प्रेस प्रकाशनी

(341 kb )
अक्तूबर 2021 – मार्च 2022 के लिए विपणन योग्य दिनांकित प्रतिभूतियों के निर्गम हेतु कैलेंडर

27 सितंबर 2021

अक्तूबर 2021 – मार्च 2022 के लिए
विपणन योग्य दिनांकित प्रतिभूतियों के निर्गम हेतु कैलेंडर

संस्‍थागत और खुदरा निवेशकों के लिए उनके निवेश की कार्यकुशल योजना बनाने और सरकारी प्रतिभूति बाजार में पारदर्शिता और स्थिरता उपलब्‍ध कराने के लिए भारतीय रिज़र्व बैंक के परामर्श से राजकोषीय वर्ष 2021-22 (1 अक्तूबर 2021 से 31 मार्च 2022) की दूसरी छमाही के लिए भारत सरकार की दिनांकित प्रतिभूतियों के निर्गम के लिए सांकेतिक कैलेंडर तैयार किया गया है।

भारत सरकार का दूसरी छमाही उधार कार्यक्रम फरवरी 2022 तक पूरा होने की उम्मीद है।

निर्गम कैलेंडर निम्‍नानुसार है:

भारत सरकार की दिनांकित प्रतिभूतियों के निर्गम का कैलेंडर
(1 अक्तूबर 2021 से 31 मार्च 2022)
क्रम संख्या नीलामी का सप्ताह राशि
( करोड़)
प्रतिभूति–वार आबंटन
1 27 सितंबर - 01 अक्तूबर 2021 24,000 i) 10 वर्षीय 13,000 करोड़ के लिए
ii) एफआरबी 4,000 करोड़ के लिए
iii) 40 वर्षीय 7,000 करोड़ के लिए
2 04-08 अक्तूबर 2021 24,000 i) 02 वर्षीय 2,000 करोड़ के लिए
ii) 05 वर्षीय 6,000 करोड़ के लिए
iii) 14 वर्षीय 9,000 करोड़ के लिए
iv) 30 वर्षीय 7,000 करोड़ के लिए
3 11-14 अक्तूबर 2021 24,000 i) 10 वर्षीय 13,000 करोड़ के लिए
ii) एफआरबी 4,000 करोड़ के लिए
iii) 40 वर्षीय 7,000 करोड़ के लिए
4 18-22 अक्तूबर 2021 24,000 i) 02 वर्षीय 2,000 करोड़ के लिए
ii) 05 वर्षीय 6,000 करोड़ के लिए
iii) 14 वर्षीय 9,000 करोड़ के लिए
iv) 30 वर्षीय 7,000 करोड़ के लिए
5 25-29 अक्तूबर 2021 24,000 i) 10 वर्षीय 13,000 करोड़ के लिए
ii) एफआरबी 4,000 करोड़ के लिए
iii) 40 वर्षीय 7,000 करोड़ के लिए
6 08-12 नवंबर 2021 24,000 i) 02 वर्षीय 2,000 करोड़ के लिए
ii) 05 वर्षीय 6,000 करोड़ के लिए
iii) 14 वर्षीय 9,000 करोड़ के लिए
iv) 30 वर्षीय 7,000 करोड़ के लिए
7 15-18 नवंबर 2021 24,000 i) 10 वर्षीय 13,000 करोड़ के लिए
ii) एफआरबी 4,000 करोड़ के लिए
iii) 40 वर्षीय 7,000 करोड़ के लिए
8 22-26 नवंबर 2021 24,000 i) 02 वर्षीय 2,000 करोड़ के लिए
ii) 05 वर्षीय 6,000 करोड़ के लिए
iii) 14 वर्षीय 9,000 करोड़ के लिए
iv) 30 वर्षीय 7,000 करोड़ के लिए
9 29 नवंबर - 03 दिसंबर 2021 24,000 i) 10 वर्षीय 13,000 करोड़ के लिए
ii) एफआरबी 4,000 करोड़ के लिए
iii) 40 वर्षीय 7,000 करोड़ के लिए
10 06-10 दिसंबर 2021 24,000 i) 02 वर्षीय 2,000 करोड़ के लिए
ii) 05 वर्षीय 6,000 करोड़ के लिए
iii) 14 वर्षीय 9,000 करोड़ के लिए
iv) 30 वर्षीय 7,000 करोड़ के लिए
11 13-17 दिसंबर 2021 24,000 i) 10 वर्षीय 13,000 करोड़ के लिए
ii) एफआरबी 4,000 करोड़ के लिए
iii) 40 वर्षीय 7,000 करोड़ के लिए
12 20-24 दिसंबर 2021 24,000 i) 02 वर्षीय 2,000 करोड़ के लिए
ii) 05 वर्षीय 6,000 करोड़ के लिए
iii) 14 वर्षीय 9,000 करोड़ के लिए
iv) 30 वर्षीय 7,000 करोड़ के लिए
13 27-31 दिसंबर 2021 24,000 i) 10 वर्षीय 13,000 करोड़ के लिए
ii)एफआरबी 4,000 करोड़ के लिए
iii) 40 वर्षीय 7,000 करोड़ के लिए
14 03-07 जनवरी 2022 24,000 i) 02 वर्षीय 2,000 करोड़ के लिए
ii) 05 वर्षीय 6,000 करोड़ के लिए
iii) 14 वर्षीय 9,000 करोड़ के लिए
iv) 30 वर्षीय 7,000 करोड़ के लिए
15 10-14 जनवरी 2022 24,000 i) 10 वर्षीय 13,000 करोड़ के लिए
ii) एफआरबी 4,000 करोड़ के लिए
iii) 40 वर्षीय 7,000 करोड़ के लिए
16 17-21 जनवरी 2022 24,000 i) 02 वर्षीय 2,000 करोड़ के लिए
ii) 05 वर्षीय 6,000 करोड़ के लिए
iii) 14 वर्षीय 9,000 करोड़ के लिए
iv) 30 वर्षीय 7,000 करोड़ के लिए
17 24-28 जनवरी 2022 24,000 i) 10 वर्षीय 13,000 करोड़ के लिए
ii) एफआरबी 4,000 करोड़ के लिए
iii) 40 वर्षीय 7,000 करोड़ के लिए
18 31 जनवरी-04 फरवरी 2022 24,000 i) 02 वर्षीय 2,000 करोड़ के लिए
ii) 05 वर्षीय 6,000 करोड़ के लिए
iii) 14 वर्षीय 9,000 करोड़ के लिए
iv) 30 वर्षीय 7,000 करोड़ के लिए
19 07-11 फरवरी 2022 24,000 i) 10 वर्षीय 13,000 करोड़ के लिए
ii) एफआरबी 4,000 करोड़ के लिए
iii) 40 वर्षीय 7,000 करोड़ के लिए
20 14-18 फरवरी 2022 24,000 i) 02 वर्षीय 2,000 करोड़ के लिए
ii) 05 वर्षीय 6,000 करोड़ के लिए
iii) 14 वर्षीय 9,000 करोड़ के लिए
iv) 30 वर्षीय 7,000 करोड़ के लिए
21 21-25 फरवरी 2022 23,000 i) 10 वर्षीय 13,000 करोड़ के लिए
ii) एफआरबी 4,000 करोड़ के लिए
iii) 40 वर्षीय 6,000 करोड़ के लिए
कुल 5,03,000  

2. जैसाकि अब तक होता रहा है, इस कैलंडर में समाहित सभी नीलामियों में गैर-प्रतिस्पर्धी बोली योजना की सुविधा रहेगी जिसके अंतर्गत अधिसूचित राशि का 5 प्रतिशत निर्दिष्ट खुदरा निवेशकों के लिए आरक्षित रहेगा।

3. विगत की भांति, भारत सरकार के पास यह छूट होगी कि वह भारतीय रिज़र्व बैंक के परामर्श से भारत सरकार की आवश्यकताओं, उभरती बाज़ार स्थितियों तथा अन्य संबद्ध कारकों को ध्यान में रखते हुए विधिवत सूचना देकर उक्त सारणी में दर्शायी गयी अधिसूचित राशि, निर्गम अवधि, परिपक्वता, आदि में आशोधन कर सके और गैर-मानक परिपक्‍वता वाली लिखतों और अस्थिर दर बांड (एफआरबी) सहित विभिन्‍न प्रकार की लिखतें, सीपीआई लिंक्ड मुद्रास्फीति लिंक्ड बांड जारी कर सकें। बीच में अवकाश का दिन आने जैसे कारणों सहित परिस्थितियों की आवश्यकता के अनुसार इस कैलेंडर में बदलाव किया जा सकता है। ऐसे परिवर्तनों को प्रेस प्रकाशनी के माध्यम से सूचित किया जाएगा।

4. भारतीय रिज़र्व बैंक, भारत सरकार के परामर्श से, नीलामी अधिसूचना में दर्शाई गई एक या अधिक प्रतिभूतियों पर 2000 करोड़ तक का अतिरिक्त अभिदान बनाए रखने के लिए ग्रीन-शू विकल्प का उपयोग करने का अधिकार सुरक्षित रखता है।

5. भारतीय रिजर्व बैंक महीने के हर तीसरे सोमवार को नीलामी के माध्यम से प्रतिभूतियों के स्विच का भी आयोजन करेगा। यदि तीसरे सोमवार की छुट्टी है, तो महीने के चौथे सोमवार को स्विच नीलामी आयोजित की जाएगी।

6. दिनांकित प्रतिभूतियों की नीलामी 27 मार्च 2018 को भारत सरकार द्वारा जारी और समय-समय पर यथासंशोधित सामान्य अधिसूचना एफ.सं.4 (2)-डब्ल्यूएंडएम/2018 में विनिर्दिष्ट निबंधन एवं शर्तों के अधीन होगी।

(योगेश दयाल) 
मुख्य महाप्रबंधक

प्रेस प्रकाशनी: 2021-2022/937


2021
2020
2019
2018
2017
2016
2015
2014
2013
2012
पुरालेख
Server 214
शीर्ष