प्रेस प्रकाशनी

रिज़र्व बैंक ने चलनिधि प्रबंधन ढांचे की समीक्षा पर आंतरिक कार्य समूह की रिपोर्ट जारी की

26 सितंबर 2019

रिज़र्व बैंक ने चलनिधि प्रबंधन ढांचे की समीक्षा पर आंतरिक कार्य समूह की रिपोर्ट जारी की

1. जैसा कि 06 जून 2019 के विकासात्मक और विनियामक नीतियों पर वक्तव्य में घोषित किया गया था, वर्तमान चलनिधि प्रबंधन ढांचे को सरल बनाने और इसके उद्देश्यों को स्पष्ट रूप से संप्रेषित करने और चलनिधि प्रबंधन के लिए साधन सुझाने के उद्देश्य से चलनिधि प्रबंधन ढांचे की समीक्षा करने हेतु एक आंतरिक कार्य समूह का गठन किया गया था। समूह ने अब अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत की है।

2. समूह ने प्रभावी चलनिधि प्रबंधन ढांचे के लिए मार्गदर्शी सिद्धांतों को स्पष्ट किया है। कुछ प्रमुख मार्गदर्शी सिद्धांत इस प्रकार हैं: पॉलिसी रेट के करीब कॉल मनी दर को बनाए रखने के उद्देश्य से चलनिधि ढांचे को निर्देशित किया जाना चाहिए; इसे नीति दर के अनुरूप होना चाहिए और अंतर-बैंक मुद्रा बाजार में इसके द्वारा मूल्य खोज कमज़ोर नहीं होनी चाहिए।

3. मार्गदर्शी सिद्धांतों के आधार पर, समूह ने निम्नलिखित प्रमुख सिफारिशें की हैं :

  1. वर्तमान चलनिधि प्रबंधन ढांचे को मोटे तौर पर अपने वर्तमान स्वरूप - लक्ष्य दर के रूप में कॉल मनी दर के साथ एक कॉरिडोर प्रणाली - में जारी रखा जाना चाहिए।

  2. ढांचा लचीला होना चाहिए। कॉरिडोर प्रणाली में सामान्य रूप से प्रणाली में कम चलनिधि की अपेक्षा होती है, फिर भी अगर वित्तीय स्थितियां चलनिधि अधिशेष की अपेक्षा दर्शाती है, तो ढांचा तदनुसार होना चाहिए।

  3. परिचालनों की संख्या को कम रखना चलनिधि ढांचे का एक प्रभावी लक्ष्य होना चाहिए। परिणामस्वरूप, आदर्श रूप से एक दिन में एकल सिंगल ओवरनाइट परिवर्तनीय दर परिचालन होना चाहिए, जो आवश्यकता नुसार फाइन-ट्यूनिंग परिचालन द्वारा समर्थित हो।

  4. सुनिश्चित चलनिधि का वर्तमान प्रावधान - एनडीटीएल के 1% तक- अब आवश्यक नहीं है क्योंकि प्रस्तावित चलनिधि ढांचा पूरी तरह से प्रणाली की चलनिधि जरूरतों को पूरा करेगा।

  5. बड़े घाटे या अधिशेष के बने रहने की यदि अपेक्षा की जाती है, तो इसे उपयुक्त स्थायी चलनिधि परिचालन के माध्यम से ऑफसेट किया जाना चाहिए। ओएमओ और विदेशी मुद्रा स्वैप के अलावा, समूह ने बाजार से संबंधित दरों पर लंबी अवधि के रेपो परिचालनों की सिफारिश की है।

  6. मुद्रा बाजार परिचालन (एमएमओ) प्रेस प्रकाशनी के माध्यम से दैनिक प्रसारण को चलनिधि परिचालन के ‘ प्रवाह’ प्रभाव को शामिल करके विकसित किया जाना चाहिए। पारदर्शिता में सुधार के लिए, बैंकिंग प्रणाली की स्थायी चलनिधि स्थिति का मात्रात्मक मूल्यांकन भी प्रकाशित किया जा सकता है।

4. रिपोर्ट को हितधारकों और आम जनता की प्रतिक्रिया के लिए आज रिज़र्व बैंक की वेबसाइट पर रखा गया है। समूह की सिफारिशों और आम जनता की प्रतिक्रिया को ध्यान में रखते हुए चलनिधि ढांचे को अंतिम रूप दिया जाएगा। रिपोर्ट पर टिप्पणियां 31 अक्टूबर 2019 तक ईमेल के माध्यम से भेजी जा सकती हैं।

योगेश दयाल  
मुख्य महाप्रबंधक

प्रेस प्रकाशनी : 2019-2020/796


2019
2018
2017
2016
2015
2014
2013
2012
पुरालेख
Server 214
शीर्ष