शहरी बैंकिंग

शायद यह भूमिका हमारे कार्यकलापों का सबसे अधिक अघोषित पहलू है, फिर भी यह सबसे महत्वपूर्ण है। इसमें अर्थव्यवस्था के उत्पादक क्षेत्रों के लिए ऋण उपलब्धता सुनिश्चित करना, देश की वित्तीय मूलभूत सुविधा के निर्माण के लिए डिज़ाइन किए गए संस्थानों की स्थापना करना, वहनीय वित्तीय सेवाओं की पहुंच में विस्तार करना और वित्तीय शिक्षा और साक्षरता को बढ़ावा देना शामिल है।

अधिसूचनाएं


वित्तीय सेवाओं की आउटसोर्सिंग - वसूली प्रतिनिधियोंको नियुक्त करने वाली विनियमित संस्थाओं की जिम्मेदारी

आरबीआई/2022-23/108
विवि.ओआरजी.आरईसी.65/21.04.158/2022-23

12 अगस्त 2022

महोदया/ महोदय,

वित्तीय सेवाओं की आउटसोर्सिंग - वसूली प्रतिनिधियोंको नियुक्त करने वाली विनियमित संस्थाओं की जिम्मेदारी

भारतीय रिज़र्व बैंक ने समय-समय पर विनियमित संस्थाओं को सूचित किया है कि आउटसोर्स गतिविधियों की अंतिम जिम्मेदारी उनकी ही है और इसलिए, वे वसूली प्रतिनिधियो (इसके बाद ‘प्रतिनिधि' के रूप में संदर्भित) सहित अपने सेवा प्रदाताओं के कार्यों के लिए जिम्मेदार हैं।

2. यह देखा गया है कि विनियमित संस्थाओं द्वारा नियोजित प्रतिनिधि वित्तीय सेवाओं की आउटसोर्सिंग को नियंत्रित करने वाले मौजूदा अनुदेशों से चूक रहे हैं। इन प्रतिनिधियो की गतिविधियों से उत्पन्न होने वाली चिंताओं के मद्देनजर, यह सूचित किया जाता है कि विनियमित संस्थाएं कड़ाई से सुनिश्चित करें कि वे या उनके प्रतिनिधि अपने ऋण वसूली प्रयासों में किसी भी व्यक्ति के खिलाफ मौखिक या शारीरिक रूप से किसी भी तरह की धमकी या उत्पीड़न का सहारा नहीं लेना, जिसमें सार्वजनिक रूप से अपमानित करने या देनदारों के परिवार के सदस्यों, निर्देशी और दोस्तों की गोपनीयता में दखल देने, मोबाइल पर या सोशल मीडिया के माध्यम से अनुचित संदेश भेजने, धमकी देने और / या गुमनाम कॉल करने, लगातार1 उधारकर्ता को कॉल करने और / या अतिदेय ऋणों की वसूली के उद्देश्य से उधारकर्ता को सुबह 8:00 बजे से पहले और शाम 7:00 बजे के बाद कॉल करना, झूठे और भ्रामक अभ्यावेदन करना, आदि शामिल है।

3. उक्त पैरा 2 में निहित अनुदेश भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा समय-समय पर संशोधित, अनुबंध में सारणीकृत सहित मौजूदा दिशानिर्देशों/निदेशों के साथ पूरक होंगे और पढ़े जाएंगे।

4. विनियमित संस्थाओं द्वारा इस संबंध में किसी भी उल्लंघन को गंभीरता से लिया जाएगा।

प्रयोज्यता

5. यह परिपत्र निम्नलिखित विनियमित संस्थाओं पर लागू होगा:

(ए) भुगतान बैंकों को छोड़कर सभी वाणिज्यिक बैंक (स्थानीय क्षेत्र के बैंकों, क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों और लघु वित्त बैंकों सहित);

(बी) अखिल भारतीय वित्तीय संस्थान (अर्थात एक्ज़िम बैंक, नाबार्ड, एनएचबी, सिडबी और एनएबीएफआईडी);

(सी) आवास वित्त कंपनियों सहित सभी गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियां;

(डी) सभी प्राथमिक (शहरी) सहकारी बैंक, राज्य सहकारी बैंक और जिला केंद्रीय सहकारी बैंक; तथा

(ई) सभी आस्ति पुनर्निर्माण कंपनियां।

6. यह परिपत्र 14 मार्च 2022 के 'मास्टर निदेश-भारतीय रिज़र्व बैंक (सूक्ष्मवित्त ऋणों के लिए विनियामक ढांचा) निदेश, 2022' के तहत कवर किए गए सूक्ष्मवित्त ऋणों पर लागू नहीं होगा।

भवदीय

(सुनील टी. एस. नायर)
मुख्य महाप्रबंधक


अनुबंध

'वित्तीय सेवाओं की आउटसोर्सिंग' और 'वसूली प्रतिनिधियो' को संबोधित/प्रशासित करने संदर्भ में भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा जारी मौजूदा दिशानिर्देश/निदेश

क्र.सं. परिपत्र सं. दिनांक विषय
1. डीबीओडी.एलईजी.सं.बीसी.104/09.07.007/2002-03 मई 5, 2003 उधारदाताओं के लिए उचित व्यवहार संहिता पर दिशानिर्देश
2. डीबीओडी.सं.बीपी.40/21.04.158/2006-07 नवंबर 3, 2006 बैंकों द्वारा वित्तीय सेवाओं की आउटसोर्सिंग में जोखिम प्रबंधन और आचार संहिता पर दिशानिर्देश
3. डीबीओडी.सं.बीएल.बीसी.59/22.01.010/2006-2007 फरवरी 21, 2007 बैंकिंग विनियमन अधिनियम, 1949 की धारा 23 - द्वारस्थ बैंकिंग
4. डीबीओडी.सं.बीपी.64/21.04.158/2007-08 मार्च 03, 2008 बैंकों द्वारा वित्तीय सेवाओं की आउटसोर्सिंग में जोखिम प्रबंधन और आचार संहिता पर दिशानिर्देश
5. डीबीओडी.सं.एलईजी.बीसी.75/09.07.005/2007-08 अप्रैल 24, 2008 वर्ष 2007-08 की वार्षिक नीति की मध्यावधि समीक्षा - बैंकों द्वारा लगाए गए वसूली प्रतिनिधि
6. डीबीओडी.सं.बीपी.97/21.04.158/2008-09 दिसंबर 11, 2008 बैंकों द्वारा वित्तीय सेवाओं की आउटसोर्सिंग में जोखिम प्रबंधन और आचार संहिता पर दिशानिर्देश
7. डीबीएस.केंका.पीपीडी.बीसी.5/11.01.005/2008-09 अप्रैल 22, 2009 बैंकों द्वारा वित्तीय सेवाओं की आउटसोर्सिंग में जोखिम प्रबंधन और आचार संहिता पर दिशानिर्देश - अनुपालन प्रमाणपत्र
8. डीबीओडी.सं.बीएपीडी.बीसी.7/22.01.001/2014-15 जुलाई 1, 2014 बैंककारी विनियमन अधिनियम, 1949 की धारा 23 - शाखा प्राधिकरण पर मास्टर परिपत्र
9. डीबीआर.सं.बीपी.बीसी.76/21.04.158/2014-15 मार्च 11, 2015 बैंकों द्वारा वित्तीय सेवाओं की आउटसोर्सिंग में जोखिम प्रबंधन और आचार संहिता पर दिशानिर्देश
10. डीबीआर.सं.परि.बीसी.10/13.03.00/2015-16 जुलाई 1, 2015 मास्टर परिपत्र - ऋण और अग्रिम - सांविधिक और अन्य प्रतिबंध
11. डीबीआर.केंका.आरआरबी.बीएल.बीसी.सं.17/31.01.002/2015-16 जुलाई 1, 2015 शाखा लाइसेंसिंग पर मास्टर परिपत्र
12. डीएनबीआर.पीडी.004/03.10.119/2016-17 अगस्त 23, 2016 मास्टर निदेश - स्टैंडअलोन प्राथमिक डीलर (रिज़र्व बैंक) निदेश, 2016
13. डीओआर(एनबीएफसी).पीडी.003/03.10.119/2016-17 अगस्त 25, 2016 मास्टर निदेश - मूल निवेश कंपनी (रिज़र्व बैंक) निदेश, 2016
14. डीएनबीआर.पीडी.007/03.10.119/2016-17 सितंबर 1, 2016 मास्टर निदेश - गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी - गैर-प्रणालीगत रूप से महत्वपूर्ण जमा स्वीकार न करने वाली कंपनी (रिज़र्व बैंक) निदेश, 2016
15. डीएनबीआर.पीडी.008/03.10.119/2016-17 सितंबर 1, 2016 मास्टर निदेश - गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी - प्रणालीगत रूप से महत्वपूर्ण जमा स्वीकार न करने वाली कंपनी और जमा स्वीकार करने वाली कंपनी (रिज़र्व बैंक) निदेश, 2016
16. डीएनबीआर.पीडी.009/03.10.119/2016-17 सितंबर 2, 2016 मास्टर निदेश - गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी - खाता संकलनकर्ता (रिज़र्व बैंक) निदेश, 2016
17. डीएनबीआर.(पीडी).090/03.10.124/2017-18 अक्तूबर 4, 2017 मास्टर निदेश - गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी - पीयर टू पीयर लेंडिंग प्लेटफॉर्म (रिज़र्व बैंक) निदेश, 2017
18. डीएनबीआर.पीडी.सीसी.सं.090/03.10.001/2017-18 नवंबर 9, 2017 एनबीएफसी द्वारा वित्तीय सेवाओं की आउटसोर्सिंग में जोखिम प्रबंधन और आचार संहिता पर निर्देश
19. डीओआर.(एनबीएफसी)(पीडी)सीसी.सं.112/03.10.001/2019-20 जून 24, 2020 डिजिटल लेंडिंग प्लेटफॉर्म पर बैंकों और गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी द्वारा लिए गए ऋण: उचित व्यवहार संहिता और आउटसोर्सिंग दिशानिर्देशों का पालन
20. सीईपीडी.केंका.पीआरडी.परि.01/13.01.013/2020-21 जनवरी 27, 2021 बैंकों में शिकायत निवारण तंत्र को सुदृढ़ बनाना
21. डीओआर.एफआईएन.एचएफसी.सीसी.सं.120/03.10.136/2020-21 फरवरी 17, 2021 मास्टर निदेश - गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी - आवास वित्त कंपनी (रिज़र्व बैंक) निदेश, 2021
22. डीओआर.ओआरजी.आरईसी..27/21.04.158/2021-22 जून 28, 2021 सहकारी बैंकों द्वारा वित्तीय सेवाओं की आउटसोर्सिंग में जोखिम प्रबंधन के लिए दिशानिर्देश
23. डीओआर.एसआईजी.एफआईएन.आरईसी.1/26.03.001/2022-23 अप्रैल 1, 2022 मास्टर परिपत्र - आस्ति पुनर्निर्माण कंपनियां
24. डीओआर.एसीसी.आरईसी.सं..20/21.04.018/2022-23 अप्रैल 19, 2022 वित्तीय विवरणों में प्रकटीकरण - गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी के खातों पर टिप्पणियाँ
25. डीओआर.एयूटी.आरईसी.सं.27/24.01.041/2022-23 अप्रैल 21, 2022 मास्टर निर्देश - क्रेडिट कार्ड और डेबिट कार्ड - जारी करना और आचरण संबंधी निदेश, 2022
26. डीओआर.आरईजी.सं.45/19.51.052/2022-23 जून 8, 2022 बैंकिंग विनियमन अधिनियम, 1949 की धारा 23 - द्वारस्थ बैंकिंग

1 बार-बार कॉल करना

2022
2021
2020
2019
2018
2017
2016
2015
2014
2013
2012
पुरालेख
Server 214
शीर्ष