प्रेस प्रकाशनी

जनवरी 2020 के लिए मासिक बुलेटिन

11 जनवरी 2020

जनवरी 2020 के लिए मासिक बुलेटिन

भारतीय रिजर्व बैंक ने आज अपने मासिक बुलेटिन के जनवरी 2020 के अंक को जारी किया। बुलेटिन में शीर्ष प्रबंधन द्वारा दिये गए दो भाषण, दो लेख, वर्किंग पेपर्स की प्रेस प्रकाशनी और वर्तमान सांख्यिकी शामिल हैं।

भारत में बैंकिंग की प्रवृत्ति और प्रगति पर रिपोर्ट 2018-19 और वित्तीय स्थिरता रिपोर्ट - दिसंबर 2019 को बुलेटिन के साथ पूरक के रूप में जारी किया जा रहा है।

दो लेख हैं: I. भारत के बाह्य ऋण स्थिरता और जोखिम का आकलन II. आस्ति गुणवत्ता का आकलन करने में क्रेडिट रेटिंग की प्रभावशीलता: बृहद उधारकर्ताओं का विश्लेषण।

I. भारत के बाह्य ऋण स्थिरता और जोखिम का आकलन

लेख में भारत के बाह्य ऋण की रूपरेखा और बाह्य जोखिम संकेतकों में हाल की गतिविधियों की जांच की गई है।

मुख्य बातें:

  • भारत का बाह्य ऋण 2017-18 के बाद से मुख्य रूप से बाह्य वाणिज्यिक उधार (ईसीबी), अनिवासी जमा और अल्पकालिक व्यापार ऋण के कारण बढ़ा है।

  • सितंबर 2019 के अंत तक, भारत का बाह्य ऋण मार्च 2019 के अंत के अपने स्तर में 14.3 बिलियन अमेरिकी डॉलर (अर्थात् 2.6 प्रतिशत) की वृद्धि दर्ज करते हुए 557.5 बिलियन अमेरिकी डॉलर रहा।

  • निरपेक्ष मूल्य में वृद्धि के बावजूद, 2017-18 के बाद से भारत का बाह्य ऋण सकल घरेलू उत्पाद के लगभग 20 प्रतिशत रहा।

  • भारत के विदेशी मुद्रा भंडार ने बाह्य वित्तपोषण आवश्यकता [अर्थात्, अवशिष्ट परिपक्वता के आधार पर अल्पकालिक ऋण और चालू खाता घाटा के लिए वित्तपोषण की आवश्यकता] और आयात के लिए पर्याप्त कवर प्रदान किया। इसलिए आरक्षित पर्याप्तता संकेतकों के संदर्भ में, भारत की बाह्य जोखिम हाल के वर्षों में कम बनी हुई है।

  • अनुभवजन्य विश्लेषण से पता चलता है कि भारतीय रुपये और प्रमुख मुद्राओं के मुकाबले अमेरिकी डॉलर में घट-बढ़ भारत के बाहरी ऋण के आकार को प्रभावित करती है जबकि चालू खाता घाटे का प्रभाव सांख्यिकीय रूप से महत्वपूर्ण नहीं पाया गया है।

II. आस्ति गुणवत्ता का आकलन करने में क्रेडिट रेटिंग की प्रभावकारिता: बृहद उधारकर्ताओं का विश्लेषण

आधुनिक समय के वित्तीय क्षेत्र के नियामक ढांचे के कार्यान्वयन में क्रेडिट रेटिंग एजेंसियां (सीआरए) महत्वपूर्ण हितधारक हैं। एजेंसी/बाहरी क्रेडिट रेटिंग को परिसंपत्तियों की जोखिम का आकलन करने और बैंकों में संगत पूंजी आवश्यकताओं का आकलन करने के लिए नियामक ढांचे के हिस्से के रूप में निर्धारित किया गया है। कौशल के साथ बृहद ऋण पर सूचना के केंद्रीय भंडार (सीआरआईएलसी) से प्राप्त एनपीए एक्सपोज़र का मैपिंग करते हुए, वर्तमान लेख बृहद उधारकर्ताओं की संपत्ति की गुणवत्ता के सही और समय के साथ-साथ मूल्यांकन की सुविधा में बाह्य क्रेडिट रेटिंग की प्रभावशीलता का विश्लेषण करता है। हालांकि प्रारंभिक निष्कर्ष बताते हैं: (क) रेटिंग हमेशा उधारकर्ताओं की अंतर्निहित परिसंपत्ति गुणवत्ता को समय के साथ-साथ प्रतिबिंबित नहीं करती हैं; और (ख) परिसंपत्ति की गुणवत्ता निर्धारित करने की प्रत्येक सीआरए की क्षमता भिन्न होती है।

मुख्य बातें:

  • एक्सपोज़र नमूने का लगभग एक-चौथाई हिस्सा एनपीए की श्रेणी में आने से एक तिमाही पहले निवेश श्रेणी में था;

  • एनपीए श्रेणी में आने से एक तिमाही पहले निवेश ग्रेड में जोखिम आँकने के स्तर में सीआरए में भिन्नता थी; अध्ययन में शामिल छह मान्यता प्राप्त सीआरए में से तीन ने निवेश ग्रेड में इस तरह के जोखिम के अपेक्षाकृत उच्च संकेंद्रीकरण को शामिल किया था।

रूपांबरा
निदेशक

प्रेस प्रकाशनी: 2019-2020/1672


2020
2019
2018
2017
2016
2015
2014
2013
2012
पुरालेख
Server 214
शीर्ष