हों।

6. बैंक निम्नलिखित भी करेंगे –

बैंककारी विनियमन अधिनियम, 1949 की धारा 20 का अनुपालन सुनिश्चित करेंगे। साथ ही,

(क) सुरक्षा उपायों की एक प्रणाली बनाएँगे, जिसमें निर्वाचित सीए निदेशक के/ उसकी फर्म के ग्राहकों और उसके/ उसकी फर्म के ग्राहकों से संबंधित बैंक के ऋण/ निवेश निर्णयों में भाग नहीं लेने संबंधी उपयुक्त प्रकटीकरण शामिल होंगी। निर्वाचित सीए निदेशक से अपेक्षित है कि इस पूरी प्रक्रिया से खुद को अलग रखें और इस आशय की प्रसंविदा पर हस्ताक्षर करें।

(ख) निर्वाचित निदेशक द्वारा व्यावसायिक संस्थाओं में अपने हितों और निदेशक-पद का पूर्ण और उचित प्रकटीकरण अपेक्षित है, साथ ही जिन संस्थाओं में उनके हित हैं, उनसे जुड़े बैंक के ऋण/ निवेश निर्णयों से निदेशक व्यक्तिगत रूप से खुद को अलग रखें और भाग नहीं लें।

(ग) ऐसे निदेशक के रूप में पद छोड़ने के बाद दो साल की अवधि तक बैंक किसी व्यक्ति को, जो उस बैंक का निर्वाचित निदेशक रह चुका है, को कोई व्यावसायिक कार्य आवंटित नहीं करेगा।

7. जहां निर्वाचित निदेशक:

(क) निम्नलिखित में असफल रहते हैं,

(i) प्रसंविदा विलेख या घोषणा जमा करने में; या
(ii) उपयुक्त प्रकटीकरण करने में; या
(iii) जहां उनके हित जुड़े हैं, वहां ऋण/ निवेश निर्णयों में भाग लेने से; या

(ख) अधूरे या गलत प्रकटीकरण करते हैं; या

(ग) ऐसी गतिविधियों में शामिल हैं, जो उन्हें उपर्युक्त मानदंडों के अनुसार "उचित और उपयुक्त नहीं" बनाते हैं,

ऐसे निदेशक को एसबीआई अधिनियम की धारा 19 ए की उपधारा (2) / बैंककारी कंपनी (उपक्रमों का अर्जन और अंतरण) अधिनियम, 1970/1980 की धारा 9 की उपधारा (3 एए) की अपेक्षाओं को पूरा करने वाला नहीं माना जाएगा और वह इसके परिणामों के लिए उत्तरदायी होगा।

8. समिति नए निदेशकों के रूप में चयन के लिए उम्मीदवारों के नामांकन (नियुक्ति /पुनः नियुक्ति) की जांच करते समय उपर्युक्त संशोधित मानदंडों को अपनाएगी। तथापि, मौजूदा निर्वाचित निदेशकों को संशोधन- पूर्व मानदंडों के अनुसार अपना वर्तमान कार्यकाल पूरा करने की अनुमति दी जाए।

अध्याय – III
व्याख्याएं और निरसन

9. व्याख्याएँ:

इन निदेशों के प्रावधानों को प्रभावी करने के उद्देश्य से, रिज़र्व बैंक यदि आवश्यक समझे, तो उसमें शामिल किसी भी मामले के संबंध में आवश्यक स्पष्टीकरण जारी कर सकता है और इन निदेशों के किसी भी प्रावधान की रिज़र्व बैंक द्वारा दी गई व्याख्या अंतिम और संबंधित सभी पक्षों पर बाध्यकारी होगी।

10. निरसन:

इन निदेशों के जारी होने के साथ, भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा जारी निम्नलिखित परिपत्रों में निहित अनुदेश/ दिशानिर्देश निरस्त होंगे।

क) राष्ट्रीयकृत बैंकों के नि‍देशक मंडलों के निर्वाचित नि‍देशकों के लिए `उचि‍त एवं उपयुक्त' मानदंड पर 1 नवंबर 2007 का बैंपविवि.सं.बीसी.सं.47/29.39.001/2007-08

ख) एसबीआई के सहयोगी बैंकों के नि‍देशक मंडलों के निर्वाचित नि‍देशकों के लिए `उचि‍त एवं उपयुक्त' मानदंड पर 14 नवंबर 2007 का बैंपविवि.सं.बीसी.सं.50/29.39.001/2007-08

ग) एसबीआई के नि‍देशक मंडल के निर्वाचित नि‍देशकों के लिए `उचि‍त एवं उपयुक्त' मानदंड पर 21 नवंबर 2011 का बैंपविवि.सं.बीसी.सं.54/29.39.001/2011-12

घ) आईडीबीआई बैंक लिमिटेड के नि‍देशक मंडल के निर्वाचित नि‍देशकों के लिए `उचि‍त एवं उपयुक्त' मानदंड पर 21 नवंबर 2011 का बैंपविवि.सं.बीसी.सं.56/29.39.001/2011-12


1 इसमें वह बैंक शामिल है जहां उन्होंने पूर्व में निदेशक के रूप में कार्य किया है

2 अन्य स्थायी निकाय का अर्थ है अधिसूचित क्षेत्रीय परिषद, नगर परिषद, पंचायत, ग्राम सभा, ज़िला परिषद आदि जैसे निकाय।

3 राष्ट्रीयकृत बैंक (प्रबंध और विविध प्रावधान) योजना, 1970/80 का खंड 9(4) तथा एसबीआई अधिनियम की धारा 20(3)।


2019
2018
2017
2016
2015
2014
2013
2012
पुरालेख
Server 214
शीर्ष