प्रकाशन

भारत में विदेशी मुद्रा भंडार में घटबढ़ के स्रोत : अप्रैल-सितंबर 2011

30 दिसंबर 2011

भारत में विदेशी मुद्रा भंडार में घटबढ़ के स्रोत:
अप्रैल-सितंबर 2011

भारतीय रिज़र्व बैंक ने आज अपनी वेबसाइट (www.rbi.org.in) पर 2011-12 की दूसरी तिमाही (जुलाई-सितंबर 2011) के भुगतान संतुलन (बीओपी) के आंकड़े जारी किए हैं। इन आंकड़ों के आधार पर, अप्रैल-सितंबर 2011 के दौरान के विदेशी मुद्रा भंडार में घटबढ़ के स्रोत संकलित किए गए हैं।

विदेशी मुद्रा भंडार में घटबढ़ के स्रोत : अप्रैल-सितंबर 2011

अप्रैल-सितंबर 2011 के दौरान, विदेशी मुद्रा भंडार में वृद्धि हुई थी । विदेशी मुद्रा भंडार में घटबढ़ के स्रोत सारणी 1 में दिए गए हैं।

सारणी 1:विदेशी मुद्रा भंडार में घटबढ़ के स्रोत *

(बिलियन अमरीकी डालर)

मदें

2010-11

2011-12

 

अप्रैल-सितंबर

अप्रैल-सितंबर

I.

 

चालू खाता शेष

-29.6

-32.8

II.

 

पूँजी खाता (निवल) (क से च)

36.6

38.6

 

विदेशी निवेश (i+ii)

30.8

13.7

 

 

(i) विदेशी प्रत्यक्ष निवेश

7.0

12.3

 

 

(ii) संविभागीय निवेश

23.8

1.3

 

 

जिनमें से :

 

 

 

 

      एफआईआई

22.3

0.9

 

 

     एडीआर/जीडीआर

1.6

0.5

 

बाह्य वाणिज्यिक उधार

5.7

10.6

 

बैंकिंग पूँजी

0.8

19.3

 

 

जिसमें से : अनिवासी भारतीयों की जमाराशियां

2.2

3.9

 

अल्पावधि व्यापार ऋण

6.9

5.9

 

विदेशी सहायता

3.0

0.7

 

पूँजी खाते की अन्य मदें

-10.7

-11.6

III.

 

मूल्यांकन परिवर्तन

6.8

0.9

 

 

कुल (I+II+III) @

13.8

6.7

*  भुगतान संतुलन के पुराने फॉर्मेट पर आधारित
@: यदि कोई अंतर हो तो वह पूर्णांकन के कारण है।
टिप्पणी: (i) *:पूँजीगत खाते की अन्य मदों में, `भूल-चूकों'के अलावा एसडीआर आबंटन, निर्यात में कमीबेशी, विदेश में रखी गई निधियाँ, एफडीआई के अंतर्गत शेयरों के निर्गम के विचाराधीन प्राप्त अग्रिम और अन्यत्र शामिल न की गई पूंजी  प्राप्तियों के लेनदेन शामिल हैं।
मुद्रा भंडार में वृद्धि (+)/ मुद्रा भंडार में गिरावट(-)।

अप्रैल-सितंबर 2011 के दौरान विदेशी मुद्रा भंडार में भुगतान संतुलन आधार पर (अर्थात् मूल्यन प्रभाव को छोड़कर) 5.7 बिलियन अमरीकी डालर की वृद्धि हुई जबकि पिछले वर्ष इस अवधि के दौरान इसमें 7.0 बिलि.अम.डालर की वृद्धि हुई थी। अप्रैल-सितंबर 2011 के दौरान विदेशी मुद्रा भंडार में (मूल्यन प्रभाव सहित) 6.7 मिलियन अमरीकी डालर की वृद्धि हुई जबकि एक वर्ष पूर्व इसी अवधि के दौरान इसमें 13.8 मिलियन अमरीकी डालर की वृद्धि हुई थी (सारणी 2)।

सारणी 2 : भंडार में घटबढ़ की तुलनात्मक स्थिति

(बिलियन अमरीकी डालर)

मदें

2010-11
अप्रैल-सितंबर

2011-12
अप्रैल-सितंबर

1.

विदेशी मुद्रा भंडार में परिवर्तन (मूल्यन प्रभाव सहित)

13.8

6.7

2.

मूल्यन प्रभाव लाभ(+)/हानि(-)

6.8

0.9

3.

बीओपी आधार पर विदेशी मुद्रा भंडार में परिवर्तन (अर्थात् मूल्यन प्रभाव को छोड़कर)

7.0

5.7

4.

मूल्यन लाभ/हानि द्वारा दर्शाए गए मुद्रा भंडार में वृद्धि/गिरावट का प्रतिशत

49.3

13.4

टिप्पणी: मुद्रा भंडार में वृद्धि (+)/गिरावट (-)
@ यदि कोई अंतर हो तो वह पूर्णांकन के कारण है।

अप्रैल-सितंबर 2011 के दौरान मूल्यन लाभ, जो प्रमुख मुद्राओं की तुलना में अमरीकी डालर के मूल्य में हुए ह्रास को दर्शाता है, 0.9 बिलियन अमरीकी डालर का रहा जबकि पिछले वर्ष इसी अवधि के दौरान यह 6.8 बिलियन अमरीकी डालर का था। तदनुसार, अप्रैल-सितंबर 2011-12 के दौरान विदेशी मुद्रा भंडार  की कुल वृद्धि में मूल्यन लाभ का हिस्सा 13.4 प्रतिशत था

अजीत प्रसाद
सहायक महाप्रबंधक

प्रेस प्रकाशनी : 2011-2012/1039


2021
2020
2019
2018
2017
2016
2015
2014
2013
2012
पुरालेख
Server 214
शीर्ष