प्रेस प्रकाशनी

प्रोफेसर हेलेन रे, लंदन बिजनेस स्कूल ने "राष्ट्रीय मौद्रिक प्राधिकरण और वैश्विक वित्तीय चक्र" शीर्षक पर सोलहवां एल.के. झा स्मारक व्याख्यान दिया

14 दिसंबर 2018

प्रोफेसर हेलेन रे, लंदन बिजनेस स्कूल ने "राष्ट्रीय मौद्रिक प्राधिकरण और वैश्विक वित्तीय चक्र" शीर्षक पर
सोलहवां एल.के. झा स्मारक व्याख्यान दिया

भारतीय रिजर्व बैंक ने 14 दिसंबर 2018 को मुंबई में सोलहवें एल.के.झा स्मारक व्याख्यान की मेजबानी की। प्रोफेसर हेलेन रे, लंदन बिजनेस स्कूल, लंदन, ब्रिटेन द्वारा व्याख्यान दिया गया। गवर्नर श्री शक्तिकांत दास ने अतिथियों का स्वागत किया और श्री एल.के.झा की स्मृति को कायम रखने के लिए रिज़र्व बैंक द्वारा जारी व्याख्यान श्रृंखला के महत्व, और रिजर्व बैंक और राष्ट्र के लिए उनकी अमूल्य सेवाओं की पहचान पर प्रकाश डाला।

प्रोफेसर हेलेन रे, अंतरराष्ट्रीय ख्यातिप्राप्त एक मेक्रोइकॉनामिस्ट, लंदन बिजनेस स्कूल में अर्थशास्त्र की प्रोफेसर हैं। प्रोफेसर रे ब्रिटिश एकेडमी ऑफ द इकोनॉमेट्रिक सोसाइटी और यूरोपीयन इकॉनामिक एसोशिएशन की फेलो हैं। वह सेंटर फॉर पॉलिसी रिसर्च (सीईपीआर) में रिसर्च फेलो और नेशनल ब्यूरो ऑफ इकोनॉमिक रिसर्च (एनबीआर) में रिसर्च एसोसिएट भी हैं।

प्रोफेसर रे, ने अंतरराष्ट्रीय पूंजी प्रवाह, वित्तीय संकट और अंतरराष्ट्रीय मौद्रिक प्रणाली पर अपने स्वयं के मौलिक काम का रेखाकंन करते हुए, आज अपने व्याख्यान में सीमा पार पूंजी प्रवाह में वैश्विक चक्र के अस्तित्व के बढ़ते साक्ष्य, परिसंपत्ति कीमतों और लिवरेज पर ध्यान केंद्रित किया। यद्यपि ऐसा वैश्विक वित्तीय चक्र किसी देश की विशिष्ट व्यापक आर्थिक स्थितियों से स्वतंत्र रूप से विकसित हो सकता है, फिर भी यह अक्सर बड़ी परिसंपत्ति-मूल्य बबल्स और अतिरिक्त क्रेडिट निर्माण की ओर जाता है, जिससे अर्थव्यवस्था को स्थिर करने के लिए घरेलू नीति प्रतिक्रिया की आवश्यकता होती है। संक्षेप में, घरेलू समष्टि आर्थिक नीतियों को वैश्विक वित्तीय विकास के अधीन बनाया जाता है।

पॉलिसी टूल किट, के बारे में उन्होंने बताया कि आसान वैश्विक वित्तीय स्थितियों के समय अत्यधिक घरेलू क्रेडिट वृद्धि को सीमित करने के उद्देश्य से मैक्रोप्रूडेंशियल उपायों को शामिल करने की आवश्यकता हो सकती है। इस तरह की मैक्रोप्रूडेंशियल नीतियों में विधायी समर्थन और सार्वजनिक जवाबदेही होनी चाहिए, बैंकिंग और गैर-बैंकिंग वित्तीय मध्यवर्ती संस्थाओं दोनों में शामिल दबाव परीक्षणों के साथ उनकी प्रभावशीलता को बढ़ाया जा सकता है। उन्होंने वित्तीय स्थिरता बनाए रखने के नियमों का उल्लेख एक ' बिना लाभ के कार्य ' के रूप में किया।

उनके “राष्ट्रीय मौद्रिक प्राधिकरण और वैश्विक वित्तीय चक्र" नामक व्याख्यान का पूरा पाठ www.rbi.org.in रखा गया है।

जोस जे. कट्टूर
मुख्य महाप्रबंधक

प्रेस प्रकाशनी: 2018-2019/1383


2019
2018
2017
2016
2015
2014
2013
2012
पुरालेख
Server 214
शीर्ष