भाषण और साक्षात्कार

ध्यान दे : सुव्यवस्थित प्रिंट आउट के लिए कृपया (257.00 kb ) वर्शन अपनी मशीन पर डाउनलोड करें और फिर अपने पाठ को मुद्रित करने के लिए संबंधित साफ्टवेयर प्रयोग करें
खाता संग्रहक के लिए नियामक ढांचा - आईस्पिरिट द्वारा 2 सितंबर 2021 को आयोजित आभासी कार्यक्रम के दौरान श्री एम. राजेश्वर राव, उप गवर्नर की टिप्पणियाँ

मैं इस आमंत्रण और आप सभी के साथ यहां रहने के अवसर के लिए अपना आभार व्यक्त करता हूं। आशा है कि आप सभी इस चुनौतीपूर्ण समय में सुरक्षित होंगे।

1. प्रौद्योगिकी ने इस तेजी से परस्पर जुड़ी दुनिया में मोबाइल और हाथ से पकड़े जाने वाले उपकरणों के साथ हमारे जीवन को बदल दिया है, जिसने सर्वव्यापी पहुंच और व्यापक संपर्क को सक्षम बनाया है। इसने व्यवसायों को नए बाजारों और नए भौगोलिक क्षेत्रों में प्रवेश करने में संयुक्त रूप से सक्षम बनाया है, जिन तक वे पहुंचने में असमर्थ थे। प्रौद्योगिकी के इस विकास में वित्तीय डेटा तक पहुंच के रूप में वित्तीय मध्यस्थता को बदलने की क्षमता भी है, जब परिष्कृत तकनीक का उपयोग किया जाता है, जो उत्पादों और सेवाओं, उपभोक्ता सेवा, वित्तीय उत्पादों की सुपुर्दगी में परिवर्तन लाने की क्षमता पैदा करता है जो हमने अनुभव किया था और पिछले कुछ वर्षों में इसके आदी हो गए थे। वित्तीय क्षेत्र में, पिछले कुछ वर्षों में दुनिया भर के नियामकों ने यूरोप में भुगतान प्रणाली निदेश (पीएसडी2) और भारत में खाता संग्रहक जैसी पहलों के माध्यम से वित्तीय संस्थानों की किताबों में दबे वित्तीय डेटा तक पहुंच को खोलने में सक्षम भूमिका निभाई है। इन पहलों का मुख्य प्रभाव डेटा का लोकतंत्रीकरण और डेटा की पहुंच और डेटा के उपयोग पर डेटा के धारकों के बजाय डेटा के मालिकों का हक होने के लिए बदलाव करना रहा है।

2. हाल के वर्षों में, प्रौद्योगिकी संचालित वित्त पोषण, वित्तीय व्यापार मॉडल, विशेष वित्तीय सेवाओं और उत्पादों के नए तरीके ने पी2पी उधार, धन प्रबंधन, लघु वित्त, स्मार्ट-कॉन्ट्रैक्ट, एआई / एमएल आधारित निर्णय विश्लेषण प्रणाली और जैसे रोबो-सलाहकार, आदि क्षेत्रों में फिनटेक संचालित नवाचार को सक्षम किया है। हालांकि, विभिन्न वित्तीय सेवा प्रदाताओं में वित्तीय डेटा का विखंडन व्यक्तियों की क्रेडिट जरूरतों को पूरा करने और उन्हें व्यापक वित्तीय समाधान प्रदान करने के लिए इसका प्रभावी ढंग से उपयोग करने में बाधा उत्पन्न करता है।

3. सरकार द्वारा एक अनुकूल स्टार्ट-अप पारिस्थितिकी तंत्र के साथ, भारत ने वित्तीय सेवा क्षेत्र में बड़े पैमाने पर निवेश देखा है। ई-कॉमर्स और स्मार्टफोन के प्रवेश में बढ़ोत्तरी के साथ इसमें और तेजी आई है। औपचारिक चैनलों के साथ उत्पादों और सेवाओं के फिनटेक आधारित सुपुर्दगी के एकीकरण ने वित्तीय सेवाओं की अंतिम उपलब्धता को बढ़ा दिया है। मेरा मानना है कि रिज़र्व बैंक वित्तीय प्रौद्योगिकियों को अपनाने में सबसे आगे रहा है और जब उद्योग स्वयं प्रारंभिक अवस्था में था तब नए उत्पादों और सेवाओं के लिए उपयुक्त समर्थककारी विनियमों के साथ तैयार रहा है । पीयर टू पीयर (पी2पी) उधार, खाता संग्रहक (एए) और "केवल डिजिटल प्लेटफॉर्म" पर क्रेडिट मध्यस्थता एनबीएफसी ऐसे मामले हैं जहां विनियमन ने उद्योग को व्यवस्थित और मजबूत तरीके से बढ़ने में मदद की है। यूपीआई, विनियामक सैंडबॉक्स और नवाचार केंद्र पर आरबीआई की पहल भी हमारी सक्रिय फिनटेक पहलों का प्रमाण है।

4. हालांकि, इस आयोजन के विषय को ध्यान में रखते हुए, मुझे आज के लिए संस्था के मुद्दों और खाता संग्रहक के ढांचे के आसपास के मुद्दों पर ध्यान केंद्रित करने की अनुमति दें।

खाता संग्रहक - आरबीआई की पहल

5. एए के लिए ढांचा 02 सितंबर 2016 को रिज़र्व बैंक द्वारा एक व्यक्ति की सभी वित्तीय परिसंपत्तियों के एकत्रीकरण को सुविधाजनक बनाने के उद्देश्य से जारी किया गया था। दृष्टिकोण एक मध्यस्थ की स्थापना करके एक सुरक्षित, पारदर्शी और कुशल तरीके से वित्तीय डेटा के साझाकरण और एकत्रीकरण को संभव बनाना था जो ग्राहकों की सहमति प्रबंधन के लिए भी जिम्मेदार होगा। ये मध्यस्थ एए हैं, जो रिज़र्व बैंक के साथ गैर-बैंकिंग-वित्तीय-कंपनियों के रूप में भी पंजीकृत हैं।

6. खाता संग्रहक ऐसी जानकारी के धारकों (वित्तीय सूचना प्रदाता (एफआईपी) के रूप में परिभाषित) से ग्राहक की वित्तीय संपत्ति से संबंधित जानकारी को पुनः प्राप्त या एकत्र करता है और इसे ग्राहकों या निर्दिष्ट उपयोगकर्ताओं (वित्तीय सूचना उपयोगकर्ता (एफआईयू) के रूप में परिभाषित) को एकत्रित, समेकित करके प्रस्तुत करता है। ऐसी जानकारी का स्थानांतरण ग्राहक की स्पष्ट सहमति पर आधारित होता है और प्रतिक्रिया वास्तविक समय में होने की परिकल्पना की गई है। डेटा को संग्रहक द्वारा संग्रहीत या किसी अन्य उद्देश्य के लिए उपयोग नहीं किया जा सकता है और केवल विनियमित वित्तीय संस्थाओं के साथ साझा किया जाएगा। निर्देशों के लिए मजबूत डेटा सुरक्षा और ग्राहक शिकायत निवारण तंत्र की आवश्यकता है। एए के पास उचित सहमति संरचना होनी चाहिए और ऑडिट ट्रेल्स उपलब्ध होने चाहिए। इंटरफेस कार्यान्वित करने के लिए निर्देशों को वित्तीय सूचना प्रदाताओं (एफआईपी) की आवश्यकता होती है जो खाता संग्रहक को सहमति देने और एक दूसरे को प्रमाणित करने की अनुमति देगा, जिससे खाता संग्रहक को वित्तीय जानकारी का सुरक्षित प्रवाह सक्षम हो सके।

एए पारिस्थितिकी तंत्र के लाभ

7. एए ढांचा पेपर ट्रेल्स को समाप्त कर विभिन्न वित्तीय सेवाओं के प्रावधान के लिए आवश्यक निर्णय लेने में सहायता करता है, जैसे कि उधार, ऋण निगरानी, धन प्रबंधन, व्यक्तिगत वित्त प्रबंधन, इत्यादि। यह उल्लेख करने की आवश्यकता नहीं है कि यह सूची संपूर्ण नहीं है। इसके अलावा, एए सूचना विषमता को कम करके वित्तीय सेवाओं तक पहुंच बनाने और पहले से अनारक्षित और असेवित क्षेत्रों को ऋण की सुविधा प्रदान कर सकते हैं।

8. एमएसएमई का उदाहरण लेते हैं। निस्संदेह, एमएसएमई आर्थिक विकास और रोजगार सृजन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। हालांकि, कभी-कभी उन्हें अपने वित्तीय स्वास्थ्य के बारे में स्वीकार्य संपार्श्विक और सत्यापन योग्य डेटा की कमी के कारण औपचारिक चैनलों से ऋण प्राप्त करने में बाधाओं का सामना करना पड़ता है। कोविड-19 महामारी की स्थिति के कारण व्यवसायों में व्यवधान ने इस ऋण अंतर को और भी खराब कर दिया है। वर्तमान परिवेश में, उनका वित्तीय डेटा कई विनियमित संस्थाओं के पास रहता है और एमएसएमई उधारकर्ताओं के लिए इस डेटा को समेकित करना और इसे उधार देने वाले संस्थानों के साथ साझा करना मुश्किल हो जाता है। कोई बाधा न होने पर भी, यह अभी भी ऋण स्वीकृति प्रक्रिया में देरी का कारण बन सकता है और समय पर ऋण तक पहुंचने की इसकी (अर्थात एमएसएमई) क्षमता को प्रभावित करता है। इस समस्या को हल करने के लिए एए ग्राहक से स्पष्ट सहमति के आधार पर वित्तीय डेटा एकत्र करने और प्रस्तुत करने में मध्यस्थ के रूप में कार्य कर सकता है। एए सभी सहमत लेन-देन संबंधी डेटा को समेकित कर सकते हैं, जिसमें सभी उधारदाताओं के नकदी प्रवाह विवरण शामिल हैं। डेटा को वास्तविक समय में सीधे स्रोत से, बिना-छेड़छाड़ और कम लागत पर प्राप्त किया जाएगा। यह उधारकर्ता के लिए डेटा और अनुपालन लागत को सत्यापित करने की लागत और बोझ को कम करेगा।

भारत में एए ढांचे के तहत दूसरे चरण की पहल: "तकनीकी विनिर्देश"

9. जैसे-जैसे एए का कारोबार बढ़ता है, विभिन्न वित्तीय विनियामकों के क्षेत्राधिकार के तहत वित्तीय संस्थानों की विभिन्न श्रेणियों के लिए यह संभव है कि वे अपने संबंधित प्रौद्योगिकी-आधारित प्लेटफार्मों पर एक दूसरे से बात करें। संपूर्ण गोपनीयता के साथ विभिन्न संस्थानों में डेटा का निर्बाध संचलन एए ढांचे के व्यवस्थित विकास और सुचारू कामकाज के लिए एक अनिवार्य शर्त होगी। एए, एफआईपी में डेटा का निर्बाध और सुरक्षित प्रवाह सुनिश्चित करने के लिए और एए पारिस्थितिकी तंत्र प्रतिभागियों के लिए कुछ जेनेरिक तकनीकी मानकों को निर्धारित करने की आवश्यकता होगी ताकि डेटा की गति विधिवत अधिकृत और सुरक्षित हो।

10. सामान्य तकनीकी मानकों का लक्ष्य यह सुनिश्चित करना होना चाहिए कि - i) एए सेट अप में प्रतिभागियों के बीच सूचना का सहज और सहमति-संचालित प्रवाह हो; ii) एए ढांचे में अंतरसंचालनीयता सुनिश्चित की जाए; iii) प्रतिभागियों के बीच प्रवाहित होने वाले डेटा की अखंडता को लागू किया जाना और iv) आगे विकास की गुंजाइश सीमित न हो।

11. इस दिशा में, रिज़र्व बैंक सूचना प्रौद्योगिकी प्राइवेट लिमिटेड (ReBIT), रिज़र्व बैंक की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी ने हमारे परामर्श से ओपन एपीआई-आधारित तकनीकी मानकों का एक सेट तैयार किया है। इन तकनीकी मानकों की प्रमुख विशेषताओं की सिफारिश की जाती है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि एए पारिस्थितिकी तंत्र का डिज़ाइन डेटा-ब्लाइंड; इलेक्ट्रॉनिक सहमति के आधार पर; गैर-अस्वीकार्य ऑडिट ट्रेल्स जनरेट करता हो और अंतरसंचालनीयता और स्तरीय नवाचार की अनुमति देता हो।

12. एए ढांचे की विनियामक विशेषताएं, अर्थात डेटा शेयरिंग के लिए स्पष्ट और इलेक्ट्रॉनिक सहमति, ऑडिट ट्रेल्स, डेटा ब्लाइंड एए प्लेटफॉर्म इत्यादि स्वरूप में प्रगतिशील और पहले से अधिकृत हैं। एए के माध्यम से साझा की जा रही जानकारी पर ग्राहक का पूर्ण नियंत्रण होता है और वह सहमति तंत्र (अनुदान/निरस्त) का भी स्वामी होता है। इन उपायों से यह सुनिश्चित होगा कि निजता से जुड़ी आशंकाओं और डेटा सुरक्षा से जुड़ी चिंताओं का काफी हद तक समाधान हो जाएगा। एए ढांचा एफआईयू को भी लाभान्वित करता है क्योंकि उन्हें वास्तविक समय के आधार पर संभावित ग्राहकों की वित्तीय जानकारी तक पहुंच प्राप्त होती है जो वित्तीय सेवाओं के प्रावधान के लिए टर्नअराउंड समय को कम करता है, जिससे ग्राहकों द्वारा मांगी गई सुविधा और गति प्राप्त होती है।

भारत में एए पारिस्थितिकी तंत्र के लिए चुनौतियां और आगे की राह:

13. एए का बड़ा लक्ष्य ग्राहकों को सशक्त बनाना और सूचना विषमता को कम करना है और इसका उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि एए के माध्यम से और जानकारी किस प्रयोजन के लिए साझा की जा रही पर ग्राहक का पूर्ण नियंत्रण है। एए ढ़ाचा एफआईयू को भी लाभान्वित करता है क्योंकि उन्हें वास्तविक समय के आधार पर संभावित ग्राहकों की वित्तीय जानकारी तक पहुंच प्राप्त होती है और इस प्रकार वित्तीय सेवाओं के प्रावधान के लिए टर्नअराउंड समय कम हो जाता है। एए इस प्रकार ऋण देने वाले पारिस्थितिकी तंत्र को मजबूत कर सकता है जो भारत को डेटा-समृद्ध देश बना सकता है और डिजिटल अर्थव्यवस्था को बढ़ावा दे सकता है।

14. जबकि सभी क्षेत्रों से विनियामक अभिप्राय अच्छी तरह से प्राप्त किया गया है, यदि विनियमन के वांछित उद्देश्यों को पूरा नहीं किया जाता है, तो एक अच्छा विनियमन प्रभावहीन हो जाएगा। एए पारिस्थितिकी तंत्र के मामले में वांछित उद्देश्यों को तब प्राप्त किया जाएगा जब बड़ी संख्या में ग्राहक/एफआईयू एए प्लेटफॉर्म पर प्रवेश करते हों और वे उपयोगकर्ताओं द्वारा वांछित एकत्रित डेटा को सुरक्षित और निरापद वातावरण में उस रूप और प्रकार से प्राप्त करने में सक्षम हों। यह भी उतना ही महत्वपूर्ण है कि एफआईपी और एफआईयू इस नवोन्मेषी मंच की विशाल क्षमता का उपयोग करते हैं। यह प्रणाली तभी बेहतर ढंग से काम करेगी जब वित्तीय क्षेत्र के विनियामकों को छोड़कर विभिन्न वित्तीय संस्थाओं में बनाए गए विभिन्न प्रकार के ग्राहकों के खाते एए से जुड़े होंगे। ऐसा होने के लिए, एफआईपी को ढांचे के महत्व को समझने की जरूरत है। यह मेरे विचार में भारत में एए पारिस्थितिकी तंत्र के लिए एक व्यवहार्य कारोबार मॉडल के विकास की कुंजी है। एक नियामक के रूप में, हमने एए के लिए विनियामक ढांचे के साथ पहले आनेवालों के लिए लॉन्च पैड तैयार किया और फिर ReBIT के माध्यम से 'तकनीकी मानकों' को निर्धारित किया है।

15. एए पारिस्थितिकी तंत्र अभी भी विकास के प्रारंभिक चरण में है, लेकिन इसके द्वारा संचालित डेटा के स्वरूप के कारण मंच की संवेदनशीलता को देखते हुए, यह सुनिश्चित करना अनिवार्य हो जाता है कि वृद्धि व्यवस्थित है। जैसे-जैसे तंत्र बढ़ेगा और तैयार होगा, नए कारोबारी मॉडल और ग्राहक प्रस्ताव सामने आएंगे।। जबकि आरबीआई उपलब्ध है और नवाचार को प्रोत्साहित करता है, हमें इस तथ्य को ध्यान में रखना होगा कि नवाचार और एए विनियामक संरचना के मनोभाव के बीच संतुलन बनाए रखने की आवश्यकता है।

16. मैं यह दोहराते हुए अपनी बात समाप्त करता हूं कि रिजर्व बैंक के दृष्टिकोण से हम वित्तीय क्षेत्र में नवाचार का समर्थन करते हैं, लेकिन यह समर्थन और प्रोत्साहन यह सुनिश्चित करते हुए किया जाएगा कि हम एक जीवंत और बढ़ती अर्थव्यवस्था का समर्थन करने के लिए एक मजबूत वित्तीय प्रणाली विकसित और बढ़ा सकें।

धन्यवाद।


2021
2020
2019
2018
2017
2016
2015
2014
2013
2012
पुरालेख
Server 214
शीर्ष