भुगतान और निपटान प्रणाली

अर्थव्‍यवस्‍था की समग्र दक्षता में सुधार करने में भुगतान और निपटान प्रणाली महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। इसके अंतर्गत राशि-मुद्रा, चेकों जैसी कागज़ी लिखतों के सुव्‍यवस्थित अंतरण और विभिन्‍न इलेक्‍ट्रॉनिक माध्‍यमों के लिए विभिन्‍न प्रकार की व्‍यवस्‍थाएं हैं।

प्रेस प्रकाशनी


एटीएम इंटरचेंज शुल्क संरचना की समीक्षा के लिए समिति

11 जून 2019

एटीएम इंटरचेंज शुल्क संरचना की समीक्षा के लिए समिति

वर्ष 2019-20 के लिए द्वितीय द्विमासिक मौद्रिक नीति के भाग 'ख' में 6 जून 2019 को यह घोषित किया गया था कि बैंकरहित क्षेत्रों में एटीएम विस्तार के लिए प्रोत्साहन देने हेतु भारतीय रिज़र्व बैंक एटीएम इंटरचेंज शुल्क संरचना की समीक्षा के लिए एक समिति का गठन करेगा।

तदनुसार, भारतीय रिजर्व बैंक ने एटीएम प्रभारों और शुल्कों की विस्तृत जांच के लिए एक समिति का गठन किया है। समिति की संरचना इस प्रकार है:

1 श्री वी.जी. कण्णन
मुख्य कार्यपालक, भारतीय बैंक संघ
अध्यक्ष
2 श्री दिलीप अस्बे
मुख्य कार्यपालक अधिकारी, भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम
सदस्य
3 श्री गिरि कुमार नायर
मुख्य महाप्रबंधक, भारतीय स्टेट बैंक
सदस्य
4 श्री एस संपत कुमार
समूह प्रमुख, देयता उत्पाद, एचडीएफसी बैंक लि.
सदस्य
5 श्री के श्रीनिवास
निदेशक, एटीएम उद्योग परिसंघ
सदस्य
6 श्री संजीव पटेल
मुख्य कार्यकारी अधिकारी, टाटा कम्युनिकेशंस पेमेंट सॉल्यूशंस लिमिटेड
सदस्य

समिति का कार्यक्षेत्र निम्नानुसार होगा :

  1. एटीएम लेनदेन की मौजूदा संरचनाओं और पैटर्न की लागत, शुल्क और इंटरचेंज शुल्क की समीक्षा करना;

  2. कार्डधारकों द्वारा एटीएम के उपयोग के समग्र पैटर्न की समीक्षा करना और प्रभारों और इंटरचेंज शुल्क पर, प्रभाव यदि कोई हो; तो उसका आकलन करना;

  3. एटीएम इकोसिस्टम के संबंध में लागतों का विस्तृत आकलन करना ;

  4. इष्टतम प्रभार / इंटरचेंज शुल्क संरचना और पैटर्न पर सिफारिशें प्रस्तुत करना; तथा

  5. उपरोक्त से संबंधित कोई अन्य मद ।

समिति अपनी पहली बैठक की तारीख से दो महीने के भीतर अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत करेगी।

योगेश दयाल
मुख्य महाप्रबंधक

प्रेस प्रकाशनी: 2018-2019/2914

2019
2018
2017
2016
2015
2014
2013
2012
पुरालेख
Server 214
शीर्ष